Categories
Ambiya e Kiram

Part-12 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-12 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • एक सवाल यहां उठता है कि एक नबी यानि हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम का अपने बेटे की मुहब्बत में इस तरह वराफ्ता हो जाना कि उनके ग़म में रो रोकर अपनी आंखें खो देना उनकी शायाने शान मालूम नहीं होता तो इसका जवाब ये है कि हुस्ने यूसुफ जमाले इलाही का आईना था जिसको देखकर आप तजल्लियते इलाहिया का मुशाहिदा फरमाते थे जब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम आपकी नज़रों से दूर हुए तो अनवारे खुदा की लज़्ज़तो से महरूमी की बिना पर ये रोना था,इधर जब उनके बेटों ने उनको बहुत ज़्यादा रोते देखा तो कहा कि आप इतना ग़म ना करें कि आप मरीज़ हो जायें या उसी ग़म में आपका विसाल हो जाए तो हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि मैं अपना ग़म अपने रब से बयान करता हूं और जो कुछ मैं जानता हूं वो तुम नहीं जानते,हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम क्या जानते थे क़ुर्आन से सुनिये मौला तआला फरमाता है कि याक़ूब ने कहा

ऐ बेटों जाओ यूसुफ और उसके भाई का सुराग लगाओ और अल्लाह की रहमत से मायूस ना हो,बेशक अल्लाह की रहमत से ना उम्मीद नहीं होते मगर काफिर लोग

📕 सूरह यूसुफ,आयत 87

  • अव्वल तो आपका यही फरमा देना आपके ग़ैब दां होने के लिए काफी था कि मैं जो जानता हूं वो तुम नहीं जानते फिर उस पर आपका ये फरमाना कि जाओ यूसुफ का सुराग लगाओ इस बात की तरफ इशारा है कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ज़िंदा हैं और अब मुलाक़ात का वक़्त करीब आ चुका है वरना जो पिछले इतने बरस में नहीं कहा आज क्यों कहा मतलब आपको मालूम था कि अज़ीज़े मिस्र और कोई नहीं बल्कि आपका ही बेटा हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम हैं,खैर आगे बढ़ते हैं हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम ने अपने बेटों को एक खत दिया जिसमे आपने अपने खानदान का तज़किरा किया था जब ये खत बेटों ने मिस्र ले जाकर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को दिया तो आप पर रिक़्क़त तारी हो गयी और आप रोने लगे और आप उनसे फरमाते हैं कि तुम्हें याद है कि तुमने नादानी में अपने भाई यूसुफ के साथ क्या किया था जब आपकी ज़बान से उन लोगों ने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम का तज़किरा सुना तो आपके अंदाज़े बयान पर वो बोले कि कहीं आप यूसुफ तो नहीं तो आप फरमाते हैं कि बेशक मैं यूसुफ ही हूं और बेशक हम पर अल्लाह का एहसान है तो उनके भाईयों ने खूब माज़रत की और हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने सबको माफ कर दिया,रिवायत में आता है कि जब हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम ने फतह मक्का के दिन काबे शरीफ के दरवाज़े पर खड़े होकर क़ुरैश से ये एलान फरमाया था कि आज तुम्हारा मेरे मुताल्लिक़ क्या ख्याल है कि आज मैं तुम्हारे साथ क्या सुलूक करूंगा तो तमाम अहले क़ुरैश ने बा आवाज़ बुलन्द यही कहा था कि हम आपसे भलाई का ही गुमान करते हैं क्योंकि आप करीम हैं और करीम भाई के बेटे हैं तो मेरे आक़ा सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम फरमाते हैं कि बेशक आज मैं वही ऐलान दोहरा रहा हूं जो मेरे भाई यूसुफ ने अपने भाईयों से कहा था कि “आज तुम पर कोई मलामत नहीं मैने सबको माफ कर दिया” उधर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने अपने भाईयों को वापस लौटते हुए वही जन्नती कमीज़ दी जो हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम ने आपके गले में तावीज़ की शक्ल में डाला था और फरमाया कि इसे ले जाकर मेरे बाप के मुंह पर डालो इससे उनकी आंखों की रौशनी वापस आ जायेगी और मेरे पूरे घर वालों को लेकर यहां आओ

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 164

जारी रहेगा………..


