Categories
Ambiya e Kiram

Part-3 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish

Part-3 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • आप 3 दिन और रात इस कुंवे में रहे

📕 अलकामिल फित्तारीख,जिल्द 1,सफह 55

  • इस दौरान हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम आपको जन्नती खाना पानी पेश करते रहे

📕 जलालैन,हाशिया 39,सफह 190

  • जब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को उनके भाईयों ने कुंवे में डाल दिया तो घर लौटते हुए एक हिरन का शिकार किया और उसका खून हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम की कमीज़ पर लगाकर घर पहुंचे और रो रोकर अपने बाप से कहने लगे कि हाय अफसोस हमारे भाई को भेड़ियों ने मार डाला,भेड़ियों का हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम पर हमला करने वाली ख्वाब की बात चुंकि हज़रत याकूब अलैहिस्सलाम उनसे कह चुके थे जब कि वो हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को जंगल में खेलने के लिए ले जाते थे तो वही बात उन्होंने लौटकर अपने बाप को सुना दी

हज़रते उमर फारूक़े आज़म रज़ियल्लाहु तआला अन्हु से मरवी है कि हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि कभी भी कोई शख्स किसी के सामने अपने ऐसा कलाम ना करे जिससे कि उसे झूठ बोलने का मौक़ा मिले जैसा कि हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम ने अपने बेटों के सामने ख्वाब की बात बताई कि मैंने देखा है भेड़िये ने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम पर हमला किया है हालांकि उनके बेटों को ये इल्म नहीं था कि भेड़िया भी इंसान पर हमला कर सकता है मगर चुंकि उन्होंने अपने बाप से सुन लिया तो उन्होंने वही बात बना दी

हज़रते आमश रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम के बेटों का झूठा रोने के बाद किसी के रोने को भी सच्चा नहीं समझा जा सकता,जैसा कि क़ाज़ी शुरई के पास एक औरत अपना मुक़दमा लेकर हाज़िर हुई और रो रोकर फरियाद करती रही मगर आप उस पर ध्यान ना देते तब लोगों ने कहा कि ऐ अबू उमैय्या क्या आप इसका रोना नहीं देखते तो क़ाज़ी शुरई फरमाते हैं कि हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम के बेटे भी इससे ज़्यादा रोते हुए अपने बाप के पास पहुंचे थे मगर वो ज़ालिम और झूठे थे लिहाज़ा किसी को भी ये हक़ नहीं पहुंचता कि सिर्फ किसी का रोना देखकर फैसला करें बल्कि तहक़ीक़ करें

यहां पर एक सवाल उठता है कि हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम को तो पहले ही पता था कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को नुबूवत मिलनी है फिर क्यों आपने अपने बेटों की बात पर यक़ीन कर लिया कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को भेड़ियों ने मार डाला और क्यों नहीं हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम की तलाश की तो इसका जवाब ये है कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को कुछ नहीं हुआ है ये तो आपने उसी वक़्त अपने बेटों से फरमा दिया था कि मैं जानता हूं कि यूसुफ ज़िंदा हैं क्योंकि मैंने आज तक इतना हकीम भेडिया नहीं देखा जो इंसान को तो खा ले मगर उसकी कमीज़ को ना फाड़े लिहाज़ा तुम्हारे कहे पर मैं अल्लाह से ही मदद चाहता हूं,क्योंकि अल्लाह ने आपको यही हुक्म दिया था,और रोना हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम की जुदाई में था बे खबरी में नहीं और इस बात पर भी था कि एक नबी के बेटों का ये हाल है कि हसद में अपने ही भाई को ज़ाया कर आयें

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 126

  • आपके कुंवे से निकलने का वाक़िया युं है कि एक काफिला मदयन से मिस्र की जानिब रवाना हुआ मगर रास्ता भटक कर उसी जंगल में पहुंच गया जहां ये कुंआ था,काफिले के सरदार ने एक शख्स जिसका नाम मालिक बिन ज़अर खज़ाई था उसको कुंवे से पानी निकालने के लिए भेजा जब इसने कुंवे में डोल लटकाई तो हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम उसे पकड़कर ऊपर आ गए,जब आप बाहर आये तो कुंवे की दरों दीवार आपके हुस्न और बरकत की महरूमी पर रो पड़े

📕 अलइतक़ान,जिल्द 2,सफह 187
📕 खज़ाएनुल इर्फान,पारा 12,रुकू 12

जारी रहेगा………..


