Categories
Ambiya e Kiram

हिस्सा-2 हज़रत यूनुस अलैहिस्सलाम

👉 Sms prepared by 👈
ZEBNEWS

Friday *** Ambiya ikram ******

हिन्दी/hinglish

हिस्सा-2 हज़रत यूनुस अलैहिस्सलाम

  • उधर हज़रत यूनुस अलैहिस्सलाम बस्ती से बाहर निकल चुके थे ये सोचकर कि अब उनकी क़ौम पर अज़ाब तो आ ही चुका है सो मेरा यहां क्या काम मगर वो सब तो माफ हो चुके थे,आप कश्ती में बैठकर सफर को निकले जब कश्ती बीच दरिया में पहुंची तो चारों तरफ से मौजों ने कश्ती को घेर लिया उस वक़्त उनके माअमूल के मुताबिक अगर कोई ग़ुलाम अपने मालिक से दूर जा रहा होता था तो ही ऐसा होता था और उससे बचने का तरीका ये था कि उसे दरिया में फेंक दिया जाए तो सब बच जाते थे,अब उस शख्स के बारे में जानने के लिए कि कौन यहां ऐसा है क़ुरआ निकाला गया और तीनों ही बार हज़रत यूनुस अलैहिस्सलाम का नाम आया तो आप खुद ही दरिया में कूद पड़े,मौला ने फौरन एक मछली को हुक्म दिया कि मेरे नबी को अपने पेट में जगह दे मगर ख्याल रहे कि वो तेरा लुक़्मा नहीं है इसलिए उन्हें तकलीफ ना हो चुनांचे एक मछली आपको निगल गई और आपको लिए इसी तरह इधर उधर समंदर में फिरती रही,आप मछली के पेट में 3 दिन से लेकर 40 दिन तक ठहरने के क़ौल हैं फिर वहीँ से आपने ये दुआ पढ़ी तो मौला ने आपकी दुआ सुन ली और आपको मछली के पेट से निजात मिली इस तरह कि वो आपको साहिल पर छोड़कर चली गयी वहां पर मौला ने एक कद्दू यानि लौकी का दरख्त उगाया जिसके साये में आप आराम फरमाते थे,कद्दू का पेड़ उगाने में हिकमत ये थी कि आप जब मछली के पेट से बाहर आये तो एक नव मौलूद बच्चे की तरह थे कि आपकी खाल बहुत नर्म थी जिस पर मक्खियां बैठती तो आपको परेशानी होती और आप काफी कमज़ोर भी हो चुके थे लिहाज़ा मौला ने कद्दू का पेड़ उगाया कि उस पर मक्खियां नहीं बैठती और उसके पत्ते बड़े बड़े होते हैं जो आपको ढककर रखते और एक बकरी रोज़ाना आकर आपको दूध पिला जाती थी इस तरह आप पहले जैसे सेहतमंद हो गए

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 199-201
📕 अलइतकान,जिल्द 2,सफह 178
📕 खाज़िन,जिल्द 4,सफह 258

ⓩ ये पूरा वाक़िया आपने पढ़ लिया अब कुछ वो बातें बताता हूं जिसमे लोगों ने खयानत से काम लिया,सबसे बड़ी बात तो ये कि जो आयत मैंने शुरू में पेश की उस आयत का तर्जुमा करने में बहुतों ने गलतियां की मसलन किसी ने हज़रत यूनुस अलैहिस्सलाम का मौला के बारे में क़ौल युं लिखा कि हम उन पर काबू ना पा सकेंगे या उस पर गिरफ्त ना कर सकेंगे या हम उसे पकड़ ना सकेंगे मआज़ अल्लाह ये सारे तर्जुमे गलत और सरासर बातिल हैं,ये मुमकिन ही नहीं एक नबी खुदा के बारे में ऐसा अक़ीदा रखे कि उसका खुदा उसे पकड़ नहीं सकता जबकि एक जाहिल से जाहिल मुसलमान भी ये खूब अच्छी तरह जानता है कि उसका खुदा उसे कहीं भी गिरफ्त में ले सकता है,मगर कुछ लोगों ने तो इस आयत के तर्जुमे से खुदा को भी मआज़ अल्लाह आजिज़ क़रार दे दिया हालांकि ये खुला हुआ कुफ्र है

एक मर्तबा हज़रते अमीर मुआविया रज़ियल्लाहु तआला अन्हु ने हज़रते इब्ने अब्बास रज़ियल्लाहु तआला अन्हु से मुलाक़ात की और कहा कि कल सारी रात मैं क़ुर्आन में गर्क रहा मगर मुझे खलासी ना मिली आप बतायें क्या अल्लाह का नबी ये गुमान कर सकता है कि अल्लाह उसे पकड़ नहीं सकेगा इस पर हज़रते इब्ने अब्बास रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि ये लफ्ज़ क़द्र से लिया हुआ है कुदरत से नहीं इसका मायने तंगी ना करना है क़ुदरत ना रखना नहीं जैसा कि क़ुर्आन में कई जगह आया है कि अल्लाह जिसके लिए चाहे रिज़्क़ कुशादा करता है और जिस पर चाहे तंग करता है तो यहां भी वही मायने मुराद है

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 199

ⓩ एक तर्जुमा ये किया गया जिसमे हज़रत यूनुस अलैहिस्सलाम को ज़ालिम कहा गया मआज़ अल्लाह याद रखें कि महबूब और मुहिब यानि रब और उसके महबूब बन्दे आपस में जो बात करे और जैसी बात करें किसी को कोई हक़ नहीं पहुंचता कि वो उस बात को दलील बनाये मसलन आलाहज़रत फरमाते हैं कि

जारी रहेगा………..


