Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-13

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-13
================================

कंज़ुल ईमान – तो भेजा हमने उन पर तूफान और टिड्डी और घुन (किलनी,जूंवे) और मेंढक और खून जुदा जुदा निशानियां तो उन्होंने तकब्बुर किया और वो मुजरिम कौम थी

📕 पारा 8,सूरह ऐराफ,आयत 133

तूफान – फिरऔनियों पर पहला अज़ाब ये आया कि अब्र छा गया चारों तरह अंधेरा ही अंधेरा हो गया इस क़दर कसरत से बारिश हुई कि तमाम फिरऔनियों की गर्दनो तक पानी पहुंच गया,जो उसमे बैठता डूब जाता हत्ता कि कुछ ना कर सकता था युंही 7 दिन गुज़र गया और खुदा की क़ुदरत देखिये कि अगल बगल जो मकान बनी इस्राइलियों के होते उनमे पानी का नामो निशान तक ना था,जब 7 दिन गुज़र गए तो सब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास पहुंचे और इससे निजात के लिए सिफारिश की और कहा कि ये मुसीबत टल जायेगी तो ज़रूर हम आप पर ईमान ले आयेंगे तब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उनके लिए दुआ फरमाई और बारिश रुक गयी,बारिश के सबब ज़मीन सर सब्ज़ हो गयी खेतियां अच्छी हुई पेड़ों में खूब फल लग गये तो फिरऔनी कहने लगे कि ये पानी अज़ाब नहीं बल्कि नेअमत था लिहाज़ा हमको हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास जाने की कोई ज़रूरत नहीं,इसी तरह खैरियत से एक महीना गुज़रा फिर दूसरा अज़ाब आया

टिड्डी – उन पर दूसरा अज़ाब ये आया कि अनगिनत टिड्डियों का झुण्ड आसमान से उतरा और फिरऔनियों की खेती दरख़्त फल सब्ज़ी घरों के दरवाज़े छतें सब खा गई,फिरऔनी फिर भागते हुए हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास पहुंचे और इस अज़ाब के टल जाने की इल्तिजा करने लगे और कहा कि हम ईमान ले आयेंगे,आपने दुआ फरमाई अज़ाब तो टल गया मगर फिरऔनी अपने हद पर क़ायम ना रहे और ईमान ना लाये

जूं और घुन – फिर एक महीना आराम से गुज़रा अबकी बार उनके सरो में इस क़दर जूं पड़ गई कि उनके कपड़ो में घुसकर जिस्म तक को काटने लगी और इतनी तादाद में थी कि बाल पलक भंव यहां तक कि जिस्म को भी काटकर दाग के जैसा कर दिया और ऊपर से घुन का अज़ाब ये कि अगर कोई फिरऔनी 10 बोरी गेहूं पिसाने के लिए जाता तो मुश्किल से 3 किलो ही आटा ला पाता,जब फिरऔनियों से बर्दाश्त ना हुआ तो फिर से हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास पहुंचे और वही सब कहा आपने फिर से उनके लिए दुआ की मगर इस बार भी हाल वही का वही रहा,फिर महीना गुज़रा और फिर अज़ाब आया

मेंढक – इस बार मेंढक का अज़ाब आया कि फिरऔनी जहां बैठते वहां मेंढक उनको घेर लेते उनकी गोद में चढ़ जाते,बात करने के लिए मुंह खोलते तो मुंह में घुस जाते,चूल्हा हांड़ी प्लेट यहां तक कि कोई ऐसा बर्तन नहीं था जिसमे मेंढक ना घुसे हों जब बिस्तर पर सोने जाते तो मेंढक ऊपर सवार होते,फिर सब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास पहुंचे और रोते हुए अर्ज़ की हज़रत ने दुआ फरमाई अज़ाब टल गया मगर फिरऔनी नहीं माने

