Categories
Ambiya e Kiram

Part-1 हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish
Part-1 हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम

  • आपका नाम इब्राहीम और लक़ब अबुज़्ज़ैफ यानि बहुत बड़े मेहमान नवाज़ और अबुल अम्बिया यानि नबियों के बाप है क्योंकि 8 अम्बिया इकराम यानि हज़रत आदम हज़रत शीश हज़रत इदरीस हज़रत नूह हज़रत हूद हज़रत सालेह हज़रत लूत और हज़रत यूनुस अलैहिस्सलातो वत्तस्लीम के अलावा बाकी सारे नबी आप ही की नस्ल से हुए,आपके 2 साहबज़ादे नबी हुए हज़रत इस्माईल अलैहिस्सलाम जो कि हज़रते हाजरा रज़ियल्लाहु तआला अंहा के बेटे हैं और दूसरे हज़रत इस्हाक़ अलैहिस्सलाम जो कि हज़रते सारा रज़ियल्लाहु तआला अंहा के बेटे हैं

📕 नुज़हतुल कारी,जिल्द 6,सफह 501
📕 तफसीरे अज़ीज़ी,जिल्द 1,सफह 373

  • आपका नस्ब नामा ये है इब्राहीम बिन तारख बिन नाखूर बिन सारू बिन रऊ बिन तातेय बिन आमिर बिन सालेह बिन रफह बिन साम बिन हज़रत नूह अलैहिस्सलाम,और आज़र आपका चचा जो कि काफिर था कुछ लोग उसे हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम का बाप कहते हैं ये बे अस्ल है,क्योंकि किसी भी अम्बिया अलैहिस्सलातो वत्तस्लीम के आबा व अजदाद में कोई भी काफिर ना हुआ सब मोहिद मोमिन थे,चुंकि अरब क़ौम में चचा को भी बाप ही कहते हैं इसी लिए क़ुरान ने आज़र को आपका बाप यानि अबियह कहा जैसा कि खुद हदीसे पाक में है कि एक मर्तबा हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम ने युं फरमाया कि “मेरे बाप अब्बास को मुझ पर पेश करो” हालांकि वो आपके बाप नहीं बल्कि चचा हैं,आप तूफाने नूह के 1709 साल बाद और हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम से 2300 साल पहले अमवाज़ के इलाक़े मक़ामे सोस में पैदा हुए

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 810

  • आपकी वालिदा के नाम मे इख्तिलाफ है सानी या नूफा या लेवसा या अमीलिया या बूना बिन्त करबन मज़कूर है

📕 अलइतक़ान,जिल्द 2,सफह 186
📕 अलबिदाया,जिल्द 1,सफह 140

  • नमरूद बिन कुंआन जाबिर बादशाह था जो कि लोगों से अपनी परशतिश करवाता,उसके दरबार के नुजूमियों ने उसे बताया कि एक बच्चा पैदा होने वाला है जो कि तेरी हलाक़त का बाइस होगा,उसने ये सुनकर फौरन ही जो बच्चे पैदा हुए थे सबको मरवा दिया और जो हमल में थे सबका हमल गिरवा दिया और मियां बीवी को मिलने पर भी पाबंदी लगवा दी,मगर तक़दीरे इलाही को कौन टाल सकता है आपकी वालिदा मोहतरमा हामिला हो गईं मगर उम्र कम थी सो हमल पहचान में ना आता था जब आपकी विलादत का वक़्त करीब आया तो आपके वालिद उन्हें शहर से दूर एक तहखाने में ले गए जो उन्होंने पहले ही खोद रखा था,वहीं आपकी विलादत हुई आपकी वालिदा आपको रोज़ाना उसी तहखाने में दूध पिला आती और आते हुये गार के मुंह को पत्थरों से ढ़क दिया करती,आप एक महीने में इतना बढते थे जितना एक आम बच्चा साल भर में बढ़ता था,आप तहखाने में कितनी मुद्दत रहे इसमें कई क़ौल हैं बाज़ ने 7 बरस बाज़ ने 13 और बाज़ ने 17 भी लिखा है

