Categories
Ambiya e Kiram

Part-13 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-13 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • याद रहे कि हज़रत याकूब अलैहिस्सलाम की औलाद को ही बनी इस्राईल कहते हैं,जब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने अपने भाईयों से पूरे घर वालों को लाने को कहा तो उस वक़्त उनके घर में 72 या 96 लोग थे कुछ और भी तादाद बताई गयी है जो इसी के बीच में है पर मशहूर 72 ही है और जब यही बनी इस्राईल हज़रत मूसा अलैहिस्सलामन के साथ निकले तो उस वक़्त सिर्फ मर्दों की तादाद 6 लाख थी,बनी इस्राईल के सबसे पहले नबी हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम और आखिरी नबी हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम हैं

📕 तफसीरे अज़ीज़ी,सूरह बक़र,सफह 176
📕 तफसीरे सावी,जिल्द 1,सफह 139
📕 तफसीरे खाज़िन,जिल्द 1,सफह 294
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 165

  • भाईयों में यहूदा ही वो था जिसने बचपन में हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम की कमीज़ पर खून लगाकर अपने बाप से कहा था कि यूसुफ को भेड़िया खा गया लिहाज़ा आज वो ही हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम की कमीज़ को लेकर मिस्र से रवाना हुए,उधर हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि मैं यूसुफ की खुशबु पा रहा हूं तो घर वालों ने समझा कि आप पर अभी भी बेखुदी तारी है,जब यहूदा घर पहुंचे और हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम की कमीज़ अपने बाप के मुंह पर डाली तो उनकी आंखें पहले की तरह रौशन हो गई जो लोग बुज़ुर्गों के तबर्रुकात पर लअन तअन करते हैं और उसको बे बरकत और बे फायदा समझते हैं उनको चाहिये कि क़ुर्आन की ये आयत आंख खोलकर पढ़ लें फिर यहूदा और तमाम बेटों ने हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम से अपने किये की माफी मांगी और उन्होंने भी उन सबको माफ कर दिया और रब से उनकी बख्शिश चाही,जब वो सब मिस्र के लिए रवाना हुए तो हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम उनके इस्तेकबाल के लिए 4000 से ज़्यादा सवारों के साथ मैदान में रेशमी परचमों के साथ मौजूद थे,जब हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम ने लश्करों की गरज सुनी तो फरमाते हैं कि क्या ये फिरऔने मिस्र का लश्कर है (फिरऔन मिस्र के कई बादशाहों का लक़ब हुआ) तो आपके फरज़न्द फरमाते हैं कि नहीं बल्कि ये आपके बेटे हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम का लश्कर है फिर जब मुद्दतों के बाप-बेटे एक दूसरे के सामने हुए तो रोते हुए एक दूसरे से लिपट गए,सलाम करने के लिए हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को हज़रते जिब्रील अलैहिस्सलाम ने रोक रखा था तो आपके बाप हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम ने पहले सलाम किया उसकी वजह ये थी कि रब के हुज़ूर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम की बनिस्बत हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम ज़यादा मुअज़्ज़ज़ व मुकर्रम हैं,फिर बाप ने अपने बेटे को गले से लगाया उनको चूमा तब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने अपने मां-बाप को तख्त पर बिठाया और फिर आपका वो ख्वाब सच्चा हुआ जिसे आपने बचपन में देखा था कि चांद-सूरज और ग्यारह सितारे आपको सजदा कर रहे हैं वो इस तरह कि आपके मां-बाप और तमाम 11 भाईयों ने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को सज्दा किया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 171

ⓩ दो बातें ख्याल में रहे पहली ये कि आपकी वालिदा का इंतेक़ाल बचपन में ही हो गया था तो क़ुर्आन में मौला तआला ने मां-बाप का लफ्ज़ क्यों इरशाद फरमाया वो इसलिये कि आपकी वालिदा को दोबारा ज़िंदा किया गया ताकि वो भी आपको सज्दा कर सकें और दूसरी ये कि सज्दे की 2 किस्म है एक सज्दये इबादत जो कि हर नबी की शरीयत में कुफ्र ही था और दूसरा सज्दये ताज़ीमी ये बाज़ अम्बिया की उम्मत में जायज़ था जैसे कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को सज्दये ताज़ीमी किया गया और हज़रत आदम अलैहिस्सलाम को भी फरिश्तों ने सज्दये ताज़ीमी ही किया मगर शरीयते मुस्तफा में सज्दये ताज़ीमी भी हराम है

जारी रहेगा………..


