Categories
Ambiya e Kiram

Part-9 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-9 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • आपने अगले 7 सालों तक गल्लों का ज़खीरा करने के लिए बड़े बड़े स्टोर रूम बनवाये और उन सबको अनाज से भर दिया,जब कहत का साल शुरू हुआ तो आपने ऐलान करवा दिया कि अब बादशाह हो या खादिम सब एक वक़्त ही खाना खायेंगे और आप खुद भी भूखे रहते,कुछ महीनो तक तो सबके पास गल्ला रहा मगर जैसे जैसे साल गुज़रने लगा तो लोगों के पास अनाज खत्म होने लगा और लोग दरहमो दीनार से गल्ला खरीदने लगे इस तरह पहले साल हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के पास तमाम अहले मिस्र का माल जमा हो गया,दूसरे साल लोगों ने अपने ज़ेवरात सोने चांदी के बदले अनाज खरीदा तीसरे साल अपना जानवर देकर गल्ला खरीदा यहां तक कि किसी के पास एक बकरी का बच्चा तक नहीं बचा सबके सब आप अलैहिस्सलाम के पास आ गया,फिर तीसरे साल अपने गुलामों को बेचकर गल्ला लिया चौथे साल अपनी ज़मीन जायदाद जागीरें बेचकर गल्ला खरीदा छठे साल जब लोगों के पास कुछ नहीं बचा तो अपनी औलाद को हज़रत के पास गुलाम बनाकर अनाज ले गए और सातवें साल अपने आपको भी हज़रत का गुलाम बना दिया और अनाज हासिल किया,अब मिस्र में कोई ऐसा न था जो कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम का गुलाम ना हो और मौला ने ये सब सिर्फ इसलिए किया कि कोई ये ना कह सके कि मेरा नबी किसी का खरीदा हुआ गुलाम था नहीं बल्कि पूरा मुल्क ही मेरे नबी का गुलाम है,उसके बाद हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने बादशाह रियान के सामने खुदा को गवाह बनाकर सबको आज़ाद कर दिया और जो जिसका था सबको वापस लौटा दिया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 147

  • उधर अज़ीज़े मिस्र मअज़ूल होने के बाद कुछ ही दिन ज़िंदा रहे उनके मरने के बाद ज़ुलेखा भी महल छोड़कर जंगल को चली गयीं और वहीं रहने लगीं,कई साल गुज़र चुके थे अब उनका वो हुस्न भी बाकी ना रहा और फिराक़े यूसुफ में रो रोकर अपनी आंखों की रौशनी भी गंवा बैठी थीं,जब कहत का ज़माना गुज़र गया तो एक दिन हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम अपने लश्कर के साथ उसी जंगल से गुज़रे जब ज़ुलेखा ने ये सुना तो वो लश्कर तक पहुंच गयीं हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने अपने खादिम से कहा कि इनकी हाजत पूरी करो तो वो बोलीं कि मेरी हाजत तो हज़रत युसूफ अलैहिस्सलाम ही पूरी करेंगे,जब आपने ज़ुलेखा को देखा तो पहचान लिया और फरमाया कि तुम्हारा हुस्नो शबाब क्या हुआ तो वो रोने लगीं तो आप फरमाते हैं कि ग़म ना करो और कहो कि क्या चाहती हो तो वो बोलीं कि मेरी 3 हाजतें हैं पहली ये कि मैं आपके ग़म में रो रोकर अंधी हो चुकी हूं तो मुझे मेरी आंखें वापस कर दीजिए दूसरी ये कि मेरी जवानी भी ढल चुकी है तो मैं चाहती हूं कि मुझे मेरा हुस्न फिर से वापस मिल जाए हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने ज्यों ही दुआ फरमाई ज़ुलेखा फिर से पहले जैसी हो गयीं फिर आपने पूछा कि अब तीसरी हाजत बताओ तो कहने लगीं कि आप मुझसे निकाह कर लें,हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ये सुनकर खामोश हो गए तभी हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम हाज़िर हुए और कहा कि आपका रब कहता है कि आप इनसे निकाह फरमा लीजिये तो हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने ज़ुलेखा से निकाह कर लिया,आपसे दो बेटे हुए एक का नाम इफराईम और दूसरे का नाम मईशा था

📕 रुहुल बयान,जिल्द 2,सफह 182

जारी रहेगा………..