खून – अबकी बार तमाम कुंओ का पानी नदी नहर झील चश्मा यहां तक कि दरियाये नील तक का पानी खून हो गया,जब प्यास से परेशान हुए तो बनी इस्राईल के बर्तनों में पानी पीना चाहा तो जब तक बनी इस्राईल के हाथ में रहता तो पानी रहता और जैसे ही फिरऔनी के हाथ में आता खून हो जाता,जब ये तरकीब न चली तो अब फिरऔनियों ने बनी इस्राईलियों से कहा कि तुम पानी मुंह में लेकर हमारे मुंह में कुल्ली कर दो खुदा की शान कि पानी जब तक बनी इस्राइलियों के मुंह में रहता तो पानी रहता और जैसे ही फिरऔनियों के मुंह में जाता तो खून बन जाता,फिर ये सोचा कि पेड़ की टहनियां चूस कर प्यास बुझाई जाये तो जो टहनी तोड़ते उसमे से खून निकलता जब हालात बद से बदतर हो गए तो फिर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास पहुंचे और इससे निजात की दरख्वास्त की,हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने दुआ फरमाई अज़ाब दूर हो गया मगर बद बख़्तो की समझ में कुछ ना आया और वो उसी पर अड़े रहे

📕 रुहुल बयान,जिल्द 1,सफह 768

ⓩ जब पहली बार मैंने ये रिवायत पढ़ी तो मुझे बहुत तअज्जुब हुआ कि किस क़दर बद बख्त लोग थे कि आंख से देखने के बाद भी ईमान नहीं लाते थे और अपने कुफ़्र पर क़ायम रहे मगर आज जब कुछ बातिल फिरकों को देखता हूं जो दाढ़ी टोपी झुब्बा पहने नाम निहाद मुसलमान बने फिर रहे हैं और अंदर से काफिर से बदतर हैं तो मुझे उन कमबख़्तो की भी मेंटालिटी समझ में आ गई,ये रिवायत मौला तआला के बेपनाह रहम का भी एक नमूना है कि बार बार नाफरमानी करने पर भी बन्दों को मौक़ा देता रहता है कि अब तौबा कर लें अब तौबा कर लें और जब बन्दे किसी तरह नहीं मानते तब उनकी गिरफ़्त फरमाता है,खैर जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने जान लिया कि ये किसी भी तरह ईमान नहीं लायेंगे तो उनकी हलाक़त की दुआ फरमा दी,जिसे मौला तआला ने युं इरशाद फरमाया

कंज़ुल ईमान – और मूसा ने अर्ज़ की ….. ऐ रब हमारे उनके माल बर्बाद करदे और उनके दिल सख्त करदे कि ईमान ना लायें जब तक दर्दनाक अज़ाब ना देख लें

📕 पारा 11,सूरह यूनुस,आयत 88

================================
To Be Continued
================================

KANZUL IMAAN – To bheja humne unpar toofan aur tiddi aur ghun (kilni,junwe) aur mendhak aur khoon juda juda nishaniyan to unhone takabbur kiya aur wo mujrim qaum thi

📕 Paara 8,suraf eraaf,aayat 133

Toofan – Firauniyon par pahla azaab ye aaya ki abr chha gaya chaaron tarah andhera hi andhera ho gaya is qadar kasrat se baarish huyi ki tamam firauniyon ke gardano tak paani pahunch gaya,jo usme baithta doob jaata hatta ki kuchh na kar sakte the yunhi 7 din guzar gaya aur khuda ki qudrat dekhiye ki agal bagal jo makaan bani israyiliyon ke hote unme paani ka naamo nishaan tak na tha,jab 7 din guzar gaye to sab hazrat moosa alaihissalam ke paas pahuche aur isse nijaat ke liye sifarish ki aur kaha ki ye musibat tal jayegi to zaroor hum aap par imaan le aayenge tab hazrat moosa alaihissalam ne unke liye dua farmayi aur baarish ruk gayi,baarish ke sabab zameen sar sabz ho gayi khetiyan achchhi huyi pedon me khoob fal lag gaye to firauni kahne lage ki ye paani azaab nahin balki nemat tha lihaza humko hazrat moosa alaihissalam ke paas jaane ki koi zarurat nahin,isi tarah khariyat se ek mahina guzra phir doosra azaab aaya

