Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-17

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-17
================================

सामरी – इसके नाम में इख्तिलाफ है बअज़ ने मूसा बिन ज़फर लिखा बअज़ ने मीहा तो बअज़ ने हारुन बताया,इसकी पैदाईश ज़िना से हुई थी जब इसके पैदा होने का वक़्त आया तो इसकी मां पहाड़ की खोह में इसे जनकर वहां से चली आई,मौला तआला ने हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम को भेजा कि इसकी परवरिश करें आप इसको अपनी 3 उंगलियां चटाते थे एक से दूध आता दूसरी से शहद और तीसरी से घी,बड़ा होकर ये एक सुनार बना और इसमें इसको काफी महारत हासिल थी वैसे तो ये बनी इस्राइलियों के साथ था मगर मुनाफिक़ था,जब बनी इस्राईल दरिया के पार जाने को चले थे तो इसने एक घुड़सवार को देखा कि जहां उसके घोड़े की टाप पड़ती थी वहीं फौरन सब्ज़ा उग जाता था ये घुड़सवार हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम थे इसने उनके घोड़े की टाप की मिटटी वहां से उठा ली थी,चुंकि ये बनी इस्राइलियों का नफ़्स जान चुका था कि उनको बुत परस्ती पसंद आ गयी है लिहाज़ा इसने उनके सारे ज़ेवरात मांग लिये ताकि उसका एक सोने का बुत बना सके,और इधर उसको एक अच्छा मौक़ा भी मिल गया क्योंकि हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम अपनी क़ौम से 30 दिन का वादा करके गए थे मगर मौला तआला ने उन्हें 10 दिन और रुकने को कहा तो जब 30 दिनों के बाद आप नहीं आये तो सामरी ने कौम को बरगलाना शरू किया और बोला कि वो भी तुम्हारी ही तरह एक इंसान हैं तो मैं तुम्हारे लिए वो करता हूं जो तुम चाहते हो यानि तुम्हारे लिए एक बुत बना देता हूं जिसकी तुम पूजा करना और उसने एक सोने का बछड़ा बना दिया जिसमें हीरे मोती जड़ दिए और उसके मुंह में वो ख़ाक डाल दी जिससे कि वो जुम्बिश करने लगा,बनी इस्राईल के 6 लाख लोगों में से सिर्फ 12000 ही ऐसे थे जिन्होंने बछड़े की पूजा नहीं की वरना सबके सब बुत परस्ती में लग गये

📕 जलालैन,हाशिया 19,सफह 265
📕 तफ़्सीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 429

  • जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम तौरैत शरीफ लेकर वापस आये तो अपनी क़ौम को बुत परस्ती करते देख मारे जलाल के अपने भाई हज़रत हारुन अलैहिस्सलाम पर सख्त गुस्सा हुए और उनकी दाढ़ी पकड़ कर खींचने लगे और इसी असना में तौरैत शरीफ जिन तख्तियों में था वो गिर गयी और सब गायब हो गयी,जब हज़रत हारून अलैहिस्सलाम ने अपनी बराअत ज़ाहिर की तब आप सामरी की तरफ मुखातिब हुए और उसे बद्दुआ दी कि अब तू दुनिया में किसी से भी मिल नहीं सकेगा और जिससे भी मिलेगा तो दोनों को शदीद बुखार चढ़ जायेगा उसके बाद अगर कोई भी सामरी को छू लेता या मुसाफा कर लेता तो दोनों बुखार में मुब्तिला हो जाते उसका असर ये हुआ कि लोगों ने उससे मिलना जुलना छोड़ दिया उसे बस्ती से भी दूर कर दिया और वो जानवरों की तरह जंगल जंगल भटकता फिरता,फिर उसके बाद आप अपनी क़ौम की तरफ पलटे और उनसे तौबा का मुतालबा किया इस तरह कि हर शख्स एक दूसरे को तलवार से क़त्ल करे उधर क़ौम भी अपने किये पर शर्मिंदा थी लिहाज़ा उसने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम का हुक्म माना और पूरी क़ौम ने एक दूसरे के सामने खड़े होकर अपनी तौबा की मौला तआला ने उन सबकी तौबा क़ुबूल की और क़ातिल व मक़तूल दोनों को शहादत का दर्जा मिला,उसके बाद हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उस बछड़े को ज़बह करके जला दिया और उसकी राख को पानी में बहा दिया ये हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम की उस खाक़ की तासीर थी कि सोने को बछड़े को भी हड्डी और गोश्त में बदल कर जानदार बना दिया था

