Categories
Ambiya e Kiram

हिस्सा-1 हज़रत नूह अलैहिस्सलाम

👉 Sms prepared by 👈
ZEBNEWS

Friday *** Ambiya ikram ******

*हिन्दी/hinglish*                     

हिस्सा-1 हज़रत नूह अलैहिस्सलाम

  • आपका नाम अब्दुल ग़फ्फार या अब्दुल जब्बार है और नूह यानि बहुत रोने वाला लक़ब इस लिए हुआ कि आप अपनी उम्मत के गुनाहों पर बहुत रोये हैं,आपके वालिद का नाम लमक और वालिदा का नाम सहमा था और दादा का नाम मतुशल्ख है,आप हज़रत आदम अलैहिस्सलाम के विसाल के 126 साल बाद पैदा हुए

📕 अलइतकान,जिल्द 2,सफह 175-179
📕 हयातुल हैवान,जिल्द 1,सफह 11

  • आपकी काफिर बीवी का नाम वाइला और काफिर बेटे का नाम कुंआन था

📕 तफसीरे खज़ाएनुल इरफान,सफह 270

  • काफिरों की तरफ सबसे पहले तब्लीग़ के लिए आप ही को भेजा गया

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 3,सफह 348

  • आपने अपनी क़ौम को 950 साल तक तब्लीग़ फरमाई मगर चन्द अफराद को छोड़कर पूरी कौम अपने कुफ्र पर क़ायम रही जिस पर आपने उनके लिए बद्दुआ कर दी और पूरी क़ौम तूफाने नूह में गर्क हो गई

📕 तफसीरे खाज़िन,जिल्द 5,सफह 157

  • सबसे पहले चमड़े का जूता आपने ही पहना

📕 मिरआतुल मनाजीह,जिल्द 6,सफह 141

  • सबसे पहले आपने ही उम्मत को दज्जाल के अज़ाब से डराया

📕 मिश्कात,जिल्द 2,सफह 473

  • बुतपरस्ती की शुरुआत हज़रत नूह अलैहिस्सलाम की उम्मत में ही हुई,वाक़िया ये हुआ कि आपकी उम्मत के 5 नेक लोग जिनका नाम वुद,सुवा,यग़ूस,यऊक़ और नस्र था,जब इनका इन्तेक़ाल हो गया तो इनकी औलाद को बहुत रंज हुआ मौक़ा देखकर इब्लीस उन लोगों के पास गया और कहने लगा कि अगर मैं एक रास्ता बताऊं तो तुम्हारा ग़म कुछ हल्का हो सकता है,उन्होंने हामी भरी तो इस मरदूद ने उन पांचो के बुत बना दिए शुरू शुरू में सिर्फ उन बुतों को देखकर ही घर वाले तसल्लियां कर लेते थे मगर बाद में आने वालों ने उनकी पूजा करनी शुरू कर दी,इसी लिए इस्लाम में जानदार की तस्वीर हराम फरमाई गई

📕 अहकामे तस्वीर,सफह 9

  • तूफाने नूह से पहले अल्लाह ने इब्तिदाई तौर पर उन पर बारिश बंद कर दी और और उनकी औरतों को बांझ कर दिया,जब वो इसकी शिकायत लेकर हज़रत नूह अलैहिस्सलाम के पास पहुंचे तो आप फरमाते हैं कि अल्लाह से माफी मांगो वो तुम्हारी सारी मुश्किल आसान कर देगा जिस पर क़ौम नहीं मानी

एक मर्तबा हज़रत इमाम हसन रज़ियल्लाहु तआला अन्हु के पास चन्द लोग अपनी परेशानी लेकर हाज़िर हुए उसमें से एक ने सूखे की शिकायत की आपने फरमाया कि अस्तग़फ़ार करो दूसरा बोला कि मैं गरीब हूं तो आपने फरमाया कि
अस्तग़्फार करो तीसरे ने औलाद ना होने की शिकायत की तो आपने फरमाया कि अस्तग़्फार करो फिर चौथा ज़मीन से कम पैदावार की अर्ज़ लेकर आया तो फरमाया कि अस्तग़्फार करो,हाज़ेरीन ने कहा कि ऐ इमाम परेशानी सबकी जुदा जुदा है और आप हल सबका एक ही फरमा रहे हैं इसकी क्या वजह है तो आप फरमाते हैं कि जब हज़रत नूह अलैहिस्सलाम की क़ौम अपनी जुदा जुदा मुश्किल को लेकर उनकी बारगाह में हाज़िर हुई तो आपने तमाम मुश्किलों का एक ही हल बताया था कि खुदा से माफी मांगो और ये क़ुरान से साबित है,तो हर मुश्किल का हल खुदा की बारगाह में तौबा करने से हासिल हो जायेगा

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 69

  • आपको क़ौम ने माज़ अल्लाह गुमराह झूटा व मजनून कहा मगर आप उनके लिए हिदायत की दुआ ही करते रहे मगर जब अल्लाह ने आप पर वही फरमाई कि अब तुम्हारी क़ौम से कोई मुसलमान ना होगा मगर जितने ईमान ला चुके तब आपने उनके लिए हलाक़त की दुआ की तो मौला ने आपको कश्ती बनाने का हुक्म दिया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 71