📕 खज़ाएनुल इर्फान,पारा 7,रुकू 15

ⓩ हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम की तरफ 3 झूठ की निस्बत की जाती है पहली बात आपका ये कहना कि मैं बीमार हूं हालांकि आप बीमार नहीं थे,दूसरा बुतों को तोड़कर इनकार करना,तीसरा अपनी बीवी को बहन कहना,मगर एक नबी हरगिज़ हरगिज़ हरगिज़ झूठ नहीं बोल सकता आईये उसकी पूरी तफसील देखते हैं

हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम ने अपने चचा से कहा कि क्यों इन बुतों की पूजा करते हो जो ना सुन सकते हैं और ना बोल सकते हैं पर वो नहीं माने उधर क़ौम का एक सालाना मेला लगता था जिसे वो ईद कहते थे उन्होंने जब हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम से उस मेले में चलने को कहा तो आपने आसमान की तरफ देखा और फरमाया कि “मैं बीमार होने वाला हूं” इस पर वो समझें कि ये बीमार हैं और आपको छोड़कर मेले में चले गए इधर आपको हालात मुनासिब नज़र आये और आपने उन सब बुतों को तोड़ डाला और वो हथौड़ा एक बड़े बुत के कांधे पर रख दिया और उसे नहीं तोड़ा,उधर क़ौम को जब ये पता चला तो भागती हुई आई और कहा कि किसने हमारे खुदाओं का ये हाल किया इसपर आपका नाम आया कि आप ही उनकी मुखालिफत करते हैं और आज गांव में सिर्फ आप ही मौजूद थे,आपको बुलाकर जब पूछा गया कि इन बुतों को किसने तोडा तो आपने फरमाया “उनके इस बड़े ने किया होगा”

पहला क़ौल ये कि मैं बीमार होने वाला हूँ आपके कहने का ये मतलब हरगिज़ नहीं था कि मैं कल ही बीमार होने वाला हूं,आखिर ज़िन्दगी में आदमी कभी तो बीमार होगा ही इस कलाम को “तौरियह” कहते हैं यानि कहने वाला अपनी बात की मुराद दूर की ले अगर चे सुनने वाला क़रीब समझे और अगर इसको युं भी कहें कि मैं बीमार ही हूं तब आपके कहने का मतलब ये था कि तुमने एक अल्लाह को छोड़कर ना जाने कितने बातिल माबूद बना रखे हैं इसी वजह से मैं ज़हनी परेशानी में मुब्तेला हूं और मेरा क़ल्ब बीमार है अगर चे लोग इसका माने कुछ भी समझें

दूसरा क़ौल ये कि इस बड़े ने किया है इसकी 7 शरहें हैं

  1. पहला ये कि आपने ये नहीं फरमाया कि ये काम इस बुत ने ही किया है बल्कि इससे आपने अपनी ज़ात ही मुराद ली इसको युं समझिये जैसे मेरा ये मश्ग आप पढ़ें और फिर मुझसे पूछें कि क्या इसे आपने लिखा है तो मैं कहुं कि नहीं तुमने लिखा है तो यहां ऐतराज़न कहा कि अरे भाई तुमने तो लिखा नहीं तो ज़रूर मैंने ही लिखा होगा इस कलाम को “तारीज़” कहते हैं,मतलब हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम से क़ौम ने पूछा कि क्या ये सब तुमने किया है तो आपका ये फरमान कि नहीं इस बड़े ने किया है दर असल उनको यही बताना था कि जब ये बोल नहीं सकता सुन नहीं सकता जवाब नहीं दे सकता तो बुतों को क्या खाक तोडेगा ज़ाहिर सी बात है मैंने ही किया है,मगर इस कलाम को वो नहीं समझें
  2. दूसरा ये कि कभी कभी काम करने की निस्बत भी करवाने वाले की तरफ की जाती है मसलन आप क़ुरान पढ़ रहे है अचानक आपका बेटा कमरे में दाखिल हुआ और आकर टी.वी चालू करके बैठ गया आप उठे और दो थप्पड़ रसीद कर दिए जब घर वालो ने पूछा तो आपने टी.वी को ही ज़िम्मेदार ठहराते हुए कहा कि सब इसी ने किया है बस उसी तरह क़ौम के लोग उन बुतों को माबूद समझते और उन्हें खूब सजाते और उस बड़े बुत को कुछ ज़्यादा ही तवज्जोह देते जिसकी वजह से आपको गुस्सा आया और सारे बुतों को तोड़कर उसी की तरफ निस्बत कर दी क्योंकि गुस्सा उसी की वजह से आया था
  3. तीसरा ये कि जब क़ौम बुतों को माबूद मानती है तो फिर उसको क़ुदरत भी होनी चाहिए तो हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम का उसकी तरफ निस्बत करना कि इसने ये किया है फिर क़ौम का ये कहना कि ये तो कुछ हरकत नहीं कर सकता दर असल उनको समझाना मुराद था कि जब तुम खुद जानते हो कि वो ऐसा नहीं कर सकता तो क्यों उसको माबूद समझकर पूजा करते हो
  4. चौथा ये कि आपका कलाम ये था कि जिसको करना था वो कर चुका अब अगर इसके अंदर बोलने की सलाहियत है तो इसी से पूछ लो कि किसने किया है

