Categories
Ambiya e Kiram

हज़रत इल्यास अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ZEBNEWS

हिन्दी/hinglish हज़रत इल्यास अलैहिस्सलाम

कंज़ुल ईमान – और बेशक इल्यास पैगम्बरों से है.जब उसने अपनी क़ौम से फरमाया क्या तुम डरते नहीं.क्या बअल को पूजते हो और छोड़ते हो सबसे अच्छा पैदा करने वाले अल्लाह को.जो रब है तुम्हारा और तुम्हारे अगले बाप दादा का.फिर उन्होंने उसे झुठलाया तो ज़रूर वो पकड़े आयेंगे.मगर अल्लाह के चुने हुए बन्दे.और हमने पिछलों में उसकी सना बाकी रखी.सलाम हो इल्यास पर

📕 पारा 23,सूरह साफ्फात,आयत 123-130

  • आपके नाम और नस्ब में कई क़ौल हैं मगर मश्हूर यही है कि आपका नाम इल्यास बिन यासीन बिन कह्हास बिन अल ईज़ार बिन हज़रत हारुन अलैहिस्सलाम,आप हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के बड़े भाई हज़रत हारून अलैहिस्सलाम की नस्ल से हैं

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 195

  • हज़रत इल्यास अलैहिस्सलाम और हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम दोनों हर साल हज के मौक़े पर मिलते हैं हज व उमरा करते हैं आबे ज़म-ज़म शरीफ पीते हैं जो कि उनके लिए साल भर की ग़िज़ा का काम करता है,और बैतुल मुक़द्दस में दोनों हज़रात रमज़ान शरीफ का रोज़ा भी रखा करते हैं

📕 फतावा रज़वियह,जिल्द 9,सफह 108
📕 ज़रक़ानी,जिल्द 5,सफह 354

आलाहज़रत अज़ीमुल बरक़त रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि चार नबी अब भी ज़िंदा हैं हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम और हज़रत इदरीस अलैहिस्सलाम ये दोनों हज़रात आसमान पर हैं और हज़रत इल्यास अलैहिस्सलाम खुश्की में भटक जाने वालों को राह दिखाने के काम में और हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम पानी में भटक जाने वालों को राह दिखाने की खिदमत से मुअल्लक़ हैं,हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम से हज़रत इल्यास अलैहिस्सलाम की मुलाकात साबित है इस तरह कि एक सफर में दोनों हज़रात की मुलाकात हुई अल्लाह ने आसमान से खाना उतारा दोनों हज़रात ने साथ मिलकर खाया उस खाने में रोटी और मछली थी फिर अस्र की नमाज़ दोनों हज़रात ने साथ साथ पढ़ी

📕 अलमलफूज़,हिस्सा 4,सफह 40
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 195

  • बअल उनका बुत था जिसकी वो क़ौम पूजा करती थी ये खालिस सोने का बुत था जिसकी ऊंचाई 30 फिट थी और इसके 4 मुंह थे उसकी खिदमत के लिए हर वक़्त 400 खादिम तैनात रहा करते थे,चुंकि ये बुत जिस जगह रखा था उसका नाम बक था लिहाज़ा उस बुत और जगह के नाम पर उस शहर को बअलबक कहा गया,एक रिवायत ये बताई जाती है कि उस बुत के पेट में घुसकर शैतान बोला करता था जिससे कि वो उन्हें गुमराह कर सके तो इमाम राज़ी अलैहिर्रहमा इसका रद्द करते हैं कि ये मुमकिन नहीं क्योंकि इस तरह तो सैकड़ों मोअजिज़ात और करामात का ही रद्द हो जायेगा

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 196

ⓩ आप ज़िंदा हैं मगर इसके तअल्लुक़ से मुझे कोई रिवायात किताब में नहीं मिली,इसके तअल्लुक़ से जब मैंने काज़िये शहर इलाहाबाद हुज़ूर मुफ्ती शफीक़ अहमद शरीफी साहब से दरयाफ्त किया तो आप फरमाते हैं कि आपकी क़ौम आपके क़त्ल पर आमादा हो गयी थी जिसकी बिना पर आपने अल्लाह से दुआ की कि ऐ मौला मुझे इनकी नज़रों से रूपोश करदे तो आपकी दुआ इस तरह क़ुबूल हुई कि आप हमेशा के लिए रूपोश हो गए,अब वक़्ते सूर ही आपका और हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम का विसाल होगा

खत्म………..