  • कश्ती बनाने में मदद के लिए हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम हाज़िर हुए और 2 सालों में कश्ती बनकर तैयार हुई

📕 तफसीरे सावी,जिल्द 2,सफह 72

  • ये कश्ती साल की लकड़ी से बनाई गई जिसकी लंबाई 900 फिट चौड़ाई 150 फिट और ऊंचाई 90 फिट थी और इसमें 3 दर्जे थे सबसे नीचे वाले दर्जे में जंगली जानवर जैसे शेर चीता सांप बिच्छू वगैरह थे बीच वाले में पालतू जानवर थे और सबसे ऊपर वाले हिस्से में हज़रत नूह अलैहिस्सलाम मय ईमान वालों और खाने पीने की चीज़ के साथ सवार हुए

📕 खज़ाएनुल इरफान,सफह 269

  • कश्ती में कुल 80 लोग सवार हुए जिनमे 3 आपके बेटे साम,हाम और याफिस और 3 उनकी बीवियां खुद हज़रत नूह अलैहिस्सलाम और उनकी एक मोमिना बीवी हज़रत आदम अलैहिस्सलाम का जस्द मुबारक जो कि ताबूत में था और आपके काफिर बेटे की बीवी जो कि मोमिना थी और 70 मुसलमान मर्दो औरत

📕 अलमलफूज़,हिस्सा 1,सफह 64
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 71

  • ये कश्ती मस्जिदे कूफा के पास बनाई गई

📕 जलालैन,हाशिया,4,सफह 183

  • ये कश्ती 124000 और 4 तख्तों से बनी कि हर तख्ते पर एक नबी का नाम लिखा होता था और 4 तख्तों पर चारों खुल्फा का नाम दर्ज था,इस रिवायत में इख्तिलाफ हो सकता है इसलिए कि अम्बिया इकराम की तादाद मुतअय्यन करना हरगिज़ जायज़ नहीं

📕 नुज़हतुल मजालिस,5,सफह 34

  • चुंकि जहां ये कश्ती बनायी गई उस जगह पानी का नामो निशान तक ना था लिहाज़ा काफिर हज़रत नूह अलैहिस्सलाम को कश्ती बनाता देखकर उनका मजाक उड़ाया करते थे फिर जब तूफान का वक़्त आया तो मौला ने हज़रत नूह अलैहिस्सलाम को बता दिया कि जब तन्नूर से पानी उबलना शुरू हो जाए तो कश्ती में सवार हो जाना कि वही इब्तिदा होगी,ये तन्नूर आम तन्नूर था जिसमे औरतें रोटियां पकाया करती थीं

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 73

  • हज़रत नूह अलैहिस्सलाम दिन भर कश्ती बनाते और आपकी क़ौम रात को आकर वो कश्ती खराब करके चली जाती तब आपने बाहुकमे खुदावन्दी कुत्ते को रात भर जागकर पहरेदारी के लिए मुकर्रर किया

📕 हयातुल हैवान,जिल्द 2,सफह 306

  • तूफान की शुरुआत 1 रजब को हुई

📕 अलमलफूज़,हिस्सा 1,सफह 64

जारी रहेगा………..


      *Hazrat nooh Alaihissalam* 
  • Aapka naam abdul gaffar ya abdul jabbar hai aur nooh yaani bahut rone waala laqab is liye huwa ki aap apni ummat ke gunahon par bahut roye hain,aapke waalid ka naam lamak aur waalida ka naam samha tha aur daada ka naam matushalkh hai,aap hazrat aadam alaihissalam ke wisaal ke 126 saal baad paida hue

📕 Alitqaan,jild 2,safah 175-179
📕 Hayatul haiwan,jild 1,safah 11

  • Aapki kaafira biwi ka naam waaela tha aur kaafir bete ka naam kunaan tha

📕 Tafseere khazayenul irfan,safah 270

  • Kaafiron ki taraf sabse pahle tableeg ke liye aap hi ko bheja gaya

📕 Tafseere nayimi,jild 3,safah 348

  • Aapne apni qaum ko 950 saal tak tableeg farmayi magar chund afraad ko chhodkar poori qaum apne kufr par qaayam rahi jispar aapne unke liye baddua kar di aur poori qaum toofane nooh me gark ho gayi

📕 Tafseere khaazin,jild 5,safah 157

  • Sabse pahle chamde ka joota aapne pahna

📕 Miratul manajeeh,jild 6,safah 141

  • Sabse pahle aapne hi ummat ko dajjal ke azaab se daraaya

📕 Mishkat,jild 2,safah 473

  • Butparasti ki shuruaat hazrat nooh alaihissalam ki ummat me hi huyi,waaqiya ye hua ki aapki ummat ke 5 neik log jinka naam wud,suwaa,yagoos,yaooq aur nasr tha,jab inka inteqaal ho gaya to inki aulaad ko bahut ranj hua mauqa dekhkar iblees un logon ke paas gaya aur kahne laga ki agar main ek raasta bataoon to tumhara ghum kuchh halka ho sakta hai,unhone haami bhari to is mardood ne un paanchon ke butt bana diye shuru shuru me sirf un buton ko dekhkar hi ghar waale tasalliya kar lete the magar baad me aane waalon ne unki pooja karni shuru kar di,isi liye islaam me jaandar ki tasweer haraam farmayi gayi