5.पांचवा ये कि “कबीरहुम” पर वक़्फ है और फिर कलाम की शुरुआत “हाज़ा” से है मतलब आपका ये कहना कि इनके बड़े ने किया है मतलब आपने बड़े से अपनी ही ज़ात मुराद ली कि मैं ही वो बड़ा हूं क्योंकि बुत कितना भी बड़ा हो पर इंसान से बड़ा नहीं हो सकता

  1. फेअल की इज़ाफत बड़े बुत की तरफ मशरूत के तौर पर है मतलब ये कि अगर ये बोलता है तो इसने किया है और नहीं बोलता तो ज़ाहिर है कि नहीं बोलता तो इसने नहीं बल्कि मैंने किया है क्योंकि कलाम में तक़दीम व ताख़ीर है
  2. एक क़िरात “फअलहु कबीरहुम” भी आई है मतलब ये कि शायद इनके बड़े ने किया हो

तीसरा क़ौल आपका अपनी बीवी को बहन कहना जब क़ौम आपकी बात नहीं मानी तो नमरूद के हुक्म से आपको आग में डाला गया आग आप पर गुलज़ार हो गयी,जब आप बाहर आये तो आप क़ौम से बहुत ना उम्मीद हो गए और सब कुछ छोड़कर आप अपने चचा हारान के पास चले गए,आपकी सदाक़त को देखकर आपके चचा ने अपनी बेटी हज़रते सारा का निकाह आपसे करा दिया मगर आपने वहां भी हक़ की सदा बुलंद करनी शुरू करदी जिस पर आपके चचा ने आपको वहां से चले जाने को कहा आप जब शहर फलस्तीन से गुज़रे तो वहां का बादशाह जो कि बहुत ज़ालिम था और हर आदमी की बीवी को अपने कब्ज़े में ले लेता था,जब उसको आपकी और हज़रत सारा के आने की खबर हुई तो दोनों को दरबार में बुलवाया और आपसे पूछा कि ये औरत कौन है चुंकि वो आपके चचा की बेटी थीं सो आपकी बहन भी थीं इसी निस्बत से आपने कहा कि ये मेरी बहन है,मगर उस बादशाह ने फिर भी उनको ना छोड़ा और बुरी नियत से उनकी तरफ बढ़ा तो अल्लाह ने उस पर अज़ाब मुसल्लत कर दिया वो गिड़गिड़ाने लगा और आपसे माफी चाही तो आपने उसे माफ कर दिया तब उस बादशाह ने एक कनीज़ यानि हज़रते हाजरा को दोनों को दिया और रुखसत किया

अलहासिल कलाम आपका तीनो सच्चा था मगर लोगों ने उसके माने अपनी अक़्ल के हिसाब से तय किये और उसे झूठ समझा

