Categories
Ambiya e Kiram

Part-11 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-11 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • दूसरे दिन जब सारे भाई घर वापस जाने को तैयार हुए तो बिन्यामीन वापस ना जाने की ज़िद पर अड़ गए कि मैं यही रहूंगा तो आप उनको युंही तो रोक नहीं सकते थे लिहाज़ा आपने उन्हें रोकने के लिए ये हीला बनाया कि एक प्याला जो कि जवाहरात से सजा हुआ था आपने उसे बिन्यामीन के झोले में रख दिया कि जब तलाशी होगी तो ये तुम्हारे गल्ले से मिलेगा तो मैं इस जुर्म के बदले तुम्हें यहां गुलाम बनाकर रोक लूंगा सो ऐसा ही किया गया,जब वो चलने लगे तो शोर मच गया कि एक प्याला चोरी हो गया है लिहाज़ा सबकी तलाशी होगी अब जब सबकी तलाशी हुई तो बिन्यामीन के पास वो प्याला बरामद हुआ तो उनके बड़े भाई यहूदा ने गुस्से में कहा कि इसने चोरी कर ली है कि इसके भाई यूसुफ ने भी एक मर्तबा चोरी की थी माज़ अल्लाह,चुंकि इंसान जब ज़्यादा गुस्से में या ज़्यादा खुशी में होता है तो उसका कलाम एतेदाल पर नहीं होता यही वजह थी यहूदा के कलाम की क्योंकि अगर चे वो सब हसद में अपनी भाई को अपने से दूर कर चुके थे मगर चोरी करना या हराम का माल खाना या फसाद करना उनके किरदार में शामिल नहीं था तो फिर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम पर चोरी का इलज़ाम क्यों लगाया,वाक़िया ये हुआ था कि हज़रत इस्हाक़ अलैहिस्सलाम की बड़ी बेटी जो कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम की फूफी लगीं उन्होंने बचपन से ही हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को पाला था और आप उनसे बहुत मुहब्बत करती थीं जब आपके वालिद हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम ने अपनी बड़ी बहन से हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम का मुतालबा किया तो आप परेशान हो गयीं आपने ये तरकीब निकाली कि अपने बाप का एक हार हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के कपड़ो में छिपा दिया जब उनके भाई अपने बेटे को लेने के लिए आये तो उन्होंने कहा कि मेरा हार खो गया है उसकी तलाशी जारी है,और जब वो हार हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के पास से मिला तो आप फरमाती हैं कि तुम्हारे बेटे ने मेरे बाप का हार लिया है लिहाज़ा इसे अब सारी ज़िन्दगी मेरे पास रहना होगा और इस तरह वो हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को अपने पास रखने में कामयाब हो गईं हालांकि हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम उनका हीला समझ गए थे मगर आपने उनको इनकार ना किया,यहूदा के कलाम की यही वजह थी पर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने अब भी अपने आपको ज़ाहिर ना किया और खामोश ही रहे उसके बाद सबने हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम से माफी भी मांगी कि उनके भाई को छोड़ दिया जाए अगर चाहें तो हममें से किसी एक को गुलाम बना लिया जाए मगर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम इस पर नहीं माने तो यहूदा को और भी जलाल आ गया और उसके जलाल की ये हैबत थी कि उसके जिस्म के सारे बाल खड़े हो जाते थे और अगर वो उस हालत में चीख मार देता था तो औरतों के हमल गिर जाते थे और तब तक उसका गुस्सा ठंडा नहीं होता था जब तक कि हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम की औलाद में से कोई उसको उसको हाथ ना लगा देता जब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने उसको गुस्से की हालत में देखा तो आप बिन्यामीन को चुपके से फरमाते हैं कि इसके जिस्म को हाथ लगाओ वरना ये ऐसे ही जलाल में ठहरा रहेगा तो बिन्यामीन ने ऐसा ही किया तो वो खामोश हुआ,जब हर तरह से हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ना माने तो उन्होंने ये मशवरा किया कि हम पहले ही अपने बाप को हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम का ग़म दे चुके हैं अब दोबारा ऐसी खबर ले जाना मुनासिब नहीं लिहाज़ा मैं यहीं ठहरता हूं और तुम सब वापस जाकर उनको पूरे वाक़िये से आगाह करो और मैं यहां से बगैर बिन्यामीन के ना जाऊंगा चाहे मुझे मौत ही क्यों ना आ जाए,उधर जब ये खबर हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम को दी गयी तो आप पहले से ज़्यादा ग़मज़दा हो गए और बोले कि यूसुफ पर अफसोस है आपके कहने का ये मतलब था कि वो खुद तो मुझसे जुदा है और आज यहूदा और बिन्यामीन को भी मुझसे जुदा करने का सबब बन गए,हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के ग़म में रो रोकर अपनी आंखें तो वो पहले ही खो चुके थे और अब तो एकदम खामोश रहने लगे कि किसी से बात तक ना करते थे

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 159

जारी रहेगा………..