  • Ek sawal yahan uthta hai ki ek nabi yaani hazrat yaqoob alaihissalam ka apne bete ki muhabbat is tarah warafta ho jaana ki unke ghum me ro rokar apni aankhen kho dena unki shaayane shaan maloom nahin hota to iska jawab ye hai ki husne yusuf jamale ilaahi ka aayina tha jisko dekhkar aap tajalliyate ilahiya ka mushahida farmate the jab hazrat yusuf alaihissalam aapki nazro se door hue to anware khuda ki lazzato se mahrumi ki bina par ye rona tha,par jab unke beton ne unko bahut zyada rote dekha to kaha ki aap itna ghum na karen ki aap mareez ho jayein ya usi ghum me aapka wisaal ho jaaye to hazrat yaqoob alaihissalam farmate hain ki main apna ghum apne rub se bayaan karta hoon aur jo kuchh main jaanta hoon wo tum nahin jaante,hazrat yaqoob alaihissalam kya jaante the quran se suniye maula farmata hai ki yaqoob ne kaha

Ai beton jao yusuf aur uske bhai ka suraag lagao aur ALLAH ki rahmat se mayoos na ho,beshak ALLAH ki rahmat se na ummeed nahin hote magar kaafir log

📕 Surah yusuf,aayat 87

  • Awwal to aapka yahi farma dena aapke gaib daa hone ke liye kaafi tha ki main jo jaanta hoon wo tum nahin jaante phir uspar aapka ye farmana ki jao yusuf ka suraag lagao is baat ki taraf isharah hai ki hazrat yusuf alaihissalam zinda hain aur ab mulaqat ka waqt qareeb aa chuka hai warna jo pichhle itne baras me nahin kaha aaj kyun kaha matlab aapko maloom tha ki azeeze misr aur koi nahin balki aapka hi beta hazrat yusuf alaihissalam hain,khair aage badhte hain hazrat yaqoob alaihissalam ne apne beton ko ek khat diya jisme aapne apne khandaan ka tazkira kiya tha jab ye khat beton ne misr le jaakar hazrat yusuf alaihissalam ko diya to aap par riqqat taari ho gayi aur aap rone lage aur aap unse farmate hain ki ki tumhein yaad hai ki tumne naadani me apne bhai yusuf ke saath kya kiya tha jab aapki zabaan se un logon ne hazrat yusuf alaihissalam ka tazkira suna to aapke andaaze bayaan par wo bole ki kahin aap yusuf to nahin to aap farmate hain ki beshak main yusuf hi hoon aur beshak hum par ALLAH ka ehsaan hai to unke bhaiyon ne khoob maazrat ki aur hazrat yusuf alaihissalam ne sabko maaf kar diya,riwayat me aata hai ki jab huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ne fatah makka ke din kaabe sharif ke darwaze par khade hokar quraish se ye elaan farmaya tha ki aaj tumhara mere mutalliq kya khayal hai ki aaj main tumhare saath kya sulook karunga to tamam ahle quraish ne ba aawaze buland yahi farmaya tha ki hum aapse bhalayi ka hi gumaan karte hain kyunki aap kareem hain aur kareem bhai ke bete hain to mera aaqa sallallaho taala alaihi wasallam farmate hain ki beshak aaj main wahi elaan dohra raha hoon jo mere bhai yusuf ne apne bhaiyon se kaha tha ki “aaj tumpar koi malamat nahin maine sabko maaf kar diya” udhar hazrat yusuf alaihissalam ne apne bhaiyon ko waapas lautte hue wahi jannati kameez di jo hazrat yaqoob alaihissalam ne aapke gale me taweez ki shakl me daala tha aur farmaya ki ise le jaakar mere baap ke munh par daalo isse unki aankhon ki raushni waapas aa jayegi aur mere poore ghar waalo ko lekar yahan aao

📕 Tazkiratul ambiya,safah 164

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.