Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-11

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-11
================================

  • हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि मेरा परवरदिगार वो है जिसने कायनात की हर चीज़ को इस तरह पैदा किया है कि वो अपना वज़ीफये हयात और मक़सदे तखलीक़ बहुस्नो खूबी अदा कर सके फिर उसे इतनी सूझ बूझ भी अता कर दी कि वो सही तौर पर अपनी क़ुव्वतो से काम ले सके,परिंदों को पर बख्शे और फिर उन्हें उड़ने का सलीका भी खुद ही सिखाया,मछली को ऐसा जिस्म दिया कि वो गहरे दरियाओं और खतरनाक समन्दरों में आसानी से तैर सके,गोश्त खोर दरिन्दो के पंजे और दांत ऐसे बनाये कि वो अपना शिकार पकड़ सकें,ऊँट की कामत को बुलंद किया तो उसकी गर्दन भी इतनी लम्बी बनाई ताकि वो ऊंचे दरख्तों से पत्ते भी खा सके और ज़मीन का पानी भी पी सके,सहरा में जहां पानी नहीं मिलता वहां ऐसे दरख़्त उगाये जिनकी जड़ें इतनी लम्बी कर दी कि वो ज़मीन के नीचे के पानी से अपनी खुराक हासिल कर सकें,ज़मीन के हर हिस्से में पैदा होने वाले तमाम हैवानात को वहां के मौसम के हिसाब से लिबास भी दिया और रिज़्क़ भी,और फिर इंसान को दी हुई सलाहियतों का क्या कहना गर्ज़ कि हर चीज़ को ऐसी शक्लो सूरत बख्शी कि फायदे को हासिल करना और क़ुव्वतों से काम लेना सब कुछ सिखा दिया,मशरिक़ से सूरज का निकलना मग़रिब में ग़ुरूब होना,हर मौसम का अपने वक़्त पर आना बारिश का बरसना हवाओं का चलना ये सब उसके क़ब्ज़ये क़ुदरत में है और वही अल्लाह ज़मीनों आसमान के दर्मियान जो कुछ है सबका खालिक़ व मालिक है,जब फिरऔन ने आपकी ये दलील सुनी तो लाजवाब होकर रह गया और आप पर ताना देते हुए बोला कि क्या मैंने तुम्हे बचपन में नहीं पाला और तुमने कई बरस हमारे यहां नहीं गुज़ारे और क्या तुम ना शुक्रे नहीं हो मआज़ अल्लाह,इस पर आप अलैहिस्सलाम फरमाते है कि तब मुझे खबर ना थी और जब खबर हुई तो मैंने तेरा घर छोड़ दिया और किस बात का एहसान मुझ पर जतला रहा है जबकि तूने खुद ही तमाम बनी इस्राईलियों को क़ैद करके गुलाम बना रखा है और तूने वही माल मुझ पर खर्च किया जो तूने जबरन मेरी क़ौम से छीना और अगर कुछ एहसान होता भी तो भी तेरे ज़ुल्मों ने तेरे सारे ऐहसान को तबाहो बर्बाद कर दिया होता,अब जब फिरऔन ने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से खरी खरी सुनी तो कहने लगा कि अगर तुमने मेरे सिवा किसी और को खुदा ठहराया तो मैं तुम्हे क़ैद कर दूंगा इस पर आप अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि मैं खुदा की तरफ से तेरे लिए निशानी लाया हूं अगर तू कहे तो मैं अपना मोजज़ा ज़ाहिर करूं उसके हां कहने पर आपने अपना असा ज़मीन पर डाल दिया देखते ही देखते वो एक बड़ा अज़्दहा बन गया और अपनी दुम पर खड़ा हो गया जिसकी बुलंदी 1 मील तक हो गई अपने जबड़े को खोल दिया उसके दोनों जबड़ों के दर्मियान 120 फिट का फासला था नीचे वाले हिस्से को ज़मीन पर रखा और ऊपर वाले को महल की दीवार और छत तक पहुंचा दिया यानि पूरे महल को अपने जबड़े में ले लिया जब फिरऔन ने ये देखा तो मारे डरके वहां से हवा छोड़ता हुआ भागा और उसी भगदड़ में उसके 25000 आदमी दबकर मर गये,फिरऔन बोला कि इसे पकड़ो मैं तुम पर ईमान ले आऊंगा जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उसे पकड़ा तो वो वापस आपका असा बन गया,तब फिरऔन और उसके दरबारी बोले कि ये तो जादू है तो अब इनका मुक़ाबला अपने बड़े जादूगरों से कराना होगा आप अलैहिस्सलाम इस पर भी राज़ी हो गये