  • Doosre din jab saare bhai ghar waapas jaane ko taiyar hue to binyameen na jaane ki zid par ad gaye ki main yahi rahunga to aap unko yunhi to rok nahin sakte the lihaza aapne unhein rokne ke liye ye heela banaya ki ek pyala jo ki jawahraat se saja hua tha aapne use binyameen ke jhole me rakh diya ki jab talaashi hogi to ye tumhare galle se milega to main is jurm ke badle tumhein yahan ghulam banakar rok loonga so aisa hi kiya gaya,jab wo chalne lage to shor mach gaya ki ek pyala chori ho gaya hai lihaza sabki talaashi hogi ab jab sabki talaashi huyi to binyameen ke paas wo pyala baramad hua to unka bada bhai yahuda ne gusse me kaha ki isne chori kar li hai ki iske bhai yusuf ne bhi ek martaba chori ki thi maaz ALLAH,chunki insaan jab zyada gusse me ya zyada khushi me hota hai to uska kalaam etedaal par nahin hota yahi wajah thi yahuda ke kalaam ki kyunki agar che wo sab hasad me apni bhai ko apne se door kar chuke the magar chori ya haraam ka maal khaana ya fasaad karna unke kirdaar me shaamil nahin tha to phir hazrat yusuf alaihissalam par chori ka ilzaam kyun lagaya,waqiya ye hua tha ki hazrat ishaaq alaihissalam ki badi beti jo ki hazrat yusuf alaihissalam ki foofi lagin unhone bachpan se hi hazrat yusuf alaihissalam ko paala tha aur aap unse bahut muhabbat karti thin jab aapke waalid hazrat yaqoob alaihissalam ne apni badi bahan se hazrat yusuf alaihissalam ka mutaalba kiya to aap pareshan ho gayin to aapne ye tarkeeb nikaali ki apne baap ka ek haar hazrat yusuf alaihissalam ke kapdo me chhipa diya jab unke bhai apne bete ko lene ke liye aaye to unhone kaha ki mera haar kho gaya hai uski talashi jaari hai,aur jab wo haar hazrat yusuf alaihissalam ke paas se mila to aap farmati hain ki tumhare bete ne mere baap ka haar liya hai lihaza ise ab saari zindagi mere paas rahna hoga aur is tarah wo hazrat yusuf alaihissalam ko apne paas rakhne me kaamyab ho gayin halanki hazrat yaqoob alaihissalam unka heela samajh gaye the magar aapne unko inkaar na kiya,yahuda ke kalaam ki yahi wajah thi par hazrat yusuf alaihissalam ne ab bhi apne aapko zaahir na kiya aur khamosh hi rahe uske baad sabne hazrat yusuf alaihissalam se maafi bhi maangi ki unke bhai ko chhod diya jaaye agar chahen to humme se kisi ek ko ghulam bana liya jaaye magar hazrat yusuf alaihissalam ispar na maane to yahuda aur bhi jalaal aa gaya aur uske jalaal ki ye haibat thi ki uske jism ke saare baal khade ho jaate the aur agar wo us haalat me chheekh maar deta tha to aurton ke hamal gir jaate the aur tab tak uska gussa thanda nahin hota tha jab tak ki hazrat yaqoob alaihissalam ki aulaad me se koi usko usko haath na laga deta jab hazrat yusuf alaihissalam ne usko gusse ki haalat me dekha to aap binyameen ko chupke se farmate hain ki iske jism ko haath lagao warna ye aise hi jalaal me thahra rahega to binyameen ne aisa hi kiya to wo khamosh hua,jab har tarah se hazrat yusuf alaihissalam na maane to unhone ye mashwara kiya ki hum pahle hi apne baap ko hazrat yusuf alaihissalam ka ghum de chuke hain ab dobara aisi khabar le jaana munasib nahin lihaza main yahin thaharta hoon aur tum sab waapas jaakar unko poore waqiye se aagah karo aur main yahan se bagair binyameen ke na jaunga chahe mujhe maut hi kyun na aa jaaye,udhar jab ye khabar hazrat yaqoob alaihissalam ko di gayi to aap pahle se zyada ghum zada ho gaye aur bole ki yusuf par afsos hai aapke kahne ka ye matlab tha ki wo khud to mujhse juda hai aur aaj yahuda aur binyameen ko bhi mujhse juda karne ka sabab ban gaye,hazrat yusuf alaihissalam ke ghum me ro rokar apni aankhen to wo pahle hi kho chuke the aur ab to ek dum khamosh rahne lage ki kisi se baat tak na karte the

📕 Tazkiratul ambiya,safah 159

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.