Tiddi – Unpar doosra azaab ye aaya ki anginat tiddiyon ka jhund aasman se utra aur firauniyo ki kheti darakht fal sabzi gharo ke darwaze chhatein sab kha gayi,firauni phir bhaagte hue hazrat moosa alaihissalam ke paas pahunche aur is azaab ko tal jaane ki iltija karne lage aur kaha ki hum imaan le aayenge,aapne dua farmayi azaab to tal gaya magar firauni apne ahad par qaayam na rahe aur imaan na laaye

Joo aur ghun – Phir ek mahina aaraam se guzra abki baar unke saro me is qadar joo pad gayi ki unke kapdo me ghuskar jism tak ko kaatne lagi aur itni taadad me thi ki baal palak bhanv yahan tak ki jism ko bhi chaatkar daag ki jaisa kar diya aur oopar se ghun ka azaab ye ki agar koi firauni 10 bori gehun pisaane ke liye jaata to mushkil se 3 kilo hi aata la paata,jab firauniyon se bardaasht na hua to phir se hazrat moosa alaihissalam ke paas pahunche aur wahi sab kaha,aapne phir se unke liye dua ki magar is baar bhi haal wahi ka wahi raha,phir mahina guzra aur phir azaab aaya

Mendhak – Is baar mendhak ka azaab aaya ki firauni jahan baithe wahan mendhak unko gher lete unki god me lad jaate,baat karne ke liye munh kholte to munh me ghus jaate,chulha haandi plate yahan tak ki koi aisa bartan nahin tha jisme mendhak na ghuse hon jab bistar par sone jaate to mendhak oopar sawaar hote,phir sab hazrat moosa alaihissalam ke paas pahunche aur rote hue arz ki hazrat ne dua farmayi azaab tal gaya magar firauni nahin maane

Khoon – Abki baar tamam kunwo ka paani nadi nahar jheel chashma yahan tak ki dariyaye neel tak ka paani khoon ho gaya,jab pyaas se pareshan hue to bani israyil ke bartano me paani peena chaha to jab tak bani israyil ke haath me rahta to paani rahta aur jaise hi firauni ke haath me aata khoon ho jaata,jab ye tarkeeb na chali to ab firauniyon ne bani israyiliyon se kaha ki tum paani munh me lekar hamare munh me kulli kar do khuda ki shaan ki paani jab tak bani israyiliyon ke munh me rahta to paani rahta aur jaise hi firauniyon ke munh me jaata to khoon ban jaata,phir ye socha ki peid ki tahniyan choos kar pyaas bujhayi jaaye to jo tahni todte usme se khoon nikalta jab haalaat bad se badtar ho gaye to phir hazrat moosa alaihissalam ke paas pahunche aur isse nijaat ki darkhwast ki,hazrat moosa alaihissalam ne dua farmayi azaab door ho gaya magae bad bakhto ki samajh me kuchh na aaya aur wo usi par ade rahe

📕 Ruhul bayaan,jild 1,safah 768

ⓩ Jab pahli baar maine ye riwayat padhi to mujhe bahut taajjub hua ki kis qadar bad bakht log the ki aankh se dekhne ke baad bhi imaan nahin laate the aur apne kufr par qaayam rahe magar aaj jab kuchh baatil firkon ko dekhta hoon jo daadhi topi jhubba pahne naam nihaad musalman bane phir rahe hain aur andar se kaafir se badtar hain to mujhe un kambakhto ki bhi mentality samajh me aa gayi,ye riwayat maula taala ke bepanaah raham ka bhi ek namuna hai ki baar baar nafarmani karne par bhi bando ko mauqa deta rahta hai ki ab tauba kar lein ab tauba kar lein aur jab bande kisi tarah nahin maante tab unki giraft farmata hai,khair jab hazrat moosa alaihissalam ne jaan liya ki ye kisi bhi tarah imaan nahin layenge to unki halaqat ki dua farma di,jise maula taala ne yun irshaad farmaya

KANZUL IMAAN – Aur moosa ne arz ki ….. ai rub hamare unke maal barbaad karde aur unke dil sakht karde ki imaan na laayein jab tak dardnaak azaab na dekh lein

📕 Paara 11,surah yunus,aayat 88

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.