Categories
Ambiya e Kiram

हिस्सा-2 हज़रत आदम अलैहिस्सलाम

👉 Sms prepared by 👈
ZEBNEWS

Friday *** Ambiya ikram ******

हिन्दी/hinglish हिस्सा-2
हज़रत आदम अलैहिस्सलाम

  • इबरानी ज़बान में मिटटी को आदम कहते हैं सो इस लिए आपका नाम आदम रखा गया

📕 अलइतकान,जिल्द 2,सफह 175

  • हदीसे पाक में आता है कि ज़मीन की कई जगह मसलन मक्का मुअज़्ज़मा,बैतुल मुक़द्दस,हिंदुस्तान,मशरिक,मग़रिब और भी दीगर जगह की ली गयी मिटटी से आपका मुक़द्दस पुतला तैयार हुआ,अगर ऐसा ना होता तो आपकी सारी औलाद एक ही शक्लो सुरत की होती

📕 माअरेजुन नुबूवत,जिल्द 1,सफह 25
📕 मलफूज़ात निज़ामुद्दीन औलिया,सफह 145

  • कुछ रिवायतों में आता है कि आपकी मिटटी में 60 रंग शामिल थे जो कि आपकी औलाद में पाये जाते हैं

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 36

  • आपकी खाक़ पर 40 दिनों तक बारिश होती रही 39 दिन ग़म का पानी बरसा और 1 दिन खुशी का,इसी लिए इंसान को ग़म ज़्यादा रहता है और खुशी कम

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 285

  • रायज यही है कि आपके पुतले में रूह 120 साल के बाद फूंकी गई

📕 जलालैन,6,सफह 483

  • जब रूह को अंदर जाने के लिए हुक्म मिला तो अंदर की तारीकी को देखकर ठहर गयी तब आपकी पेशानी में नूरे मुहम्मदी को अमानत के तौर पर रखा गया तब रूह अंदर दाखिल हुई,जब सर में पहुंची तो आपको छींक आई और आपने अलहम्दो लिल्लाह कहा जिसका जवाब मौला ने दिया अभी रूह कमर तक ही पहुंची थी कि आपने उठना चाहा मगर गिर गए कि रूह जिस्म के निचले हिस्से में नहीं थी तो मौला फरमाता है कि “इंसान जल्द बाज़ पैदा किया गया” फिर आपसे रब ने फरिश्तों को सलाम करने को कहा जिस पर आपने उन्हें अस्सलामो अलैकुम कहा तो फरिश्तों ने जवाब दिया व अलैकुम अस्सलाम,ये वाक़िया जुमा के दिन आज जहां खानये काबा है वहां वुजूद में आया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 37

  • फिर मौला ने फरिश्तों को हुक्म दिया कि आदम को सजदा करें तो सबसे पहले जिब्रीले अमीं ने सर झुकाया फिर बाकी फरिश्तों ने,सज्दा करने में सबक़त की वजह से हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम को सबसे बड़ा दर्जा अता किया गया

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 309

याद रहे कि ये सज्दा सज्दये ताज़ीमी था जैसा कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम के भाइयों ने आपको सज्दा ताज़ीमी किया,सज्दये इबादत हर नबी की शरीयत में सिवाये खुदा के किसी को भी जायज नहीं रहा और हुज़ूर की शरीयत में सज्दये ताज़ीमी भी हराम हुआ

  • मौला ने हज़रत आदम अलैहिस्सलाम को 7 लाख ज़बानों का इल्म दिया था

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 291

  • हज़रत आदम अलैहिस्सलाम को फरिश्तों ने कितना सजदा किया और मुद्दत कितनी रही इसमें कई क़ौल हैं

! ये सज्दा रोज़े जुमा ज़वाल से अस्र तक रहा
! 100 बरस तक रहा
! 500 बरस तक रहा

दरअसल ये क़ौल जमा जो सकते हैं इस तरह कि जब पहली बार फरिश्तों ने सजदा किया तो इसकी मुद्दत थोड़ी ही देर थी मगर इब्लीस ने इनकार किया और खड़ा रहा जब फरिश्तों ने सर उठाया और देखा कि इब्लीस मुंह फेरकर खड़ा है तो फरिश्ते शुक्र के तौर पर फिर सज्दे में गिर गये

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 309
📕 तफसीरे सावी,जिल्द 1,सफह 49
📕 तफसीरे खज़ाएनुल इर्फान,पारा 1,रुकू 4
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 43

  • आपका और हज़रते हव्वा का क़द मुबारक 60 हाथ था

📕 अलबिदाया वननिहाया,जिल्द 1,सफह 88
📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 309

