Categories
Ambiya e Kiram

Part-4 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-4 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • जब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम कुंवे में थे तो हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम ने कुंवे में मुनादी करदी कि कोई भी मूज़ी जानवर अपने बिल से बाहर ना निकले ये सुनकर तमाम कीड़े मकोड़े सब अपने बिलों में छिप गए मगर एक सांप शक़ावत में हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम की तरफ बढ़ा कि आपको काटे तो हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने एक चीख मारी तो वो सांप बहरा हो गया और उसकी इसी हरकत की वजह से क़यामत तक के लिए तमाम सांपो को बहरा कर दिया गया

📕 क्या आप जानते हैं,सफह 93

  • हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम बहुत ही खूबसूरत थे,आपके बाल घुंघराले,बड़ी बड़ी आंखें,सफ़ेद रंग सुर्खी माइल,कलाइंया और पिंडलियां मोटी,पेट छोटा गर्ज़ कि तमाम आज़ा में अजीब किस्म का एतेदाल पाया जाता था,आप जब बात करते तो नूर आपके दांतों से निकलता नज़र आता,गोया कि आपका हुस्न ऐसा था जैसे दिन की रौशनी,जब उन काफिले वालों ने आपको देखा तो बहुत खुश हुए और आपको कीमती सरमाया समझकर अपने साथ ले चले कि मिस्र के बाज़ार में आपको अच्छी कीमत पर बेच देंगे,उधर कई दिन बीत जाने के बाद उनके भाइयों ने सोचा कि चलकर देखा जाए कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम का क्या हाल है जब वो लोग कुंवे पर पहुंचे तो अंदर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को ना पाया कुछ दूर एक काफिला जाता दिखाई दिया सब उसी तरफ लपके और काफिले को पा लिया,जब उन्होंने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को काफिले के साथ जाते देखा तो काफिले वालों से कहा कि ये हमारा गुलाम है जो भागकर आ गया है अगर तुम लोग खरीदना चाहो तो 20 दरहम में खरीद सकते हो,उन्होंने 20 दरहम दे दिए और हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को लेकर चले आप रोते रहे मगर अपने भाइयों के लिए दुआ ही करते रहे,चुंकि काफिले वालों को अब ये मालूम था कि आप भागकर आये हैं तो उन्होंने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को बेड़ियां पहनाकर सवार कर दिया जब आप कुंआन के कब्रिस्तान से गुज़रे तो अपनी मां की कब्र देखकर रो पड़े और सवारी से उतरकर अपनी मां की क़ब्र से लिपट गए और रो रोकर अपना हाल सुनाने लगे,इधर जब एक गुलाम ने आपको सवारी पर न पाया तो आपको ढूंढ़ता हुआ आपके पास पहुंचा और आपको एक थप्पड़ मार दिया जिससे आप गिरकर बेहोश हो गए,आपकी ये हालत देखकर आसमान के फरिश्ते भी चिल्ला उठे और सब अल्लाह के हुज़ूर हाज़िर होकर फरियाद करने लगे तो मौला ने हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम को भेजा कि जाकर मेरे बन्दे की इमदाद करो,हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम हाज़िर हुए और आपको चुप कराया कि आपने तो आसमान के फरिश्तों को भी रुला दिया और एक पर मारा तो सूरज अंधेरे में छिप गया और ऐसी शदीद आंधी चली कि पूरा काफिला तहस नहस हो गया,काफिले के सरदार ने कहा कि मैं कई बरस से इस रास्ते से गुज़रता रहा हूं मगर आज तक ऐसा तूफान नहीं देखा ये ज़रूर हमारे किसी गुनाह की सज़ा है तो गुलाम ने कहा कि हुज़ूर मुझसे एक गलती हुई है कि मैंने उस लड़के को एक थप्पड़ मार दिया था,तो सरदार बोला कि ज़रूर ज़रूर ये उसी की सज़ा है और सब लोग हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के पास हाज़िर हुए और आपसे माफी चाही तो आपने उसको माफ कर दिया,आपके माफ करते ही मौसम फिर से पहले जैसा खुशगवार हो गया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 129

  • जब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को मिस्र के बाज़ार में लाया गया तो हर तरफ आपके हुस्न का शोहरा हो ही चुका था तो पूरा मिस्र उसी बाज़ार में जमा हो गया और हर एक आपको खरीदना चाहता था हत्ता कि कीमत बढ़ते बढ़ते यहां तक पहुंच गई कि आपके वज़न के बराबर सोना उतनी ही चांदी उतना ही मुश्क और उतना ही हरीर दिया जायेगा,अब ये कीमत दे पाना हर एक के बस में नहीं था लिहाज़ा ये भारी कीमत देकर आपको क़तफीर जिनका लक़ब अज़ीज़े मिश्र था उन्होंने खरीद लिया

📕 खज़ाएनुल इरफान,पारा 12,रुकू 12

जारी रहेगा………..


