Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-10

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-10
================================

  • हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने मौला तआला से 124000 बातें की और आपने उन्हें अपने पूरे जिस्म से समाअत किया गोया कि आपका पूरा जिस्म कान बन गया,उस वक़्त हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम भी वहीं हाज़िर थे मगर उन्होंने कुछ ना सुना

📕 नुज़हतुल मजालिस,6,सफह 93/117

  • मौला तआला ने सबसे पहले अपनी वहदानियत का ऐलान किया फिर नमाज़ का हुक्म दिया फिर क़यामत का ज़िक्र फरमाया और उसे छुपाने का हुक्म दिया फिर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से पूछा कि ये तुम्हारे दायें हाथ में क्या है तो आप अलैहिस्सलाम अर्ज़ करते हैं कि ये मेरा असा है हालांकि जवाब काफी था मगर आपने अपने रब से गुफ्तुगू को आगे बढ़ाते हुए कहा कि मैं इससे सहारा लेता हूं और दरख्तों से पत्ते झाड़कर अपने जानवरों को खिलाता हूं और भी काम इससे लिया करता हूं,रब के पूछने में हिकमत ये थी कि अभी जब ये असा अज़दहा बनेगा तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को खौफ लाहिक़ ना हो कि उन्हें याद रहे कि ये अज़्दहा वही असा है जिसको अभी उन्होंने फेंका,फिर जब मौला तआला ने असा फेंकने का हुक्म दिया तो वो असा एक अज़दहा यानि बाहर बड़ा सांप बन गया और जब उसे पकड़ा तो वो फिर से असा बन गया ये वो मोजज़ा था जो आपको अता किया गया,इस असे में और भी बहुत सारी खूबियां थी मसलन
  1. जब आप सफर में होते तो ये असा आपसे बातें करता चलता ताकि आपको तन्हाई का एहसास ना हो
  2. जब कभी आपको भूख और प्यास लगती और खाना पानी पास ना होता तो ज़मीन पर असा मारने से एक दिन का खाना निकल आता और पानी भी
  3. जब कभी कुंअे से पानी निकालने की ज़रूरत पड़ती तो यही असा इतना लम्बा हो जाता कि कुंअे की तह में जाकर और खुद डोल बनकर पानी निकाल लाता हालांकि उसकी लम्बाई आपके कद के बराबर यानि 10 हाथ थी
  4. जब कभी आपको फल खाने की हाजत होती तो आप इसे ज़मीन में गाड़ देते तो पलक झपकते ही ये दरख़्त बन जाता जिसमें फल और फूल सब खिल जाते
  5. रात की अंधेरी में इससे रोशनी फूट पड़ती
  6. अगर कोई दुश्मन आ जाता तो यही असा उससे लड़ने लग जाता और ग़ालिब आता

📕 जलालैन,हाशिया 20,सफह 261

  • दूसरा मोजज़ा आपको मौला तआला ने ये अता किया कि आप अपना बायां हाथ बगल में दबाकर जब बाहर निकालते तो वो हाथ खूब चमकदार हो जाता जिससे रौशनी निकलती,फिर मौला तआला ने उनको फिरऔन के पास जाने और उसे तब्लीग़ करने का हुक्म दिया जिस पर आप अर्ज़ करते हैं कि मेरा सीना खोल दे और मेरा काम आसान कर और मेरी ज़बान की गिरह खोल ताकि वो मेरी बात को समझे और मेरे भाई को मेरा वज़ीर कर दे,मौला तआला ने आपकी सारी दुआयें क़ुबूल फरमाई और ज़बान की लुक़नत को दूर करके हज़रत हारून अलैहिस्सलाम को आपका वज़ीर यानि साथी बना दिया और आपको हुक्म दिया कि फिरऔन से नर्म बात करना ताकि वो तुम्हारी बात को समझे और ये ताक़ीद इसलिए की क्योंकि मौला तआला को आपके जलाल का इल्म था,फिर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम वहां से अपने घर लौट आये सबसे मुलाकात की और हज़रत हारून अलैहिस्सलाम को साथ लेकर फिरऔन के पास पहुंचे और उसे उसके खुदाई दावे से बाज़ आने और एक अल्लाह पर ईमान लाने को कहा जिस पर वो चौंका और बोला कि “क्या मेरा भी कोई रब है नहीं बल्कि मैं ही सब मिस्रियों का रब हूं मेरा कोई रब नहीं हो सकता ज़रा अपने रब की हक़ीक़त तो बताओ तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने वो जवाब दिया कि आपने समंदर को कूज़े में बन्द कर दिया,फरमाया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 284-287