📕 Ahkaame tasweer,safah 9

  • Toofane nooh se pahle ALLAH ne ibtidayi taur par unpar baarish band kar di aur aur unki aurton ko baanjh kar diya,jab wo iski shikayat lekar hazrat nooh alaihissalam ke paas pahunche to aap farmate hain ki apne rub se maafi maango wo tumhari saari mushkil aasan kar dega jispar qaum nahin maani

ek martaba hazrat imaam hasan raziyallahu taala anhu ke paas chund log apni pareshani lekar haazir hue usme se ek ne sookhe ki shikayat ki aapne farmaya ki astagfaar karo doosra bola ki main gareeb hoon to aapne farmaya ki astagfaar karo teesre ne aulaad na hone ki shikayat ki to aapne farmaya ki astagfaar karo fir chautha zameen se kam paidawaar ki arz lekar aaya to farmaya ki astagfaar karo,haazereen ne kaha ki ai imaam pareshaani sabki juda juda hai aur aap hal sabka ek hi farma rahe hain iski kya wajah hai to aap farmate hain ki jab hazrat nooh alaihissalam ki qaum apni juda juda mushkil ko lekar unki baargah me haazir huyi to aapne tamam mushkilo ka ek hi hal bataya tha ki khuda se maafi maango aur ye quran se saabit hai,to har mushkil ka hal khuda ki baargah me tauba karne se haasil ho jayega

📕 Tazkiratul ambiya,safah 69

  • Aapko qaum ne maaz ALLAH gumrah jhootha wa majnoon kaha magar aap unke liye hidayat ki dua hi karte rahe magar jab ALLAH ne aap par wahi farmayi ki ab tumhari qaum se koi musalman na hoga magar jitne imaan la chuke to aapne unke liye halaqat ki dua ki to maula ne aapko kashti banane ka hukm diya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 71

  • Kashti banane me madad ke liye hazrat jibreel alaihissalam haazir hue aur 2 saalon me kashti bankar taiyar huyi

📕 Tafseere saavi,jild 2,safah 72

  • Ye kashti saal ki lakdi se banayi gayi jiski lambayi 900 fitt chuadayi 150 fitt aur oonchayi 90 fitt thi aur isme 3 darje the sabse neeche waale darje me jungli jaanwar jaise sher chheta saamp bichchho wagairah the beech waale me paaltu jaanwar the aur sabse oopar waale hisse me hazrat nooh alaihissalam maye imaan waalon aur khaane peene ki cheez ke saath sawaar hue

📕 Khazayenul irfan,safah 269

  • Kashti me kul 80 log sawaar hue jinme 3 aapke bete saam haam aur yaafis aur 3 unki biwiyan khud hazrat nooh alaihissalam aur unki ek momin biwi hazrat aadam alaihissalam ka jasd mubarak jo ki taboot me tha aur aapke kaafir bete ki biwi jo ki momina thi aur 70 musalman mardo aurat

📕 Almalfooz,hissa 1,safah 64
📕 Tazkiratul ambiya,safah 72

  • Ye kashti masjide koofa ke paas banayi gayi

📕 Jalalain,hashiya,4,safah 183

  • Ye kashti 124000 aur 4 takhton se bani ki har takhte par ek nabi ka naam likha hota tha aur 4 takhton par charon khulfa ka naam darj tha,is riwayat me ikhtilaaf ho sakta hai isliye ki ambiya ikram ki taadad mutayyan karna hargiz jayaz nahin

📕 Nuzhatul majalis,5,safah 34

  • Chunki jahan ye kashti banayi gayi us jagah paani ka naamo nishaan tak na tha lihaza kaafir hazrat nooh alaihissalam ko kashti banata dekhkar unka mazaaq udaya karte the fir jab toofan ka waqt aaya to maula ne hazrat nooh alaihissalam ko bata diya ki jab tannoor se paani ubalna shuru ho jaaye to kashti me sawaar ho jaana ki wahi ibtida hogi,ye tannoor aam tannoor tha jisme aurtein rotiyan pakaya karti thin

📕 Tazkiratul ambiya,safah 73

  • Hazrat nooh alaihissalam din bhar kashti banaate aur aapki qaum raat ko aakar wo kashti kharaab karke chali jaati tab aapne bahukme khudawandi kutte ko raat bhar jaagkar pahredaari ke liye muqarrar kiya

📕 Hayatul haiwan,jild 2,safah 306

  • Toofan ki shuruaat 1 rajab ko huyi

📕 Almalfooz,hissa 1,safah 64

To be continued……….

! no more msgs no more headache !
! only 1 msg in 24 hours !

Join ZEBNEWS to 9335732950
All india jamaat raza-e mustafa
Branch Allahabad

Leave a Reply

Your email address will not be published.