Categories
Ambiya e Kiram

हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ZEBNEWS

हिन्दी/hinglish सालेह अलैहिस्सलाम

  • हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम क़ौमे समूद की तरफ तशरीफ लायें और आप खुद भी क़ौमे समूद से हैं,समूद एक शख्स का नाम था जिनकी औलाद को क़ौमे समूद कहा जाता है,आपका नस्ब नामा इस तरह है सालेह बिन उबैद बिन मासिख बिन अब्द बिन जाबिर बिन समूद बिन उबैद बिन औस बिन आद बिन इरम बिन साम बिन हज़रत नूह अलैहिस्सलाम,आप हज़रत हूद अलैहिस्सलाम से तक़रीबन 100 साल बाद तशरीफ लायें

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 182

  • आप पर ईमान लाने वालों की तादाद 4000 थी

📕 अलकामिल फित्तारीख,जिल्द 1,सफह 36

  • क़ौमे आद की हलाक़त के बाद अल्लाह ने क़ौमे समूद को आबाद किया उनको लंबी उम्र अता की माली वुसअत भी खूब दी मगर जब उनकी नाफरमानियां बढ़ने लगीं तब उनकी तरफ हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम को भेजा,जब उन्होंने तब्लीग की तो लोगों ने आपसे मोजज़ा तलब किया जिसका पूरा वाक़िया कुछ यूं है कि क़ौम का सरदार जिसका नाम जनदा बिन अमर था उसने एक चट्टान जिसका नाम काफिया था उसकी तरफ इशारा करते हुए बोला कि अगर आप नबी हो तो इससे एक हामिला ऊंटनी निकाल दो,आप ने रब की बारगाह में दुआ की तो फौरन चट्टान की वही हालत हो गयी जो कि एक हामिला की होती है दर्द से कराहना व इज़्तिराब वगैरह,यहां तक कि चट्टान फटी और उससे एक ऊंटनी बरामद हुई जो 10 महीने की हामिला थी और जिस्म पर ऊन भी बहुत था इसका सीना 60 गज़ लंबा था,ये मोजज़ा देखकर जनदा बिन अमर और कुछ लोग ईमान ले आये और बाकी अपने कुफ्र पर क़ायम रहे,फिर उन लोगों के सामने ही उस ऊंटनी ने बच्चा दिया जो कि 70 ऊंट के बराबर वज़न का था

क़ौम की बस्ती में पानी पीने के लिए एक ही तालाब था जिसमे कि पहाड़ों से पानी आकर जमा होता था,हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम ने उनसे फरमा दिया था कि एक दिन छोड़कर इस तालाब का सारा पानी इन ऊंटनी और उसके बच्चे के लिए है और दूसरे दिन पूरी क़ौम के लिए और ये भी फरमाया कि बुराई की नीयत से इस पर दस्त अंदाज़ी मत करना वरना तुम पर अज़ाब आ जायेगा,ऊंटनी अपने बच्चे के साथ जंगल में चरती जब सर्दी आती तो वो जंगल के अंदरूनी हिस्से में चली जाती जिससे कि सारे जानवर भागकर जंगल के बाहरी हिस्से में आ जाते और गर्मियों में बाहरी हिस्से में रहती तो और जानवर अन्दर की तरफ भाग जाते,तालाब में मुंह लगाती तो उस वक़्त उठाती जब कि सारा पानी खत्म हो जाता,दूध तो इतना देती थी की पूरे क़बीले को काफी हो जाता था मगर उसकी वजह से जो मुसीबत क़ौम पर आई थी जब वो उनसे बर्दाश्त ना हुई तो उन लोगों ने ऊंटनी को क़त्ल करने का मंसूबा बनाया

इस तरह कि एक काफिरा औरत ग़ैज़ा बिन्त गनम जो कि कई खूबसूरत लड़कियों की मां थी इसको हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम से दुश्मनी थी,इसने मिसदह बिन महरज और क़द्दार बिन सालिफ को इस शर्त पर ऊंटनी के क़त्ल को तैयार कर लिया कि वो जिस लड़की को चाहें अपने पास रख सकते हैं,ये दोनों अपने कई साथी लेकर तालाब पर ऊंटनी की ताक में पहुंचकर छिप गए जब वो पानी पीने को आई तो मिसदह बिन महरज ने उसकी एड़ी में तीर मारा जिससे की वो गिर गई और क़द्दार बिन सालिफ ने उसकी कोंचे काट दी और उसके बच्चे को भी क़त्ल किया,ये वाक़िया बुध के दिन पेश आया,जब हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम को पता चला तो आपने फरमाया कि अब तीन दिन तुम्हारे पास हैं पहले दिन तुम्हारा चेहरा ज़र्द होगा दूसरे दिन सुर्ख और तीसरे दिन काला फिर उसके बाद अज़ाब आयेगा

