Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-14

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-14
================================

कंज़ुल ईमान – और मूसा ने अर्ज़ की ….. ऐ रब हमारे उनके माल बर्बाद करदे और उनके दिल सख्त करदे कि ईमान ना लायें जब तक दर्दनाक अज़ाब ना देख लें

📕 पारा 11,सूरह यूनुस,आयत 88

  • जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उनकी हलाकत की दुआ फरमा दी तो मौला तआला का हुक्म आया कि ऐ नबी रात ही रात अपने चाहने वालो को लेकर यहां से निकल पड़ो क्योंकि अब फिरऔनियों पर अज़ाब आने वाला है,चुनांचे हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने तमाम बनी इस्राइलियों को इकठ्ठा किया जिनमे मर्द औरतें बूढ़े जवान बच्चे सब ही थे और उनकी तादाद 6 लाख थी ये सब वहां से निकल गए,मगर अजीब इत्तेफाक ये हुआ कि वो लोग रास्ता भटक गए तब एक बनी इस्राईली बोला कि इसकी वजह ये है कि हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम का जस्दे मुबारक जिस ताबूत में है वो यहीं मिस्र में है और उनकी वसीयत थी कि जब भी तुम मिस्र से निकलो तो मेरा ताबूत लेते जाना,हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उनके ताबूत का पता पूछा तो कहने लगा कि उसका पता तो सिर्फ एक बूढी औरत को है और वही बता सकती है जब उसको लाया गया तो उसने पता बताने की एक शर्त रखी आप अलैहिस्सलाम ने शर्त पूछी तो कहने लगी कि मैं जन्नत में आपके साथ रहना चाहती हूं,आप सोच में ही थे कि वही का नुज़ूल हुआ और मौला तआला फरमाता है कि इसकी बात मान लो तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने हां फरमाया और उसने ताबूत का पता बता दिया जिसे हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने खुद निकाला और खुद ही लेकर चले जिसकी बदौलत रात की तारीकी रौशनी में बदल गयी और उन्हें रास्ता भी मिल गया उधर सुबह होने पर जब फिरऔन को उनके ना होने का इल्म हुआ तो उसने तमाम फिरऔनिओं को जमा किया और उनके पीछे दरिया-ए कुलज़ुम पर पहुंच गया,जब बनी इस्राईलियों ने देखा तो वो डर गए और अपने मारे जाने का ग़ुमान किया तब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने दरिया पर अपना असा मारा जिसे क़ुर्आन ने युं फरमाया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 310

कंज़ुल ईमान – तो हमने मूसा को वही फरमाई कि दरिया पर अपना असा मार,तो जब ही दरिया फट गया तो हर हिस्सा हो गया जैसे पहाड़

📕 पारा 19,सूरह शोअरा,आयत 63

  • हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम का दरिया में असा मारते ही 12 रास्ते बन गए क्योंकि बनी इस्राईल 12 क़बीले थे और हर कबीला दूसरे के साथ सफर नहीं करता था,उन 12 रास्तों के बीच पानी दीवार बनकर खड़ा हो गया और फौरन ही सूरज ने ज़मीन को खुश्क कर दिया,जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने लोगों को रास्ते पर चलने को कहा तो लोग डरे कि कहीं डूब न जायें तो सबसे पहले हज़रत यूशअ अलैहिस्सलाम ने पानी में अपना घोड़ा डाला उसके पीछे हज़रत हारून अलैहिस्सलाम फिर तमाम बनी इस्राईली और सबसे आखिर में हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम दाखिल हुये,कुछ दूर चलने के बाद लोगों ने कहा कि क्या पता कि हमारे भाई ज़िंदा भी हैं या डूब गए तो मौला ने पानी की दीवारों में खिड़कियां बना दी जिससे कि वो एक दूसरे को देखते और बातें करते चलते

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 420-421

  • पूरी रूये ज़मीन पर यही ऐसा हिस्सा है जहां कभी सूरज की रोशनी नहीं पहुंची सिवाये एक बार के यानि जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने दरिया पर असा मारा तो ज़मीन खुल गयी और सूरज की किरण पहुंची उसके बाद पानी मिल गया और दरिया पहले की तरह हो गया

