Categories
Ambiya e Kiram

Part-7 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-7 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • इतना सब कुछ होने के बाद भी ज़ुलेखा की वारफ्तगी में कमी ना आई और वो हर वक़्त हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के ख्याल में ही गुम रहतीं अब ये खबर महल से निकलकर सरे आम होने लगी थी कि वज़ीर की बीवी अपने गुलाम पर मर मिटी हैं,जब ये काना फूसी ज़ुलेखा तक पहुंची तो आपने एक दावत का इंतेज़ाम किया और उसमे उन सारी औरतों का बुलवा भेजा जो आप पर इल्ज़ाम तराशी करती थीं,जब सब ही आ गईं तो उनके सामने फलों को लगा दिया गया और हाथ में छुरी दे दी गयी कि इसे काट लें और पहले से ही आपने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को ये समझा रखा था कि जब मैं इशारा करूं तो आप पर्दे से बाहर आ जायें,जब ज़ुलेखा ने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को बाहर आने का इशारा किया और आप बाहर आये जब औरतों की नज़र हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के चेहरे पर पड़ी तो आपके चेहरे पर नुबूवतो रिसालत के अनवार तवाज़ो इंकिसार के आसार व शाहाना हैबतो इक़्तेदार को देखकर आपके हुस्नो जमाल में ऐसा गुम हुईं कि किसी को भी होश ना रहा और बजाये फल काटने के सब ने ही अपनी उंगलियों को काट लिया और उन्हें इसकी खबर तक न हुई,और सब इक ज़बान में ये बोलीं कि लिल्लाह ये कोई इंसान नहीं इसका हुस्न तो फरिश्तों से भी बढ़कर है तब ज़ुलेखा बोलीं कि तुम लोग एक आन का जमाल बर्दाश्त ना कर सकी और मैं तो हर वक़्त उनके हुस्नो जमाल का दीदार करती हूं फिर ज़रा सोचो कि मैं कैसे अपने होश में रहूं

📕 खज़ाएनुल इर्फान,पारा 12,सफह 248

हुस्ने यूसुफ पे कटी मिस्र में अंगुश्ते ज़नां
सर कटाते हैं तेरे नाम पे मर्दाने अरब

  • आलाहज़रत अज़ीमुल बरकत रज़ियल्लाहु तआला अन्हु का ये शेअर उसी वाक़िये की तरफ इशारा है मगर वाह रे मेरे आलाहज़रत 1 ही शेर के दोनों मिस्रो में एक एक लफ्ज़ ऐसे तक़ाबुल से लिखा कि सुनने वाला बिना दाद दिये रह नहीं पायेगा,मुलाहज़ा फरमायें
  1. वहां हुस्न है यहां नाम है,यानि किसी का हुस्न देखकर उसमें महव हो जाना ये और बात है मगर यहां तो हाल ये है कि हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम का हुस्न लाखों करोड़ो अरबों ने नहीं देखा फक़त आपके नाम पर जान दे रहे हैं
  2. वहां कटना है यहां कटाना है,कटना अदमे क़स्द कहलाता है यानि गलती से कट गयी और कटाना क़स्दो इरादा ज़ाहिर करता है कि पता है कि कट जाना है फिर भी रण में घुसे जा रहे हैं जान की भी फिक्र नहीं
  3. वहां मिस्र है यहां अरब है,अरब भी मिस्र से अफ्ज़लो आला है और अरब की सरकशी ज़मानये जाहिलियत में बहुत मशहूर थी फिर ऐसे में अरब के मर्दों का इस्लाम के लिए सर कटाना ये और भी हैरत अंगेज़ बात हुई
  4. वहां उंगली है यहां सर है,ज़ाहिर सी बात है सर भी उंगली से कहीं आला है कि उंगली कटने से जान को कोई खतरा नहीं होता मगर गर्दन कट जाए तो फौरन रूह परवाज़ कर जायेगी
  5. वहां औरत हैं यहां मर्द हैं,मर्द भी औरत से अफज़ल है