================================
To Be Continued
================================

  • Hazrat moosa alaihissalam ne maula taala se 124000 baatein ki aur aapne unhein apne poore jism se sama’at kiya goya ki aapka poora jism kaan ban gaya,us waqt hazrat jibreel alaihissalam bhi wahin haazir the magar unhone kuchh na suna

📕 Nuzhatul majalis,6,safah 93/117

  • Maula taala ne sabse pahle apni wahdaniyat ka elaan kiya phir namaz ka hum diya phir qayamat ka zikr farmaya aur use chhupane ka hukm diya phir hazrat moosa alaihissalam se poochha ki ye tumhare daayein haath me kya hai to aap alaihissalam arz karte hain ki ye mera asa hai halaanki jawab kaafi tha magar aapne apne rub se guftugu ko aage badhate hue kaha ki main isse sahara leta hoon aur darakhton se patte jhaadkar apne jaanwaro ko khilata hoon aur bhi kaam isse liya karta hoon,rub ke poochhne me hikmat ye thi ki abhi jab ye asa azdaha banega to hazrat moosa alaihissalam ko khauff laahiq na ho ki unhein yaad rahe ki ye azdaha wahi asa hai jisko abhi unhone phenka,phir jab maula taala ne asa phenkne ka hum diya to wo asa ek azdaha yaani bahur bada saanp ban gaya aur jab use pakda to wo phir se asa ban gaya ye wo mojza tha jo aapko ata kiya gaya,is ase me aur bhi bahut saari khubiyaan thi maslan
  1. Jab aap safar me hote to ye asa aapse baatein karta chalta taaki aapko tanhayi ka ehsaas na ho
  2. Jab kabhi aapko bhookh aur pyaas lagti aur khaana paani paas na hota to zameen par asa maarne se ek din ka khaana nikal aata aur paani bhi
  3. Jab kabhi kunwe se paani nikaalne ki zarurat padti to yahi asa itna lamba ho jaata ki kunwe ki tah me jaakar aur khud dol bankar paani nikaal laata halaani uski labmayi aapke qad ke barabar yaani 10 haath thi
  4. Jab kabhi aapko phal khaane ki haajat hoti to aap ise zameen me gaad dete to palak jhapakte hi ye darakht ban jaata jisme phal aur phool sab khil jaate
  5. Raat ki andheri me isse raushni phoot padti
  6. Agar koi dushman aa jaata to yahi asa usse ladne lag jaata aur gaalib aata

📕 Jalalain,hashia 20,safah 261

  • Doosra mojza aapko maula taala ne ye ata kiya ki aap apna baayan haath bagal me dabakar jab baahar nikaalte to wo haath khoob chamakdaar ho jaata jisse raushni nikalti,phir maula taala ne unko firaun ke paas jaane aur use tableeg karne ka hum diya jispar aap arz karte hain ki mera seena khol de aur mera kaam aasaan kar aur meri zabaan ki girah khol taaki wo meri baat ko samjhe aur mere bhai ko mera wazeer kar de,maula taala ne aapki saari duaein qubool farmayi aur zabaan ki luknat ko door karke hazrat haroon alaihissalam ko aapka wazeer yaani saathi bana diya aur aapko hum diya ki firaun se narm baat karna taaki wi tumhari baat ko samjhe aur ye taqeed isliye ki kyunki maula taala to aapke jalaal ka ilm tha,phir hazrat moosa alaihissalam wahan se apne ghar laut aaye sabse mulakaat ki aur hazrat haroon alaihissalam ko saath lekar firaun ke paas pahunche aur use uske khudayi daawe se baaz aane aur ek ALLAH par imaan laane ko kaha jispar wo chaunka aur bola ki “kya mera bhi koi rub hai nahin balki main hi sab misriyon ka rub hoon mera koi rub nahin ho sakta zara apne rub ki haqiqat to batao to hazrat moosa alaihissalam ne wo jawab diya ki aapne samandar ko koze me bund kar diya,farmaya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 284-287

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.