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 315-316

================================
To Be Continued
================================

Saamri – Iske naam me ikhtilaf hai baaz ne moosa bin zafar likha baaz ne meeha to baaz ne haroon bataya,iski paidayish zina se huyi thi jab iske paida hone ka waqt aaya to iski maa pahaad ki koh me ise jankar wahan se chali aayi,maula taala ne hazrat jibreel alaihissalam ko bheja ki iski parwarish karen aap isko apni 3 ungliya chatate the ek se doodh aata doosri se shahad aur teesri se ghee,bada hokar ye ek sunaar bana aur isme isko kaafi maharat haasil thi waise to ye bani israyiliyon ke saath tha magar munafiq tha,jab bani israyil dariya ke paar jaane ko chale the to isne ek ghud sawar ko dekha ki jahan uske ghode ki taap padti thi wahin fauran sabza ug jaata tha ye ghud sawar hazrat jibreel alaihissalam the isne unke ghode ki taap ki mitti wahan se utha li thi,chunki ye bani israyiliyon ka nafs jaan chuka tha ki unko but parasti pasand aa gayi hai lihaza isne unke saare zevraat maang liye taaki uska ek sone ka butt bana sake,aur idhar usko ek achchha mauqa bhi mil gaya kyunki hazrat moosa alaihissalam apni qaum se 30 din ka waada karke gaye the magar maula taala ne unhein 10 din aur rukne ko kaha to jab 30 dino ke baad aap nahin aaye to saamri ne qaum ko bargalana sharu kiya aur bola ki wo bhi tumhari hi tarah ek insaan hain to main tumhare liye wo karta hoon jo tum chahte ho yaani tumhare liye ek butt bana deta hoon jiski tum pooja karna aur usne ek sone ka bachhda bana diya jisme heere moti jad diye aur uske munh me wo khaak daal di jisse ki wo jumbish karne laga,bani israyil ke 6 laakh logon me se sirf 12000 hi aise the jinhone bachhde ki pooja nahin ki warna sabke sab but parasti me lag gaye

📕 Jalalain,hashia 19,safah 265
📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 429

  • Jab hazrat moosa alaihissalam taurait sharif lekar waapas aaye to apni qaum ko but parasti karte dekh maare jalaal ke apne bhai hazrat haroon alaihissalam par sakht gussa hue aur unki daadhi pakad kar kheenchne lage aur isi asna me taurait sharif jin takhtiyon me tha wo gir gayi aur sab gaayab ho gayi,jab hazrat haroon alaihissalam ne apni bara’at zaahir ki tab aap saamri ki taraf mukhatib hue aur use baddua di ki ab tu duniya me kisi se bhi mil nahin sakega aur jisse bhi milega to dono ko shadeed bukhar chadh jayega uske baad agar koi bhi saamri ko chhu leta ya musafa kar leta to dono bukhar me mubtela ho jaate uska asar ye hua ki logon ne usse milna julna chhod diya use basti se bhi door kar diya aur wo jaanwaro ki tarah jungle jungle bhatakta phirta,phir uske baad aap apni qaum ki taraf palte aur unse tauba ka mutaalba kiya is tarah ki har shakhs ek doosre ko talwar se qatl kare udhar qaum bhi apne kiye par sharminda thi lihaza usne hazrat moosa alaihissalam ka hukm maana aur poori qaum ne ek doosre ke saamne khade hokar apni tauba ki maula taala ne un sabki tauba qubool ki aur qaatil wa maqtool dono ko shahadat ka darja mila,uske baad hazrat moosa alaihissalam ne us bachhde ko zabah karke jala diya aur uski raakh ko paani me baha diya ye hazrat jibreel alaihissalam ki us khaaq ki taseer thi ki sone ko bachhde ko bhi haddi aur gosht me badal kar jaandar bana diya tha

📕 Tazkiratul ambiya,safah 315-316

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.