ZEBNEWS Charitable Trust

Sadqaye jaariya@30rs. p/m

  • Udhar hazrat yunus alaihissalam basti se baahar nikal chuke the ye sochkar ki ab unki qaum par azaab to aahi chuka hai so mera yahan kya kaam magar wo sab to maaf ho chukr the,aap kashti me baithkar safar ko nikle jab kashti beech dariya me aayi to charon taraf se maujo ne kashti ko gher liya us waqt unke maamool ke mutabiq agar koi ghulam apne maalik se door ja raha hota tha to hi aisa hota tha aur usse bachne ka tariqa ye tha ki use dariya me phenk diya jaaye to sab bach jaate the,ab us shakhs ke baare me jaanne ke liye ki kaun yahan aisa hai qur’aa nikaala gaya aur teeno hi baar hazrat yunus alaihissalam ka naam aaya to aap khud hi dariya me kood pade,maula ne fauran ek machhli ko hukm diya ki mere nabi ko apne peit me jagah de magar khayal rahe ki wo tera luqma nahin hai isliye unhein taqleef na ho chunanche ek machhli aapko nigal gayi aur aapkjo liye isi tarah idhar udhar samandar me phirti rahi,aap machhli ke peit me 3 din se lekar 40 din tak thaharne ke qaul hain phir wahin se aapne ye dua padhi to maula ne aapki dua sun li aur aapko machhli ke peit se nijaat mili is tarah ki wo aapko saahil par chhodkar chali gayi wahan par maula ne ek kaddu yaani lauki ka darakht ugaya jiske saaye me aap aaraam farmate the,kaddu ka peid ugaane me hikmat ye thi ki aap jab machhli ke peit se baahar aaye to ek nau maulood bachche ki tarah the ki aapki khaal bahut narm thi jispar makkhiyan baithti to aapko pareshani hoti aur aap kaafi kamzor bhi ho chuke the lihaza maula ne kaddu ka peid ugaaya ki uspar makkhiyan nahin baithti uske patte bade bade hote hain jo aapko dhakkar rakhte aur ek bakri rozana aakar aapko doodh pila jaati thi is tarah aap pahle jaise sehatmand ho gaye

📕 Tazkiratul ambiya,safah 199-201
📕 Alitqaan,jild 2,safah 178
📕 Khaazin,jild 4,safah 258

ⓩ Ye poora waqiya aapne padh liya ab kuchh wo baatein batata hoon jisme logon ne khyanat se kaam liya,sabse badi baat to ye ki jo aayat maine shuru me pesh ki us aayat ka tarjuma karne me bahuto ne galtiyan ki maslan kisi ne hazrat yunus alaihissalam ka maula ke baare me qaul yun likha ki hum unpar qaabu na pa sakenge ya uspar giraft na kar sakenge ya hum use pakad na sakenge maaz ALLAH ye saare tarjume galat aur sarasar baatil hain,ye mumkin hi nahin ek nabi khuda ke baare me aisa aqeeda rakhe ki uska khuda use pakad nahin sakta jabki ek jaahil se jaahil musalman bhi ye khoob achchhi tarah jaanta hai ki uska khuda use kahin bhi giraft me le sakta hai,magar kuchh logon ne to is aayat ke tarjume se khuda ko bhi maaz ALLAH aajiz qaraar de diya halaanki ye khula hua kufr hai

Ek martaba hazrate ameer muaviya raziyallahu taala anhu hazrate ibne abbas raziyallahu taala anhu se mulaakat ki aur kaha ki kal raat main quran me gark raha magar mujhe khalaasi na mili aap batayein kya ALLAH ka nabi ye gumaan kar sakta hai ki ALLAH use pakad nahin sakega ispar hazrate ibne abbas raziyallahu taala anhu farmate hain ki ye lafz qadr se liya hua hai qudrat se nahin iska maane tangi na karna hai qudrat na rakhna nahin jaisa ki quran me kayi jagah aaya hai ki ALLAH jiske liye chahe rizq kushaada karta hai aur jispar chahe tang karta hai to yahan bhi wahi maane muraad hai

📕 Tazkiratul ambiya,safah 199

ⓩ Ek tarjuma ye kiya gaya jisme hazrat yunus alaihissalam ko zaalim kaha gaya maaz ALLAH,yaad rakhen ki mahboob aur muhib yaani Rub aur uske mahboob bande aapas me jo baat kare aur jaisi baat karen kisi ko koi haq nahin pahunchta ki wo us baat ko daleel banaye maslan Aalahazrat farmate hain ki

To be continued……….

! no more msgs no more headache !
! only 1 msg in 24 hours !

Join ZEBNEWS to 9559893468
Jamaat Raza-e Mustafa,Allahabad

Leave a Reply

Your email address will not be published.