Categories
Ambiya e Kiram

हिस्सा-1 हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ
27/08/1441

हिन्दी/hinglish http://zebnews.in

हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम

  • जब आप पैदा हुए तो आपके वालिद हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम की उम्र 40 बरस थी,आपकी वालिदा का नाम राहील है

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 358

  • हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम और हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम के बीच 1005 साल का फासला है

📕 तफसीरे सावी,जिल्द 2,सफह 27

  • हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि करीम बिन करीम बिन करीम बिन करीम यूसुफ बिन याक़ूब बिन इस्हाक़ बिन इब्राहीम अलैहिस्सलातो वत्तस्लीम हैं,हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम ने ख्वाब देखा कि 11 सितारे और चांद सूरज उनको सज्दा कर रहे हैं 11 सितारों से मुराद आपके 11 भाई और चांद सूरज से मुराद आपके वालिदैन हैं,यहां सज्दे से मुराद सज्दये ताज़ीमी है जो कि पहले की उम्मतों में जायज़ था मगर हमारी शरीयत में हराम है,जिन 11 सितारों को आपने ख्वाब में देखा उनके नाम ये हैं जिरबान,तारिक,ज़ियाल,कालबिस,उमूदान,फीलक़,फज़अ,विसाब,ज़ुलकफतैन,ज़रूज,मिस्बाह जब आपने ये ख्वाब अपने वालिद को बताया तो उन्होने मना किया के ख्वाब हरगिज़ अपने भाईयों को ना बतायें कि वो हसद की आग में और जल जायेंगे,ये ख्वाब आपने 12 साल की उम्र में देखा

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 122

  • ये ख्वाब आपने शबे क़द्र में देखा जो कि शबे जुमा भी थी

📕 खज़ाएनुल इरफान,पारा 12,रुकू 11

  • इस ख्वाब की ताबीर 80 साल के बाद पूरी हुई (तफसील बाद में आयेगी)

📕 जलालैन,हाशिया 13,सफह 198

ⓩ ख्वाब में सूरज का देखना कभी बादशाहत दौलत या खूबसूरत औरत की ताबीर होती है तो कभी फसाद की भी ताबीर ली जाती है ये सब ख्वाब देखने वाले के हालात वक़्त ज़माने के हिसाब से तय होते हैं,बहरहाल ये एक मुश्किल काम है कि किसी के ख्वाब की सटीक ताबीर बताई जाए बस इतना याद रखें कि जब भी कोई ऐसा ख्वाब देखें जो दिल को भला मालूम हो या सराहतन भी अच्छा ही हो तो ये खुदा की तरफ से इलक़ा होता है तो उसकी हम्दो सना करे अगर किसी से बयान करना चाहे तो कर सकता है,और जब कोई ऐसा ख्वाब देखें जिससे दिल में डर पैदा हो या ग़मगीन हो जायें तो ये शैतान की तरफ से है जब आंख खुले तो बाईं तरफ 3 मर्तबा थूकें और आऊज़ो बिल्लाहे मिनश शैतानिर रजीम व शर्रिर रोया पढ़ें और किसी से बयान ना करें हरगिज़ उसे कोई भी नुक्सान ना पहुंचेगा,सुबह उठकर सदक़ा करें कि सदक़ा हर मुश्किल को आसान करता है

  • मुहब्बत खुदा की तरफ से होती है और नफरत शैतान की तरफ से,और मुहब्बत दिल का काम है जिस पर इंसान क़ादिर नहीं इसी लिए हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम अपनी तमाम बीवियों में अदलो इन्साफ करने के बावजूद यूं दुआ फरमाते थे कि “ऐ मौला मैं जिसका मालिक हूं उस पर तो मैंने अमल कर दिया मगर जो चीज़ मेरे क़ुदरत से बाहर है उसके लिए मुझसे मुअख्ज़ा ना फरमा” यानि दिली मुहब्बत किसी से कम किसी से ज़्यादा हो सकती है इसमें इंसान का कोई कुसूर नहीं,लिहाज़ा एक ऐतराज़ जो कि हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम पर किया जाता है कि माज़ अल्लाह आप अपने तमाम बेटों से एक बराबर मुहब्बत नहीं करते थे उसका रद्द हो गया कि वो उनके इख्तियार में नहीं बल्कि खुदा के इख्तियार में था

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 123

जारी रहेगा………..


