Categories
Ambiya e Kiram

हिस्सा-2 हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम

👉 Sms prepared by 👈
ZEBNEWS

Friday *** Ambiya ikram ******

हिन्दी/hinglish
हिस्सा-2 हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम

ⓩ अब हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम का दूसरा वाक़िया सुनिये इसका भी ज़िक्र क़ुर्आन में मौजूद है

  • हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि एक मर्तबा बनी इस्राईल ने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से पूछा कि इस वक़्त रूए ज़मीन पर सबसे बड़ा आलिम कौन है तो आपने फरमाया कि मैं हूं,आपकी इस बात में थोड़ा सा ग़ुरूर का पहलु था लिहाज़ा रब ने इताब फरमाते हुए उनसे कहा कि ऐ मूसा तुमसे बड़ा आलिम भी इस ज़मीन पर मौजूद है यानि कि हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम,उनका ज़िक्र मौला तआला क़ुर्आन मुक़द्दस में कुछ युं इरशाद फरमाता है

कंज़ुल ईमान – तो हमारे बन्दों में से एक बन्दा पाया जिसे हमने अपने पास से रहमत दी और उसे अपना इल्मे लदुन्नी अता किया

  • अब जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने सुना तो अपने कहे पर नादिम हुए और उस शख्स से मिलने की इल्तिजा की,रब ने उन्हें अपने साथ एक भुनी हुई मछली लेकर सफर करने को कहा और फरमाया कि जहां पर दो समन्दर यानि बहरे फारस और बहरे रूम मिलेंगे यानि मजमउल बहरैन तो वहीं पर तुम्हारी ये मछली पानी में गुम हो जायेगी और तुम उनको पा सकोगे,हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम अपने होने वाले वली-अहद हज़रत यूशअ बिन नून अलैहिस्सलाम के साथ एक मछली को लेकर दो समन्दरों के मिलने की जगह को ढूंढ़ने निकल पड़े,दोनों हज़रात ने पानी का सफर शुरू किया एक जगह हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को नींद आ गयी और वो भुनी हुई मछली जिंदा होकर पानी में कूद गयी और एक कोह सा रास्ता बनाते हुए निकल गयी हज़रत यूशअ अलैहिस्सलाम ने देखा तो मगर उन्हें हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को बताना याद ना रहा और सफर जारी रखा,कुछ देर बाद जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की आंख खुली तो आपने खाने के लिए वही मछली मांगी तब हज़रत यूशअ अलैहिस्सलाम को ख्याल आया और उन्होंने सारी बात हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम बताई,तब दोनों हज़रात वापस लौटे और वहीं पहुंचे तो देखा कि पानी ठहरा हुआ है और उसमे मेहराब की तरह रास्ता बना हुआ है दोनों उसी रास्ते पर चल दिए कुछ दूर आगे बढे तो एक चट्टान के करीब एक शख्स चादर ओढ़े लेटा हुआ था यही हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम थे,दोनों हज़रात उनके पास पहुंचे सलाम किया जवाब मिला तब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उन्हें अपने आने का मक़सद बताया कि उन्हें भी कुछ इल्म हासिल करना है लिहाज़ा उन्हें अपने साथ रखें,मगर हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम ने मना किया कि तुम हमारे साथ हरगिज़ ना रह सकोगे क्योंकि हमारे काम पर तुमसे सब्र ना हो सकेगा इस पर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि बेशक मैं सब्र करूंगा तो हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम ने इस शर्त पर कि आप उनसे कोई सवाल नहीं करेंगे उन्हें अपने साथ रहने की इजाज़त दे दी

अब वो तीनो एक साहिल पर पहुंचे बहुत कोशिश की कि कोई नाव वाला उन्हें दरिया के उस पार छोड़ दे मगर उनके पास दरहमो दीनार ना थे लिहाज़ा कीमत ना मिलने की वजह से किसी ने भी उन्हें उस पार नहीं पहुंचाया,आखिरकार एक नेक कश्ती वाले ने बिना कीमत के आप लोगों को उस पार छोड़ने के लिए कश्ती में बिठा लिया मगर जब कश्ती बीच रास्ते में पहुंची तो हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम ने उसकी कश्ती तोड़ डाली और उसमे छेद कर दिया,ये देखकर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से सब्र ना हुआ और आपने उनसे कह दिया कि एक तो कोई हमें इस पर छोड़ने को तैयार ना था एक अल्लाह के बन्दे ने हम पर एहसान किया और आपने उसकी कश्ती तोड़ दी,इस पर हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम बोले कि मैंने पहले ही कहा था कि तुम हमारे साथ नहीं रह सकोगे फौरन हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने माफी मांगी और आगे से ऐसा ना करने का वादा किया,फिर तीनो हज़रात आगे बढ़े

एक जगह कुछ लड़के खेल रहे थे उसमे एक लड़का जो सब में हसीन था जिसका नाम जीसूर या ज़नबतूर था हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम ने उसको क़त्ल कर दिया,अपने सामने एक मज़लूम का क़त्ल होते देख हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से ज़ब्त ना हो सका और आप गुस्से में फिर बोल पड़े कि आपने एक जान को क़त्ल कर डाला,हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम ने उन्हें उनकी बात याद दिलाई तो इस पर उन्होंने माज़रत चाही कि एक और मौक़ा दे दीजिये अगर अबकी बार मैंने कुछ कहा तो फिर मुझे अपने से जुदा कर दीजियेगा,हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम ने उनकी बात मान ली और सभी फिर आगे बढ़ चले

📕 पारा 15,सूरह कहफ,आयत 60-82
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 331

जारी रहेगा………..


