Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-15

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-15
================================

ⓩ जब फिरऔन ने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम और उनके मानने वालों को दरिया के बीच बने रास्ते से गुज़रते हुए देखा तो खुद भी अपनी फौज लेकर उनके पीछे उसी रास्ते पर चल पड़ा बनी इस्राइल तो पार हो गए और पानी पहले की तरह मिल गया जिसमें फिरऔन और उसका पूरा लश्कर डूब कर मर गया,मरने से पहले उसने 3 मर्तबा कहा कि मैं ईमान लाया मगर उसका ईमान क़ुबूल ना हुआ अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त क़ुर्आन मुक़द्दस में इरशाद फरमाता है

कंज़ुल ईमान – और हम बनी इस्राईल को दरिया पार ले गए तो फिरऔन और उसके लश्करों ने उनका पीछा किया सरकशी और ज़ुल्म से यहां तक कि जब उसे डूबने ने आ लिया,बोला मैं ईमान लाया कि कोई सच्चा मअबूद नहीं सिवाये उसके जिस पर बनी इस्राईल ईमान लाये और मैं मुसलमान हूं.क्या अब,और पहले तो नाफरमान रहा और तू फसादी था.आज हम तेरी लाश को उतरा देंगे ताकि तू अपने पिछलों के लिए निशानी हो

📕 पारा 11,सूरह यूनुस,आयत 90-92

  • एक मर्तबा हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम फिरऔन के पास इन्सानी सूरत में पहुंचे और उससे पूछा कि तेरा क्या कहना है उस शख्स के बारे में जो अपने मालिक का दिया खाता हो उसका दिया पहनता हो उसके दिए रिज़्क़ पर ज़िंदा हो मगर उससे नाफरमानी करे और खुद मालिक बन बैठे तो फिरऔन बोला कि ऐसे शख्स को तो दरिया में डुबो कर मार देना चाहिये,चुनांचे जब फिरऔन गर्क होने लगा तो हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम उसका फतवा लेकर उसके पास पहुंचे और दिखाया जिसे उसने पहचान लिया

📕 खज़ाईनुल इरफान,सफह 311

ⓩ और जैसा कि मौला तआला ने फरमाया कि वो फिरऔन की लाश को उतरा देगा तो दुनिया ने देखा कि फिरऔन की लाश सालों बाद पानी से बाहर आई और आज भी मिस्र के अजायब घर में मौजूद है और बाद वालों के लिए इबरत है,यहां पर दो बातें हैं जिनका ज़िक्र करता चलूं पहला ये कि जब फिरऔन ने कल्मा पढ़ा तो उसका ईमान क्यों ना क़ुबूल हुआ और दूसरा ये कि उसने खुदाई का दावा किया तो काफिर हुआ मगर ऐसे ही कुछ कलिमात बअज़ बुज़ुर्गाने दीन से भी मन्क़ूल है जबकि उन्हें अल्लाह का वली ही माना जाता है ऐसा क्यों,दोनों के जवाब हाज़िर हैं

जवाब – पहला ये कि मरते वक़्त यानि हालते नज़आ में काफिर की तौबा इसलिए क़ुबूल नहीं होती क्योंकि वो अज़ाब को देख लेता है और देखकर ईमान लाना मोअतबर नहीं हां अगर हालते नज़आ से पहले कोई काफिर ईमान लाता है तो बिला शुबह मुसलमान कहलायेगा और इन शा अल्लाह बख्शा जायेगा,तो यहां फिरऔन ने भी अज़ाब को देख लिया था और तब उसने मुसलमान होने का ऐलान किया लिहाज़ा उसका ईमान लाना काम ना आया और वो कुफ्र पर ही मरा,जबकि एक मुसलमान जो कि ज़िन्दगी भर गुनाहों में मुब्तिला रहा और आखिरी वक़्त में भी अगर तौबा करता है तो यकीनन उसकी तौबा क़ुबूल होगी इन शा अल्लाह और ये खुसूसियत उसकी नहीं बल्कि ये हमारे नबी का सदक़ा है,एक मसअले की और वज़ाहत करता चलूं कि मआज़ अल्लाह अगर हालते नज़आ में किसी मुसलमान से कलिमये कुफ्र निकल जाये तो क्या हुक्म लगेगा तो इसके जवाब में हुज़ूर ताजुश्शरिया रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि मुत्तफिक़ यही है कि मुसलमान से अगर वक़्ते नज़आ कोई कलिमये कुफ्र निकल जाए तो वो क़ाबिले दर गुज़र है क्योंकि उस वक़्त उसकी अक़्ल ज़ायल हो चुकी होती है लिहाज़ा उस पर मोमिन के ही एहकाम नाफिज़ होंगे

