Categories
Ambiya e Kiram

Part-8 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-8 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • जिस दिन हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम क़ैदखाने में गए उसी दिन दो और कैदी भी दाखिल हुए,ये दोनों बादशाह रियान बिन वलीद के ग़ुलाम थे एक उनका साक़ी था जिसका नाम अबरुहा या यूना था और दूसरा नानबाई जिसका नाम ग़ालिब या मखलीब था,इन दोनों पर इलज़ाम था कि दोनों ने बादशाह को मारने की कोशिश की है जिसकी सज़ा में ये जेल में डाले गए,जेल में भी हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम नमाज़ रोज़ा पाबन्दी से करते और जो भी क़ैदी ख्वाब वगैरह देखते तो आप उनको ताबीर बताते जो कि सच होती,जब इन दोनों ने ये सब देखा तो आपको आज़माने की गर्ज़ से दोनों झूठा ख्वाब बता कर ताबीर पूछने के लिए हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के पास पहुंचे,साकी ने कहा कि मैंने ख्वाब में देखा कि अंगूर की बेलों से शराब निचोड़ रहा हूं और नानबाई ने कहा मैंने देखा कि रोटी की टोकरियां मेरे सर पर हैं और उसे परिन्दे खा रहे हैं,हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि साक़ी को बहाल किया जायेगा उसकी सज़ा माफ होगी और नानबाई को सूली पर चढ़ाया जायेगा और उसका सर परिन्दे खाएंगे ये सुनकर दोनों हंसने लगे और कहा कि हम लोगों ने ख्वाब तो कुछ देखा ही नहीं बल्कि हम तो आपसे मज़ाक कर रहे थे तो हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि अब तुम लोगों ने ख्वाब देखा हो या नहीं मगर होगा वही जो मैंने कह दिया,और बिल आखिर साक़ी पर इलज़ाम ना साबित हो सका और वो फिर से बहाल किया गया और नानबाई को सूली पर चढ़ाया गया,ये वाकिया आपके क़ैद खाने में जाने के 5 साल बाद हुआ और इसके बाद भी आप 7 साल और क़ैद में रहे यानि 12 साल आपने क़ैदखाने में गुज़ारे

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 141

  • जब 12 साल गुज़र गए तो एक दिन बादशाह ने एक ख्वाब देखा कि 7 दुबली गाये 7 मोटी गायों को खा गयी और 7 सूखी बेलें 7 सब्ज़ बेलों पर ग़ालिब आ गयीं,ये ख्वाब देखकर वो परेशान हुआ और अपने दरबार के काहिनो नुजूमियों से पता किया मगर कोई उसका जवाब ना दे सका आखिर कार वो साक़ी बोला कि हुज़ूर जेल में एक कैदी है जो ख्वाब की एक दम सही ताबीर बयान करता है,तो जेल में ही बादशाह ने किसी को भेजा तो आपने ये ताबीर बयान की कि तुम लोग अगले 7 साल खूब खेती करो और गल्ला इकठ्ठा करो क्योंकि इसके बाद के 7 सालों तक सूखा पड़ेगा जिसमे ये गल्ला तुम्हारे काम आएगा,जब ये ताबीर बादशाह को बताई गयी तो वो मुतमईन हो गए और हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम से मिलने की ख्वाहिश ज़ाहिर की जब उनको लेने के लिए क़ासिद पहुंचे तो आप फरमाते हैं कि पहले मेरा मुआमला बादशाह सही करें कि मुझे बिला वजह अब तक क़ैद में रखा गया है,जब बादशाह ने तहक़ीक़ की तो सारी औरतें और खुद ज़ुलेखा ने भी आपकी बराअत ज़ाहिर की,ये सुनकर बादशाह ने आपको इज़्ज़तो एहतेराम के साथ क़ैद से आज़ाद कर दिया और आपकी ज़बानी पूरी ताबीर सुनी फिर बोला कि आखिर ये सब इंतज़ाम होगा कैसे तो आप फरमाते हैं कि अपने खज़ाने मेरे हवाले करदो बादशाह ने कहा कि बेशक अब आप ही मुस्तहिक़ हो और अज़ीज़े मिश्र को बर्खास्त करके आपको अज़ीज़े मिश्र बना दिया फिर उसके एक साल बाद ही आपकी ताज पोशी करके आपको बादशाह मुंतखिब कर दिया और बादशाह खुद रियाया में शामिल हो गया

📕 खज़ाएनुल इरफान,सफह 342

जारी रहेगा………..


