Categories
Ambiya e Kiram

हिस्सा-1 हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम

👉 Sms prepared by 👈
ZEBNEWS

Friday *** Ambiya ikram ******

हिन्दी/hinglish
हिस्सा-1 हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम

रिवायतें तो आपके बारे में बेशुमार हैं मगर आपकी विलादत और हालात पर ज़्यादा मालूमात किताबों में दर्ज नहीं है,एक रिवायत के मुताबिक आपका नाम बलिया इब्ने मल्कान कुन्नियत अबुल अब्बास और लक़ब खिज़्र है,हज़रत ज़ुलकरनैन साम बिन नूह अलैहिस्सलाम की औलाद हैं और आप हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम पर ईमान लायें यानि ताईद की,आपका लक़ब खिज़्र होने की वजह ये बताई जाती है कि आप जहां बैठ जाते वहां सब्ज़ा उग जाता इसलिए आपको खिज़्र यानि सब्ज़ कहा जाने लगा,आपके अंगूठे में हड्डी नहीं है और उनका अंगूठा मिस्ल बाकी उंगलियों के बराबर है और मशहूर है कि एक मुसलमान से उसकी पूरी ज़िन्दगी में आप एक मर्तबा मुसाफा ज़रूर करते हैं,आपने अपने बाद के तक़रीबन हर नबी व ज़्यादातर औलिया से मुलाक़ात की है

📕 रिजालुल ग़ैब,सफह 134-141

आलाहज़रत अज़ीमुल बरक़त रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि चार नबी अब भी ज़िंदा हैं हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम और हज़रत इदरीस अलैहिस्सलाम ये दोनों हज़रात आसमान पर हैं और हज़रत इल्यास अलैहिस्सलाम खुश्की में भटक जाने वालों को राह दिखाने के काम में और हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम पानी में भटक जाने वालों को राह दिखाने की खिदमत से मुअल्लक़ हैं,हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम से आपकी मुलाकात साबित है

📕 अलमलफूज़,हिस्सा 4,सफह 40

ⓩ आपका नाम तो क़ुर्आन में ज़ाहिरन नहीं लिखा है मगर आपके मुताल्लिक़ इशारा ज़रूर है,सूरह कहफ आयत 65 के बाद आपके 2 सफर का तज़किरा है पहला तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से मुलाकात और दूसरा हज़रत ज़ुलकरनैन के साथ आबे हयात का सफर करना और उसे पीकर हमेशा की ज़िन्दगी पा लेना,तो चलिये इसी सफर से शुरुआत करते हैं

अब तक 4 ऐसे बादशाह गुज़रे हैं जिन्होंने पूरी दुनिया पर हुक़ूमत की है दो मोमिन हज़रत सिकंदर ज़ुलरनैकन और हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम और दो काफिर नमरूद और बख्ते नस्र,और अनक़रीब पांचवे बादशाह हज़रत इमाम मेंहदी रज़ियल्लाहु तआला अन्हु होंगे जो पूरी दुनिया पर हुक़ूमत करेंगे,जिस सिकन्दर का किस्सा हम लोगों ने दुनियावी इतिहास की किताबों मे पढ़ा है वो सिकन्दर युनानी था जो कि काफिरो मुशरिक था मगर सिकन्दर ज़ुलरनैकन दूसरे हैं आप सालेह मोमिन थे