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 287-290

  • ये मुक़ाबला शहर अस्कंदारिया में हुआ और ये दिन सनीचर मुहर्रम की दसवीं थी

📕 खज़ाईनुल इरफान,सफह

  • कितने जादूगर आपसे मुक़ाबले में आये थे उसमे काफी इख्तिलाफ है मगर मशहूर 80000 है

📕 तफसीरे सावी,जिल्द 3,सफह 79

================================
To Be Continued
================================

  • Hazrat moosa alaihissalam farmate hain ki mera parwar digaar wo hai jisne qaaynat ki har cheez ko is tarah paida kiya hai ki wo apna wazifaye hayaat aur maqsade takhleeq bahusn o khoobi ada kar sake phir use itni soojh boojh bhi ata kar di ki wo sahi taur par apni quwwato se kaam le sake,parindo ko par bakhshe aur phir unhein udne ka saliqa bhi khud hi sikhaya,machhli ko aisa jism diya ki wo gahre dariyayo aur khatarnaak samandaro me aasani se tair sake,gosht khor darindo ke panje aur daant aise banaye ki wo apna shikaar pakad saken,oont ki kaamat ko buland kiya to uski gardan bhi itni lambi banayi taaki wo oonche darakhto se patte bhi kha sake aur zameen ka paani bhi pi sake,sahra me jahan paani nahin milta wahan aise darakht ugaaye jinki jaden itni lambi kar di ki wo zameen ke neeche ke paani se apni khuraq haasil kar saken,zameen ke har hisse me paida hone waale tamam haiwanat ko wahan ke mausam ke hisaab se libaas bhi diya aur rizq bhi,aur phir insaan ko di huyi salahiyato ka kya kahna garz ki har cheez ko aisi shkalo surat bakhshi ki faayde ko haasil karna aur quwwaton se kaam lena sab kuchh sikha diya,mashriq se suraj ka nikalna magrib me guroob hona,har mausam ka apne waqt par aana baarish ka barasna hawaon ka chalna ye sab uske qabzaye qudrat me hai aur wahi ALLAH zameeno aasman ke darmiyan jo kuchh hai sabka khaaliq wa maalik hai,jab firaun ne aapki ye daleel suni to lajawab hokar rah gaya aur aap par taana dete hue bola ki kya maine tumhe bachpan me nahin paala aur tumne kayi baras hamare yahan nahin guzaare aur kya tum na shukre nahin ho maaz ALLAH,is par aap alaihissalam farmate hai ki tab mujhe khabar na thi aur jab khabar huyi to maine tera ghar chhod diya aur kis baat ka ehsaan mujhpar jatla raha hai jabki tune khud hi tamam bani israyilion ko qaid karke ghulam bana rakha hai aur tune wahi maal mujhpar kharch kiya jo tune jabran meri qaum se chheena aur agar kuchh ehsaan hota bhi to bhi tere zulmon ne tere saare ehsaan ko tabaho barbaad kar diya hota,ab jab firaun ne hazrat moosa alaihissalam se khari khari suni to kahne laga ki agar tumne mere siwa kisi aur ko khuda thahraya to main tumhe qaid kar doonga is par aap alaihissalam farmate hain ki main khuda ki taraf se tere liye nishaani laaya hoon agar tu kahe to main apna mojza zaahir karun uske haan kahne par aapne apna asa zameen par daal diya dekhte hi dekhte wo ek bada azdaha ban gaya uski bulandi 1 meel tak ho gayi aur apni dum par khada hokar apne jabde ko khol diya uske dono jabdon ke darmiyan 120 fitt ka faasla tha neeche waale hisse ko zameen par rakha aur oopar waale ko mahal ki deewar aur chhat tak pahuncha diya yaani poore mahal ko apne jabde me le liya jab firaun ne ye dekha to maare darke wahan se hawa chhodta hua bhaaga aur usi bhagdad me uske 25000 aadmi dabkar mar gaye,firaun bola ki ise pakdo main tumpar imaan le aaunga jab hazrat moosa alaihissalam ne use pakda to wo waapas aapka asa ban gaya,tab firaun aur uske darbaari bole ki ye to jaadu hai to ab inka muqaabla apne bade jadugaron se karana hoga aap alaihissalam ispar bhi raazi ho gaye

📕 Tazkiratul ambiya,safah 287-290

  • Ye muqaabla shahar askandariya me hua aur ye din sanichar muharram ki daswi thi

📕 Khazayenul irfan,safah

  • Kitne jaadugar aapse muqaable me aaye the usme kaafi ikhtilaf hai magar raayaj 80000 hai

📕 Tafseere saavi,jild 3,safah 79

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.