Categories
Ambiya e Kiram

Part-2 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-2 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • जब भाईयों ने देखा कि उनके बाप हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को ही बहुत चाहते हैं तो उन लोगों ने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को क़त्ल करने का मंसूबा बनाया मगर सबसे बड़े भाई यहूदा ने मना किया कि ये जुर्मे अज़ीम होगा सो उसे क़त्ल ना करके जंगल में किसी कुंवे में डाल आयें,फिर सारे भाई हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम के पास पहुंचे और उनसे हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को अपने साथ खेलने के लिए ले जाने की ज़िद करने लगे,हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम को ख्वाब में दिखाया गया था कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम पर भेड़िये ने हमला किया है मगर शायद आपने ख्वाब को हू बहू वैसा ही समझा हो और ग़ौर ना किया हो कि ये सिर्फ इशारा है बहरहाल सारे भाई मिलकर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को लेकर जंगल की तरफ निकल पड़े और जैसे ही वो वहां पहुंचे उन्होंने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को सख्त ईज़ा देनी शुरू कर दी और आखिर में आपको एक कुंवे में फेंक दिया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 123

  • एक मर्तबा हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम ने हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम से पूछा कि ऐ जिब्रील क्या तुम्हे कभी ज़मीन पर आने के लिए मशक़्क़त भी उठानी पड़ी है इस पर वो फरमाते हैं कि या रसूल अल्लाह सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम बेशक 4 मर्तबा मुझे ज़मीन पर आने के लिए बहुत जल्दी करनी पड़ी है
  1. पहला जब हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम को आग में डाला जा रहा था तो मौला का हुक्म हुआ कि ऐ जिब्रील मेरे खलील के आग में पहुंचने से पहले तुम उनके पास पहुंचे तो मैंने सिदरह छोड़ा और इससे पहले कि वो आग तक पहुंचते मैं पहुंच गया
  2. दूसरा जब हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम ने हज़रत इस्माईल के गले पर छुरी चलाने का कसद किया तो मौला ने फरमाया कि ऐ जिब्रील इससे पहले कि इस्माईल के गले पर छुरी चले फौरन जन्नत से एक दुम्बा लेकर इस्माईल के लिए फिदिया बनाओ तो मैं सिदरह से जन्नत गया वहां से दुम्बा लिया फिर ज़मीन पर आकर इस्माईल को हटाकर वो दुम्बा लिटा दिया और वो ज़बह हो गया
  3. तीसरा जब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को उनके भाइयों ने कुंअे में फेंक दिया और वो पानी की तरफ बढ़ रहे थे तो मौला ने मुझे हुक्म दिया तो इससे पहले कि वो पानी तक पहुंचते मैं एक तख्त लेकर पहुंच गया और उनको बा आसानी उस पर बिठाया
  4. चौथा जब आपका दनदाने मुबारक शहीद हुआ और खून की बूंदें ज़मीन की तरफ बढ़ रही थी तो मुझे हुक्म मिला कि आपका खून ज़मीन पर गिरने से पहले अपने हाथों में ले लूं तो मैं सिदरह से ज़मीन पर आया हालांकि आपका खून जिस्म से जुदा होकर ज़मीन की तरफ बढ़ रहा था मगर उसके ज़मीन तक पहुंचने से पहले मैं पहुंचा और उसको अपने हाथों में ले लिया

📕 रूहुल बयान,जिल्द 3,सफह 411

  • सिदरतुल मुंतहा ज़मीन से 50000 साल की दूरी पर है,सोचिये कि 50000 साल की दूरी हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम आन की आन में तय कर रहे हैं और ये ताक़त मेरे आक़ा के एक ग़ुलाम की है तो अंदाजा लगाइये कि जब एक ग़ुलाम की ताक़त का ये हाल है तो नबियों के नबी जनाब सय्यदुल अम्बिया सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम की ताक़त का क्या हाल होगा

📕 अलमलफूज़,जिल्द 4,सफह 7

  • हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम ने आपके हाथ पांव खोल दिए और गले में जो कमीज़ तावीज़ की शक्ल में पड़ी थी जिसे घर से निकलते वक़्त हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम ने आपके गले में डाल दी थी ये वही जन्नती कमीज़ थी जिसे आग में डालते वक़्त हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम को हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम ने जन्नत से लाकर पहनाया था ये पुश्त दर पुश्त हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम तक पहुंची थी उसी कमीज़ को हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को पहना दिया,उस कमीज़ के पहनते ही अंधेरे कुंवे में रौशनी जगमगा उठी,और जो पानी खारा था वो मीठा हो गया और उसमे गिज़ाइयत आ गई

📕 जलालैन,हाशिया 4,सफह 198

  • ये कुंआ शहरे कुंआन से 3 मील के फासले पर अर्दिन में वाक़ेय है,ये कुंवा शद्दाद ने उस वक़्त खुदवाया था जब वो अर्दिन के शहरों को आबाद कर रहा था,इसकी गहराई 70 गज़ से ज़्यादा थी और इसका मुंह ऊपर से तंग और अंदर से चौड़ा था

📕 खज़ाएनुल इरफान,पारा 12,रुकू 12
📕 जलालैन,हाशिया 36,सफह 190

जारी रहेगा………..


