Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-01

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-01
================================

  • हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम और हज़रत याक़ूब या यूसुफ अलैहिस्सलाम के बीच 400 साल फासला है,आपके और हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम के दर्मियान 700 साल का फासला है

📕 जलालैन,हाशिया 5,सफह 138
📕 तफसीरे सावी,जिल्द 1,सफह 28

  • आप हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम से 1975 साल पहले तशरीफ लाये,और हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम की विलादत पर मशहूर क़ौल 20 अप्रैल 571 ईस्वी है इस हिसाब से 1975+571 यानि हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम से तकरीबन 2546 साल पहले हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम दुनिया में तशरीफ लाये

📕 जलालैन,हाशिया 33,सफह 51
📕 तफसीरे सावी,जिल्द 1,सफह 41
📕 सीरतुल मुस्तफा,सफह 56

  • आपके और हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम के दर्मियान 4000 अम्बिया-ए किराम तशरीफ लाये और सबके सब दीने मूसवी पर ही क़ायम थे,एक दूसरी रिवायत के मुताबिक़ 70000 अम्बिया तशरीफ लाये

📕 खज़ाएनुल इरफान,पारा 1,रुकू 11
📕 जलालैन,हाशिया 31,सफह 13

  • आपका नाम मूसा फिरऔन की बीवी हज़रते आसिया रज़ियल्लाहु तआला अन्हा ने उस वक़्त रखा जबकि वो फिरऔन के साथ दरिया के किनारे टहल रही थीं कि अचानक पानी में बहता हुआ एक सन्दूक दिखाई दिया,जब उसे खोला गया तो उसमे एक चांद सा हसीनों जमील बच्चा निकला तो फिरऔन ने हज़रते आसिया से उसका नाम रखने को कहा तो आपने उनका नाम मूसा रखा इस बिना पर कि वो आपको पानी और लकड़ियों के दर्मियान बहते हुए मिले थे क्योंकि क़ुबती ज़बान में पानी को “मू” और लकड़ी को “सा” कहते हैं लिहाज़ा आपका नाम मूसा पड़ा

📕 रुहुल बयान,जिल्द 1,सफह 91
📕 अलइतकान,जिल्द 2,सफह 177

  • आपके वालिद का नाम इमरान है जो कि हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम के बेटे थे आपका सिलसिल-ए नस्ब इस तरह है मूसा बिन इमरान बिन फाहिस बिन लादी बिन याक़ूब अलैहिस्सलाम

📕 खज़ाएनुल इरफान,पारा 3,रुकु 12

  • आपकी वालिदा के नाम में बहुत इख्तिलाफ है मरयम,लोखा,यूखानज़,नौहानिज़,इयारख्त,आइज़,यूखा मगर रुहुल बयान में यारखा लिखा है और इसी को सही क़ौल माना गया है

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 265

  • हज़रत हारून अलैहिस्सलाम आपके बड़े भाई हैं जो कि आपसे 3 या 4 साल बड़े हैं

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 265
📕 तफसीरे जुमल,जिल्द 3,सफह 67

  • आपको दरिया में कब डाला गया इसमें 3 क़ौल हैं 40 दिन,3 महीना,4 महीना मगर 4 महीने की रिवायत ज़्यादा सही है क्योंकि आप 4 महीने बाद रोये थे तो पड़ोसियों के खतरे के पेशे नज़र आपको दरिया में डालने का हुक्म मौला तआला ने दिया

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 412
📕 खज़ाएनुल इरफान,पारा 20,रुकू 4
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 268

  • जिस तरह रोम का बादशाहों का लक़ब कैसर,फारस के बादशाहों का किसरा,यमन के बादशाहों का तबअ,तुर्क के बादशाहों का खाक़ान,हब्शा के बादशाहों का लक़ब नजाशी था उसी तरह मिस्र के तमाम बादशाहों का लक़ब फिरऔन हुआ,मगर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के ज़माने का फिरऔन सबसे ज़्यादा ज़ालिम और बद खल्क़ था इसका नाम वलीद इब्ने मुसअब या मुसअब बिन रय्यान था बाज़ ने उसका नाम क़ाबूस भी लिखा है

