Categories
Ambiya e Kiram

Part-10 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-10 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • उधर कुंआन भी कहत की ज़द में था लिहाज़ा हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के सारे भाई सिवाये बिन्यामीन के गल्ला लेने के लिए मिस्र पहुंचे,चुंकि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम हर आदमी को एक आदमी का ही गला दिया करते थे लिहाज़ा सब ही गए और गल्ला बाटने के वक़्त आप खुद मौजूद रहा करते थे,जैसे ही उनके भाई उनके सामने आये तो हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने उनको पहचान लिया मगर वो सब उन्हें ना पहचान सके आपने अपने जज़्बात को काबू में रखते हुए उनके घर का सारा हाल लिया जिसमे उन्होंने ये भी बताया कि हमारा एक भाई और भी है हम उसे नहीं लाये क्योंकि हमारे बाप बहुत ज़ईफ हो चुके हैं लिहाज़ा हमें उनका भी गल्ला दिया जाये,हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि ठीक है इस बार तो हम तुम्हें उनका गल्ला दिए देते हैं मगर अगली बार अपने उस भाई को भी लाना होगा वरना हम गल्ला नहीं देंगे इसमें उनका मकसद सिर्फ अपने उस भाई मुलाक़ात करनी थी जो कि आपका सगा भाई था,जब वो गल्ला लेकर जाने लगे तो आपने उनकी दी हुई कीमत भी उनके गल्ले में चुपके से रखवा दी जब वो वापस पहुंचे और गल्ला खोलकर देखा तो उनकी कीमत भी उन्हें वापस मिल गयी,मगर आईन्दा आने की शर्त भी उन्होंने अपने बाप हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम को बताई कि अबकी बार बिन्यामीन को भी लेकर जाना होगा वरना बादशाह ने गल्ला देने से मना किया है,पहले तो वो नहीं माने क्योंकि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम की जुदाई वो अब तक बर्दाश्त कर रहे थे मगर फिर भी हुक्मे खुदावन्दी थी लिहाज़ा अगली बार बिन्यामीन को भी उनके साथ भेज दिया मगर किसी की नज़रे बद उन्हें ना लगे इसलिए एक तदबीर ये बताई कि तुम सब अलग अलग दरवाज़ों से शहर में जाना एक साथ मत जाना क्योंकि वो सब सेहत के लिहाज़ से हट्टे कट्टे थे और तादाद में भी 11 थे नज़रे बद के तअल्लुक़ से आगे बयान करता हूं अब जब वो मिस्र पहुंचे तो हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम उन सबको देखकर बहुत खुश हुए मगर किसी को अब भी बताया नहीं कि मैं तुम्हारा भाई हूं,आपने एक दावत का इंतज़ाम किया जिसमे सबको इस तरह बिठाया कि सब 2,2 करके बैठ गए और बिन्यामीन अकेले रह गए इस पर वो रोने लगे तो आपने कहा कि क्यों रोते हो तो वो बोले कि अगर आज मेरा भाई यूसुफ होता तो ज़रूर मेरे साथ बैठता,ये सुनकर आपसे ना रहा गया और आप फरमाते हैं कि अच्छा तो मुझे ही अपना भाई समझ लो अब मैं तुम्हारे साथ बैठ जाता हूं इस तरह आप उनके साथ बैठे और सोने के लिए भी यही हीला इस्तेमाल करके आपने बिन्यामीन को अपने कमरे में रोक लिया,आपकी दरिया दिली देखकर बिन्यामीन रोने लगे और रो रोकर हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम को याद करने लगे अब हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम से ज़ब्त ना हो सका और आप भी रोने लगे और उसको गले लगाकर फरमाया कि मैं ही तुम्हारा भाई यूसुफ हूं और शुरू से अब तक की सारी कहानी कह डाली

📕 खज़ाएनुल इरफान,सफह 344

नज़रे बद का लगना हक़ है और उसके लिए दुआ तावीज़ कराना जायज़ है जैसा कि हदीसे पाक में है हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि

तुम नज़रे बद के लिए दुआ तावीज़ कराओ

📕 बुखारी,जिल्द 3,सफह 290

और खुद हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम हज़रत इमाम हसन व हज़रत इमाम हुसैन रज़ियल्लाहु तआला अन्हु को दम करते और उनके गले में तावीज़ डालकर युं फरमाते थे कि “मैं तुम दोनों को अल्लाह तआला के कामिल कलिमात के साथ हर शैतान और ज़हरीले जानवर के शर से और हर शरीर आंख से अल्लाह की पनाह में देता हूं

📕 हुलियतुल औलिया,जिल्द 5,पेज 56
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 152

हां ग़ैर शरई अल्फाज़ के साथ दम करना या तावीज़ बांधना और जादू करना हराम है बल्कि इसे शिर्क तक फरमाया गया है,इससे बचना बहुत बहुत ज़रूरी है

📕 अलमुअज्जमुल कबीर,जिल्द 10,पेज 262

जारी रहेगा………..


