Categories
Ambiya e Kiram

Part-14 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-14 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • जैसा कि कहा गया कि हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम मरतबे में हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम से अफज़ल हैं तो फिर बाप ने बेटे को सज्दा क्यों किया हक़ तो ये था कि बेटा बाप को सज्दा करता,तो उल्मा ने इसकी 3 शरहें की पहली ये कि ये सज्दा दर असल खुदा को ही था उसके शुक्राने के तौर पर वो इस तरह कि अगर ये सज्दा हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को था तो चाहिए था कि फौरन मिलते ही सज्दा करते जबकि ऐसा नहीं हुआ बल्कि जब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम तख्त पर बैठ गए तब सज्दा किया गया दूसरा ये कि ये सज्दा था तो हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को ही मगर इसलिए था कि बाप अगर बेटों को हुक्म देता कि अपने भाई को सज्दा करें तो शायद इसमें उनको कुछ मलाल रहता इसलिए सबसे पहले आप ही झुक गए तो अब किसी के पास कोई चारा ना था तो सब सज्दे में चले गए तीसरी और सबसे आला तफसीर ये है कि जिस तरह हज़रत आदम अलैहिस्सलाम को फरिश्तों से सज्दा करवाने में हज़ारों हिकमतें थी वो यहां भी हो सकती है जिसका बेहतर जानने वाला अल्लाह तबारक व तआला ही है

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 171

  • आप 72 ज़बानें जानते थे

📕 औराक़े ग़म,सफह 45

  • मिस्र में हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम 24 साल मुक़ीम रहे और वहीं उनका विसाल हुआ,हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम के बारे में मुख्तसर मालूमात उन्ही की नाम से पोस्ट बनी है वहीं से पढ़ ली जाए,उनके विसाल के बाद हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम 23 साल ज़ाहिरी हयात में रहे और जब आपका विसाल हुआ तो मिस्री क़बीलों में आपके जस्दे मुबारक को अपनी ही बस्ती में दफनाने को लेकर काफी खलफिशार मच गया और मुमकिन था कि जंग छिड़ जाती तो कुछ लोगों ने मिलकर ये तदबीर निकाली कि आपके जस्द को दरियाये नील में दफन कर दिया जाए ताकि पूरे नील का पानी ही आपकी बरकतों से पुर हो जायेगा और हर कोई उससे फायदा उठा सकेगा और इस तरह आपको दरियाये नील में दफ्न कर दिया गया,आप पूरे 400 साल वहीं आराम फरमाते रहे फिर 400 साल के बाद जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम बनी इस्राईल को लेकर मिस्र से निकले तो आपके जस्द मुबारक को भी साथ लेते गए और आपको आपके आबा व अजदाद के पहलू में दफन किया

📕 खज़ाएनुल इरफान,सफह 351

ⓩ सुब्हान अल्लाह सुब्हान अल्लाह कैसे मुबारक अक़ीदे थे उन लोगों के जिनको ये मालूम था कि नबी का फैज़ सिर्फ ज़ाहिरी हयात तक ही महदूद नहीं रहता बल्कि उनके विसाल के बाद भी उनकी बरक़तें ज़ाहिर रहती हैं और रिवायतों से साफ ज़ाहिर है कि जब तक आपका जस्द मुबारक दरियाये नील में मौजूद रहा दोनों किनारों के इलाक़े सर सब्ज़ व खुशहाल रहे,और एक आज के बदबख्त बद अक़ीदा हैं जिनको मेरे आक़ा हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम से ही फुयूज़ो बरकात लेने में शिकवा शिकायत लगी रहती है

  • आपके 2 बेटे थे जिनका नाम अफ्राईम और मीशा था और आपकी एक बेटी भी थीं जिनका नाम रहमा था जो कि हज़रत अय्यूब अलैहिस्सलाम के निकाह में आईं,अफ्राईम के बेटे का नाम नून और नून के बेटे का नाम हज़रत यूशअ अलैहिस्सलाम था ये वही यूशअ हैं जिनको साथ लेकर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम हज़रते खिज़्र अलैहिस्सलाम से मिलने गए थे जिनका तज़किरा सूरह कहफ में मौजूद है,हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के विसाल के बाद मिस्र की हुकूमत क़ौमे अमालक़ा के हाथ आ गयी और हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम तक वो बनी इस्राईल पर क़ाबिज़ रहे और हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने ही बनी इस्राईल को निजात दिलाई,इन सब का तफसीली ज़िक्र हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की पोस्ट में आएगा इन शा अल्लाह