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 82–85

  • आपने 4 निकाह किये हज़रते सारा व हज़रते हाजरा इन दोनों के विसाल के बाद कन्तूरा बिन्त यक़तन और उनके इन्तेक़ाल के बाद हिजून बिन्त ज़हीर से,जिस तरह मर्दो में सबसे ज़्यादा हसीन हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम हुए हैं उसी तरह औरतों में सबसे ज़्यादा खूबसूरत हज़रते सारा रज़ियल्लाहु तआला अंहा हुईं हैं बल्कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम का हुस्न भी आपकी दादी हज़रते सारा का ही सदक़ा था

📕 अलकामिल फित्तारीख,जिल्द 1,सफह 50
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 99

  • आपने जिन बुतों को तोड़ा उनकी तादाद 72 थी

📕 माअरेजुन नुबूवत,जिल्द 1,सफह 76

  • जिस वक़्त आपको आग में डाला गया उस वक़्त आपकी उम्र 16 साल थी और आग में आप 7 दिन रहे

📕 तफसीरे जमल,जिल्द 3,सफह 163

जारी रहेगा……….


  • Aapka naam ibraheem aur laqab abuzzaif yaani bahut bade mehman nawaz aur abul ambiya yaani nabiyon ke baap hai kyunki 8 ambiya ikraam yaani hazrat aadam hazrat sheesh hazrat idrees hazrat nooh hazrat hood hazrat saaleh hazrat loot aur hazrat yunus alaihissalato wattasleem ke alawa baaki saare nabi aap hi ki nasl se hue,aapke 2 saahab zaade nabi hue hazrat ismayeel alaihissalam jo ki hazrate haajra raziyallahu taala anha ke bete hain aur doosre hazrat ishaaq alaihissalam jo ki hazrate saara raziyallahu taala anha ke bete hain

📕 Nuzhatul qaari,jild 6,safah 501
📕 Tafseere azizi,jild 1,safah 373

  • Aapka nasb naama ye hai ibraheem bin taarakh bin nakhoor bin saaroo bin raoo bin taatey bin aamir bin saaleh bin arfah bin saam bin hazrat nooh alaihissalam,aur aazar aapka chacha jo ki kaafir tha kuchh log use hazrat ibraheem alaihissalam ka baap kahte hain ye be asl hai,kyunki kisi bhi ambiya alaihissalato wattasleem ke aaba wa ajdaad me koi bhi kaafir na hua sab mohid momin the,chunki arab qaum me chacha ko bhi baap hi kahte hain isi liye quran ne aazar ko aapka baap yaani abiyah kaha jaisa ki khud hadise paak me hai ki ek martaba huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ne yun farmaya ki “mere baap abbas ko mujhpar pesh karo” halaanki wo aapke baap nahin balki chacha hain,aap toofane nooh ke 1709 saal baad aur hazrat eesa alaihissalam se 2300 saal pahle amwaaz ke ilaaqe maqame sous me paida hue

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 810

  • Aapki waalida ke naam me ikhtilaf hai saani ya noofa ya lewsa ya amiliya ya boona bint karban bhi mazkoor hai

📕 Alitqaan,jild 2,safah 186
📕 Albidaya,jild 1,safah 140

  • Namrood bin kunaan jaabir baadshah tha jo ki logon se apni parashtish karwata,uske darbaar ke nujumiyon ne use bataya ki ek bachcha paida hone waala hai jo ki teri halaqat ka baayis hoga,usne ye sunkar fauran hi jo bachche paida hue the sabko marwa diya aur jo hamal me the sabka hamal girwa diya aur miyan biwi ko milne par bhi pabandi lagwa di,magar taqdeere ilaahi ko kaun taal sakta hai aapki waalida muhtarma haamila ho gayin magar umr kam thi so hamal pahchaan me na aata tha jab aapki wiladat ka waqt qareeb aaya to aapke waalid unhein shahar se door ek tah khaane me le gaye jo unhone pahle hi khod rakha tha,wahin aapki wiladat huyi aapki waalida aapko rozana usi tahkhaane me doodh pila aati aur aate gaar ke munh ko pattharo se dhak diya karti,aap ek mahine me itna badhte the jitna ek aam bachcha saal bhar me badhta tha,aap tahkhaane me kitni muddat rahe isme kayi qaul hain baaz ne 7 baras baaz ne 13 aur baaz ne 17 bhi likha hai