  • Jab aap paida hue to aapke waalid hazrat yaqoob alaihissalam ki umr 40 baras thi,aapki waalida ka naam raaheel tha

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 358

  • Hazrat yusuf alaihissalam aur hazrat ibraheem alaihissalam ke beech 1005 saal ka faasla hai

📕 Tafseere saavi,jild 2,safah 27

  • Huzoor sallallaho taala alaihi wasallam irshad farmate hain ki kareem bin kareem bin kareem bin kareem yusuf bin yaqoob bin ishaaq bin ibraheem alaihissalato wattasleem hain,hazrat yusuf alaihissalam ne khwab dekha ki 11 sitare aur chaand suraj unko sajda kar rahe hain 11 sitaro se muraad aapke 11 bhai aur chaand suraj se muraad aapke waalidain hain,yahan sajde se muraad sajdaye taazeemi hai jo ki pahle ki ummato me jayaz tha magar hamari shariyat me ye bhi haraam hai,jin 11 sitaron ko aapne khwab me dekha unke naam ye hain jirbaan,taariq,ziyaal,kaalbis,umudaan,feelaq,faza,visaab,zulkaftain,zarooj,misbah jab aapne ye khwab apne waalid ko bataya to wo samajh gaye ki ye maqame nubuwat par faayiz honge lihaza unko mana kiya ke khwab hargiz apne bhaiyon ko na batayein ki wo hasad ki aag me aur jal jayenge,ye khwab aapne 12 saal ki umr me dekha

📕 Tazkiratul ambiya,safah 122

  • Ye khwab aapne shabe qadr me dekha jo ki shabe juma bhi thi

📕 Khazayenul irfan,paara 12,ruku 11

  • Is khwab ki taabeer 80 saal ke baad poori huyi (tafseel aage aayegi)

📕 Jalalain,haashia 13,safah 198

ⓩ Khwab me suraj ka dekhna kabhi baadshahat daulat ya khoobsurat aurat ki taabeer hoti hai to kabhi fasaad ki bhi taabeer li jaati hai ye sab khwab dekhne waale ke haalaat waqt zamane ke hisaab se tai hote hain,baharhaal ye ek mushkil kaam hai ki kisi ke khwab ki sateek taabeer batayi jaaye bas itna yaad rakhen ki jab bhi koi aisa khwab dekhen jo dil ko bhala maloom ho sarahatan bhi achchha hi ho to ye khuda ki taraf se ilqa hota hai to uski hamdo sana kare agar kisi se bayaan karna chahe to kar sakta hai,aur jab koi aisa khwab dekhen jisse dil me darr paida ho ya gamgeen ho jaayein to ye shaitan ki taraf se hota hai jab aankh khule to baayin taraf 3 martaba thooken aur AAOOZO BILLAHE MINASH SHAITANIR RAJEEM WA SHARRIR ROYA padhen aur kisi se bayaan na karein hargiz use koi bhi nuksaan na pahunchega,subah uthkar sadqa karein ki sadqa har mushkil ko aasaan karta hai

*Muhabbat khuda kitaraf se hoti hai aur nafrat shaitan ki taraf se,aur muhabbat dil ka kaam hai jispar insaan qaadir nahin isi liye huzoor sallallaho taala alaihi wasallam apni tamam biwiyon me adlo insaaf karne ke bawajood yun dua farmate the ki “ai maula main jiska maalik uspar to maine amal kar diya magar jo cheez mere qudrat se baahar hai uske liye mujhse muakhza na farma” yaani dili muhabbat kisi se kam kisi se zyada ho sakti hai isme insaan ka koi kusoor nahin,lihaza ek aitraz jo ki hazrat yaqoob alaihissalam par kiya jaata hai ki maaz ALLAH aap apne tamam beto se ek barabar muhabbat nahin karte the uska radd ho gaya ki wo unke ikhtiyar me nahin balki khuda ke ikhtiyar me tha

📕 Tazkiratul ambiya,safah 123

To be continued……….

Join ZEBNEWS to 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD

Leave a Reply

Your email address will not be published.