Categories
Ambiya e Kiram

हिस्सा-4 हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम

👉 Sms prepared by 👈
ZEBNEWS

Friday *** Ambiya ikram ******

हिन्दी/hinglish
हिस्सा-4 हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम

  • हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम और हज़रत इल्यास अलैहिस्सलाम दोनों हर साल हज के मौक़े पर मिलते हैं हज व उमरा करते हैं आबे ज़म-ज़म शरीफ पीते हैं जो कि उनके लिए साल भर की ग़िज़ा का काम करता है,और बैतुल मुक़द्दस में दोनों हज़रात रमज़ान शरीफ का रोज़ा भी रखा करते हैं

📕 फतावा रज़वियह,जिल्द 9,सफह 108
📕 ज़रक़ानी,जिल्द 5,सफह 354

हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम और हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम एक मर्तबा हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम मस्जिदे नब्वी शरीफ में थे कि किसी की आवाज़ सुनी तो आपने हज़रते अनस रज़ियल्लाहु तआला अन्हु को भेजा और कहा कि उनको मेरा सलाम कहो और कहो कि मेरे लिए दुआ करें,जब हज़रत अनस रज़ियल्लाहु तआला अन्हु ने उनसे जाकर कहा तो जवाब देने के बाद वो कहने लगे कि मैं क्या उनके लिए दुआ कर सकता हूं उन्हें तो तमाम अम्बिया का सरदार बनाया गया है हम तो खुद उनकी दुआ के मोहताज हैं,हज़रत अनस रज़ियल्लाहु तआला अन्हु वापस आये और उनका पैगाम सुनाया तो हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम फरमाते हैं कि वो हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम थे

  • इसी तरह हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम के विसाल के दिन एक शख्स सफों को चीरता हुआ आगे पहुंचा और सहाबा को तसल्ली दी और फिर वो गायब हो गया तो हज़रत अबु बक्र सिद्दीक़ रज़ियल्लाहु तआला अन्हु मौला अली रज़ियल्लाहु तआला अन्हु से फरमाते हैं कि ये हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम थे तो आप फरमाते हैं कि बिल्कुल मैं उन्हें पहचानता हूं
  • इसी तरह एक मर्तबा हज़रते उमर फारूक़ रज़ियल्लाहु तआला अन्हु एक नमाज़े जनाज़ा में शिरकत के लिए खड़े हुए तो दूर से एक शख्स ने आवाज़ दी कि रुकिये मैं भी शामिल होता हूं,बाद नमाज़ जब उनको ढूंढा गया तो ना मिले तो हज़रत उमर फारूक़े आज़म रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि ये हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम थे
  • इसके अलावा और भी सहाबाये किराम से मुलाकात का तज़किरा मिलता है और बहुत से बुज़ुर्गाने दीन से भी आपकी मुलाकात साबित है,सबका ज़िक्र करने के बजाये उन बुज़ुर्गों के नाम पर ही इक़्तिफा करता हूं

हज़रत दाता गंज बख्श लाहौरी
हज़रत मखदूम अशरफ जहांगीर समनानी
हज़रत ख्वाजा बहाउद्दीन नक्शबंदी
हज़रत ख्वाजा अब्दुल खालिक़ गज्दवानी
हुज़ूर ग़ौसे पाक
हुज़ूर मोहिउद्दीन इब्ने अरबी
हज़रत इमाम अहमद बिन हम्बल
हज़रत निज़ामी गंजवी
हज़रत अहमद बिन अल्वी
हज़रत शाह रुक्न आलम मुल्तानी
हज़रत अब्दुल क़ाहिर सुहरवर्दी
हज़रत बिशर बिन हारिस
हज़रत ख्वाजा अब्दुल्लाह अंसारी
हज़रत अब्दुल शैख कैलवी
हज़रत मौलाना जलालुद्दीन रूम
हज़रत शैख सादी
हज़रत ख्वाजा सुलेमान तस्वी
हज़रत ख्वाजा शम्सुद्दीन सियाल्वी
हज़रत इब्ने जौज़ी
हज़रत शैख बदरुद्दीन ग़ज़नवी
हज़रत अब्दुल वहाब मुत्तक़ी
हज़रत जाफर मक्की सरहिंदी
हज़रत कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी
हज़रत मुहम्मद बिन समाक
हज़रत अबुल हसन शीराज़ी
हज़रत शैक अबु मदयन
हज़रत अब्दुर्रहमान छुहरावी

📕 रिजालुल ग़ैब,सफह 154-198

ⓩ ये कुछ हज़राते मुक़द्दसा के नाम हैं जिनके बारे में तफ्सील से किताब में लिखा है और जिस तरतीब से वाक्यिात दर्ज थे मैंने उसी तरतीब से सबका नाम लिख दिया मर्तबे के लिहाज़ा से नहीं लिखा,लिहाज़ा इसमें ऐतराज़ करने जैसी कोई बात नहीं है कि फलां बुज़ुर्ग पहले के हैं और बड़े हैं तो उनका नाम बाद में और नीचे लिखा है,और ऐसा भी नहीं है कि जिनका नाम लिखा है सिर्फ उन्हीं हज़रात से हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम की मुलाकात हुई है बाकी इसके अलावा किसी से नहीं,नहीं बल्कि और किताबों में और भी बुज़ुर्गाने दीन से मुलाकात के अहवाल लिखे हो सकते हैं बल्कि होंगे ही,उसी तरह एक रिवायत शहर क़ाज़ी इलाहाबाद हज़रत मुफ़्ती शफीक अहमद शरीफी साहब क़िब्ला ये बयान फरमाते हैं कि हज़रत मखदूम अशरफ जहांगीर समनानी रहमतुल्लाह तआला अलैहि अपनी किसी किताब में लिखते हैं कि हज़रते खिज़्र अलैहिस्सलाम हर आधे घंटे में 1 बार हज़रत सय्यद सालार मसऊद गाज़ी रहमतुल्लाह तआला अलैहि के आस्ताने मुबारक बहराईच शरीफ में हाज़िरी देते हैं

खत्म………..