📕 अलइतक़ान,जिल्द 2,सफह 178

हज़रत सिकंदर ज़ुलकरनैन हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम के ज़माने के थे और आप हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम पर ईमान लाये और उनके साथ तवाफे काबा भी किया,चुंकि हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम भी हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम की बारगाह में हाज़िरी देते थे जहां ज़ुलकरनैन की हज़रते खिज़्र अलैहिस्सलाम से मुलाकात हुई और उनकी शख्सियत इल्मो अखलाक़ को देखकर हज़रते ज़ुलकरनैन ने उन्हें अपना खास और वज़ीर बना लिया,हज़रत सिकन्दर ज़ुलरनैकन ने किताबों में पढ़ा कि औलादे साम में से एक शख्स आबे हयात तक पहुंचेगा और उसे पा लेगा जिससे कि उसे मौत ना आयेगी,,ये पढ़कर आपने एक अज़ीम लश्कर तैयार किया जो कि मग़रिबो शिमाल की जानिब रवाना हुआ आपके साथ आपके वज़ीर हज़रते ख़िज़्र अलैहिस्सलाम भी चले,पानी का सफर खत्म होते होते वो एक ऐसी जगह पहुंचे जहां दलदल के सिवा कुछ ना था कश्तियां भी ना चल सकती थी मगर अज़्म के मज़बूत हज़रत ज़ुलकरनैन ने उन कीचड़ों पर भी कश्तियां चलवा दी,वहां एक जगह उन्हें सूरज कीचड में डूबता हुआ मालूम हुआ वहां से निकलकर वो एक ऐसी वादी में पहुंचे जहां एक क़ौम आबाद थी मगर वहां के लोग तहज़ीब और तमद्दुन से बिल्कुल खाली थे,जो जानवरों का कच्चा गोश्त खाते उन्ही के खालों का कपड़ा पहनते उनका ना तो कोई दीन था और ना मज़हब,आपने उन लोगों को दीने इस्लाम की दावत पेश की जिसे उन लोगों ने क़ुबूल फरमाया और फिर उन लोगों ने याजूज माजूज की शिकायत पेश की,कि पहाड़ के पीछे से एक क़ौम हमला करती है जो हमारा सब कुछ बर्बाद कर देती है आप हमें उस ज़ालिम क़ौम से बचायें,तब हज़रत ज़ुलकरनैन ने दो पहाड़ों के दरमियान एक दीवार क़ायम फरमाई वो दीवार तक़रीबन 160 किलोमीटर लम्बी 150 फिट चौड़ी और 600 फिट ऊंची है,इसको सिद्दे सिकंदरी कहा जाता है इसको इस तरह बनाया गया कि पहले पानी की तह तक बुनियाद खोदी गई और तह में पत्थर पिघलाये हुए तांबे में जमाये गये,फिर लोहे की तख्ती चारों तरफ लगाकर उसके अन्दर लकड़ी और कोयला भरा गया नीचे आग लगाकर ऊपर से पिघला हुआ तांबा उसके ज़र्रे ज़र्रे में पहुंचाया गया इस तरह हज़रत ज़ुलकरनैन सिद्दे सिकंदरी बनाकर आबे हयात की तलाश में फिर निकल पड़ते हैं (याजूज माजूज की पूरी तफ्सील आसारे क़यामत की पोस्ट में आयेगी) और अब उनके लश्कर का रुख वादिये ज़ुलमात की तरफ हो गया वादिये ज़ुलमात को पार करके उस जगह पहुंचे जहां सिर्फ अंधेरा ही अंधेरा था,उन अंधेरों में ये काफिला कई दिनों तक भटकता रहा और सारा लश्कर तितर बितर हो गया,हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम को एक जगह प्यास लगी तो आप एक चश्मे पर पहुंचे वहीं गुस्ल किया वुज़ू किया खूब सैराब होकर पानी पिया यही चश्मा आबे हयात था,जिसे खिज़्र अलैहिस्सलाम ने तो पा लिया मगर किसी और के मुक़द्दर में ना था सब वहां से मायूस लौटे और आखिर में हज़रत ज़ुलकरनैन को शहरे बाबुल में क़ज़ा आई

📕 पारा 16,सूरह कहफ,आयत 83-99
📕 पारा 17,सूरह अम्बिया,आयत 96
📕 तफसीरे खज़ाएनुल इरफान,सफह 362
📕 रिजालुल ग़ैब,सफह 148–153
📕 क्या आप जानते हैं,सफह 188
📕 तफसीरे खाज़िन,जिल्द 4,सफह 204
📕 ज़लज़लातुस साअत,सफह 12

जारी रहेगा………..


ZEBNEWS Charitable Trust

Sadqaye jaariya@30rs. p/m

Riwaytein to aapke baare me beshumar hain magar aapki wiladat aur haalat par zyada malumat kitabon me darj nahin hai,ek riwayat ke mutabik aapka naam baliya ibne malkaan kunniyat abul abbas aur laqab khizr hai,Hazrat zulkarnain saam bin nooh alaihissalam ki aulaad hain aap hazrat ibraheem alaihissalam par imaan laayein yaani unki tayeed ki,aapka laqab khizr hone ki wajah ye batayi jaati hai ki aap jahan baith jaate wahan sabza ug jaata isliye aapko khizr ya sabz kaha jaane laga,aapke anguthe me haddi nahin hai aur unka angutha misl baaki ungliyo ke barabar hai aur mashhoor hai ki ek musalman se uski poori zindagi me aap ek martaba musaafa zaroor karte hain,aapne apne baad ke taqriban har nabi wa zyadatar auliya se mulaqat ki hai

📕 Rijalul gaib,safah 134-141

Aalahazrat azimul barkat raziyallahu taala anhu farmate hain ki chaar nabi ab bhi zinda hain hazrat eesa alaihissalam aur hazrat idrees alaihissalam ye dono hazraat aasman par hain aur hazrat ilyas alaihissalam khushki me bhatak jaane waalo ko raah dikhane ke kaam me aur hazrat khizr alaihissalam paani me bhatak jaane waalo ko raah dikhane ki khidmat me muallaq hain,huzoor sallallaho taala alaihi wasallam se aapki mulaqat saabit hai

📕 Almalfooz,hissa 4,safah 40

ⓩ Aapka naam to quran me zaarihan nahin likha hai magar aapke mutalliq ishaara zaroor hai,surah kahaf aayat 65 ke baad aapke 2 safar ka tazkira hai pahla to hazrat moosa alaihissalam se mulaqat ka aur doosra hazrat zulqarnain ke saath aabe hayaat ka safar karna aur use peekar hamesha ki zindagi pa lena,to chaliye isi safar se shuruaat karte hain

