Categories
Ambiya e Kiram

हज़रत इस्माईल अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ZEBNEWS

हिन्दी/hinglish हज़रत इस्माईल अलैहिस्सलाम

  • आपका नाम इस्माईल इस लिए पड़ा कि बहुत साल तक हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम को औलाद न हुई थी और वो हमेशा दुआ करते रहते थे और अपनी ज़बान में “इसमअ” यानि सुन ले “ईल” इबरानी ज़बान में खुदा का नाम है यानि ऐ खुदा मेरी सुन ले,जब आप पैदा हुए तो इसी दुआ की यादगार में आपने उनका नाम इस्माईल रख दिया

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 820

  • एक मर्तबा हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम आपसे मिलने के लिए आपके घर पहुंचे उस वक़्त आप घर पर नहीं थे,बहू से मुलाक़ात हुई तो आपने घर का हाल पूछा तो कहने लगी कि गुज़ारा अच्छा नहीं होता है तंगदस्ती है,आप जब जाने लगे तो
    उससे कहा कि अपने शौहर को मेरा सलाम कहना और कहना कि उसके घर की चौखट अच्छी नहीं है उसे बदल दे,जब हज़रत इस्माईल अलैहिस्सलाम वापस आये तो उन्हें अपने बाप की खुशबु मिली पूछा कि अब्बा हुज़ूर कहां हैं तो बीवी ने कहा कि वो तो चले गए आपको सलाम कहा है और कहा है कि अपने घर की चौखट को बदल दें तो आप फरमाते हैं कि वो तुझे तलाक़ देने को कह गए हैं मैं तुझे अभी तलाक़ देता हूं,ये बीवी क़ौमे जहम के सरदार की बेटी अम्माराह बिन्त सअद बिन ओसामा थी बाद में आपने बिन्ते मदाद बिन उमर से निकाह किया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 113

  • आपकी उम्र 130 साल हुई

📕 तफसीरे सावी,जिल्द 2,सफह 27

  • आपका मज़ार शरीफ ऐन खानये काबा में मीज़ाबे रहमत के नीचे है

📕 फतावा रज़वियह,जिल्द 2,सफह 453

       *हज़रत इस्हाक़ अलैहिस्सलाम*
  • आपका लक़ब अबुल अजम यानि गैर अरबी है

📕 तफसीरे सावी,जिल्द 1,सफह 225

  • आपकी उम्र 180 साल हुई

📕 अलइतक़ान,जिल्द 2,सफह 176

  • आपकी मज़ार आपके वालिद के बगल में बताई जाती है मगर कुछ रिवायतों में बैतुल मुक़द्दस भी आया है

📕 उम्दतुल क़ारी,जिल्द 7,सफह 373
📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 871

*एक मर्तबा हज़रते सारह व हज़रते हाजिरा में किसी बात पर लड़ाई हो गयी और हज़रते सारह ने ये कसम खा ली कि अगर मैं क़ाबू पाऊंगी तो तुम्हारा कोई उज़ू यानि हिस्सा काट दूंगी,मौला ने हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम पर वही भेजी कि दोनों में सुलह करा दो आपने सुलह तो करा दी पर हज़रते सारह फरमाती हैं कि मैंने जो खुदा की कसम खाई उसका क्या,तब मौला ने हज़रते सारह को हज़रते हाजिरा के कान छेदने का हुक्म दिया कि ऐसा कर लो तो तुम्हारी कसम पूरी हो जाएगी,आपने ऐसा ही किया औरतों के कान छेदने की यही दलील है और हीला शरई भी,अब हीला शरई क्या होता है इसका बयान फिर कभी इन शा अल्लाह

📕 जाअल हक़,हिस्सा 1,सफह 366

……….खत्म


  *Hazrat Ismayeel Alaihissalam* 
  • Aapka naam ismayeel is liye pada ki bahut saal tak hazrat ibraheem alaihissalam ko aulaad na huyi thi aur wo hamesha dua karte rahte the aur apni zabaan me “isma” yaani sun le “eel” ibraani zabaan me khuda ka naam hai yaani ai khuda meri sun le,jab aap paida hue to isi dua ki yaadgar me aapne unka naam ismayeel rakh diya

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 820

  • Ek martaba hazrat ibraheem alaihissalam aapse milne ke liye aapke ghar pahunche us waqt aap ghar par nahin,bahu se mulaqat huyi to aapne ghar ka haal poochha to kahne lagi ki guzara achchha nahin hota hai tangdasti hai,aap jab jaane lage to usse kaha ki apne shauhar ko mera salaam kahna aur kahna ki uske ghar ki chaukhat achchhi nahin hai use badal de,jab hazrat ismayeel alaihissalam wapas aaye to unhein apne baap ki khushbu mili poochha ki abba huzoor kahan hain to biwi ne kaha ki wo to chale gaye aapko salaam kaha hai aur kaha hai ki apne ghar ki chaukhat ko badal dein to aap farmate hain ki wo tujhe talaaq dene ko kah gaye hain main tujhe abhi talaaq deta hoon,ye biwi qaume jarham ke sardaar ki beti ammarah bint sa’ad bin osama thi baad me aapne binte madaad bin umar se nikah kiya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 113

  • Aapki umr 130 saal huyi

📕 Tafseere saavi,jild 2,safah 27

  • Aapka mazaar sharif ain khaanaye kaaba me meezabe rahmat ke neeche hai

📕 Fatawa razviyah,jild 2,safah 453

       *हज़रत इस्हाक़ अलैहिस्सलाम*
  • Aapka laqab abul ajam yaani gair arbi hai

📕 Tafseere saavi,jild 1,safah 225

  • Aapki umr 180 saal huyi

📕 Alitqaan,jild 2,safah 176

  • Aapki mazaar aapke waalid ke bagal me batayi jaati hai magar kuchh riwayton me baitul muqaddas bhi aaya hai

📕 Umdatul qaari,jild 7,safah 373
📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 871

*Ek martaba hazrate saarah wa hazrate haajira me kisi baat par ladaayi ho gayi aur hazrate saarah ne ye kasam khaa li ki agar main qaabu paungi to tumhara koi uzu yaani hissa kaat doongi,maula ne hazrat ibraheem alaihissalam par wahi bheji ki dono me sulah kara do aapne sulah to kara di par hazrate saarah farmatin hain ki maine jo khuda ki kasam khaayi uska kya tab maula ne hazrate saarah ko hazrate haajira ke kaan chhedne ka hukm diya ki aisa karlo to tumhari kasam poori ho jayegi,aapne aisa hi kiya aurton ke kaan chhedne ki yahi daleel hai aur heela sharayi bhi,ab heela sharayi kya hota hai iska bayaan phir kabhi in sha ALLAH

📕 Ja’al haq,hissa 1,safah 366

……….END

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.