Categories
Ambiya e Kiram

Part-6 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-6 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • बेशक औरत ने उसका इरादा किया और वो भी औरत का इरादा करता अगर अपने रब की दलील ना देख लेता

📕 पारा 12,सूरह यूसुफ,आयत 24

  • वाक़िया ये हुआ कि जब ज़ुलेखा ने अपने महल में हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को देखा तो उसने एक और खूबसूरत महल बनवाया जिसके अंदर 7 कमरे थे एक के अन्दर दूसरा दूसरे के अंदर तीसरा इस तरह 7 कमरे थे,फिर एक दिन मौका पाकर ज़ुलेखा हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को लेकर उसी महल में पहुंची और हर कमरे में दाखिल होते हुए हर कमरे का दरवाज़ा बंद करती गयीं,इस तरह जब सातवें कमरे में पहुंची तो हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम से अपने गुनाह का इरादा ज़ाहिर किया आप सुनकर हैरान रह गए और फरमाया कि अल्लाह से डर मगर वो आपके पीछे पड़ी रहीं आपने देखा कि आपके बाप हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम अपनी उंगलियों को अपने मुंह में दबाए हुए इशारा फरमा रहे हैं कि बेटा कभी इस कबाहत में ना पड़ना,जब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को बचने की कोई सूरत ना दिखी तो आप दरवाज़े की तरफ भागे जैसे ही दरवाज़े के करीब पहुंचे दरवाज़ा खुद बखुद खुल गया इस तरह आप हर दरवाज़े की तरफ भागने लगे और ज़ुलेखा आपके पीछे पीछे दौड़ती रहीं,इसी अशना में ज़ुलेखा ने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम का कुर्ता पकड़ा मगर आपके भागने के सबब वो फट गया जैसे ही वो आखरी दरवाज़े से बाहर निकले सामने ही अज़ीज़े मिस्र खड़े हुए मिले,अब जब ज़ुलेखा ने अपने शौहर को सामने देखा तो फौरन अपनी बराअत ज़ाहिर करते हुए बोलीं कि जो तेरी बीवी से बुराई का इरादा रखता हो उसकी क्या सज़ा है या तो इसे क़ैद कर दो या फिर सज़ा दो,चुंकि ज़ुलेखा को हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम से मुहब्बत थी इसलिए अगर चे अपने को बचाने के लिए इलज़ाम उन पर लगाया था मगर फिर भी रिआयत रखी कि पहले क़ैदखाने का ज़िक्र किया वो भी किसी जुर्मे अज़ीम के लिए नहीं बल्कि यही कहा कि जो तेरी बीवी से बुराई का इरादा रखता हो ना कि ये कि इसने मेरे साथ दस्त दराज़ी की,जब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने उसकी बात सुनी तो बोले कि नहीं इसने खुद मुझको माईल करना चाहा अज़ीज़े मिश्र खुद हैरान थे कि किसकी बात को सच्चा जानूं फिर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम से बोले कि क्या तुम अपनी बराअत ज़ाहिर कर सकते हो तो आप फरमाते हैं कि बेशक इस बच्चे से पूछ लो,उस वक़्त वहीं पर ज़ुलेखा के मामू का लड़का पालने में मौजूद था जो कि सिर्फ 3 महीने का था जब अज़ीज़े मिश्र ने ये सुना तो हैरान होकर बोला कि क्या ये 3 महीने का बच्चा गवाही दे सकता है तो आप फरमाते हैं कि बेशक खुदा जो चाहे कर सकता है तुम पूछो जब वो बच्चे से मुखातिब हुए तो 3 महीने का बच्चा फसीह ज़बान में बोला और कहा कि यूसुफ का कुर्ता देखा जाए अगर उनका कुर्ता आगे से फटा होगा तो ज़ुलेखा सच्ची है और अगर कुर्ता पीछे से फटा होगा तो यूसुफ सच्चे हैं मतलब ये था कि अगर कुर्ता आगे से फटा होता तो औरत बचने की कोशिश करती जिसमे आगे से कुर्ता फटता और अगर पीछे से फटा है तो यक़ीनन वो खुद बचना चाह रहे होंगे और उन्हें पकड़ने में कुर्ता पीछे से फटा होगा,एक 3 महीने के बच्चे का बोलना ही हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम की पाकदामनी के लिए काफी था फिर उसकी हकीमाना दलील सुनकर अज़ीज़े मिश्र को इल्म हो गया कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ही सच्चे हैं तो वो कहते हैं कि आप ग़म ना करें और ज़ुलेखा से कहते हैं कि ये तुम्हारा मक्र है बेशक तुम अपने गुनाह की माफी मांगो

