Categories
Ambiya e Kiram

Part-5 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-5 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • जब तक हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम मिस्र पहुंचते उससे पहले ही आपके आने की खबर मिस्र पहुंच चुकी थी लिहाज़ा पर्दा नशीन औरतें बूढ़े बच्चे जवान गोशा नशीन सब ही आपकी ज़ियारत के लिए सालारे क़ाफिला के घर पर जमा हो चुके थे,जब सरदार ने ये देखा तो आपकी ज़ियारत के बदले 1 अशर्फी मुंह दिखायी तय कर दी और आपको मकान के सहन के बीचो बीच एक कुर्सी पर बिठा दिया,जो आता वो अशर्फी देता और आपके हुस्न का दीदार करता इस तरह 2 दिन में ही हज़ारों अशर्फियां सरदार के पास जमा हो गई,मिस्र की एक बहुत रईस ज़ादी जिसका नाम फारेगा था कई खच्चरों पर सोना चांदी लेकर आपको खरीदने की गर्ज़ से आयी थी मगर जैसे ही हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के चेहरे पर नज़र पड़ी तो फौरन बेखुद होकर गिर पड़ी,जब इफाक़ा हुआ तो कहने लगी कि आप कौन हैं मैं जितना माल आपको खरीदने के लिए लेकर आई थी यक़ीन जानिये वो आपके पैर की भी कीमत नहीं बन सकती,उसकी आंखें चौंधिया रही थी बोली कि आपको किसने बनाया है,तब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि मैं उस खुदा का बंदा हूं जिसने ये तमाम ज़मीनों आसमान चांद सूरज सितारे कहकशां दुनिया जहान की तमाम नेमतों को पैदा किया है,इतना सुनते ही वो औरत कहती है कि मैं ऐसी ज़ात पर ईमान लाती हूं जिसने आप जैसे हसीन को पैदा किया और जिसकी मख्लूक़ इतनी हसीन है तो वो खुद कितना हसीनों जमील होगा ये कहकर अपना सारा माल राहे खुदा में लुटा दिया और इबादते इलाही में मशगूल हो गई

📕 सीरतुस सालेहीन,सफह 146/248

  • उस वक़्त मिस्र का बादशाह अल-रियान बिन वलीद था ये बाद में हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम पर ईमान भी लाये और उनको बादशाह भी बनाया,अज़ीज़े मिस्र वज़ीर का लक़ब था जब अज़ीज़े मिश्र ने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को खरीदा तो आप 17 साल के थे और 13 साल आप वहीं रहे,30 साल की उम्र में बादशाह ने अज़ीज़े मिश्र को माज़ूल करके हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को अज़ीज़े मिश्र बनाया और 3 साल बाद ही मिस्र की बादशाहत भी आपको मिल गई,दुनिया में 3 मुहतरम हज़रात ऐसे हुए हैं जिन्होंने बहुत ही अज़ीम फिरासत से काम लिया है पहला तो अज़ीज़े मिश्र जिन्होंने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को देखते ही उनकी पेशानी पर स’आदत की निशानी देख ली और बड़ी मुहब्बत से आपको घर लेकर आये दूसरी हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम की बेटी जिन्होंने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को देखकर अपने बाप से कहा कि इन्हें अपने घर में नौकर रख लीजिये कि ये ताक़तवर के साथ साथ अमानतदार भी हैं और तीसरे हज़रते अबू बक्र सिद्दीक़ रज़ियल्लाहु तआला अन्हु जिन्होंने अपनी फिरासत से ही हज़रते उमर को खलीफा मुंतखिब किया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 131

  • ज़ुलेखा अज़ीज़े मिस्र की बीवी थीं जो बहुत ही खूबसूरत थीं और अज़ीज़े मिश्र से इनका निकाह करना भी बहुत ही अजीब था,वाक़िया ये हुआ कि इन्होने ख्वाब में लगातार 3 रातों तक हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को देखा तीसरी शब में आपने ख्वाब में ही हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम से पूछा कि आप कौन हैं तो आप फरमाते हैं कि मैं अज़ीज़े मिश्र हूं,आप मग़रिब के बादशाह शाहे तैमूस की बेटी थीं और बड़े बड़े बादशाहों का पैगाम आपके लिए आता मगर आप इनकार करती रहीं क्योंकि आपके दिल पर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम का नक्श जम चुका था और उनकी मुहब्बत में वारफता हो चुकी थीं,जब अज़ीज़े मिश्र का पैगाम आपके लिए आया तो आपने फौरन हां कर दिया मगर जब आपने अज़ीज़े मिश्र को देखा तो आप हैरान रह गईं कि ये तो वो सूरत नहीं है,अज़ीज़े मिश्र ना-मर्द थे जब तक हज़रते ज़ुलेखा आपके निकाह में रहीं बाकेरा ही रहीं और ये भी याद रहे कि अज़ीज़े मिस्र से निकाह उन्होंने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम समझ कर किया था उन्हें हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम से मुहब्बत थी लिहाज़ा उन पर बदकारी का इलज़ाम लगाना भी दुरुस्त नहीं,जब अज़ीज़े मिश्र ने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को खरीदा और उन्हें लेकर घर आये और ज़ुलेखा ने उन्हें देखा तो पहचान गईं कि ये तो वही हैं और इसी वारफतगी को वो जज़्ब ना कर पाईं और गुनाह का इरादा कर बैठीं

📕 रुहुल बयान,पारा 12,सफह 157

जारी रहेगा………..