ZEBNEWS Charitable Trust

Sadqaye jaariya@30rs. p/m

  • Hazrat khizr alaihissalam aur hazrat ilyas alaihissalam dono har saal hajj ke mauqe par milte hain hajj wa umra karte hain aabe zam-zam sharif peete hain jo ki unke liye saal bhar ki giza ka kaam karta hai,aur baitul muqaddas me dono hazraat ramzan sharif ka roza bhi rakha karte hain

📕 Fatawa razviyah,jild 9,safah 108
📕 Zarkani,jild 5,safah 354

Huzoor sallallaho taala alaihi wasallam aur hazrat khizr alaihissalam ek martaba huzoor sallallaho taala alaihi wasallam masjide nabwi sharif me the ki kisi ki aawaz suni to aapne hazrate anas raziyallahu taala anhu ko bheja aur kaha ki unko mera salaam kaho aur kaho ki mere liye dua karen,jab hazrat anas raziyallahu taala anhu ne unse jaakar kaha to jawab dene ke baad wo kahne lage ki main kya unke liye dua kar sakta hoon unhein to tamam ambiya ka sardaar banaya gaya hai hum to khud unki dua ke mohtaj hain,hazrat anas raziyallahu taala anhu waapas aaye aur unka paighaam sunaya to huzoor farmate hain ki wo hazrat khizr alaihissalam the

  • Isi tarah huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ke wisaal ke din ek shakhs safon ko cheerta hua aage pahuncha aur sahaba ko tasalli di aur phir wo gaayab ho gaya to hazrat abu bakr siddiq raziyallahu taala anhu maula ali raziyallahu taala anhu se farmate hain ki ye hazrat khizr alaihissalam the to aap farmate hain ki bilkul main unhein pahchaanta hoon
  • Isi tarah ek martaba hazrate umar farooq raziyallahu taala anhu ek namaze janaza me shirkat ke liye khade hue to door se ek shakhs ne aawaz di ki rukiye main bhi shaamil hota hoon,baad namaz jab usko dhoondha gaya to na mila to hazrat umar farooqe aazam raziyallahu taala anhu farmate hain ki ye hazrat khizr alaihissalam the
  • Iske alawa aur bhi sahabaye kiram se mulakaat ka tazkira milta hai aur bahut se buzurgane deen se bhi aapki mulakaat saabit hai,sabka zikr karne ke bajaye un buzurgon ke naam par hi iqtifa karta hoon

Hazrat daata ganj bakhsh lahauri
Hazrat makhdoom ashraf jahangeer samnani
Hazrat khwaja bahauddin nakshbandi
Hazrat khwaja abdul khaliq gajdwani
Huzoor ghause paak
Huzoor mohiuddin ibne arbi
Hazrat imaam ahmad bin hambal
Hazrat nizaami ganjwi
Hazrat ahmad bin alwi
Hazrat shah rukn alam multani
Hazrat abdul qahir suharwardi
Hazrat bishar bin haaris
Hazrat khwaja abdullah ansari
Hazrat abdul shaikh qalwi
Hazrat maulana jalaluddin room
Hazrat shaikh saadi
Hazrat khwaja suleman tansvi
Hazrat khwaja shamsuddin siyalvi
Hazrat ibne jauzi
Hazrat shaikh badruddin gaznavi
Hazrat Abdul wahaab muttaqi
Hazrat jaafar makki sarhindi
Hazrat kutubuddin bakhtiyar kaaki
Hazrat Muhammad bin samaak
Hazrat abul hasan shaazli
Hazrat shaikh abu madyan
Hazrat abdurrahman chhuhravi

📕 Rijalul gaib,safah 154-198

ⓩ Ye un hazraate muqaddasa ke naam hain jinke baare me tafseel se kitab me likha hai aur jis tarteeb se wakyaat darj the maine usi tarteeb se sabka naam likh diya martabe ke lihaza se nahin likha,lihaza isme aitraz karne jaisi koi baat nahin hai ki falan buzurg pahle ke hain aur bade hain to unka naam baad me aur neeche likha hai,aur aisa bhi nahin hai ki jinka naam likha hai sirf unhi hazraat se hazrat khizr alaihissalam ki mulakaat huyi hai baaki iske alawa kisi se nahin,nahin balki aur kitabon me aur bhi buzurgane deen se mulakaat ke ahwaal likhe ho sakte hain balki honge hi,usi tarah shahar qaazi allahabad hazrat mufti shafiq ahmad sharifi sahab qibla farmate hain ki harat makhdoom ashraf jahangeer samnaani rahmatullah taala alaihi apni kisi kitab me likhte hain ki hazrate khizr alaihissalam har aadhe ghante me 1 baar hazrat sayyad saalaar mas’ood gaazi rahmatullah taala alaihi ke aastane mubarak bahraich sharif me haaziri dete hain

Khatm………..

! no more msgs no more headache !
! only 1 msg in 24 hours !

Join ZEBNEWS to 9559893468
Jamaat Raza-e Mustafa,Allahabad

Leave a Reply

Your email address will not be published.