ZEBNEWS Charitable Trust

Sadqaye jaariya@30rs. p/m

KANZUL IMAAN – Aur beshak ilyaas paigambaro se hai.jab usne apni qaum se farmaya kya tum darte nahin.kya ba’al ko poojte ho aur chhodte ho sabse achchha paida karne waale ALLAH ko.jo rub hai tumhara aur tumhare agle baap daada ka.phir unhone use jhutlaya to zaroor wo pakde aayenge.magar ALLAH ke chune hue bande.aur humne pichhlo me uski sana baaki rakhi.salaam ho ilyaas par

📕 Paara 23,surah saaffat,aayat 123-130

  • Aapke naam aur nasab me kayi qaul hain magar mashhoor yahi hai ki aapka naam ilyaas bin yaseen bin kahhas bin al izaar bin hazrat haroon alaihissalam,aap hazrat moosa alaihissalam ke bade bhai hazrat haroon alaihissalam ki nasl se hain

📕 Tazkiratul ambiya,safah 195

  • Hazrat ilyaas alaihissalam aur hazrat khizr alaihissalam dono har saal hajj ke mauqe par milte hain hajj wa umra karte hain aabe zam-zam sharif peete hain jo ki unke liye saal bhar ki giza ka kaam karta hai,aur baitul muqaddas me dono hazraat ramzan sharif ka roza bhi rakha karte hain

📕 Fatawa razviyah,jild 9,safah 108
📕 Zarkani,jild 5,safah 354

  • Aalahazrat azimul barkat raziyallahu taala anhu farmate hain ki chaar nabi ab bhi zinda hain hazrat eesa alaihissalam aur hazrat idrees alaihissalam ye dono hazraat aasman par hain aur hazrat ilyas alaihissalam khushki me bhatak jaane waalo ko raah dikhane ke kaam me aur hazrat khizr alaihissalam paani me bhatak jaane waalo ko raah dikhane ki khidmat me muallaq hain,huzoor sallallaho taala alaihi wasallam se hazrat ilyas alaihissalam ki mulaqat saabit hai is tarah ki ek safar me dono hazraat ki mulakaat huyi ALLAH ne aasman se khaana utaara dono hazraat ne saath milkar khaaya us khaane me roti aur machhli thi phir asr ki namaz dono hazraat ne saath saath padhi

📕 Almalfooz,hissa 4,safah 40
📕 Tazkiratul ambiya,safah 195

  • Ba’al unka butt tha jiski wo qaum pooja karti thi ye khaalis sone ka butt tha jiski oonchayi 30 fitt thi aur iske 4 munh the uski khidmat ke liye har waqt 400 khaadim tainaat raha karte the,chunki ye butt jis jagah rakha tha uska naam bak tha lihaza us butt aur jagah ke naam par us shahar ko ba’albak kaha gaya,ek riwayat ye batayi jaati hai ki us butt ke peit me ghuskar shaitan bola karta tha jisse ki wo unhein gumraah kar sake to imaam raazi alaihirrahma iska radd karte hain ki ye mumkin nahin kyunki is tarah to saikdon mojizaat aur karamaat ka hi radd ho jayega

📕 Tazkiratul ambiya,safah 196

ⓩ Aap zinda hain magar iske taalluq se mujhe koi riwayat kitab me nahin mili,iske taalluq se jab maine qaaziye shahar allahabad huzoor mufti shafiq ahmad sharifi sahab se daryaaft kiya to aap farmate hain ki aapki qaum aapke qatl par aamada ho gayi thi jiski bina par aapne ALLAH se dua ki ki ai maula mujhe inki nazro se ruposh karde to aapki dua is tarah qubool huyi ki aap hamesha ke liye ruposh ho gaye ab waqte soor hi aapka aur hazrat khizr alaihissalam ka wisaal hoga

END………..

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.