  • Udhar kunaan bhi kahat ki zad me tha lihaza hazrat yusuf alaihissalam ke saare bhai siwaye binyameen ke galla lene ke liye misr pahunche,chunki hazrat yusuf alaihissalam har aadmi ko ek aadmi ka hi galla diya karte the lihaza sab hi gaye aur galla baatne ke waqt aap khud maujood raha karte the,jaise hi unke bhai unke saamne aaye to hazrat yusuf alaihissalam ne unko pahchaan liya magar wo sab unhein na pahchan sake aapne apne jazbaat ko kaabu me rakhte hue unke ghar ka saara haal liya jisme unhone ye bhi bataya ki hamara ek bhai aur bhi hai hum use nahin laaye kyunki hamare baap bahut zayeef ho chuke hain lihaza hamein unka bhi galla diya jaaye,hazrat yusuf alaihissalam farmate hain ki theek hai is baar to hum tumhein unka galla diye dete hain magar agli baar apne us bhai ko bhi laana hoga warna hum galla nahin denge isme unka maqsad sirf apne us bhai mulaqat karni thi jo ki aapka saga bhai tha,jab wo galla lekar jaane lage to aapne unki di huyi keemat bhi unke galle me chupke se rakhwa di jab wo waapas pahunche aur galla kholkar dekha to unki keemat bhi unhein waapas mil gayi,magar aayinda aane ki shart bhi unhone apne baap hazrat yaqoob alaihissalam ko batayi ki abki baar binyameen ko bhi lekar jaana hoga warna baadshah ne galla dene se mana kiya hai,pahle to wo nahin maane kyunki hazrat yusuf alaihissalam ki judayi wo ab tak bardaasht kar rahe the magar phir bhi hukme khuda wandi thi lihaza agli baar binyameen ko bhi unke saath bhej diya magar kisi ki nazre bad na unhein na lage isliye ek tadbeer ye batayi ki tum sab alag alag darwazo se shahar me jaana ek saath mat jaana kyunki wo sab sehat ke lihaaz se hatte katte the aur taadad me bhi 11 the nazre bad ke taalluq se aage bayaan karta hoon ab jab wo misr pahunche to hazrat yusuf alaihissalam un sabko dekhkar bahut khush hue magar kisi ko ab bhi bataya nahin ki main tumhara bhai hoon,aapne ek daawat ka intezaam kiya jisme sabko is tarah bithaya ki sab 2,2 karke baith gaye aur binyameen akele rah gaye ispar wo rone lage to aapne kaha ki kyun rote ho to wo bole ki agar aaj mera bhai yusuf hota to zaroor mere saath baithta,ye sunkar aapse na raha gaya aur aap farmate hain ki achchha to mujhe hi apna bhai samajh lo ab main tumhare saath baith jaata hoon is tarah aap unke saath baithe aur sone ke liye bhi yahi heela istemal karke aapne binyameen ko apne kamre me rok liya,aapki dariya dili dekhkar binyameen rone lage aur ro rokar hazrat yusuf alaihissalam ko yaad karne lage ab hazrat yusuf alaihissalam se zabt na ho saka aur aap bhi rone lage aur usko gale lagakar farmaya ki main hi tumhara bhai yusuf hoon aur shuru se ab tak ki saari kahani kah daali

📕 Khazayenul irfan,safah 344

NAZRE BAD ka lagna haq hai aur uske liye dua taweez karana jayaz hai jaisa ki hadeese paak me hai huzoor sallallaho taala alaihi wasallam irshad farmate hain ki

Tum nazre bad ke liye dua taaweez karao

📕 Bukhari,jild 3,safah 290

Aur khud huzoor sallallaho taala alaihi wasallam hazrat imaam hasan wa hazrat imaam husain raziyallahu taala anhu ko dam karte aur unke gale me taaweez daalkar yun farmate the ki “main tum dono ko ALLAH taala ke kaamil kalimat ke saath har shaitan aur zahrile jaanwar ke shar se aur har shareer aankh se ALLAH ki panaah me deta hoon

📕 Huliyatul auliya,jild 5,page 56
📕 Tazkiratul ambiya,safah 152

Haan gair sharayi alfaaz ke saath dam karna ya taaweez baandhna aur jaadu karna haraam hai balki ise shirk tak farmaya gaya hai,isse bachna bahut bahut zaruri hai

📕 Almuajjamul kabir,jild 10,page 262

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.