  • Jab tak hazrat yusuf alaihissalam misr pahunchte usse pahle hi aapke aane ki khabar misr pahunch chuki thi lihaza parda nasheen aurtein boodhe bachche jawaan gosha nasheen sab hi aapki ziyarat ke liye saalare kaafila ke ghar par jama ho chuke the,jab sardaar ne ye dekha to aapki ziyarat ke badle 1 asharfi munh dikhayi tai kar di aur aapko makaan ke sahan ke beecho beech ek kursi par bitha diya,jo aata wo asharfi deta aur aapke husn ka deedar karta is tarah 2 din me hi hazaron asharfiyan sardaar ke paas jama ho gayi,misr ki ek bahut raees zaadi jiska naam faarega tha kayi khachcharon par sona chaandi lekar aapko khareedne ki garz se aayi thi magar jaise hi hazrat yusuf alaihissalam ke chehre par nazar padi to fauran bekhud hokar gir padi,jab ifaaka hua to kahne lagi ki aap kaun hain main jitna maal aapko khareedne ke liye lekar aayi thi yaqeen janiye wo aapke pair ki bhi keemat nahin ban sakti,uski aankhen chaundhiya rahi thi boli ki aapko kisne banaya hai,tab hazrat yusuf alaihissalam farmate hain ki main us khuda ka banda hoon jisne ye tamam zamino aasman chaand suraj sitare kahkashan duniya jahaan ki tamam nematon ko paida kiya hai,itna sunte hi wo aurat kahti hai ki main aisi zaat par imaan laati hoon jisne aap jaise haseen ko paida kiya aur jiski makhlooq itni haseen hai to wo khud kitna haseeno jameel hoga ye kahkar apna saara maal raahe khuda me luta diya aur ibaadate ilaahi me mashgool ho gayi

📕 Seeratus saaleheen,safah 146/248

  • Us waqt misr ka baadshah al-riyan bin waleed tha ye baad me hazrat yusuf alaihissalam par imaan bhi laaye aur unko baadshah bhi banaya,azeeze misr wazeer ka laqab tha jab azeeze misr ne hazrat yusuf alaihissalam ko khareeda to aap 17 saal ke the aur 13 saal aap wahin rahe,30 saal ki umr me baadshah ne azeeze misr ko mazool karke hazrat yusuf alaihissalam ko azeeze misr banaya aur 3 saal baad hi misr ki baadshahat bhi aapko mil gayi,duniya me 3 muhtaram hazraat aise hue hain jinhone bahut hi azeem firasat se kaam liya hai pahla to azeeze misr jinhone hazrat yusuf alaihissalam ko dekhte hi unki peshani par sa’adat ki nishani dekh li aur badi muhabbat se aapko ghar lekar aaye doosri hazrat shoeb alaihissalam ki beti jinhone hazrat moosa alaihissalam ko dekhkar apne baap se kaha ki inhein apne ghar me naukar rakh lijiye ki ye taqatwar ke saath saath amanatdaar bhi hain aur teesre hazrat abu bakr siddique raziyallahu taala anhu jinhone apni firasat se hi hazrate umar ko khalifa muntakhib kiya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 131

  • Zulekha azeeze misr ki biwi thin jo bahut hi khoobsurat thin aur azeeze misr se inka nikah karna bhi bahut hi ajeeb tha,waqiya ye hua ki inhone khwab me lagataar 3 raaton tak hazrat yusuf alaihissalam ko dekha teesri shab me aapne khwab me hi hazrat yusuf alaihissalam se poochha ki aap kaun hain to aap farmate hain ki main azeeze misr hoon,aap magrib ke baadshah shahe taimoos ki beti thin aur bade bade baadshahon ka paigaam aapke liye aata magar aap inkaar karti rahin kyunki aapke dil par hazrat yusuf alaihissalam ka naksh jam chuka tha aur unki muhabbat me warafta ho chuki thin,jab azeeze misr ka paigaam aapke liye aaya to aapne fauran haan kar diya magar jab aapne azeeze misr ko dekha to aap hairan rah gayin ki ye to wo surat nahin hai,azeeze misr na mard the jab tak hazrate zulekha aapke nikah me rahin baakrah hi rahin aur ye bhi yaad rahe ki azeeze misr se nikah unhone hazrat yusuf alaihissalam samajh kar kiya tha unhein hazrat yusuf alaihissalam se muhabbat thi lihaza unpar badkaari ka ilzaam lagana bhi durust nahin,jab azeeze misr ne hazrat yusuf alaihissalam ko khareeda aur unhein lekar ghar aaye aur zulekha ne unhein dekha to pahchaan gayin ki ye to wahi hain aur isi waraftagi ko wo jazb na kar payin aur gunah ka iraada kar baithin

📕 Ruhul bayaan,para 12,safah 157

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.