  • Jis din hazrat yusuf alaihissalam qaid khaane me gaye usi din do aur qaidi bhi daakhil hue,ye dono baadshah riyaan bin waleed ke ghulam the ek unka saaqi tha jiska naam abruha ya yuna tha aur doosra naan bai jiska naam gaalib ya makhlib tha,in dono par ilzaam tha ki dono ne baadshah ko maarne ki koshish ki hai jiski saza me ye jail me daale gaye,jail me bhi hazrat yusuf alaihissalam namaz roza pabandi se karte aur jo bhi qaidi khwab wagairah dekhte to aap unko taabeer batate jo ki sach hoti,jab in dono ne ye sab dekha to aapko aazmane ki garz se dono ne jhoota khwab bata kar taabeer poochhne ke liye hazrat yusuf alaihissalam ke paas pahunche,saaqi ne kaha ki maine khwab me dekha ki angoor ki belon se sharab nichod raha hoon aur naan bai ne kaha ki maine dekha ki roti ki tokriyan mere sar par hain aur use parinde kha rahe hai,hazrat yusuf alaihissalam farmate hain ki saaqi ko bahaal kiya jayega uski saza maaf hogi aur naan bai ko sooli par chadhaya jayega aur uska sar parinde khayenge ye sunkar dono hasne lage aur kaha ki hum logon ne khwab to kuchh dekha hi nahin balki hum to aapse mazaaq kar rahe the to hazrat yusuf alaihissalam farmate hain ki ab tum logon ne khwab dekha ho ya nahin magar hoga wahi jo maine kah diya,aur bil aakhir saaqi par ilzaam na saabit ho saka aur wo phir se bahaal kiya gaya aur naan bai ko sooli par chadhaya gaya,ye waqiya aapke qaid khaane me jaane ke 5 saal baad hua aur iske baad bhi aap 7 saal aur qaid me rahe yaani 12 saal aapne qaid khaane me guzaare

📕 Tazkiratul ambiya,safah 141

  • Jab 12 saal guzar gaye to ek din baadshah ne ek khwab dekha ki 7 dubli gaaye 7 moti gaayon ko kha gayi aur 7 sookhi belen 7 sabz belon par gaalib aa gayin,ye khwab dekhkar wo pareshan hua aur apne darbaar ke kaahino nujumiyon se pata kiya magar koi uska jawab na de saka aakhir kaar wo saaqi bola ki huzoor jail me ek qaidi hai jo khwab ki ek dum sahi taabeer bayaan karta hai,to jail me hi baadshah ne kisi ko bheja to aapne ye taabeer bayaan ki ki tum log agle 7 saal khoob kheti karo aur galla ikattha karo kyunki iske baad ke 7 saalon tak sookha padega jisme ye galla tumhare kaam aayega,jab ye taabeer baadshah ko batayi gayi to wo mutmayin ho gaye aur hazrat yusuf alaihissalam se milne ki khwahish zaahir ki jab unko lene ke liye qaasid pahunche to aap farmate hain ki pahle mera muaamla baadshah sahi karen ki mujhe bila wajah ab tak qaid me rakha gaya hai,jab baadshah ne tahqeeq ki to saari aurtein aur khud zulekha ne bhi aapki bara’at zaahir ki ye sunkar baadshah ne aapko izzato ehteraam ke saath qaid se aazad kar diya aur aapki zabani poori taabeer suni phir bola ki aakhir ye sab intezaam hoga kaise to aap farmate hain ki apne khazane mere hawale kardo baadshah ne kaha ki beshak ab aap hi mustahiq ho aur azeeze misr ko barkhast karke aapko azeeze misr bana diya phir uske ek saal baad hi aapki taaj poshi karke aapko baadshah muntakhib kar diya aur khud baadshah riyaya me shaamil ho gaya

📕 Khazayenul irfan,safah 342

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.