Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-16

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-16
================================

बनी इस्राईल की नाशुक्री – होना तो ये चाहिये था की जिस अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ने उन्हें इनआमो इकराम से नवाज़ा और फिरऔन जैसे ज़ालिम बादशाह से निजात दी उसका शुक्र अदा करते बजाये इसके वो जब दरिया के पार हुए तो एक क़ौम को देखा जो गाय की पूजा कर रही थी तो कहने लगे कि ऐ मूसा अलैहिस्सलाम हमें भी एक ऐसा ही खुदा बना दो मआज़ अल्लाह,हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को जलाल आया और बोले कि तुम तो जाहिल लोग हो इबादत तो आला दर्जे की तअज़ीम का नाम है और ये उसी की हो सकती है जिसकी सबसे बड़ी शान हो और ऐसा सिर्फ अल्लाह है उसके सिवा कोई इबादत के लायक़ नहीं,उस वक़्त तो वो खामोश रहे मगर बुतपरस्ती की तरफ उनका झुकाव देखकर उन्हीं की कौम का एक बदकार शख्स सामरी ने मौक़ा पाकर उनको बुत्परस्ती में लगा दिया

कोहे तूर – हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने बनी इस्राईल को पहले ही बता दिया था कि पार हो जाने के बाद मैं तुम्हारे लिए एक किताब लाऊंगा जिसमे हलाल व हराम का ज़िक्र होगा,आप उनसे 30 दिन का वादा करके गए और अपने पीछे अपने बड़े भाई हज़रत हारून अलैहिस्सलाम को अपना जांनशीन मुंतखिब कर गये,आप जब उस जंगल में पहुंचे तो मौला ने आपको ज़ी क़ादा के 30 रोज़े रखने को कहा आपने वो रखे मगर 30 दिनों के बाद आपने ये सोचा कि मेरे मुंह से शायद बू आने लगी होगी इस वजह से आपने मिस्वाक करली तो मौला तआला फरमाता है कि ऐ मूसा मेरे नज़दीक रोज़ेदार के मुंह की बू मुश्क से भी ज़्यादा बेहतर है लिहाज़ा अब 10 रोज़े और रखो उन्होंने ज़िल हज के 10 रोज़े और रखे,उसके बाद आपने तहारत हासिल की पाकीज़ा लिबास पहना और कोहे तूर पर हाज़िर हुए,मौला तआला ने एक बादल नाज़िल फरमाया जिसने पहाड़ को हर तरफ से घेर लिया चरिंदो परिन्द की तो क्या बात आपके साथ रहने वाले फरिश्ते भी वहां से हटा दिए गए और शैतानों को भी दूर कर दिया गया,आपके लिए आसमान को खोल दिया गया आपने तमाम फरिश्तो को मुशाहिदा किया अर्शे मुअल्ला देखा लौहे महफूज़ देखा और रब तआला ने आपसे कलाम फरमाया अगर चे हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम उस वक़्त आपके साथ थे मगर वो कुछ भी सुन ना सके,हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को रब के कलाम से ऐसी लज़्ज़त हुई कि आपने मौला से फरमाया कि ऐ मौला मैं तुझे देखना चाहता हूं तो मौला तआला फरमाता है कि ऐ मूसा तुम मुझे नहीं देख सकते मगर फरमाया कि उस पहाड़ को देखते रहो अगर वो मेरे जलाल की ताब ला सका तो ज़रूर मुझे देख सकोगे और मौला ने पहाड़ पर अपनी तजल्ली नाज़िल फरमाई और पहाड़ रेज़ा रेज़ा हो गया और हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम बेहोश हो गये

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 311-313

फर्क़ मतलूबो तालिब का देखे कोई
किस्सये तूरो मेअराज समझे कोई
कोई बेहोश जलवों में ग़ुम है कोई
किसको देखा ये मूसा से पूछे कोई
आंख वालों की हिम्मत पे लाखों सलाम

फुक़्हा – मौला तआला ने कोहे तूर पर अपनी जो तजल्ली डाली थी वो सूई के नाके का करोड़वा हिस्सा था और पहाड़ उसकी भी ताब ना ला सका और हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम भी बेहोश हो गए,मगर अब आईये अपने आक़ा व मौला जनाब मुस्तफा जाने रहमत सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की बारगाह में आपने सफरे मेअराज में अपने रब की तजल्ली ही ना देखी बल्कि वो ज़ात ही देख ली जिसे आपके सिवा दुनिया में कोई ना देख सका