📕 फतावा ताजुश्शरिया,सफह 98

ⓩ अल्लाह ना करे कि किसी मुसलमान के साथ ऐसा हो इसीलिए उल्मा मरते हुए आदमी से कल्मा पढ़ने के लिए कहने को मना करते हैं क्योंकि मुमकिन है कि वो हालते नज़आ में हो और उसकी बात का इन्कार कर बैठे जो कि बुरा होगा इसकी बजाये उल्मा ये हुक्म देते हैं कि उसके पास बैठकर खुद बा आवाज़े बुलंद कल्मा पढ़ना शुरू करदे ताकि सुन कर वो भी पढ़ सके और ना पढ़ सकेगा तो ये उसकी बद अमली है मगर इंकार करने से तो बचा रहेगा

जवाब – दूसरा ये कि हज़रत मन्सूर हल्लाज व हज़रत बायज़ीद बुस्तामी और भी औलिया गुज़रे हैं जिनकी ज़बान से कुछ ऐसे कलिमात सादिर हुए हैं जो आम इंसान कहे तो हुक्मे कुफ्र लगेगा मगर उन पर नहीं लगा उसकी वजह ये है कि वो अपनी अना को यानि अपनी ज़ात को पूरी तरह से लिल्लाहियत में गुम कर चुके थे,सरकारे आलाहज़रत रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि काफिरों ने खुद कहा और वलियों ने खुद ना कहा उसने कहा जो खुद ये कहने के लायक़ है और आवाज़ उन्ही से मसमूअ हुई जैसा कि हज़रात मूसा अलैहिस्सलाम ने पेड़ से सुना कि मैं तेरा रब हूं तो क्या दरख़्त ने कहा था नहीं नहीं बल्कि अल्लाह ने कहा युंही वो हज़रात भी उस वक़्त महज़ शजरे मूसा थे और कुछ नहीं

📕 अहकामे शरीयत,हिस्सा 2,सफह 159

================================
To Be Continued
================================

ⓩ Jab firaun ne hazrat moosa alaihissalam aur unke maanne waalo ko dariya ke beech bane raaste se guzarte hue dekha to khud bhi apni fauj lekar unke peechhe usi raaste par chal pada magar bani israyil to paar ho gaye aur paani pahle ki tarah mil gaya jisme firaun aur uska poora lashkar doob kar khatm gaya,magar marne se pahle usne 3 martaba kaha ki main imaan laaya magar uska imaan qubool na hua ALLAH rabbul izzat quran muqaddas me irshaad farmata hai

KANZUL IMAAN – Aur hum bani israyil ko dariya paar le gaye to firaun aur uske lashkaron ne unka peechha kiya sarkashi aur zulm se yahan tak ki jab use doobne ne aa liya,bola main imaan laaya ki koi sachcha mabood nahin siwa uske jispar bani israyil imaan laaye aur main musalman hoon.kya ab,aur pahle to nafarman raha aur tu fasadi tha.aaj hum teri laash ko utra denge taaki tu apne pichhlo ke liye nishaani ho

