Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-12

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-12
================================

  • हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम और वो तमाम जादूगर एक बड़े मैदान में जमा हो गए और चारों तरफ से खलक़त उन्हें देखने के लिए इकठ्ठा हो गयी,पहले तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उनको तब्लीग की वो इससे बाज़ रहे मगर जब वो ना माने तो मुकाबला शुरू हुआ,जादूगर अपने साथ 300 ऊंटो पर रस्सियां और लाठियां लादकर लाये थे वो सब मैदान में लाई गयी तो जादुगरों ने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से कहा कि पहले आप असा डालेंगे या हम अपनी लाठियां और रस्सियां डालें तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने पहले उनको ऐसा करने की इजाज़त दी,उन लोगों ने जब अपनी रस्सियां और लाठियां मैदान में छोड़ी तो सब के सब सांप बन गए और पूरा मैदान सांपों से भर गया लोग डर के मारे बद हवास हो गए तब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने अपना असा ज़मीन पर डाल दिया जो एक बड़ा अज़्दहा बन गया और देखते ही देखते सारे सांपों को एक पल में निगल गया और जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उसे पकड़ा वो पहले की तरह ही एक लाठी यानि असा बन गया,जादूगर हैरान रह गए और फौरन समझ गये कि ये जादू नहीं था बल्कि हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम जो कुछ कह रहे हैं वो हक़ है और सबके सब अल्लाह पर ईमान ले आये और वहीं सज्दे में झुक गये,उल्माये किराम फरमाते हैं कि जादूगर आये तो थे हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से लड़ने के लिए मगर वो ताज़ीम और अदब वाले थे जैसा कि उन्होंने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से पहले इजाज़त मांगी और तब मुक़ाबले में आये एक नबी का यही अदब करना मौला तआला को पसंद आया और उन सबको ईमान जैसी नेअमत से नवाज़ दिया,इधर जब फिरऔन ने ये मंज़र देखा तो मारे गज़ब के उन सबको धमकी देते हुए बोला कि अगर तुम लोग इससे बाज़ नहीं आये तो मैं तुम्हारे हाथ पैर कटवाकर तुमको सूली पर चढ़वा दूंगा,मगर उसकी धमकी का भी उन नव मुस्लिमो पर कोई असर ना हुआ और वो बोले कि हम अपने ईमान से फिरने वाले नहीं हैं तुझे जो करना है करले तो फिरऔन मलऊन ने उन सबको शहीद करवा दिया,मगर डर के मारे हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को कुछ ना कहा और उन्हें जाने दिया कि कहीं उनका असा अज़्दहा बनकर उसको ना निगल जाये पर जब उसके दरबारियों ने शिकायत की तो वो बनी इस्राईल पर ज़ुल्म ढाने लगा और उनके बच्चो और मर्दो को क़त्ल करने लगा और औरतों को छोड़ देता ताकि उसकी सल्तनत को खतरा ना रहे,जब उसका ज़ुल्म हद्द से आगे बढ़ गया तो बनी इस्राईलियों ने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से दुआ के लिए कहा कि उनको निजात मिले तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम फिरऔन के ज़ुल्म से बचने के लिए उस पर अज़ाब की दुआ फरमाते हैं जो कि क़ुबूल होती है

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 291-306

कंज़ुल ईमान – तो भेजा हमने उन पर तूफान और टिड्डी और घुन (किलनी,जूंवे) और मेंढक और खून जुदा जुदा निशानियां तो उन्होंने तकब्बुर किया और वो मुजरिम कौम थी

📕 पारा 8,सूरह ऐराफ,आयत 133

तूफान – फिरऔनियों पर पहला अज़ाब ये आया कि अब्र छा गया चारों तरह अंधेरा ही अंधेरा हो गया इस क़दर कसरत से बारिश हुई कि तमाम फिरऔनियों की गर्दनो तक पानी पहुंच गया,जो उसमे बैठता डूब जाता हत्ता कि कुछ ना कर सकता था युंही 7 दिन गुज़र गया और खुदा की क़ुदरत देखिये कि अगल बगल जो मकान बनी इस्राइलियों के होते उनमे पानी का नामो निशान तक ना था,जब 7 दिन गुज़र गए तो सब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास पहुंचे और इससे निजात के लिए सिफारिश की और कहा कि ये मुसीबत टल जायेगी तो ज़रूर हम आप पर ईमान ले आयेंगे तब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उनके लिए दुआ फरमाई और बारिश रुक गयी,बारिश के सबब ज़मीन सर सब्ज़ हो गयी खेतियां अच्छी हुई पेड़ों में खूब फल लग गये तो फिरऔनी कहने लगे कि ये पानी अज़ाब नहीं बल्कि नेअमत था लिहाज़ा हमको हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास जाने की कोई ज़रूरत नहीं,इसी तरह खैरियत से एक महीना गुज़रा फिर दूसरा अज़ाब आया