  • हज़रते हौवा रज़ियल्लाहु तआला अंहा की पैदाइश में इख़्तिलाफ है बाज़ कहते हैं कि ज़मीन पर हुई और कुछ रिवायतों में जन्नत में पैदाइश का ज़िक्र आया है मगर आप एक हफ्ते बाद दूसरे जुमा को हज़रत आदम अलैहिस्सलाम की बायीं पसली से पैदा हुईं ये मुत्तफिक़ है

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 318

  • जब आप दोनों को जन्नत में रखा गया तो एक दरख़्त के पास जाने को मौला ने मना फरमाया था वो दरख़्त गेंहू का था यही राजेह है,ये गेंहू बैल के गुर्दे के बराबर शहद से ज़्यादा मीठा और मक्खन से ज़्यादा नर्म था,फिर शैतान ने आपको फुसलाया कि क्या मैं तुम्हे वो दरख़्त न दिखाऊं जिसको खाने से तुम हमेशा जन्नत में ही रहोगे और कसम खा कर कहा कि मैं तुम्हारा खैर ख्वाह हूं और उन्हें शजरे ममनुअ से खिला दिया,जिसकी बिना पर आप जन्नत से बाहर तशरीफ लाये और यही क़ौल क़ुरान का है मौला फरमाता है कि

और बेशक हमने उससे दरख़्त के करीब ना जाने का अहद लिया तो वो भूल गए और हमने उनका कोई क़सद ना पाया

फुक़्हा फरमाते हैं कि अम्बिया इकराम मासूम होते हैं उनसे किसी तरह का गुनाह हुआ मुहाल है जो उन्हें गुनाहगार जाने काफिरो मुर्तद है,हां इज्तिहादी खता होना और बात है और मुज्तहिद की खता भी नेकी लेकर आती है और आदम अलैहिस्सलाम की ये खता भी खताये इज्तिहादी थी जिस पर कोई गिरफ्त नहीं नीज़ फरमाते हैं कि अंबिया की खतायें भी सिद्दीक़ीन की नेकियों से अफज़ल है

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 320
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 47
📕 बहारे शरीयत,हिस्सा 1,सफह 23

  • हुज़ूर ने फरमाया कि जो दाना हज़रत आदम अलैहिस्सलाम ने खाया था वो आपके पेट में 30 दिनों तक रहा इसलिए मेरी उम्मत को 30 रोज़े फर्ज़ किये गए

📕 मलफूज़ात निज़ामुद्दीन औलिया,सफह 53

  • आप जन्नत में आधे दिन यानि दुनियावी 500 साल रहे

📕 ज़रकानी,जिल्द 1,सफह 55

  • हज़रत आदम अलैहिस्सलाम जन्नत से सरनदीप पहाड़ पर उतारे गए जो कि अब श्रीलंका में है उस वक़्त हिंदुस्तान ही था और हज़रते हव्वा जद्दा में

📕 तफसीरे सावी,जिल्द 1,सफह 23

जारी रहेगा………..


Hazrat Aadam Alaihissalam

  • Ibraani zabaan me mitti ko aadam kahte hain so is liye aapka naam aadam rakha gaya

📕 Alitqaan,jild 2,safah 175

  • Hadise paak me aata hai ki zameen ki kayi jagah maslan makka muazzama,baitul muqaddas,hindustan,mashrik,maghrib aur bhi deegar jagah ki li gayi mitti se aapka muqaddas putla taiyar hua,agar aisa na hota to aapki saari aulaad ek hi shaklo surat ki hoti

📕 Maarejun nubuwat,jild 1,safah 25
📕 Malfuzaat nizamuddin auliya,safah 145

  • Kuchh riwayton me aata hai ki aapki mitti me 60 rang shaamil the jo ki aapki aulaad me paaye jaate hain

📕 Tazkiratul ambiya,safah 36

  • Aapki khaak par 40 dino tak baarish hoti rahi 39 din gham ka paani barsa aur 1 din khushi ka,isi liye insaan ko gham zyada rahta hai aur khushi kam

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 285

  • Rayaj yahi ki aapke putle me rooh 120 saal ke baad foonki gayi

📕 Jalalain,6,safah 483

  • Jab rooh ko andar jaane ke liye hukm mila to andar ki taariki ko dekhkar thahar gayi tab aapki peshani me noore MUHAMMADI ko amanat ke taur par rakha gaya tab rooh andar daakhil huyi,jab sar me pahunchi to aapko chheenk aayi aur aapne ALHAMDO LILLAH kaha jiska jawab maula ne diya abhi rooh kamar tak hi pahunchi thi ki aapne uthna chaha magar gir gaye ki rooh jism ke nichle hisse me nahi thi to maula farmata hai ki “insaan jald baaz paida kiya gaya” fir aapse rub ne farishton ko salaam karne ko kaha jispar aapne unhein ASSALAMO ALAIKUM kaha to farishton ne jawab diya WA ALAIKUM ASSALAM,ye waqiya juma ke din aaj jahan khaanye kaaba hai wahan wujood me aaya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 37