  • Jab hazrat yusuf alaihissalam kunwe me the to hazrat jibreel alaihissalam ne kunwe me munadi karadi ki koi bhi moozi jaanwar apne bil se baahar na nikle ye sunkar tamam keede makode sab apne bilon me chhip gaye magar ek saanp shaqawat me hazrat yusuf alaihissalam ki taraf badha ki aapko kaate to hazrat yusuf alaihissalam ne ek cheekh maari to wo saanp bahra ho gaya aur uski isi harkat ki wajah se qayamat tak ke liye tamam saanpon ko bahra kar diya gaya

📕 Kya aap jaante hain,safah 93

  • Hazrat yusuf alaihissalam bahut hi khoobsurat the,aapke baal ghungrale,badi badi aankhen,safed rang surkhi maayal,kalayinya aur pindliyan moti,peit chhota garz ki tamam aaza me ajeeb kism ka etedaal paaya jaata tha,aap jab baat karte to noor aapke daaton se nikalta nazar aata,goya ki aapka husn aisa tha jaise din ki raushni,jab un kaafile waalon ne aapko dekha to bahut khush hue aur aapko keemti sarmaya samajhkar apne saath le chale ki misr ke baazar me aapko achchhi keemat par bech denge,udhar kayi din beet jaane ke baad unke bhaiyon ne socha ki chalkar dekha jaaye ki hazrat yusuf alaihissalam ka kya haal hai jab wo log kunwe par pahunche to andar hazrat yusuf alaihissalam ko na paaya kuchh door ek kaafila jaata dikhayi diya sab usi taraf lapke aur kaafile ko pa liya,jab unhone hazrat yusuf alaihissalam ko kaafile ke saath jaate dekha to kaafile waalon se kaha ki ye hamara gulam hai jo bhaagkar aa gaya hai agar tum log khareedna chaho to 20 darham me khareed sakte ho,unhone 20 darham de diye aur hazrat yusuf alaihissalam ko lekar chale aap rote rahe magar apne bhaiyon ke liye dua hi karte rahe,chunki kaafile waalo ko ab ye maloom tha ki aap bhaagkar aaye hain to unhone hazrat yusuf alaihissalam ko bediyan pahnakar sawaar kar diya jab aap kunaan ke kabristan se guzre to apni maa ki kabr dekhkar ro pade aur sawari se utarkar apni maa ki qabr se lipat gaye aur ro rakar apna haal sunane lage,idhar jab ek gulam ne aapko sawari par na paaya to aapko dhoondta hua aapke paas pahuncha aur aapko ek thappad maar diya jisse aap girkar behosh ho gaye,aapki ye haalat dekhkar aasman ke farishte bhi chilla uthe aur sab ALLAH ke huzoor haazir hokar fariyaad karne lage to maula ne hazrat jibreel alaihissalam ko bheja ki jaakar mere bande ki imdaad karo,hazrat jibreel alaihissalam haazir hue aur aapko chup karaya ki aapne to aasman ke farishton ko bhi rula diya aur ek par maara to suraj andhere me chhip gaya aur aisi shadeed aandhi chali ki poora kaafila tahas nahas ho gaya,kaafile ke sardaar ne kaha ki main kayi baras se is raaste se guzarta raha hoon magar aaj tak aisa toofan nahin dekha ye zaroor hamare kisi gunah ki saza hai to gulam ne kaha ki huzoor mujhse ek galti huyi hai ki maine us ladke ko ek thappad maar diya tha,to sardar bola ki zaroor zaroor ye usi ki saza hai aur sab log hazrat yusuf alaihissalam ke paas haazir hue aur aapse maafi chahi to aapne usko maaf kar diya,aapke maaf karte hi mausam phir se pahle jaisa khushgawar ho gaya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 129

  • Jab hazrat yusuf alaihissalam ko misr ke baazar me laaya gaya to har taraf aapke husn ka shohra ho hi chuka tha to poora misr usi baazar me jama ho gaya aur har ek aapko khareedna chahta tha hatta ki keemat badhte badhte yahan tak pahunch gayi ki aapke wazan ke barabar sona utni hi chaandi utna hi mushk aur utna hi hareer diya jayega,ab ye keemat de paana har ek ke bas me nahin tha to lihaza ye bhaari keemat dekar aapko qatfeer jinka laqab azeeze misr tha unhone khareed liya

📕 Khazayenul irfan,para 12,ruku 12

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.