📕 हदायके बख्शिश,सफह 28

  • ज़ुलेखा ने उसी महफिल में भी सबके सामने कह दिया कि अगर इसने मेरी बात नहीं मानी तो इसे क़ैदखाने जाना होगा,अब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के सामने चन्द मुश्किलात थी पहली ये कि ज़ुलेखा हद दर्जे की खूबसूरत थीं दूसरी ये कि वो मालो दौलत वाली थीं कि ज़रूरत पड़ने पर अपना पूरा माल लुटाने को तैयार थीं तीसरी ये कि महफिल की सारी औरतें भी आपको रगबत दिला रहीं थीं चुंकि वो सब खुद भी आप पर आशिक हो चुकी थीं और सब ही ने आपसे मुलाक़ात का इरादा ज़ाहिर कर दिया था और चौथा ये कि ज़ुलेखा की दीवानगी आपके सामने थी ऐतराज़ करने पर हो सकता था कि वो आपको क़त्ल करने की साजिश करतीं,इन सबको देखते हुए आपने क़ैदखाने जाने का फैसला किया,ख्याल रहे कि ये मुश्किल रास्ता आपने रब की मर्ज़ी पर किया था वरना वो चाहते तो आफियत का सवाल करते मगर आपने ऐसा नहीं किया,तिर्मिज़ी में हज़रत मअज़ बिन जबल रज़ियल्लाहु तआला अन्हु से रिवायत है कि एक शख्श युं दुआ कर रहा था कि “ऐ अल्लाह मुझे मुसीबत पर सब्र करने की ताक़त अता फरमा” तो हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम ने उसको मना फरमाया कि तूने खुद अपने लिए मुसीबत मांग ली बल्कि तुझे युं दुआ करनी चाहिए कि “ऐ अल्लाह मुझे परशानियों से आफियत अता फरमा” यहां एक बात ये भी ज़हन में रहे कि जब अज़ीज़े मिश्र खुद जानते थे कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम पाक बाज़ हैं तो फिर उन्हें क़ैदखाने क्यों भेजा तो इसका जवाब ये है कि बेशक वो जानते थे कि आप नेक है मगर ज़ाहिरी मस्लेहत के तहत आपको क़ैद किया वरना आप बाहर रहते तो रोज़ बरोज़ आपको इन फितनों का सामना करना पड़ता

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 140

जारी रहेगा………..


  • Itna sab kuchh hone ke baad bhi zulekha ki waraftagi me kami na aayi aur wo har waqt hazrat yusuf alaihissalam ke khayal me hi gum rahtin ab ye khabar mahal se nikalkar sare aam hone lagi thi ki wazeer ki biwi apne ghulam par mar miti hain,jab ye kaana foosi zulekha tak pahunchi to aapne ek daawat ka intezaam kiya aur usme un saari aurton ka bulwa bheja jo aap par ilzaam tarashi karti thin,jab sab hi aa gayin to unke saamne phalon ko laga diya gaya aur haath me chhuri de di gayi ki phal kaat lein aur pahle se hi aapne hazrat yusuf alaihissalam ko ye samjha rakha tha ki jab main ishara karun to aap parde se baahar aa jaayein,jab zulekha ne hazrat yusuf alaihissalam ko baahar aane ka ishaara kiya aur aap baahar aaye jab aurton ki nazar hazrat yusuf alaihissalam ke chehre par padi to aapke chehre par nubuwato risalat ke anwaar tawazo wa inkisaar ke aasar wa shaahana haibato iqtedaar dekhkar aapke husno jamaal me aisa gum huyin ki kisi ko bhi hosh na raha aur bajaye phal kaatne ke sab ne hi apni ungliyon ko kaat liya aur unhein iski khabar tak na huyi,aur sab ik zabaan me ye bolin ki lillah ye koi insaan nahin iska husn to farishton se bhi badhkar hai tab zulekha bolin ki tum log ek aan ka jamaal bardaasht na kar saki aur main to har waqt unke husno jamaal ka deedar karti hoon phir zara socho ki main kaise apne hosh me rahun