📕 Paara 11,surah yunus,aayat 90-92

  • Ek martaba hazrat jibreel alaihissalam firaun ke paas insani surat me pahunche aur usse poochha ki tera kya kahna hai us shakhs ke baare me jo apne maalik ka diya khaata ho uska diya pahanta ho uske diye rizq par zinda ho magar usse nafarmani kare aur khud maalik ban baithe to firaun bola ki aise shakhs ko to dariya me dubo kar maar dena chahiye,chunanche jab firaun gark hone laga to hazrat jibreel alaihissalam uska fatwa lekar uske paas pahunche aur dikhaya jise usne pahchaan liya

📕 Khazayenul irfan,safah 311

ⓩ Aur jaisa ki maula taala ne farmaya ki wo firaun ki laash ko utra dega to duniya ne dekha ki firaun ki laash saalon baad paani se baahar aayi aur aaj bhi misr ke ajayab ghar me maujood hai aur kaafiron ke liye ibrat hai,yahan par do baatein ya kahiye aitraaz hain jinka zikr karta chalun pahla ye ki jab firaun ne kalma padha to uska imaan kyun na qubool hua aur doosra ye ki usne khudayi ka daawa kiya to kaafir hua magar aise hi kuchh kalimaat baaz buzurgane deen se bhi manqool hai jabki unhein ALLAH ka wali hi maana jaata hai aisa kyun,dono ke jawab haazir hain

JAWAB – Pahla ye ki marte waqt yaani haalate naza me kaafir ki tauba isliye qubool nahin hoti kyunki wo azaab ko dekh leta hai aur dekhkar imaan laana motabar nahin haan agar haalate naza se pahle koi kaafir imaan laata hai to bila shubah musalman kahlayega aur in sha ALLAH bakhsha jayega,to yaha firaun ne bhi azaab ko dekh liya tha aur tab usne musalman hone ka elaan kiya lihaza uska imaan laana kaam na aaya aur wo kufr par hi mara,jabki ek musalman jo ki zindagi bhar gunahon me mubtela raha aur aakhiri waqt me bhi agar tauba karta hai to yaqinan uski tauba qubool hogi in sha ALLAH aur ye khususiyat uski nahin balki ye hamare nabi ka sadqa hai,ek masle ki aur wazahat karta chalu ki maaz ALLAH agar haalate naza me kisi musalman se kalimaye kufr zaahir ho jaaye to kya hum lagega to iske jawab me huzoor Taj us shariya raziyallahu taala anhu farmate hain ki muttafiq yahi hai ki musalman se agar waqte naza koi kalimaye kufr nikal jaaye to wo qaabile dar guzar hai kyunki us waqt uski aql zaayal ho chuki hoti hai lihaza uspar momin ke hi ehkaam naafiz honge

📕 Fatawa Taj us shariya,safah 98

ⓩ ALLAH na kare ki kisi musalman ke saath aisa ho isiliye ulma marte hue aadmi se kalma padhne ke liye kahne ko mana karte hain kyunki mumkin hai ki wo haalate naza me ho aur uski baat ka inkaar kar baithe jo ki bura hoga iski bajaye ulma ye hukm dete hain ki uske paas baithkar khud ba aawaze buland kalma padhna shuru karde taaki sun kar wo bhi padh sake aur na padh sakega to uski bad amli magar inkaar karne se to bacha rahega

JAWAB – Doosra ye ki hazrat mansoor hallaj hazrat ba yazeed bustami aur bhi auliya guzre hain jinki zabaan se kuchh aise kalimaat saadir hue hain jo aam insaan kahe to hukme kufr lagega magar unpar nahin laga uski wajah ye hai ki wo apni ana ko yaani apni zaat ko poori tarah se lillahiyat me gum kar chuke the,sarkare Aalahazrat raziyallahu taala anhu farmate hain ki kaafiron ne khud kaha aur waliyon ne khud na kaha usne kaha jo khud ye kahne ke laayaq hai aur aawaz unhi se masmoo huyi jaisa ki hazrat moosa alaihissalam ne peid se suna ki main tera rub hoon to kya darakht ne kaha tha nahin nahin balki ALLAH ne kaha yunhi wo hazraat bhi us waqt mahaz shajre moosa the aur kuchh nahin

📕 Ahkame shariyat,hissa 2,safah 159

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.