Categories
Ambiya e Kiram

हिस्सा-3 हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम

👉 Sms prepared by 👈
ZEBNEWS

Friday *** Ambiya ikram ******

हिन्दी/hinglish
हिस्सा-3 हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम

  • फिर तीनों एक बस्ती में पहुंचे जहां किसी ने भी इनकी मेहमान नवाज़ी नहीं की दिन भर भूखे प्यासे पूरे गांव में चक्कर काटते रहे,थक हारकर शाम को बस्ती से चलने लगे जब गांव के बाहर पहुंचे तो हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम ने देखा कि एक दीवार गिरी जाती है आप फौरन वहां पहुंचे और पूरी मेहनत से गिरती हुई दीवार की मरम्मत की उसे सीधी की और कोई उजरत भी नहीं ली,इस पर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम फिर से बोले कि जिस बस्ती वालों ने हमारे लिए कुछ भी नहीं किया आपने युंही बग़ैर उजरत के उनकी दीवार सही कर दी कम से कम उजरत तो ले लेते,अब हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि तुम्हारा उज़्र पूरा हो चुका अब तुम हमारे साथ नहीं रह सकते मगर जाते जाते उन तीनों के बातिनी हालात भी सुनते जाओ पहली वो जो कश्ती मैंने तोड़ी थी तो वहां का बादशाह बहुत ही ज़ालिम है सभी कश्ती वालों की नई कश्तियां छीन कर अपने खज़ाने में जमा कर लेता है,अगर मैं उस गरीब की कश्ती ना तोड़ता तो उसकी कश्ती भी उससे छिन जाती और उस पर रिज़्क़ की क़िल्लत आ जाती लिहाज़ा जो एहसान उसने हम पर किया था बग़ैर उजरत के दरिया को पार कराने का उसी एहसान का ये बदला था कि कश्ती तो फिर से दुरुस्त कर ही लेगा,दूसरा वो नाबालिग़ बच्चा जिसे मैंने क़त्ल किया उसके मां-बाप मोमिन थे और उसको बड़ा होकर काफिर होना था तो औलाद की मुहब्बत में उसके मां-बाप का ईमान खतरे में पड़ जाता लिहाज़ा उनका ईमान बचाने के लिए मैंने उसे क़त्ल किया और बचपन में चुंकि वो खुद अब तक वो खुद भी काफिर नहीं था लिहाज़ा उस पर भी एहसान किया,और तीसरी ये दीवार जो मैंने दुरुस्त की तो ये घर दो यतीम बच्चों का है इस दीवार के नीचे उन बच्चों के बाप ने जो कि नेक आदमी था उसने इनके लिए कुछ रुपया पैसा छोड़ा है अगर ये दीवार गिर जाती तो वो खज़ाना खुल जाता और बस्ती वाले सब लूटकर ले जाते अब जब बच्चे बड़े हो जायेंगे और अपना घर मरम्मत करायेंगे तो उनका खज़ाना उनको मिल जायेगा,फिर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम वहां से वापस लौट आये

📕 पारा 15,सूरह कहफ,आयत 60—-82
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 331

ⓩ वैसे तो ये पूरा वाक़िया ही क़ुर्आन में दर्ज है मगर इसके आखिरी के जुमलों पर कुछ तवज्जोह दिलाना चाहता हूं,रब तआला फरमाता है

कंज़ुल ईमान – और उनका बाप नेक आदमी था

📕 पारा 16,सूरह कहफ,आयत 82

तफसीर – उन दोनो बच्चों का नाम अदरम और सुरैन था और उनके बाप का नाम कासिख था और ये शख्स नेक परहेज़गार था,रिवायत में आता है कि अल्लाह तआला अपने बन्दे की नेकी के सबब उसकी औलाद को और उसकी औलाद की औलाद को और उसके कुनबे वालों को और उसके मुहल्ले वालों को अपनी हिफाज़त में रखता है

📕 खज़ाएनुल इरफान,सफह 361
📕 रूहुल बयान,पारा 16,सफह 477

ⓩ एक तरफ तो क़ुर्आन और हदीस में ये लिखा है कि बाप की नेकियां औलाद के काम आती हैं मगर वहीं दूसरी तरफ कुछ लोगों का हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम के बारे में ये कहना है कि “हुज़ूर तो अपनी बेटी के भी काम नहीं आ सकते तो वो अपने उम्मतियों को किस तरह बचायेंगे माज़ अल्लाह” तो उन कमज़र्फों से सिर्फ इतना कहना चाहूंगा कि ये बात तुम अपने और अपने बाप दादा के लिए कह सकते हो कि मेरे आक़ा सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम तुम्हारे और तुम्हारे बाप दादा के काम नहीं आयेंगे,और काम नहीं आयेंगे से मुराद ये नहीं कि वो काम नहीं आयेंगे बल्कि ये कि तुम्हारी औकात उनसे मदद लेने की नहीं रहेगी लिहाज़ा वो तुम्हारे किसी काम नहीं आयेंगे,मगर हम तो उनके ग़ुलाम हैं उनके उम्मती हैं उनके बन्दे हैं हमारा तो हर काम उन्ही से बनता है और उन्हीं से बनेगा यहां भी और वहां भी इन शा अल्लाह तआला लिहाज़ा वो हमारे काम आयेंगे आयेंगे आयेंगे,बाकी की तफसील “शफाअत” की पोस्ट में मुलाहज़ा करें

जारी रहेगा………..


