Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-18

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-18
================================

जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम दोबारा तौरैत शरीफ लेने के लिए तूर की तरफ जाने लगे तो आपकी कौम के कुछ अफ़राद बोले कि आप हमें भी अपने साथ लेते चले ताकि हम भी अल्लाह का कलाम सुन सके और हमारी बख्शिश हो चुकी है ये भी मालूम हो जाए तो आपने 70 आदमी को साथ ले लिया,जब आप तूर पर पहुंचे तो मौला तआला ने दोबारा आपसे कलाम फरमाया और तौरैत शरीफ अता की मगर जो लोग साथ थे उन्होंने कुछ ना सुना तो वो बोले कि हम इस बात को नहीं मानेंगे कि आपने अल्लाह से कलाम किया है,तो मौला तआला ने उन सबकी रूह क़ब्ज़ करवा ली और ये सब मर गए जब ये लोग मर गए तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने रब की बारगाह में दुआ की कि ऐ मौला मैं अपनी क़ौम से कुछ लोग मुंतखिब करके लाया था अगर ये लोग वापस नहीं गए तो मेरी क़ौम मुझसे बरहम हो जायेगी तो आपकी दुआ पर मौला तआला ने उन सबको फिर से ज़िंदा फरमा दिया,जब आप तौरैत शरीफ लाये तो उसके बाज़ अहकाम उन पर भारी थे मगर इतना नहीं कि वो अमल ना कर सकते थे फिर भी उन्होंने सरकशी की जिसकी बिना पर मौला तआला ने हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम को हुक्म दिया कि ये पहाड़ उनके सरो पर उठा रखो तो उन्होंने तौबा की उधर मुल्के शाम पर अब क़ौमे अमालका क़ाबिज़ हो चुकी थी तो मौला तआला ने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को हुक्म दिया कि क़ौमे अमालका से जिहाद करके अपना मुल्क वापस हासिल करो,इसके लिए हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने अपनी क़ौम से 12 सरदार मुल्के शाम भेजा जो वहां के हालात का जायज़ा ले सकें वो लोग 40 दिन रूककर जब वापस आये तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उनसे फरमाया कि क़ौम के सामने कोई ऐसी बात ना कहना कि जिससे उनका हौसला पस्त हो मगर 12 में से 10 सरदार उनकी कुव्वत ताक़त उनका कद उनकी जसमत का ऐसा नक्शा खींचा कि क़ौम हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से बोली कि पहले आप और आपका ख़ुदा जाकर क़ौमे अमालका से हमारा मुल्क हासिल करे फिर बाद में हम वहां जायेंगे जबकि 2 सरदार यानि हज़रत यूशअ बिन नून अलैहिस्सलाम और कालिब ने उन लोगों को बहुत समझाया कि बुज़दिल ना बनो तुम उन पर हम्ला करके तो देखो कि अल्लाह कैसे हमारी मदद फरमाता है मगर वो नहीं माने और अपने घरों की तरफ लौट पड़े,मौला तआला ने उन लोगों को इस तरह सज़ा दी कि वो सबके सब वादिये तीह में फंस गए और वहीं हैरान व परेशान घूमते रहे

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 318-319

  • वादिये तीह मिस्र और शाम के दरमियान वाक़ेय है और इसकी लम्बाई और चौड़ाई तकरीबन 45 किलोमीटर थी,जब क़ौम हर तरह से हार चुकी तो रब की बारगाह में तौबा करने लगी तो मौला तआला ने उनकी तौबा क़ुबूल की और उनके खाने के लिए मन व सल्वा नाज़िल फरमाया जो कि 40 सालों तक उतरता रहा

📕 तफ़्सीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 454

================================
To Be Continued
================================

Jab hazrat moosa alaihissalam dobara taurait sharif lene ke liye toor ki taraf jaane lage to aapki qaum ke kuchh afraad bole ki aap hamein bhi apne saath lete chale taaki hum bhi ALLAH ka kalaam sun sake aur hamari bakhshish ho chuki hai ye bhi maloom ho jaaye to aapne 70 aadmi ko saath le liya,jab aap toor par pahunche to maula taala ne dobara aapse kalaam farmaya aur taurait sharif ata ki magar jo log saath the unhone kuchh na suna to wo bole ki hum is baat ko nahin maanenge ki aapne ALLAH se kalaam kiya hai,to maula taala ne un sabki rooh qabz karwa li aur ye sab mar gayejab ye log mar gaye to hazrat moosa alaihissalam ne rub ki baargah me dua ki ai maula main apni qaum se kuchh log muntakhib karke laaya tha agar ye log waapas nahin gaye to meri qaum mujhse barham ho jayegi to aapki dua par maula taala ne un sabko phir se zinda farma diya,jab aap taurait sharif laaye to uske baaz ahkaam unpar bhaari the magar itna nahin ki wo amal na kar sakte the phir bhi unhone sarkashi ki jiski bina par maula taala ne hazrat jibreel alaihissalam ko hukm diya ki ye pahaad unke saro par utha rakh to unhone tauba ki Udhar mulke shaam par ab qaume amalaqa qaabiz ho chuki thi to maula taala ne hazrat moosa alaihissalam ko hukm diya ki qaume amalaqa se jihaad karke apna mulk waapas haasil karo,iske liye hazrat moosa alaihissalam ne apni qaum se 12 sardaar mulke shaam bheja jo wahan ke haalat ka jaaayza le saken wo log 40 din rukkar jab waapas aaye to hazrat moosa alaihissalam ne unse farmaya ki qaum ke saamne koi aisi baat na kahna ki jisse unka hausla past ho magar 12 me se 10 sardaar unki kuwwat taaqat unka qad unki jasamat ka aisa naksha khincha ki qaum hazrat moosa alaihissalam se boli ki pahle aap aur aapka khuda jaakar qaume amalaqa se hamara mulk haasil kare phir baad me hum wahan jayenge jabki 2 sardaar yaani hazrat yoosha bin noon alaihissalam aur kaalib ne un logon ko bahut samjhaya ki buzdil na bano tum unpar humla karke to dekho ki ALLAH kaise hamari madad farmata hai magar wo nahin maane aur apne gharo ki taraf laut pade,Maula taala ne unko logon ko is tarah saza di ki wo sabke sab wadiye teeh me phans gaye aur wahin hairan wa pareshan ghoomte rahe

📕 Tazkiratul ambiya,safah 318-319

  • Waadiye teeh misr aur shaam ke darmiyan waaqey hai aur iski lambayi aur chaudayi taqriban 45 kilometer thi,jab qaum har tarah se haar chuki to Rub ki baargah me tauba karne lagi to maula taala ne unki tauba qubool ki aur unke khaane ke liye mann wa salwa naazil farmaya jo ki 40 saalo tak utarta raha

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 454

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.