होना तो ये चाहिए था कि जब हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम ने उनको अज़ाब की खबर दी तो वो माफी मांगते मगर उन्होंने ऐसा ना किया बल्कि हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम की क़त्ल की ही साजिश करने लगे,इस कबीले के 9 सरदार थे जिनके लड़के हमेशा हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम के खिलाफ सरगर्म रहते थे,वो सब टोलियां बनाकर तलवार लिए हुए हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम के घर के करीब जब पहुंच गए तो मौला तआला ने फरिश्तो को अपने नबी की हिफाज़त के लिए भेज दिया इस तरह कि फरिश्ते उन पर पत्थर बरसाने लगे,अब इन पर पत्थर तो पढ़ रहे थे मगर पत्थर मारने वाले नज़र ना आते इसी तरह वो हलाक़ हुए,और ये वाक़िया मोहलत की आखिरी रात में हुआ,फिर सुबह को वो अज़ाब आया जिसके बारे में आता है कि ज़मीन में सख्त ज़लज़ला आया और आसमान से एक गरज़ दार चिंघाड़ जिसकी हैबत से तमाम काफिर मर गए और उनकी इमारतें तबाहो बर्बाद हो गयी

📕 खज़ाएनुल इरफान,सफह 190
📕 इब्ने कसीर,पारा 8,रुकू 17
📕 रूहुल बयान,पारा 8,रुकू 17
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 186

  • बाज़ मुफस्सेरीन फरमाते हैं कि उन लोगों ने बच्चे को क़त्ल नहीं किया बल्कि अपनी मां के क़त्ल के बाद वो खुद ही चीखता हुआ पहाड़ में गायब हो गया और क़ुर्बे क़यामत यही बच्चा “दाबतुल अर्द” बनकर ज़ाहिर होगा

📕 जलालैन,हाशिया 10,सफह 136

  • आपकी उम्र में इख्तिलाफ है बाज़ ने 58 साल बताई और बाज़ ने 280 साल

📕 अलइतकान,जिल्द 2,सफह 177
📕 तफसीरे सावी,जिल्द 2,सफह 73

  • आपकी क़ब्रे मुबारक मक़ामे इब्राहीम और ज़म-ज़म शरीफ के दरमियान है

📕 खाज़िन,जिल्द 2,सफह 207
📕 जलालैन,हाशिया 27,सफह 184

  • ये भी याद रखिए कि सिर्फ हज्रे अस्वद और ज़म-ज़म शरीफ के दरमियान 70 अम्बिया इकराम के मज़ारात मौजूद हैं

📕 फतावा रज़वियह,जिल्द 2,सफह 453


ZEBNEWS Charitable Trust

Sadqaye jaariya@30rs. p/m

Hazrat saaleh Alaihissalam

  • Hazrat saaleh alaihissalam qaume samood ki taraf tashreef laayen aur aap khud bhi qaume samood se hain,samood ek shakhs ka naam tha jinki aulaad ko qaume samood kaha jaata hai,aapka nasb naama is tarah hai Saaleh bin ubaid bin maasikh bin abd bin jaabir bin samood bin ubaid bin aus bin aad bin iram bin saam bin hazrat nooh alaihissalam,aap hazrat hood alaihissalam se taqriban 100 saal baad tashreef laaye

📕 Tazkiratul ambiya,safah 182

  • Aap par imaan laane waalo ki taadaad 4000 thi

📕 Alkamil fittareekh,jild 1,safah 36

  • Qaume aad ki halaqat ke baad ALLAH ne qaume samood ko aabaad kiya unko lambi umre ata ki maali wusat bhi khoob di magar jab unki nafarmaniyan badhne lagin tab unki taraf hazrat saaleh alaihissalam ko bheja,jab unhone tableeg ki to logon ne aapse mojza talab kiya jiska poora waqiya kuchh yun hai ki qaum ka sardaar jiska naam janda bin amar tha usne ek chattan jiska naam kaafiya tha uski taraf ishara karte hue bola ki agar tum nabi ho to isse ek haamila oontni nikaal do,aap ne rub ki baargah me dua ki to fauran chattan ki wahi haalat ho gayi jo ki ek haamila ki hoti hai dard se karaahna wa iztiraab wagairah,yahan tak ki chattan fati aur usse ek oontni baramad huyi jo 10 mahine ki haamila thi aur jism par oon bhi bahut tha iska seena 60 gaz lamba tha,ye mojza dekhkar janda bin amar aur kuchh log imaan le aaye aur baaki apne kufr par qaayam rahe,phir un logon ke saamne hi us onntni ne bachcha diya jo ki 70 oont ke barabar wazan ka tha