📕 हयातुल हैवान,जिल्द 2,सफह 649

================================
To Be Continued
================================

KANZUL IMAAN – Aur moosa ne arz ki ….. ai rub hamare unke maal barbaad karde aur unke dil sakht karde ki imaan na laayein jab tak dardnaak azaab na dekh lein

📕 Paara 11,surah yunus,aayat 88

  • Jab hazrat moosa alaihissalam ne unki halakat ki dua farma di to maula taala ka hukm aaya ki ai nabi raat hi raat apne chahne waalo ko lekar yahan se nikal pado kyunki ab firauniyon par azaab aane waala hai,chunanche hazrat moosa alaihissalam ne tamam bani israyiliyon ko ikattha kiya jinme mard aurtein boodhe jawaan bachche sab hi the aur unki taadaad 6 laakh thi ye sab wahan se nikal gaye,magar ajeeb ittefaq ye hua ki wo log raasta bhatak gaye tab ek bani israyili bola ki iski wajah ye hai ki hazrat yusuf alaihissalam ka jasde mubarak jis taboot me hai wo yahin misr me hai aur unki wasiyat thi ki jab bhi tum misr se niklo to mera taboot lete jaana,hazrat moosa alaihissalam ne unke taboot ka pata poochha to kahne laga ki uska pata to sirf ek boodhi aurat ko hai aur wahi bata sakti hai jab usko laaya gaya to usne pata batane ki ek shart rakhi aap alaihissalam ne shart poochhi to kahne lagi ki main jannat me aapke saath rahna chahti hoon,aap soch me hi the ki wahi ka nuzool hua aur maula taala farmata hai ki iski baat maan lo to hazrat moosa alaihissalam ne haan farmaya aur usne taboot ka pata bata diya jise hazrat moosa alaihissalam ne khud nikaala aur khud hi lekar chale jiski badaulat raat ki taariki raushni me badal gayi aur unhein raasta bhi mil gaya Udhar subah hone par jab firaun ko unke na hone ka ilm hua to usne tamam firaunion ko jama kiya aur unke peechhe dariyaye kulzum par pahunch gaya,jab bani israyiliyon ne dekha to wo darr gaye aur apne maare jaane ka ghuman kiya tab hazrat moosa alaihissalam ne dariya par apna asa maara jise quran ne yun farmaya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 310

KANZUL IMAAN – To humne moosa ko wahi farmayi ki dariya par apna asa maar,to jab hi dariya phat gaya to har hissa ho gaya jaise pahaad

📕 Paara 19,surah sho’ra,aayat 63

  • Hazrat moosa alaihissalam ka dariya me asa maarte hi 12 raaste ban gaye kyunki bani isaryil 12 qabile the aur har qabila doosre ke saath safar nahin karta tha,un 12 raasto ke beech paani deewar bankar khada ho gaya aur fauran hi suraj ne zameen ko khushk kar diya,jab hazrat moosa alaihissalam ne logon ko raaste par chalne ko kaha to log dare ki kahin doob na jaayein to sabse pahle hazrat yoosha alaihissalam ne paani me apna ghoda daala uske peechhe hazrat haroon alaihissalam phir tamam bani israyili aur sabse aakhir me hazrat moosa alaihissalam daakhil hue,kuchh door chalne ke baad logon ne kaha ki kya pata ki hamare bhai zinda bhi hain ya doob gaye to maula ne paani ki deewaro me khidkiyan bana di jisse ki wo ek doosre ko dekhte aur baatein karte chalte

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 420-421

  • Poori rooye zameen par yahi aisa hissa hai jahan kabhi suraj ki raushni nahin pahunchi siwaye ek baar ke yaani jab hazrat moosa alaihissalam ne dariya par asa maara to zameen khul gayi aur suraj ki kiran pahunchi

📕 Hayatul haiwan,jild 2,safah 649

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.