  • Phir maula ne farishton ko hukm diya ki aadam ko sajda karen to sabse pahle jibreele ameen ne sar jhukaya fir baaki farishton ne,sajda karne me sabqat ki wajah se hazrat jibreel alaihissalam ko sabse bada darja ata kiya gaya

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 309

Yaad rahe ki ye sajda sajdaye taazimi tha jaisa ki hazrat yusuf alaihissalam ke bhaiyon ne aapko sajda taazimi kiya,sajdaye ibadat har nabi ki shariyat me siwaye khuda ke kisi ko bhi jayaz nahin raha aur huzoor ki shariyat me sajdaye taazimi bhi haraam hua

  • Maula ne hazrat aadam alaihissalam ko 7 laakh zabanon ka ilm diya tha

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 291

  • Hazrat aadam alaihissalam ko farishton ne kitna sajda kiya aur muddat kitni rahi isme kayi qaul hain

! ye sajda roze juma zawaal se asr tak raha
! 100 baras tak raha
! 500 baras tak raha

Darasal ye qaul jama jo sakte hain is tarah ki jab pahli baar farishton ne sajda kiya to iski muddat thodi hi deir thi magar iblees ne inkaar kiya aur khada raha jab farishton ne sar uthaya aur dekha ki iblees munh ferkar khada hai to farishte shukr ke taur par phir sajde me gir gaye

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 309
📕 Tafseere saavi,jild 1,safah 49
📕 Tafseere khazyenul irfan,para 1,ruku 4
📕 Tazkiratul ambiya,safah 43

  • Aapka aur hazrate hawwa ka qad mubarak 60 haath tha

📕 Albidaya wannihaya,jild 1,safah 88
📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 309

  • Hazrate hawwa raziyallahu taala anha ki paidayish me ikhtilaf hai baaz kahte hain ki zameen par huyi aur kuchh riwayton me jaanat me paidayish ka zikr aaya hai magar aap ek hafte baad doosre juma ko hazrat aadam alaihissalam ki baayi pasli se paida huyin ye muttafiq hai

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 318

  • Jab aap dono ko jannat me rakha gaya to ek darakht ke paas jaane ko maula ne mana farmaya tha wo darakht gehu ka tha yahi raajeh hai,ye gehu bail ke gurde ke barabar shahad se zyada meetha aur makkhan se zyada narm tha,fir shaitan ne aapko fuslaya ki kya main tumhe wo darakht na dikhaoon jisko khaane se tum hamesha jannat me hi rahoge aur kasam kha kar kaha ki main tumhara khair khwah hoon aur unhein shajre mamnu se khila diya,jiski bina par aap jannat se baahar tashreef laaye aur yahi qaul quran ka hai ki maula farmata hai ki

Aur beshak humne usse darakht ke qareeb na jaane ka ahad liya to wo bhool gaye aur humne unka koi qasad na paaya

Fuqha farmate hain ki ambiya ikraam masoom hote hain unse kisi tarah ka gunaah hona muhaal hai jo unhein gunahgaar jaane kaafiro murtad hai,haan ijtihaadi khata hona aur baat hai aur mujtahid ki khata bhi neki lekar aati hai aur aadam alaihissalam ki ye khata bhi khataye ijtihaadi thi jispar koi giraft nahin isi liye farmate hain ki ambiya ki khatayen bhi siddiqeen ki nekiyon se afzal hai

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 320
📕 Tazkiratul ambiya,safah 47
📕 Bahare shariyat,hissa 1,safah 23

  • Huzoor ne farmaya ki jo daana hazrat aadam alaihissalam ne khaya tha wo aapke peit me 30 dino tak raha isliye meri ummat ko 30 roze farz kiye gaye

📕 Malfuzaat nizamuddin auliya,safah 53

  • Aap jannat me aadhe din yaani duniyavi 500 saal rahe

📕 Zarqaani,jild 1,safah 55

  • Hazrat aadam alaihissalam jannat se sarandeep pahaad par utaare gaye jo ki ab srilanka me hai us waqt hindustan hi tha aur hazrate hawwa jadda me

📕 Tafseere saavi,jild 1,safah 23

To be continued……….

! no more msgs no more headache !
! only 1 msg in 24 hours !

Join ZEBNEWS to 9335732950
All india jamaat raza-e mustafa
Branch Allahabad

Leave a Reply

Your email address will not be published.