Qaum ki basti me paani peene ke liye ek hi taalaab tha jisme ki pahado se paani aakar jama hota tha,hazrat saaleh alaihissalam ne unse farma diya tha ki ek din chhodkar is taalaab ka saara paani in oontni aur uske bachche ke liye hai aur doosre din poori qaum ke liye aur ye bhi farmaya ki burayi ki niayat se ispar dast andaazi mat karna warna tumpar azaab aa jayega,oontni apne bachche ke saath jangal me charti jab sardi aati to wo jangal ke andruni hisse me chali jaati jisse ki saare jaanwar bhaagkar jangal ke baahri hisse me aa jaate aur garmiyon me baahri hisse me rahti to aur jaanwar andar ki taraf bhaag jaate,taalaab me munh lagaati to us waqt uthaati jab ki saara paani khatm ho jaata,doodh to itna deti thi ki poore qabile ko kaafi ho jaata tha magar uski wajah se jo musibat qaum par aayi thi jab wo unse bardaasht na hui to un logon ne oontni ko qatl karne ka mansuba banaya

Is tarah ki ek kaafira aurat gaiza bint ganam jo ki kayi khoobsurat ladkiyon ki maa thi isko hazrat saaleh alaihissalam se dushmani thi,isne misdah bin mahraj aur qaddar bin saalif ko is shart par oontni ke qatl ko taiyar kar liya ki wo jis ladki ko chahen apne paas rakh sakte hain,ye dono apne kayi saathi lekar taalaab par oontni ki taak me pahunchkar chhip gaye jab wo paani peene ko aayi to misdah bin mahraj ne uski edi me teer maara jisse ki wo gir gayi aur qaddar bin saalif ne uski konche kaat di aur uske bachche ko bhi qatl kiya,ye waaqiya budh ke din pesh aaya,jab hazrat saaleh alaihissalam ko pata chala to aapne farmaya ki ab teen din tumhare paas hain ki pahle din tumhara chehra zard hoga doosre din surkh aur teesre din kaala phir uske baad azaab aayega

Hona to ye chahiye tha ki jab hazrat saaleh alaihissalam ne unko azaab ki khabar di to wo maafi maangte magar unhone aisa na kiya balki hazrat saaleh alaihissalam ki qatl ki hi saajish karne lage,is qabile ke 9 sardaar the jinke ladke hamesha hazrat saaleh alaihissalam ke khilaaf sargarm rahte the,wo sab toliyan banakar talwaar liye hue hazrat saaleh alaihissalam ke ghar ke qareeb jab pahunch gaye to maula taala ne farishto ko apne nabi ki hifazat ke liye bhej diya is tarh ki farishte un par patthar barsaane lage,ab inpar patthar to pad rahe the magar patthar maarne waale nazar na aate isi tarah wo halaaq hue,aur ye waaqiya mohlat ki aakhiri raat me hua,phir subah ko wo azaab aaya jiske baare me aata hai ki zameen me sakht zalzala aaya aur aasman se ek garaz daar chingaad jiski haibat se tamam kaafir mar gaye aur unki imaaratein tabaaho barbaad ho gayi

📕 Khazayenul irfan,safah 190
📕 Ibne kaseer,paara 8,ruku 17
📕 Ruhul bayaan,paara 8,ruku 17
📕 Tazkiratul ambiya,safah 186

  • Baaz mufasserin farmate hain ki un logon ne bachche ko qatl nahin kiya balki apni maa ke qatl ke baad wo khud hi chhekhta hua pahaad me gaayab ho gaya aur qurbe qayamat yahi bachcha DAABTUL ARD bankar zaahir hoga

📕 Jalalain,hashia 10,safah 136

  • Aapki umr me ikhtilaf hai baaz ne 58 saal batayi aur baaz ne 280 saal

📕 Alitqaan,jild 2,safah 177
📕 Tafseere saavi,jild 2,safah 73

  • Aapki qabre mubarak maqame ibraheem aur zam-zam sharif ke darmiyan hai

📕 Khaazin,jild 2,safah 207
📕 Jalalain,hashia 27,safah 184

  • Ye bhi yaad rakhiye ki sirf hajre aswad aur zam-zam sharif ke darmiyan 70 ambiya ikram ke mazaraat maujood hain

📕 Fatawa razviyah,jild 2,safah 453

NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.