Categories
Ambiya e Kiram

हज़रत ज़ुलकिफ्ल अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish हज़रत ज़ुलकिफ्ल अलैहिस्सलाम

आपका नाम बशर या शरफ है चुंकि आप यतीमों गरीबों और बेवा औरतों पर बहुत ज़्यादा मेहरबान रहते थे तो उनकी किफालत की वजह से ही आपका लक़ब ज़ुलकिफ्ल यानि कफालत करने वाला पड़ गया,आप हज़रत अय्यूब अलैहिस्सलाम के बेटे हैं और उनके बाद अल्लाह ने उनकी क़ौम की तरफ आपको नबी बनाकर भेजा,आपकी उम्र 75 साल हुई और मुल्के शाम में ही आपका मज़ार है

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 194
📕 अलइतक़ान,जिल्द 2,सफह 178

एक दूसरी रिवायत के मुताबिक आपका नाम हज़कील बिन यूज़अ आया है,और आपको ज़ुलकिफ्ल इसलिये कहते हैं कि एक मर्तबा आपने 70 अम्बियाये किराम को ज़ामिन बनकर बचाया था,आप हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के तीसरे खलीफा हैं मसलन हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के खलीफा हुए हज़रत यूशअ बिन नून और उनके खलीफा हुए इब्ने युहन्ना और उनके खलीफा हैं हज़रत हज़कील अलैहिस्सलाम

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 2,सफह 512

ⓩ लेकिन पहली रिवायत ज़्यादा मोतबर है

 *हज़रत अलयसअ अलैहिस्सलाम*

आपके बारे में कुछ ज़्यादा जानकारी किताबों में मज़कूर नहीं है एक रिवायत में आपका नस्ब कुछ इस तरह है यसअ बिन अफतूब बिन अजूज़

📕 क्या आप जानते हैं,सफह 171

आपको अल्लाह ने नुबूवत अता फरमाने के साथ साथ रियासतत भी अता फरमाई थी,आप हमेशा दिन को रोज़ा रखते और रात नवाफिल में गुज़ारते,आपको किसी भी बात पर गुस्सा नहीं आता था और अपनी उम्मत के मुआमलात में बहुत ही मतानत से फैसला फरमाते जल्दबाज़ी हरगिज़ ना करते,जब आपकी वफात का वक़्त करीब आया तो बनी इस्राईल के कुछ लोग आपके पास आये और कहा कि आप अपना जांनशीन मुक़र्रर कर दें ताकि आपके बाद हम उसकी तरफ रुजू करें,तो आपने फरमाया कि जो मेरी 3 बातों में ज़मानत देगा उसकी को मैं अपना खलीफा बनाऊंगा मगर कोई भी इस पर तैयार ना हुआ तब एक नवजवान खड़ा हुआ तो आपने उससे कहा कि पहली बात ये है कि तुझे तमाम रात इबादत में गुज़ारनी है सोना हरगिज़ नहीं है दूसरी ये कि रोज़ाना दिन को रोज़ा रखना है तीसरी ये कि कोई भी फैसला गुस्से की हालत में नहीं करना है,जब उसने ये तीनो बातें मान ली तो आपने उसे अपना खलीफा यानि अगला वाली मुक़र्रर कर दिया और पूरा निज़ाम उसके सुपुर्द कर दिया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 195

ⓩ ख्याल रहे कि ये खिलाफत बादशाहत में थी वरना नुबूवत में कोई खिलाफत नहीं होती ये एक मनसब है जो मौला तआला की तरफ से ही दिया जाता है वो जिसे चाहे उसे नबी बना सकता है

……….खत्म


Hazrat Zulkifl Alaihissalam

Aapka naam bashar ya sharaf hai chunki aap yatimo garibo aur bewa aurton par bahut zyada meharban rahte the to unki kifalat ki wajah se hi aapka laqab zulkifl yaani kafalat karne waala pad gaya,aap hazrat ayyub alaihissalam ke bete hain aur unke baad ALLAH ne unki qaum ki taraf aapko nabi banakar bheja,aapki umr 75 saal huyi aur mulke shaam me hi aapka mazaar hai

📕 Tazkiratul ambiya,safah 194
📕 Alitqaan,jild 2,safah 178

Ek doosri riwayat ke mutabik aapka naam hazkeel bin yooza aaya hai,aur aapko zulkifl isliye kahte hain ki ek martaba aapne 70 ambiyaye kiraam ko zaamin bankar bachaya tha,aap hazrat moosa alaihissalam ke teesre khalifa hain maslan hazrat moosa alaihissalam ke khalifa hue hazrat yoosha bin noon aur unke khalifa hue ibne yuhanna aur unke khalifa hain hazrat hazkeel alaihissalam

📕 Tafseere nayimi,jild 2,safdah 512

ⓩ Lekin pahli riwayat zyada motabar hai

Hazrat Alyasa’a Alaihissalam

Aapke baare me kuchh zyada jaankari kitabon me mazkoor nahin hai ek riwayat me aapka nasb kuchh is tarah hai Yasa’a bin Aftoob bin Ajooz

📕 Kya aap jaante hain,safah 171

Aapko ALLAH ne nubuwat ata farmane ke saath saath riyasat bhi ata farmayi,aap hamesha din ko roza rakhte aur raat nawafil me guzaarte,aapko kisi bhi baat par gussa nahin aata tha aur apni ummat ke muaamlat me bahut hi matanat se faisla farmate jalbaazi hargiz na karte,jab aapki wafaat ka waqt qareeb aaya to bani israyeel ke kuchh log aapke paas aaye aur kaha ki aap apna janasheen muqarrar kar dein taaki aapke baad hum uski taraf ruju karen,to aapne farmaya ki jo meri 3 baaton me zamanat dega uski ko main apna khalifa banaunga magar koi bhi ispar taiyar na hua tab ek nau jawaan khada hua to aapne usse kaha ki pahli baat ye hai ki tujhe tamam raat ibaadat me guzaarni hai sona hargiz nahin hai doosri ye ki rozana din ko roza rakhna hai teesri ye ki koi bhi faisla gusse ki haalat me nahin karna hai,jab usne ye teeno baatein maan li to aapne use apna khalifa yaani agla waali muqarrar kar diya aur poora nizaam uske supurd kar diya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 195

ⓩ Khayal rahe ki ye khilafat baadshahat me thi warna nubuwat me koi khilafat nahin hoti ye ek mansab hai jo maula ki taraf se hi diya jaata hai wo jise chahe use nabi bana sakta hai

……….END

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.