📕 Khazayenul irfan,paara 12,safah 248

Husne yusuf pe kati misr me angushte zanan
Sar katate hain tere naam pe mardane arab

  • Aalahazrat azimul barkat raziyallahu taala anhu ka ye sher usi waaqye ki taraf ishara hai magar wah re mere aalahazrat 1 hi sher ke dono misro me ek ek lafz aise taqabil se likhe ki sunne waala bina daad diye rah nahin payega,mulahza farmayein
  1. wahan husn hai yahan naam hai,yaani kisi ka husn dekhkar usme mahv ho jaana ye aur baat hai magar yahan to haal ye hai ki huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ka husn laakhon croro arbon ne nahin dekha faqat unke naam par hi mar rahe hain
  2. wahan katna hai yahan kataana hai,katna adme qasd kahlata hai yaani galti se kat gayi aur kataana qasdo iraada zaahir karta hai ki pata hai ki kat jayegi phir bhi ran me ghuse ja rahe hain jaan ki bhi fiqr nahin,kati aur katane me sabse badi baat ye hai ki kati se muraad ye hai ki aisa ek baar hua aur katane se muraad aisa aksar hota rahta hai
  3. wahan misr hai yahan arab hai,arab bhi misr se afzalo aala hai aur arab ki sar kashi zamanaye jaahiliyat me bahut mashhoor thi phir aise me arab ke mardon ka islaam ke liye sar kataana ye aur bhi hairat angez baat huyi
  4. wahan ungli hai yahan sar hai,zaahir si baat hai sar bhi ungli se kahin aala hai ki ungli katne se jaan ko koi khatra nahin hota magar gardan kat jaaye to fauran rooh parwaz kar jayegi
  5. wahan aurat hain yahan mard hain,mard bhi aurat se afzal hai

📕 Hadayqe bakhshish,safah 28

  • Zulekha ne usi mahfil me bhi sabke saamne kah diya ki agar isne meri baat nahin maani to ise qaid khaane jaana hoga,ab hazrat yusuf alaihissalam ke saamne chund mushkilat thi pahli ye ki zulekha had jarde ki khoobsurat thin doosri ye ki wo maalo daulat waali thin ki zarurat padne par apna poora maal lutane ko taiyar thin teesri ye ki mahfil ki saari aurtein bhi aapko ragbat dila rahin thin chunki wo sab khud bhi aap par aashiq ho chuki thin aur sab hi ne aapse mulaqat ka iraada zaahir kar diya tha aur chautha ye ki zulekha ki deewangi aapke saamne thi aitraz karne par ho sakta tha ki wo aapko qatl karane ki saajish kartin,in sabko dekhte hue aapne qaid khaane jaane ka faisla kiya,khayal rahe ki ye mushkil raasta aapne rub ki marzi par kiya tha warna wo chahte to aafiyat ka sawal karte magar aapne aisa nahin kiya,tirmizi me hazrat maaz bin jabal se riwayat hai ki ek shakhs yun dua kar raha tha ki “ai ALLAH mujhe musibat par sabr karne ki taaqat ata farma” to huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ne usko mana farmaya ki toone khud apne liye musibat maang li balki tujhe yun dua karni chahiye ki “ai ALLAH mujhe parshaniyon se aafiyat ata farma” yahan ek baat ye bhi zahan me rahe ki jab azeeze misr khud jaante the ki hazrat yusuf alaihissalam paak baz hain to phir unhein qaid khaane kyun bheja to iska jawab ye hai ki beshak wo jaante the ki aap nek hai magar zaahiri maslehat ke tahat aapko qaid kiya warna aap baahar rahte to roz baroz aapko in fitno ka saamna karna padta

📕 Tazkiratul ambiya,safah 140

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.