जिन हज़रात को ZEBNEWS की और भी पोस्ट चाहिये हो वो नीचे दिये गये लिंक पर जाकर फेसबुक पर सर्च कर लें

http://www.facebook.com/zebnews.naushad

  • Phir teeno ek basti me pahunche jahan kisi ne bhi inki mehman nawazi nahin ki din bhar bhooke pyase poore gaanv me chakkar kaatte rahe,thak haarkar shaam ko basti se chalne lage aur jab gaanv ke baahr pahunche to hazrat khizr alaihissalam ne dekha ki ek makaan ki deewar giri jaati hai,aap fauran wahan pahunche aur poori mehnat se us girti huyi deewar ki marammat ki aur use seedhi kar di aur unse koi ujrat bhi nahin li,ispar hazrat moosa alaihissalam phir se bole ki jis basti waalo ne hamare liye kuchh bhi nahin kiya aapne unhi bagair ujrat liye unki deewar sahi kar di kam se kam ujrat to le lete,ab hazrat khizr alaihissalam bole ki tumhara uzr poora ho chuka hai ab tum hamare saath nahin rah sakte magar jaate jaate un teeno ke baatini haalat bhi sunte jao pahli wo kashti jo maine todi thi to wahan ka baadshah bahut hi zaalim hai sabhi kashti waalo ki nayi kashtiyan chheenkar apne khazane me jama kar leta hai,agar main us gareeb ki kashti na todta to uski kashti bhi usse chhin jaati aur uspar rizq ki killat aa jaati lihaza jo ehsaan usne humpar kiya tha ki bagair ujrat liye dariya ko paar karane ka ye usi ehsaan ka badla tha ki kashti to wo phir se durust kar hi lega,doosra wo nabalig bachcha jise maine qatl kiya uske maa-baap momin the aur usko bada hokar kaafir hona tha to aulaad ki muhabbat me uske maa-baap ka imaan khatre me pad jaata lihaza unka imaan bachane ke liye maine use qatl kiya aur chunki wo bachpan me khud bhi ab tak kaafir na tha lihaza uspar bhi ehsaan kiya,aur teesri ye deewar jo maine durust ki to ye ghar 2 yateem bachchon ka hai is deewar ke neeche inke baap ne jo ki nek aadmi tha inke liye kuchh rupya paisa chhoda hai agar ye deewar gir jaati to wo khazana khul jaata aur gaanv waale sab lootkar le jaate ab bachche jab bade ho jayenge aur apna ghar marammat karayenge to unka khazana unko mil jayega,phir hazrat moosa alaihissalam wahan se wapas laut aaye

📕 Paara 15,surah kahaf,aayat 60-82
📕 Tazkiratul ambiya,safah 331

ⓩ Waise to ye poora waqiya hi quran me darj hai magar iske aakhiri ki jumlo par kuchh tawajjoh dilana chahta hoon,Rub taala farmata hai

KANZUL IMAAN – Aur unka baap neik aadmi tha

📕 Paara 16,surah kahaf,aayat 82

TAFSEER – Un do bachcho ka naam adram aur suraim tha aur unke baap ka naam kaasikh tha aur ye shakhs neik parhezgar tha,riwayat me aata hai ki ALLAH taala apne bande ki neki ke sabab uski aulaad ko aur uski aulaad ki aulaad ko aur uske kunbe waalo ko aur uske muhalle waalo ko apni hifazat me rakhta hai

📕 Khazayenul irfan,safah 361
📕 Ruhul bayan,paara 16,safah 477

ⓩ Ek taraf to quran aur hadees me ye likha hai ki baap ki nekiyan aulaad ke kaam aati hain magar wahin doosri taraf kuchh logon ka huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ke baare me ye kahna hai ki “huzoor to apni beti ke bhi kaam nahin aa sakte to wo apne ummatiyon ko kis tarah bachayenge maaz ALLAH” to un kamzarfon se sirf itna kahna chahunga ki ye baat tum apne aur apne baap daada ke liye kah sakte ho ki mere aaqa sallallaho taala alaihi wasallam tumhari aur tumhare baap daada ke kaam nahin aayenge,aur kaam nahin aayenge se muraad ye nahin ki wo kaam nahin ayenge balki ye ki tumhari auqaat unse madad lene ki nahin rahegi lihaza wo tumhare kisi kaam nahin aayenge,magar hum to unke ghulam hain unke ummati hain unke bande hain hamara to har kaam unhi se banta hai aur unhi se banega yahan bhi aur wahan bhi in sha ALLAH taala lihaza wo hamare kaam aayenge aayenge aayenge,baaki ki tafseel “shafa’at” ki post me mulahza karen

To be continued……….

! no more msgs no more headache !
! only 1 msg in 24 hours !

Join ZEBNEWS to 9559893468
Jamaat Raza-e Mustafa,Allahabad

Leave a Reply

Your email address will not be published.