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 266

हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की पैदाईश

================================
To Be Continued
================================

  • Hazrat moosa alaihissalam aur hazrat yaqoob ya yusuf alaihissalam ke beech 400 saal faasla hai,aapke aur hazrat ibraheem alaihissalam ke darmiyan 700 saal ka faasla hai

📕 Jalalain,hashia 5,safah 138
📕 Tafseere saavi,jild 1,safah 28

  • Aap hazrat eesa alaihissalam se 1975 saal pahle tashreef laaye,aur huzoor sallallahu taala alaihi wasallam ki wiladat par mashhoor qaul 20 april 571 eesvi hai is hisaab se 1975+571 yaani huzoor sallallahu taala alaihi wasallam se takriban 2546 saal pahle hazrat moosa alaihissalam duniya me tashreef laaye

📕 Jalalain,hashia 33,safah 51
📕 Tafseere saavi,jild 1,safah 41
📕 Seeratul mustafa,safah 56

  • Aapke aur hazrat eesa alaihissalam ke darmiyan 4000 ambiyaye kiraam tashreef laaye aur sabke bas deene moosvi par hi qaayam the,ek doosri riwayat ke mutabik 70000 ambiya tashreef laaye

📕 Khazayenul irfan,paara 1,ruku 11
📕 Jalalain,hashia 31,safah 13

  • Aapka naam moosa firaun ki biwi hazrate aasiya raziyallahu taala anha ne us waqt rakha jabki wo firaun ke saath dariya ke kinare tahal rahi thin ki achanak paani me bahta hua ek sandook dikhayi diya,jab use khola gaya to usme ek chaand sa hasino jameel bachcha nikla to firaun ne hazrate aasiya se uska naam rakhne ko kaha to aapne unka naam moosa rakha is bina par ki wo aapko paani aur lakdiyon ke darmiyan bahte hue mile the kyunki qubti zabaan me paani ko MOO aur lakdi ko SA kahte hain lihaza aapka naam moosa pada

📕 Ruhul bayaan,jild 1,safah 91
📕 Alitqaan,jild 2,safah 177

  • Aapke waalid ka naam imran hai jo ki hazrat yaqoob alaihissalam ke bete the aapka silsilaye nasb is tarah hai moosa bin imran bin faahis bin laadi bin yaqoob alaihissalam

📕 Khazayenul irfan,paara 3,ruku 12

  • Aapki waalida ke naam me bahut ikhtelaaf hai maryam,lokha,yukhanaz,nauhaniz,iyarakht,aayez,yookha magar ruhul bayaan me yaarkha likha hai aur isi ko sahi qaul maana gaya hai

📕 Tazkiratul ambiya,safah 265

  • Hazrat haroon alaihissalam aapke bade bhai hain jo ki aapse 3 ya 4 saal bade hain

📕 Tazkiratul ambiya,safah 265
📕 Tafseere jumal,jild 3,safah 67

  • Aapko dariya me kab daala gaya isme 3 qaul hain 40 din,3 mahina,4 mahina magar 4 mahine ki riwayat zyada sahi hai kyunki aap 4 mahine baad roye to padosiyon ke khatre ke peshe nazar aapko dariya me daalne ka hukm maula taala ne diya

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 412
📕 Khazayenul irfan,paara 20,ruku 4
📕 Tazkiratul ambiya,safah 268

  • Jis tarah rome ka baadshahon ka laqab KAISAR,faaras ke baadshahon ka KISRA,yaman ke baadshahon ka TABA’A,turk ke baadshahon ka khaaqan,habsha ke baadshahon ka laqab najashi tha usi tarah misr ke tamam baadshahon ka laqab firaun hua,magar hazrat moosa alaihissalam ke zamane ka firaun sabse zyada zaalim aur bad khalq tha iska naam waleed ibne musab ya musab bin rayyan tha baaz ne uska naam qaboos bhi likha hai

📕 Tazkiratul ambiya,safah 266

Hazrat moosa alaihissalam ki paidayish

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.