  • Aap 3 din aur raat is kunwe me rahein

📕 Alkamil fit tareekh,jild 1,safah 55

  • Is dauran hazrat jibreel alaihissalam aapko jannati khaana paani pesh karte rahein

📕 Jalalain,hashia 39,safah 190

  • Jab hazrat yusuf alaihissalam ko unke bhaiyon ne kunwe me daal diya to ghar lautte hue ek hiran ka shikar kiya aur uska khoon hazrat yusuf alaihissalam ki kameez par lagakar ghar pahunche aur ro rokar apne baap se kahne lage ki hay afsos hamare bhai ko bhediyon ne maar daala,bhediyon ka hazrat yusuf alaihissalam par hamla karne waali khwab ki baat chunki hazrat yaqoob alaihissalam unse kah chuke the jab ki wo hazrat yusuf alaihissalam ko jangle khelne ke liye le jaate the to wahi baat unhone lautkar apne baap ko suna di

Hazrate umar farooqe aazam raziyallahu taala anhu se marwi hai ki huzoor sallallaho taala alaihi wasallam irshaad farmate hain ki kabhi bhi koi shakhs kisi ke saamne apne aisa kalaam na kare jisse ki use jhooth bolne ka mauqa mile jaisa ki hazrat yaqoob alaihissalam ne apne beton ke saamne khwab ki baat batayi ki maine dekha hai bhediye ne hazrat yusuf alaihissalam par hamla kiya hai halaanki unke beton ko ye ilm nahin tha ki bhediya bhi insaan par hamla kar sakta hai magar chunki unhone apne baap se sun liya to unhone wahi baat bana di

Hazrate aamash raziyallahu taala anhu farmate hain ki hazrat yaqoob alaihissalam ke beton ka jhoota rone ke baad kisi ke rone ko bhi sachcha nahin samjha ja sakta,jaisa ki qaazi shurai ke paas ek aurat apna muqadma lekar haazir huyi aur ro rokar fariyaad karti rahi magar aap uspar dhyan na dete tab logon ne kaha ki ai abu umaiyya kya aap iska rona nahin dekhte to qaazi shurai farmate hain ki hazrat yaqoob alaihissalam ke bete bhi isse zyada rote hue apne baap ke paas pahunche the magar wo zaalim aur jhoothe the lihaza kisi ko bhi ye haq nahin pahunchta ki sirf kisi ka rona dekhkar faisla karen balki tahqeeq karen

Yahan par ek sawal uthta hai ki hazrat yaqoob alaihissalam ko to pahle hi pata tha ki hazrat yusuf alaihissalam ko nubuwat milni hai phir kyun aapne apne beton ki baat par yaqeen kar liya ki hazrat yusuf alaihissalam ko bhediyon ne maar daala aur kyun nahin hazrat yusuf alaihissalam ki talaash ki to iska jawab ye hai ki hazrat yusuf alaihissalam mare nahin hain ye to aapne usi waqt apne beton se farma diya tha ki main jaanta hoon ki yusuf zinda hain kyunki maine aaj tak itna hakeem bhediya nahin dekha jo insaan ko to kha le magar uski kameez ko na phaade lihaza tumhare kahe par main ALLAH se hi madad chahta hoon,kyun kyunki ALLAH ne aapko yahi hukm diya tha,aur rona hazrat yusuf alaihissalam ki judaayi me tha be khabri me nahin aur is baat par bhi tha ki ek nabi ke beton ka ye haal hai ki hasad me apne hi bhai ko zaaya kar aayein

📕 Tazkiratul ambiya,safah 126

  • Aapke kunwe se nikalne ka waaqiya yun hai ki ek kaafila madyan se misr ki jaanib rawana hua magar raasta bhatak kar usi jangle me pahunch gaya jahan ye kunwa tha,kaafile ke sardaar ne ek shakhs jiska naam maalik bin za’ar khazayi tha usko kunwe se paani nikaalne ke liye bheja jab isne kunwe me doul latkayi to hazrat yusuf alaihissalam use pakadkar oopar aa gaye,jab aap baahar aaye to kunwe ki daro deewar aapke husn aur barkat ki mahrumi par ro pade

📕 Alitqaan,jild 2,safah 187
📕 Khazayenul irfan,paara 12,ruku 12

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.