Ab tak 4 aise baadshah guzre hain jinhone poori duniya par huqumat ki hai 2 momin hazrat sikandar zulqarnain aur hazrat suleman alaihissalam aur 2 kaafir namrood aur bakhte nasr,aur anqareeb paanchwe baadshah hazrat imam menhdi raziyallahu taala anhu honge jo poori duniya par huqumat karenge,jis sikandar ka kissa hum logon ne duniyavi itihaas ki kitabon me padha hai wo sikandar unani tha jo ki kaafiro mushrik tha magar sikandar zulkarnain doosre hain aur aap saaleh momin the

📕 Alitqaan,jild 2,safah 178

Hazrat sikandar zulkarnain hazrat ibraheem alaihissalam ke zamane ke the aur aap hazrat ibraheem alaihissalam par imaan laaye aur unke saath tawafe kaaba bhi kiya,chunki hazrat khizr alaihissalam bhi hazrat ibraheem alaihissalam ki baargah me haaziri dete the jahan zulkarnain se hazrate khizr alaihissalam ki mulakat huyi aur unki sakhshiyat ilmo akhlaaq ko dekhkar hazrate zulkarnain ne unhein apna khaas aur wazeer bana liya,hazrate zulkarnain ne kitabon me padha tha ki aulade saam me se ek shakhs aabe hayaat tak pahunchega aur use pa lega,jab sikandar zulkarnain ne ye padha to ek azeem lashkar taiyar kiya jo ki magribo shimaal ki jaanib rawana hua aur aapke saath aapke wazeer hazrate khizr alaihissalam bhi chale,paani ka safar khatm hote hote wo ek aisi jagah pahunche jahan daldal ke siwa kuchh na tha aur uspar kashtiyan bhi na chal sakti thi magar azm ke mazboot hazrat zulkarnain ne un keechadon par bhi kashtiyan chalwa di,wahan ek jagah unhein keechad me suraj doobta hua maloom hua wahan se nikalkar wo ek aisi waadi me pahunche jahan ek qaum aabad thi magar wahan ke log tahzeeb aur tamaddun se bilkul khaali the,jo jaanwaro ka kachcha gosht khaate unhi ke khaalo ka kapda pahante unka na to koi deen tha aur na koi mazhab,aapne un logon ko deene islam ki daawat pesh ki jise un logon ne qubool kar liya aur phir un logon ne yajooj majooj ki shikayat ki,ki pahaad ke peechhe se ek qaum hum par hamla karti hai jo hamara sab kuchh barbaad kar deti hai aap hamein us zaalim qaum se bachayein,tab hazrat zulkarnain ne do pahaado ke darmiyan ek deewar qaayam farmayi wo deewa takriban 160 kilometer lambi 150 fitt chaudi aur 600 fitt oonchi hai,isko sidde sikandari kaha jaata hai ise is tarah banaya gaya ki pahle paani ki tah tak uski buniyaad khodi gayi aur tah me patthar pighlaye hue taambe me jamaye gaye,phir lohe ki takhti chaaron taraf lagakar uske lakdi aur koyla bhara gaya uske neeche aaga lagakar oopar se pighla hua taamba uske zarre zarre me pahunchaya gaya is tarah sidde sikandari banakar hazrat zulkarnain aabe hayaat ki talaash me phir se nikal padte hain (ye wahi deewar hai jise yajooj majooj roz todte hain yajooj majooj ki poori tafseel aasare qayamat ki post me aayegi in sha ALLAH taala) ab unke lashkar ka rukh waadiye zulmaat ki taraf ho gaya tha waadiye zulmaat ko paar karke poora kaafila us jagah pahuncha jahan sirf andhera hi andhera tha,us andhere me poora kaafila kayi dino tak bhatakta raha aur titar bitar ho gaya,hazrat khizr alaihissalam ko ek jagah pyas lagi aap ek chashme par pahunche wahin gusl kiya wuzu kiya khoob sairab hokar paani piya yahi chashma aabe hayaat tha,jise hazrate khizr alaihissalam ne to pa liya magar kisi aur ke muqaddar me na tha so sab wahan se mayoos laute aur aakhir me hazrat zulkarnain ko shahre babul me qaza aayi

📕 Paara 16,surah kahaf,aayat 83-99
📕 Paara 17,surah ambiya,aayat 96
📕 Tafseer khazayenul irfan,safah 362
📕 Rijabul gaib,safah 148–153
📕 Kya aap jaante hain,safah 188
📕 Tafseere khaazin,jild 4,safah 204
📕 Zalzalatus sa’at,safah 12

To be continued……….

! no more msgs no more headache !
! only 1 msg in 24 hours !

Join ZEBNEWS to 9559893468
Jamaat Raza-e Mustafa,Allahabad

Leave a Reply

Your email address will not be published.