  • Yaad rahe ki hazrat yaqoob alaihissalam ki aulaad ko hi bani israyeel kahte hain,jab hazrat yusuf alaihissalam ne apne bhaiyon se poore ghar waalo ko laane ko kaha to us waqt unke ghar me 72 ya 96 log the kuchh aur bhi taadad batayi gayi hai jo isi ke beech me hai par mashhoor 72 hi hai aur jab yahi bani israyeel hazrat moosa alaihissalamn ke saath nikle to us waqt sirf mardon ki taadad 6 laakh thi,bani israyeel ke sabse pahle nabi hazrat yusuf alaihissalam aur aakhiri nabi hazrat eesa alaihissalam hain

📕 Tafseere azizi,surah baqar,safah 176
📕 Tafseere saavi,jild 1,safah 139
📕 Khaazin,jild 1,safah 294
📕 Tazkiratul ambiya,safah 165

  • Bhaiyon me yahuda hi wo tha jisne bachpan me hazrat yusuf alaihissalam ki kameez par khoon lagakar apne baap se kaha tha ki yusuf ko bhediya kha gaya lihaza aaj wo hi hazrat yusuf alaihissalam ki kameez ko lekar misr se rawana hue,udhar hazrat yaqoob alaihissalam farmate hain ki main yusuf ki khushbu paata hoon to ghar waalon ne samjha ki aap par abhi bhi bekhudi taari hai,jab yahuda ghar pahunche aur hazrat yusuf alaihissalam ki kameez apne baap ke munh par daali to unki aankhen pahle ki tarah raushan ho gayi jo log buzurgon ke tabarrukat par la’an ta’an karte hain aur usko be barkat aur be faaydah samajhte hain unko chahiye ki quran ki ye aayat aankh kholkar padh lein phir yahuda aur tamam beton ne hazrat yaqoob alaihissalam se apne kiye ki maafi maangi aur unhone bhi un sabko maaf kar diya aur rub se unki bakhshish chahi,jab wo sab misr ke liye rawana hue to hazrat yusuf alaihissalam unke isteqbal ke liye 4000 se zyada sawaron ke saath maidan me reshmi parchamo ke saath maujood the,jab hazrat yaqoob alaihissalam ne lashkaron ki garaj suni to farmate hain ki kya ye firaune misr ka lashkar hai (firaun misr ke kayi baadshahon ka laqab hua) to aapke farzand farmate hain ki nahin balki ye aapka bete hazrat yusuf alaihissalam ka lashkar hai phir jab muddaton ke baap-bete ek doosre ke saamne hue to rote hue ek doosre se lipat gaye,salaam karne ke liye hazrat yusuf alaihissalam ko hazrate jibreel alaihissalam ne rok raka tha to aapke baap hazrat yaqoob alaihissalam ne pahle salam kiya uski wajah ye thi ki rub ke huzoor hazrat yusuf alaihissalam ki banisbat hazrat yaqoob alaihissalam zyada muazzaz wa mukarram hain,phir baap ne apne bete ko gale se lagaya unko chooma tab hazrat yusuf alaihissalam ne apne maa-baap ko takht par bithaya aur phir aapka wo khwab sachcha hua jise aapne bachpan me dekha tha ki chaand-suraj aur gyarah sitare aapko sajda kar rahe hain wo is tarah ki aapke maa-baap aur tamam 11 bhaiyon ne hazrat yusuf alaihissalam ko sajda kiya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 171

ⓩ Do baatein khayal me rahen pahli ye ki aapki waalida ka inteqal bachpan me hi ho gaya tha to quran me maula taala ne maa-baap ka lafz kyun irshad farmaya wo isliye ki aapki waalida ko dobara zinda kiya gaya taaki wo bhi aapko sajda kar saken aur doosri ye ki sajde ki 2 kism hai ek sajdaye ibaadat jo ki har nabi ki shariyat me kufr hi tha aur doosra sajdaye taazeemi ye baaz ambiya ki ummat me jayaz tha jaise ki hazrat yusuf alaihissalam ko sajdaye tazeemi kiya gaya aur hazrat aadam alaihissalam ko bhi farishton ne sajdaye tazeemi hi kiya magar shariyate mustafa me sajdaye tazeemi bhi haraam hai

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.