📕 जामेउस सिफ्फात,सफह 90

ⓩ और उस देखने को मौला तआला क़ुर्आन मुक़द्दस में युं बयान फरमाता है कि

कंज़ुल ईमान – (मुझे देखने में) आंख ना किसी तरफ फिरी और ना हद से बढ़ी

📕 पारा 27,सूरह नज्म,आयत 17

================================
To Be Continued
================================

Bani Israyil Ki Nashukri – Hona to ye chahiye tha ki jis ALLAH rabbul izzat ne unhein inaamo ikraam se nawaza aur firaun jaise zaalim baadshah se nijaat di uska shukr ada karte bajaye iske wo jab dariya ke paar hue to ek qaum ko dekha jo gaaye ki pooja kar rahi thi to kahne lage ki ai moosa alaihissalam hamein bhi ek aisa hi khuda bana de,hazrat moosa alaihissalam ko jalaal aaya aur bole ki tum to jaahil log ho ibaadat to aala darje ki tazeem ka naam hai aur ye usi ki ho sakti hai jiski sabse badi shaan ho aur aisa sirf ALLAH hai uske siwa koi ibaadat ke laayaq nahin,us waqt to wo khamosh rahe magar butparasti ki taraf unka jhukaav dekhkar unhi ki qaum ka ek badkaar shakhs saamri ne mauqa paakar unko butparasti me laga diya

Kohe Toor – Hazrat moosa alaihissalam ne bani israyil ko pahle hi bata diya tha ki paar ho jaane ke baad main tumhare liye ek kitab launga jisme halaal wa haraam ka zikr hoga,aap unse 30 din ka waada karke gaye aur apne peeche apne bade bhai hazrat haroon alaihissalam ko apna ja nasheen muntakhib kar gaye,aap jab us jungle me pahunche to maula ne aapko zee qaada ke 30 roze rakhne ko kaha aapne wo rakhe magar 30 dino ke baad aapne ye socha ki mere munh se shayad bu aane lagi hogi is wajah se aapne miswak karli to maula taala farmata hai ki ai moosa mere nazdeek roze daar ke munh ki bu mushk se bhi zyada behtar hai lihaza ab 10 roze aur rakho unhone zil hajj ke 10 roze aur rakhe,uske baad aapne taharat haasil ki pakiza libaas pahna aur kohe toor par haazir hue,maula taala ne ek baadal naazil farmaya jisne pahaad ko har taraf se gher liya charindo parind ki to kya baat aapke saath rahne waale farishte bhi wahan se hata diye gaye aur shaitano ko bhi door kar diya gaya,aapke liye aasman ko khol diya agya aapne tamam farishto ko mushahida kiya arshe mualla dekha lauhe mahfooz dekha aur rub taala ne aapse kalaam farmaya agar che hazrat jibreel alaihissalam us waqt aapke saath the magar wo kuchh bhi sun na sake,hazrat moosa alaihissalam ko Rub ke kalaam se aisi lazzat huyi ki aapne maula se farmaya ki ai maula main tujhe dekhna chahta hoon to maula taala farmata hai ki ai moosa tum mujhe nahin dekh sakte magar farmaya ki us pahaad ko dekhte raho agar wo mere jalaal ki taab la saka to zaroor mujhe dekh sakoge aur maula ne pahaad par apni tajalli naazil farmayi aur pahaad reza reza ho gaya aur hazrat moosa alaihissalam behosh ho gaye

📕 Tazkiratul ambiya,safah 311-313

Farq matloobo taalib ka dekhe koi
Qissaye tooro meraj samjhe koi
Koi behosh jalwo me ghum hai koi
Kisko dekha ye moosa se poochhe koi
Aankh waalo ki himmat pe laakhon salaam

FUQHA – Maula taala ne kohe toor par apni jo tajalli daali thi wo suyi ke naake ka karodwa hissa tha aur pahaad uski bhi taab na la saka aur hazrat moosa alaihissalam bhi behosh ho gaye,magar ab aayiye apne aaqa o maula janaab mustafa jaane rahmat sallallahu taala alaihi wasallam ki baargah me safare meraj par aapne apne rub ki tajalli hi na dekhi balki wo zaat hi dekh li jise aapke siwa duniya me koi na dekh saka

📕 Jaameus siffaat,safah 90

ⓩ Aur us dekhne ko maula taala quran muqaddas me yun bayaan farmata hai ki

KANZUL IMAAN – (Mujhe dekhne me) Aankh na kisi taraf phiri aur na hadd se badhi

📕 Paara 27,surah najm,aayat 17

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.