  • Jab bhaiyon ne dekha ki unke baap hazrat yusuf alaihissalam ko hi bahut cahahte hain to un logon ne hazrat yusuf alaihissalam ko qatl karne ka mansuba banaya magar sabse bade bhai yahuda ne mana kiya ki ye jurme azeem hoga so use qatl na karke jungle me kisi kunwe me daal aayein,phir saare bhai hazrat yaqoob alaihissalam ke paas pahunche aur unse hazrat yusuf alaihissalam ko apne saath khelne ke liye le jaane ki zid karne lage,hazrat yaqoob alaihissalam khwab me dikhaya gaya tha ki hazrat yusuf alaihissalam par bhediye ne hamla kiya hai magar shayad aapne khwab ko hu bahu waisa hi samjha ho aur gaur na kiya ho ki ye sirf ishara hai baharhaal saare bhai milkar hazrat yusuf alaihissalam ko lekar jungle ki taraf nikal pade aur jaise hi wo wahan pahunche unhone hazrat yusuf alaihissalam ko sakht eezayein deni shuru kar di aur aakhir me aapko ek kunwe me phenk diya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 123

  • Ek martaba huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ne hazrat jibreel alaihissalam se poochha ki ai jibreel kya tumhe kabhi zameen par aane ke liye mashaqqat bhi uthaani padi hai is par wo farmate hain ki ya rasool ALLAH sallallaho taala alaihi wasallam beshak 4 martaba mujhe zameen par aane ke liye bahut jaldi karni padi hai
  1. Pahla Jab hazrat ibraheem alaihissalam ko aag me daala ja raha tha to maula ka hukm hua ki ai jibreel mere khaleel ke aag me pahunchne se pahle tum unke paas pahunche to maine sidrah chhoda aur isse pahle ki wo aag tak pahunchte maine pahunchkar ek par maara to wo aag gulzaar ho gayi
  2. Doosra Jab hazrat ibraheem alaihissalam ne hazrat ismayeel ke gale par chhuri chalane ka kasad kiya to maula ne farmaya ki ai jibreel isse pahle ki ismayeel ke gale par chhuri chale fauran jannat se ek dumba lekar ismayeel ke liye fidiya banao to main sidrah se jannat gaya wahan se dumba liya phir zameen par aake ismayeel ko hatakar wo dumba lita diya aur wo zabah ho gaya
  3. Teesra jab hazrat yusuf alaihissalam ko unke bhaiyon ne kunwe me fenk diya aur wo paani ki taraf badh rahe the to maula ne mujhe hukm diya to isse pahle ki wo paani tak pahunchte main ek takht lekar pahunch gaya aur unko ba aasani us par bithaya
  4. Chautha Jab aapka dandane mubarak shaheed hua aur khoon ki boondein zameen ki taraf badh rahi thi to mujhe hukm mila ki aapka khoon zameen par girne se pahle apne haathon me le loon to main sidrah se zameen par aaya halaanki aapka khoon jism se juda hokar zameen ki taraf badh raha tha magar uske zameen tak pahunchne se pahe main pahuncha aur usko apne haathon me le liya

📕 Ruhul bayan,jild 3,safah 411

  • Sidratul muntaha zameen se 50000 saal ki doori par hai,sochiye ki 50000 saal ki doori hazrat jibreel alaihissalam aan ki aan me tai kar rahe hain aur ye taaqat mere aaqa ke ghulam ki hai to andaaza lagaiye ki jab ek ghulam ki taaqat ka ye haal hai to nabiyon ke nabi janab sayyadul ambiya sallallaho taala alaihi wasallam ki taaqat ka kya haal hoga

📕 Almalfooz,jild 4,safah 7

  • Hazrat jibreel alaihissalam ne aapke haath paanv khol diye aur gale me jo kameez taaweez ki shakl me padi thi jise ghar se nikalte waqt hazrat yaqoob alaihissalam ne aapke gale me daal di thi ye wahi jannati kameez thi jise aag me daalte waqt hazrat ibraheem alaihissalam ko hazrat jibreel alaihissalam ne jannat se laakar pahnaya tha ye pusht dar pusht hazrat yaqoob alaihissalam tak pahunchi thi usi kameez ko hazrat yusuf alaihissalam ko pahna diya,us kameez ke pahante hi andhere kunwe me raushni jagmaga uthi,aur jo paani khaara tha wo meetha ho gaya aur usme gizayiyat aa gayi

📕 Jalalain,hashia 4,safah 198

  • Ye kunwa kunaan se 3 meel ke faasle par ardin me waaqey hai,ye kunwa shaddad ne us waqt khudwaya tha jab wo ardin ke shahron ko aabad kar raha tha,iski gahrayi 70 gaz se zyada thi aur iska munh oopar se tang aur andar se chauda tha

📕 Khazayenul irfan,para 12,ruku 12
📕 Jalalain,hashia 36,safah 190

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.