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 136
📕 रुहुल बयान,जिल्द 12,सफह 157

यहां पर कुछ बातें जान लेना ज़रूरी है पहली तो ये कि बेशक खुदा सब कुछ कर सकता है मगर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को कैसे पता चला कि यह बच्चा बोलेगा हालांकि 3 महीने के बच्चे का बोलना नामुमकिन है मगर आपने उससे पूछने को कहा कि जो बोल नहीं सकता मतलब कि आपको पता था कि ये बच्चा मेरी गवाही देगा,ये ग़ैब भी है और आपका इख्तियार भी कि एक ना बोलने वाले बच्चे से अपनी गवाही दिलवाई दूसरा ये कि आप मिस्र में थे आपके बाप हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम आपसे सैकड़ों मील दूर थे सो उनको कैसे पता चला कि मेरा बेटा सख्त इम्तिहान में है और आकर उनको तम्बीह की तो मानना पड़ेगा कि आपको भी ग़ैब था और सिर्फ ग़ैब ही नहीं था बल्कि सैकड़ों मील दूर से ही अपने बेटे की इम्दाद को चले आने की ताकत भी थी,और हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम या हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम ही नहीं बल्कि जितने भी अम्बिया गुज़रे हैं सबके सब ग़ैब दां थे क्योंकि नबी का माना ही होते हैं छिपी हुई बातों को जानने वाला,अब रही ये बात कि कोई कहे कि अगर अम्बिया ग़ैब दां भी थे और इख्तियार वाले भी तो क्यों इतनी मुश्किलों में पड़े रहे तो इसका सीधा सा जवाब ये है कि बेशक वो सब जानते थे मगर खुदा की रज़ा पर राज़ी थे वरना उन्हें इख्तियार तो इतना था कि उंगली का एक इशारा कर दें तो चांद को भी चीर के रख दें

जारी रहेगा………..


  • Beshak aurat ne uska iraada kiya aur wo bhi aurat ka iraada karta agar apne rub ki daleel na dekh leta