📕 Khazayenul irfan,para 7,ruku 15

*ⓩ hazrat ibraheem alaihissalam ki taraf 3 jhooth ki nisbat ki jaati hai pahli baat aapka ye kahna ki main beemar hoon,Doosra buto ko todkar inkaar karna,Teesra apni biwi ko bahan kahna,magar ek nabi hargiz hargiz hargiz jhooth nahin bol sakta aayiye uski poori tafseel dekhte hain
*

hazrat ibraheem alaihissalam ne apne chacha se kaha ki kyun in buto ki pooja karte ho jo na sun sakte hain aur na bol sakte hain par wo nahin maane udhar qaum ka ek salaana mela lagta tha jise wo eed kahte the unhone jab hazrat ibraheem alaihissalam se us mele me chalne ko kaha to aapne aasman ki taraf dekha aur farmaya ki “main beemaar hone waala hoon” ispar wo samjhen ki ye beemar hain aur aapko chhodkar mele me chale gaye idhar aapko haalat munasib nazar aaye aur aapne un sab buton ko tod daala aur wo hathauda ek bade but ke kaandhe par rakh diya aur use nahin toda,udhar qaum ko jab ye pata chala to bhaagti huyi aayi aur kaha ki kisne hamare khudaon ka ye haal kiya ispar aapka naam aaya ki aap hi unki mukhalifat karte hain aur aaj gaon me sirf aap hi maujood the,aapko bulakar jab poochha gaya ki in buto ko kisne toda to aapne farmaya “unke is bade ni kiya hoga”

Pahla qaul ye ki main beemar hone waala hoon aapke kahne ka ye matlab hargiz nahin tha ki main kal hi beemar hone waala hoon,aakhir zindagi me aadmi kabhi to beemar hoga hi is maayne ko TAURIYAH kahte hain yaani kahne waala apni baat ki muraad door ki le agar che sunne waala qareeb samjhe aur agar isko yun bhi kahen ki main beemar hi hoon tab aapke kahne ka matlab ye tha ki tumne ek ALLAH ko chhodkar na jaane kitne baatil mabood bana rakhe hain isi wajah se main zahni pareshani me mubtela hoon aur mera qalb beemar hai agar che log iska maane kuchh bhi samjhen

Doosra qaul ye ki is bade ne kiya hai iski 7 sharahein hain

  1. Pahla ye ki apne ye nahin farmaya ki ye kaam is but ne hi kiya hai balki isse aapne zaat hi muraad li isko yun samajhiye jaise mera ye msg aap padhen aur phir mujhse poochhen ki kya ise aapne likha hai to main kahun ki nahin tumne likha hai to yahan aitrazan kaha ki are bhai tumne to likha nahin to zaroor maine hi likha hoga is kalaam ko TAAREEZ kahte hain,matlab hazrat ibraheem alaihissalam se qaum ne poochha ki kya ye sab tumne kiya hai to aapka ye farmana ki nahin is bade ne kiya hai dar asal unko yahi bataana tha ki jab ye bol nahin sakta sun nahin sakta jawab nahin de sakta to buto ko kya khaak todega zaahir si baat hai maine hi kiya hai,magar is kalaam ko wo nahin samjhen
  2. Doosra ye ki kabhi kabhi kaam karne ki nisbat bhi karwane waale ki taraf ki jaati hai maslan aap quran padh rahe hai achanak aapka beta kamre me daakhil hua aur aakar t.v chaalu karke baith gaya aap uthe aur do thappad raseed kar diye jab ghar waalo ne poochha ki aisa kyun kiya to aapne t.v ko hi zimmedaar thahrate hue kaha ki sab isi ne kiya hai bas usi tarah qaum ke log un buton ko mabood samajhte aur unhein khoob sajaate aur us bade but ko kuchh zyada hi tawajjoh dete jiski wajah se aapko gussa aaya aur saare buton ko todkar usi ki taraf nisbat kardi kyunki gussa usi ki wajah se aaya tha
  3. Teesra ye ki jab qaum buto ko mabood maanti hai to phir usko qudrat bhi honi chahiye to hazrat ibraheem alaihissalam ka uski taraf nisbat karna ki isne ye kiya hai phir qaum ka ye kahna ki ye to kuchh harqat nahin kar sakta dar asal unko samjhana muraad tha ki jab tum khud jaante ho ki wo aisa nahin kar sakta to kyun usko maabood samajhkar pooja karte ho
  4. Chautha ye ki aapka kalaam ye tha ki jisko karna tha wo kar chuka ab agar iske andar bolne ki salahiyat hai to isi se poochh lo ki kisne kiya hai