ZEBNEWS Charitable Trust

Sadqaye jaariya@30rs. p/m

ⓩ Ab hazrat khizr alaihissalam ka doosra waqiya suniye iska bhi zikr quran me maujood hai

  • Huzoor sallallaho taala alaihi wasallam irshaad farmate hain ki ek martaba bani israyil ne hazrat moosa alaihissalam se poochha ki is waqt rooye zameen par sabse bada aalim kaun hai to aapne farmaya ki main hoon aapki is baat me thoda sa guroor ka pahlu tha lihaza rub ne itaab farmate hue unse kaha ki ai moosa tumse bada aalim bhi is zameen par maujood hai yaani ki hazrat khizr alaihissalam,unka zikr maula taala quran muqaddas me kuchh yun irshaad farmata hai

KANZUL IMAAN – To hamare bando me se ek banda paaya jise humse apne paas se rahmat di aur use apna ilme ladunni ata kiya

  • Ab jab hazrat moosa alaihissalam ne suna to apne kahe par naadim hue aur us shakhs se milne ki iltija ki,RUB ne unhein apne saath ek bhuni huyi machhli lekar safar karne ko kaha aur farmaya ki jahan par do samandar yaani bahre faaras aur bahre room milenge yaani majmaul bahrain to wahin par tumhari ye machhli paani me gum ho jayegi aur tum unko pa sakoge,hazrat moosa alaihissalam apne hone waale wali ahad hazrat yoosha bin noon alaihissalam ke saath ek machhli ko lekar do samandaro ke milne ki jagah ko dhoondne nikal pade,dono hazraat ne paani ka safar shuru kiya ek jagah hazrat moosa alaihissalam ko neend aa gayi aur wo bhuni huyi machhli zinda hokar paani me kood gayi aur ek koh sa raasta banate hue nikal gayi hazrat yoosha alaihissalam ne dekha to magar unhein hazrat moosa alaihissalam ko batana yaad na raha aur safar jaari rakha,kuchh deir baad jab hazrat moosa alaihissalam ki aankh khuli to aapne khaane ke liye wahi machhli maangi tab hazrat yoosha alaihissalam ko khayal aaya aur unhone saari baat hazrat moosa alaihissalam batayi,tab dono hazraat waapas laute aur wahin pahunche to dekha ki paani thahra hua hai aur usme mehraab ki tarah raasta bana hua hai dono usi raaste par chal diye kucch door aage badhe to ek chattan ke qareeb ek shakhs chaadar odhe leta hua tha yahi hazrat khizr alaihissalam the,dono hazraat unke paas pahunche salaam kiya jawab mila tab hazrat moosa alaihissalam ne unhein apne aane ka maqsad bataya ki unhein bhi kuchh ilm haasil karna hai lihaza unhein apne saath rakhen,magar hazrat khizr alaihissalam ne mana kiya ki tum hamare saath hargiz na rah sakoge kyunki hamare kaam par tumse sabr na ho sakega ispar hazrat moosa alaihissalam farmate hain ki beshak main sabr karunga to hazrat khizr alaihissalam ne is shart par ki aap unse koi sawal nahin karenge unhein apne saath rahne ki ijazat de di

Ab wo teeno ek saahil par pahunche bahut koshish ki ki koi naav waala unhein dariya ke us paar chhod de magar unke paas darhamo deenar na the lihaza keemat na milne ki wajah se kisi ne bhi unhein us paar nahin pahunchaya,aakhir kaar ek ek neik kashti waale ne bina keemat ke aap logon ko us paar chhodne ke liye kashti me bitha liya magar jab kashti beech raaste me pahunchi hazrat khizr alaihissalam ne uski kashti tod daali aur usme chhed kar diya,ye dekhkar hazrat moosa alaihissalam se sabr na hua aur aapne unse kah diya ki ek to koi hamein is paar chhodne ko taiyar na tha ek ALLAH ke bande ne hum par ehsaan kiya aur aapne uski kashti tod di,is par hazrat khizr alaihissalam bole ki maine pahle hi kaha tha ki tum hamare saath nahin rah sakoge fauran hazrat moosa alaihissalam ne maafi maangi aur aage se aisa na karne ka waada kiya,phir teeno hazraat aage badhe

Ek jagah kuchh ladke khel rahe the usme ek ladka jo sab me haseen tha jiska naam jeesoor ya zanbatoor tha hazrat khizr alaihissalam ne usko qatl kar diya,apne saamne ek mazloom ka qatl hote dekh hazrat moosa alaihissalam se zabt na ho saka aur aap gusse me phir bol pade ki aapne jaan ko qatl kar daala,hazrat khizr alaihissalam une unhein unki baat yaad dilayi to is par unhone maazrat chahi ki ek aur mauqa de dijiye ki agar abki baar maine kuchh kaha to phir mujhe apne se juda kar dijiyega,hazrat khizr alaihissalam ne unki baat maan li aur sabhi phir aage badh chale

📕 Paara 15,surah kahaf,aayat 60-82
📕 Tazkiratul ambiya,safah 331

To be continued……….

! no more msgs no more headache !
! only 1 msg in 24 hours !

Join ZEBNEWS to 9559893468
Jamaat Raza-e Mustafa,Allahabad

Leave a Reply

Your email address will not be published.