Categories
Sawaal - Jawaab

Qaza e umr

👉 Sms prepared by 👈
ZEBNEWS

Yaad rahe ki jab tak farz zimme par baaqi ho koi bhi nafl ibadat maslan namaz roza wazayaf qubool nahin kiya jaata,qarze namaz ka utaarna farze azeem hai ab agar namaze qaza hain to pahle unhe padhein,Hukm yahan tak hai ki asr aur esha ki pahli sunnat ki jagah aur tamam panj waqta nawafil ki jagah apni qaza namaze padhen,jinki bahut zyada namazen qaza ho usko aasani se ada karne ke liye sarkare AALAHAZRAT raziyallahu taala anhu farmate hain ki

Ek din ki 20 raqat namaz padhni hogi paancho waqt ki farz aur isha ki witr

Niyat yun karen “sab me pahli wo fajr jo mujhse qaza huyi “ALLAHU AKBAR” kahkar niyat baandh lein,yunhi fajr ki jagah zuhar asr magrib isha witr sirf namazo ka naam badalta rahe

Qayaam me sana chhod de aur bismillah se shuru kare,baad surah fatiha ke koi surah milakar ruke rake aur ruku ki tasbih sirf 1 baar padhe phir yunhi sajdo me bhi 1 baar hi tasbih padhe is tarah do raqat par qaydah karne ke baad zuhar asr magrib aur isha ki 3ri aur 4thi rakat ke qayaam me sirf 3 baar subhaan allah kahe aur ruku kare aakhri qayde me attahyat ke baad duroode ibraheem aur duae maasurah ki jagah sirf ALLAHUMMA SALLE ALA SAYYEDENA MUHAMMADIW WA AALEHI kahkar salaam pher dein,witr ki teeno rakat me surah milegi magar duae qunoot ki jagah sirf ALLAHUMMAG FIRLI kah lena kaafi hai

📕 Almalfooz,hissa 1,safah 62

Agar aapne qazaye umri padhi to in sha ALLAH taala aapke zimme se aapki namaz bhi ada ho jayegi aur aapko un nafl namazo ki fazilat bhi mil jayegi

याद रहे कि जब तक फर्ज़ ज़िम्मे पर बाक़ी हो कोई भी नफ्ल इबादत मसलन नमाज़ रोज़ा वज़ायफ क़ुबूल नहीं किया जाता,क़ज़ा नमाज़ का पढ़ना फर्ज़े अज़ीम है अब अगर नमाज़े क़ज़ा हैं तो पहले उन्हें पढ़ें,हुक्म तो यहां तक है कि अस्र और इशा की पहली सुन्नत की जगह और तमाम पंज वक्ता नवाफिल की जगह अपनी क़ज़ा नमाज़ें पढ़ें,जिनकी बहुत ज़्यादा नमाज़ें क़ज़ा हो उसको आसानी से अदा करने के लिए सरकारे आलाहज़रत रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि

एक दिन की 20 रकात नमाज़ पढ़नी होगी पांचों वक़्त की फर्ज़ और इशा की वित्र

नियत यूं करें “सब में पहली वो फज्र जो मुझसे क़ज़ा हुई अल्लाहु अकबर” कहकर नियत बांध लें,युंही फज्र की जगह ज़ुहर अस्र मग़रिब इशा वित्र सिर्फ नमाज़ो का नाम बदलता रहे

क़याम में सना छोड़ दे और बिस्मिल्लाह से शुरू करे,बाद सूरह फातिहा के कोई सूरह मिलाकर रुकू करे और रुकू की तस्बीह सिर्फ 1 बार पढ़े फिर युंही सजदों में भी 1 बार ही तस्बीह पढ़े इस तरह दो रकात पर क़ायदा करने के बाद ज़ुहर अस्र मग़रिब और इशा की तीसरी और चौथी रकात के क़याम में सिर्फ 3 बार सुबहान अल्लाह कहे और रुकू करे आखरी क़ायदे में अत्तहयात के बाद दुरूद इब्राहीम और दुआए मासूरह की जगह सिर्फ “अल्लाहुम्मा सल्ले अला सय्यदना मुहम्मदिंव व आलेही” कहकर सलाम फेर दें,वित्र की तीनो रकात में सूरह मिलेगी मगर दुआये क़ुनूत की जगह सिर्फ “अल्लाहुम्मग़ फिरली” कह लेना काफी है

📕 अलमलफूज़,हिस्सा 1,सफह 62

अगर आपने क़ज़ाये उमरी पढ़ी तो इन शा अल्लाह तआला आपके ज़िम्मे से आपकी नमाज़ भी अदा हो जायेगी और आपको उन नफ्ल नमाज़ो की फज़ीलत भी मिल जायेगी

! no more msgs no more headache !
! only 1 msg in 24 hours !

Join ZEBNEWS to 9335732950
All india jamaat raza-e mustafa
Branch Allahabad

Leave a Reply

Your email address will not be published.