5.Paanchva ye ki KABIRAHUM par waqf hai aur phir kalaam ki shuruaat HAAZA se hai matlab aapka ye kahna ki inke bade ne kiya hai matlab aapne bade se apni zaat muraad li ki main hi wo bada hoon kyunki but kitna bhi bada ho par insaan se bada nahin ho sakta

  1. fail ki izafat bade but ki taraf MASHROOT ke taur par hai matlab ye ki agar ye bolta hai to isne kiya hai aur nahin bolta to zaahir hai ki nahin bolta to isne nahin balki maine kiya hai kyunki kalaam me taqdeem wa takheer hai
  2. Ek qerat FAALAHU KABIRAHUM bhi aayi hai matlab ye ki shayad inke bade ne kiya ho

Teesra aapka apni biwi ko bahan kahna Jab qaum aapki baat nahin maani to namrood ke hukm se aapko aag me daala gaya aag aap par gulzaar ho gayi,jab aap baahar aaye to to aap qaum se bahut na ummeed ho gaye aur sab kuchh chhodkar aap apne chacha haaran ke paas chale gaye,aapki sadaqat ko dekhkar aapke chacha ne apni beti hazrate saara ka nikah aapse kara diya magar aapne wahan bhi haq ki sada buland karni shuru kardi jis par aapke chacha ne aapko wahan se chale jaane ko kaha aap jab shahre falasteen se guzre to wahan ka baadshah jo ki bahut zaalim tha aur har aadmi ki biwi ko apne qabze me le leta tha,jab usko aapki aur hazrat saara ke aane ki khabar huyi to dono ko darbaar me bulwaya aur aapse poochha ki ye aurat kaun hai chunki wo aapke chacha ki beti thin so aapki bahan bhi huyin isi nisbat se aapne kaha ki ye meri bahan hai,magar us baadshah ne phir bhi unko na chhoda aur buri niyat se unki taraf badha to ALLAH ne us par azaab musallat kar diya wo gidgidane laga aur aapse maafi chahi to aapne use maaf kar diya tab us baadshah ne ek kaneez yaani hazrate haajra ko dono ko diya aur rukhsat kiya

Alhaasil kalaam aapka teeno sachcha tha magar logon ne uske maane apni aql ki hisaab se tai kiye aur use jhooth samjha

📕 Tazkiratul ambiya,safah 82–85

  • Aapne 4 nikah kiye hazrate haajira wa hazrate saara in dono ke wisaal ke baad qantura bint yaqtan aur unke inteqaal ke baad hijoon bint zaheer se,magar sabse pahla nikah aapke chacha haaraan ki beti hazrate saara se hua,jis tarah mardo me sabse zyada haseen hazrat yusuf alaihissalam hue hain usi tarah aurton me sabse zyada khoobsurat hazrate saara raziyallahu taala anha huyin hain balki hazrat yusuf alaihissalam ka husn bhi apni daadi hazrate saara ka hi sadqa tha

📕 Alakaamil fittarikh,jild 1,safah 50
📕 Tazkiratul ambiya,safah 99

  • Aapne jin buto ko toda unki taadad 72 thi

📕 Maarejun nubuwat,jild 1,safah 76

  • Jis waqt aapko aag me daala gaya us waqt aapki umr 16 saal thi aur aag me aap 7 din rahe

📕 Tafseere jamal,jild 3,safah 163

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.