  • Aapne agle 7 saalon tak gallo ka zakhira karne ke liye bade bade store room banwaye aur un sabko anaaj se bhar diya,jab kahat ka saal shuru hua to aapne ailan karwa diya ki ab baadshah ho ya khaadim sab ek waqt hi khaana khayenge aur aap khud bhi bhooke rahte,kuchh mahino tak to sabke paas galla raha magar jaise jaise saal guzarne laga to logon ke paas anaaj khatm hone laga aur log darhamo deenar se galla khareedne lage is tarah pahle saal hazrat yusuf alaihissalam ke paas tamam ahle misr ka maal jama ho gaya,doosre saal logon ne apne zevraat sone chaandi ke badle anaaj khareeda teesre saal apne jaanwar dekar galla khareeda yahan tak ki kisi ke paas ek bakri ka bachcha tak nahin bacha sabke sab aap alaihissalam ke paas aa gaya,phir teesre saal apne gulamo ko bechkar galla liya chauthe saal apni zameen jaaydad jaagiren bechkar galla khareeda chhathe saal jab logon ke paas kuchh nahin bacha to apni aulaad ko hazrat ke paas gulaam banakar anaaj le gaye aur saatwein saal apne aapko bhi hazrat ka gulaam bana diya aur anaaj haasil kiya,ab misr me koi aisa na tha jo ki hazrat yusuf alaihissalam ka ghulam na ho aur maula ne ye sab sirf isliye kiya ki koi ye na kah sake ki mera nabi kisi ka khareeda hua ghulam tha nahin balki poora mulk hi mere nabi ka gulaam hai,uske baad hazrat yusuf alaihissalam ne baadshah riyaan ke saamne khuda ko gawaah banakar sabko aazad kar diya aur jo jiska tha sabko wapas lauta diya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 147

  • Udhar azeeze misr maazool hone ke baad kuchh hi din zinda rahe unke marne ke baad zulekha bhi mahal chhodkar jungle ko chali gayin aur wahin rahne lagin,kayi saal guzar chuke the ab unka wo husn bhi baaki na raha aur firaaqe yusuf me ro rokar apni aankhon ki raushni bhi ganwa baithi thin,jab kahat ka zamana guzar gaya to ek din hazrat yusuf alaihissalam apne lashkar ke saath usi jungle se guzre jab zulekha ne ye suna to wo lashkar tak pahunch gayin hazrat yusuf alaihissalam ne apne khaadim se kaha ki inki haajat poori karo to wo bolin ki meri haajat to hazrat yusuf alaihissalam hi poori karenge,jab aapne zulekha ko dekha to pahchaan liya aur farmaya ki tumhara husno shabab kya hua to wo rone lagin to aap farmate hain ki gum na karo aur kaho ki kya chahti ho to wo bolin ki meri 3 haajatein hain pahli ye ki main aapke ghum me ro rokar andhi ho chuki hoon to mujhe meri aankhen wapas kar dijiye doosri ye ki meri jawani bhi dhal chuki hai to main chahti hoon ki mujhe mera husn phir se wapas mil jaaye hazrat yusuf alaihissalam ne jyun hi dua farmayi zulekha phir se pahle jaisi ho gayin phir aapne poochha ki ab teesri haajat batao to kahne lagin ki aap mujhse nikah kar lein,hazrat yusuf alaihissalam ye sunkar khaamosh ho gaye tabhi hazrat jibreel alaihissalam haazir hue aur kaha ki aapka rub kahta hai ki aap inse nikah farma lijiye to hazrat yusuf alaihissalam ne zulekha se nikah kar liya,aapse do bete hue ek ka naam ifraeem aur doosre ka naam maisha tha

📕 Ruhul bayan,jild 2,safah 182

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.