📕 Paara 12,surah yusuf,aayat 24

  • Waaqiya ye hua ki jab zulekha ne apne mahal me hazrat yusuf alaihissalam ko dekha to usne ek aur khoobsurat mahal banwaya jiske andar 7 kamre the ek ke andar doosra doosre ke andar teesra is tarah 7 kamre the,phir ek din mauqa paakar zulekha hazrat yusuf alaihissalam ko lekar usi mahal me pahunchi aur har kamre me daakhil hote hue har kamre ka darwaza bund karti gayin,is tarah jab saatwen kamre me pahunchi to hazrat yusuf alaihissalam se apne gunaah ka iraada zaahir kiya aap sunkar hairan rah gaye aur farmaya ki ALLAH se dar magar wo aapke peechhe padi rahin aapne dekha ki aapke baap hazrat yaqoob alaihissalam apni ungliyon ko apne munh me dabaye hue ishara farma rahe hain ki bata kabhi is kabahat me na padna,jab hazrat yusuf alaihissalam ko bachne ki koi surat na dikhi to aap darwaze ki taraf bhaage jaise hi darwaze ke kareeb pahunche darwaza khud bakhud khul gaya is tarah aap har darwaze ki taraf bhaagne lage aur zulekha aapke peechhe peechhe daudti rahin,isi ashna me zulekha ne hazrat yusuf alaihissalam ka kurta pakda magar aapke bhaagne ke sabab wo phat gaya jaise hi wo aakhri darwaze se baahar nikle saamne hi azeeze misr khade hue mile,ab jab zulekha ne apne shauhar ko saamne dekha to fauran apni bara’at zaahir karte hue boli ki jo teri biwi se burayi ka irada rakhta ho uski kya saza hai ya to ise qaid kardo ya phir saza do,chunki zulekha ko hazrat yusuf alaihissalam se muhabbat thi isliye agar che apne ko bachane ke liye ilzaam unpar lagaya tha magar phir bhi riyayat rakhi ki pahle qaidkhaane ka zikr kiya wo bhi kisi jurme azeem ke liye nahin balki yahi kaha ki jo teri biwi se burayi ka iraada rakhta ho naaki ye ki isne mere saath dast darazi ki,jab hazrat yusuf alaihissalam ne uski baat suni to bole ki nahin isne khud mujhko maayil karna chaha azeeze misr khud hairan the ki kiski baat ko sachcha jaanu phir hazrat yusuf alaihissalam se bole ki kya tum apni bara’at zaahir kar sakte ho to aap farmate hain ki beshak is bachche se poochh lo,us waqt wahin par zulekha ke maamu ka ladka paalne me maujood tha jo ki sirf 3 mahine ka tha jab azeeze misr ne ye suna to hairan hokar bola ki kya ye 3 mahine ka bachcha gawahi de sakta hai to aap farmate hain ki beshak khuda jo chahe kar sakta hai tum poochho jab wo bachche se mukhatib hue to 3 mahine ka bachcha faseeh zabaan me bola aur kaha ki yusuf ka kurta dekha jaaye agar unka kurta aage se phata hoga to zulekha sachchi hai aur agar kurta peechhe se phata hoga to yusuf sachche hain matlab ye tha ki agar kurta aage se phata hota to aurat bachne ki koshish karti jisme aage se kurta phatta aur agar peechhe se phata hai to yaqinan wo khud bachna chah rahe honge aur unhein pakadne me kurta peechhe se phata hoga,ek 3 mahine ke bachche ka bolna hi hazrat yusuf alaihissalam ki paakdaamni ke liye kaafi tha phir uski hakimana daleel sunkar azeeze misr ko ilm ho gaya ki hazrat yusuf alaihissalam hi sachche hain to wo kahte hain ki aap ghum na karen aur zulekha se kahte hain ki ye tumhara makr hai beshak tum apne gunah ki maafi maango

📕 Tazkiratul ambiya,safah 136
📕 Ruhul bayan,jild 12,safah 157

Yahan par kuchh baatein jaan lena zaruri hai pahli to ye ki beshak khuda sab kuchh kar sakta hai magar hazrat yusuf alaihissalam ko kaise pata chala ki yahi bachcha bolega halanki 3 mahine ke bachche ka bolna namumkin hai magar aapne usse poochhne ko kaha ki jo bol nahin sakta matlab ki aapko pata tha ki ye bachcha meri gawahi dega,ye gaib bhi hai aur aapka ikhtiyar bhi ki ek na bolne waale bachche se apni gawahi dilwayi doosra ye ki aap misr me the aapke baap hazrat yaqoob alaihissalam aapse saikdon meel door the so unko kaise pata chala ki mera beta sakht imtihaan me hai aur aakar unko tambeeh ki to maanna padega ki aapko bhi gaib tha aur sirf gaib hi nahin tha balki saikdon meel door se hi apne bete ki imdaad ko chale aane ki taaqat bhi thi,aur hazrat yusuf alaihissalam ya hazrat yaqoob alaihissalam hi nahin balki jitne bhi ambiya guzre hain sabke sab gaib daan the kyunki nabi ka maane hi hote hain chhipi huyi baaton ko jaanne waala,ab rahi ye baat ki koi kahe ki agar ambiya ikraam gaib daan bhi the aur ikhtiyar waale bhi to kyun itni mushkilon me pade rahe to iska seedha sa jawab ye hai ki beshak wo sab jaante the magar khuda ki raza par raazi the warna unhein ikhtiyar to itna tha ki ungli ka ek ishara kar dein to chaand ko bhi cheer ke rakh dein

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.