टिड्डी

📕 रुहुल बयान,जिल्द 1,सफह 768

================================
To Be Continued
================================

  • Hazrat moosa alaihissalam aur wo tamam jadugar ek bade maidan me jama ho gaye aur charon taraf se khalqat unhein dekhne ke liye ikattha ho gayi,pahle to hazrat moosa alaihissalam ne unko tableeg ki wo isse baaz rahein magar jab wo na maane to muqaabla shuru hua,jaadugar apne saath 300 oonto par rassiyan aut lathiyan laadkar laaye the wo sab maidan me laayi gayi to jadugaron ne hazrat moosa alaihissalam se kaha ki pahle aap asa dalenge ya hum apni lathiyan aur rassiyan daalein to hazrat moosa alaihissalam ne pahle unko aisa karne ki ijazat di,un logon ne jab apni rassiyan aur lathiyan maidan me chhodi to sab ke sab saamp ban gaye aur poora maidan saampo se bhar gaya log darr ke maare bad hawaas ho gaye tab hazrat moosa alaihissalam ne apna asa zameen par daal diya jo ek bada azdaha ban gaya aur dekhte hi dekhte saare saampo ko ek pal me nigal gaya aur jab hazrat moosa alaihissalam ne use pakda wo pahle ki tarah hi ek laathi yaani asa ban gaya,jaadugar hairaan rah gaye aur fauran samajh gaye ki ye jaadu nahin tha balki hazrat moosa alaihissalam jo kuchh kah rahe hain wo haq hai aur sabke sab ALLAH par imaan le aaye aur wahin sajde me jhuk gaye,ulmaye kiraam farmate hain ki jaadugar aaye to the hazrat moosa alaihissalam se ladne ke liye magar wo taazeem aur adab waale the jaisa ki unhone hazrat moosa alaihissalam se pahle ijazat maangi aur tab muqaable me aaye ek nabi ka yahi adab karna maula ko pasand aaya aur un sabko imaan jaisi nemat se nawaaz diya,idhar jab firaun ne ye manzar dekha to maare gazab ke un sabko dhamki dete hue bola ki agar tum log isse baaz nahin aaye to main tumhare haath pair katwakar tumko sooli par chadhwa dunga,magar uski dhamki ka bhi un nau muslimo par koi asar na hua aur wo bole ki hum apne imaan se phirne waale nahin hain tujhe jo karna hai karle to firaun maloon ne un sabko shaheed karwa diya,magar darr ke maare hazrat moosa alaihissalam ko kuchh na kaha aur unhein jaane diya ki kahin unka asa azdaha bankar usko na nigal jaaye par jab uske darbariyon ne shikayat ki to wo bani israyil par zulm dhaane laga aur unke bachcho aur mardo ko qatl karne laga aur aurato ko chhod dete taaki uski saltanat ko khatra na rahe,aur jab uska zulm hadd se aage badh gaya to bani israyiliyon ne hazrat moosa alaihissalam se dua ke liye kaha ki unko nijaat mile to hazrat moosa alaihissalam firaun ke zulm se bachne ke liye us par azaab ki dua farmate hain jo ki qubool hoti hai

📕 Tazkiratul ambiya,safah 291-306

KANZUL IMAAN – To bheja humne unpar toofan aur tiddi aur ghun (kilni,junwe) aur mendhak aur khoon juda juda nishaniyan to unhone takabbur kiya aur wo mujrim qaum thi

📕 Paara 8,suraf eraaf,aayat 133

Toofan – Firauniyon par pahla azaab ye aaya ki abr chha gaya chaaron tarah andhera hi andhera ho gaya is qadar kasrat se baarish huyi ki tamam firauniyon ke gardano tak paani pahunch gaya,jo usme baithta doob jaata hatta ki kuchh na kar sakte the yunhi 7 din guzar gaya aur khuda ki qudrat dekhiye ki agal bagal jo makaan bani israyiliyon ke hote unme paani ka naamo nishaan tak na tha,jab 7 din guzar gaye to sab hazrat moosa alaihissalam ke paas pahuche aur isse nijaat ke liye sifarish ki aur kaha ki ye musibat tal jayegi to zaroor hum aap par imaan le aayenge tab hazrat moosa alaihissalam ne unke liye dua farmayi aur baarish ruk gayi,baarish ke sabab zameen sar sabz ho gayi khetiyan achchhi huyi pedon me khoob fal lag gaye to firauni kahne lage ki ye paani azaab nahin balki nemat tha lihaza humko hazrat moosa alaihissalam ke paas jaane ki koi zarurat nahin,isi tarah khariyat se ek mahina guzra phir doosra azaab aaya

Tiddi

📕 Ruhul bayaan,jild 1,safah 768

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.