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 173

  • आपकी उम्र 120 साल हुई

📕 अलइतक़ान,जिल्द 2,सफह 76

……….खत्म


  • Jaisa ki kaha gaya ki hazrat yaqoob alaihissalam martabe me hazrat yusuf alaihissalam se afzal hain to phir baap ne bete ko sajda kyun kiya haq to ye tha ki baap bete ko sajda karta,to ulma ne iski 3 sharahein ki pahli ye ki ye sajda dar asal khuda ko tha uske shukrane ke taur par wo is tarah ki agar ye sajda hazrat yusuf alaihissalam ko tha to chahiye tha ki fauran milte hi sajda karte jabki aisa nahin hua balki jab hazrat yusuf alaihissalam takht par baith gaye tab sajda kiya gaya doosra ye ki ye sajda tha to hazrat yusuf alaihissalam ko hi magar isliye tha ki baap agar beto ko hukm deta ki apne bhai ko sajda karen to shayad isme unko kuchh malaal rahta isliye sabse pahle aap hi jhuk gaye to ab kisi ke paas koi chaara na tha to sab sajde me chale gaye teesri aur sabse aala tafseer ye hai ki jis tarah hazrat aadam alaihissalam ko farishton se sajda karwane me hazaar hikmatein thi wo yahan bhi ho sakti hai jiska behtar jaanne waala ALLAH tabarak wa taala hi hai

📕 Tazkiratul ambiya,safah 171

  • Aap 72 zabanein jaante the

📕 Auraqe ghum,safah 45

  • Misr me hazrat yaqoob alaihissalam 24 saal muqeem rahe aur wahin unka wisaal hua,hazrat yaqoob alaihissalam ke baare me mukhtasar malumat unhi ki post se padh li jaaye,unke wisaal ke baad hazrat yusuf alaihissalam 23 saal zaahiri hayaat me rahe aur jab aapka wisaal hua to misri qabilon me aapke jasde mubarak ko apni hi basti me dafnane ko lekar kaafi khalfashaar mach gaya aur mumkin tha ki jung chhid jaati to kuchh logon ne milkar ye tadbeer nikaali ki aapke jasd ko dariyaye neel me dafn kar diya jaaye taaki poore neel ka paani hi aapki barkaton se pur ho jayega aur koi usse faayda utha sakega aur is tarah aapko dariyaye neel me dafn kar diya gaya,aap poore 400 saal wahin aaraam farmate rahe phir 400 saal ke baad jab hazrat moosa alaihissalam bani israyeel ko lekar jab misr se nikle to aapke jasd mubarak ko bhi saath lete gaye aur aapko aapke aaba ajdaad ke pahlu me dafn kiya

📕 Khazayenul irfan,safah 351

ⓩ SUBHAAN ALLAH SUBHAAN ALLAH kaise mubarak aqeede the un logon ke jinko ye maloom tha ki nabi ka faiz sirf zaahiri hayaat tak hi mahdood nahin rahta balki unke wisaal ke baad bhi unki barkatein zaahir rahti hain aur riwayton se saaf zaahir hai ki jab tak aapka jasd mubarak dariyaye neel me maujood raha dono kinaron ke ilaaqe sar sabz wa khushhaal rahe,aur ek aaj ke bad bakht bad aqeeda hain jinko mere aaqa huzoor sallallaho taala alaihi wasallam se hi fuyuzo barkaat lene me shikwa shikayat lagi rahti hai

  • Aapke 2 bete the jinka naam afraeem aur meesha tha aur aapki ek beti bhi thin jinka naam rahma tha jo ki hazrat ayyub alaihissalam ke nikah me aayin,afraeem ke bete ka naam noon aur noon ke bete ka naam hazrat yusha alaihissalam tha ye wahi yusha hain jinko saath lekar hazrat moosa alaihissalam hazrate khizr alaihissalam se milne gaye the jinka tazkira surah kahaf me maujood hai,hazrat yusuf alaihissalam ke wisaal ke baad misr ki hukumat qaume amalaqa ke haath aa gayi aur hazrat moosa alaihissalam tak wo bani israyeel par qaabiz rahe aur hazrat moosa alaihissalam ne hi bani israyeel ko nijaat dilaayi,in sab ka tafseeli zikr hazrat moosa alaihissalam ki post me aayega in sha ALLAH

📕 Tazkiratul ambiya,safah 173

  • Aapki umr 120 saal huyi

📕 Alitqaan,jild 2,safah 76

……….End

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.