Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-09

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-09
================================

ⓩ आग की 4 किसमें होती है

  1. पहली वो जो खाती है पीती नहीं ये दुनिया की आग है
  2. दूसरी वो जो खाती पीती दोनों है ये पेट की आग है
  3. तीसरी वो जो ना खाती है ना पीती है ये वो आग है जिसे हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने देखा
  4. चौथी वो जो पीती है पर खाती नहीं और जिसका ज़िक्र क़ुर्आन मुक़द्दस में मौला तआला युं फरमाता है कि

कंज़ुल ईमान – जिसने तुम्हारे लिए हरे पेड़ में आग पैदा की जभी तुम उससे सुलगाते हो

📕 पारा 23,सूरह यासीन,आयत 80

  • अरब के इलाको में 2 दरख़्त पाये जाते हैं एक का नाम मर्ख और दूसरे का नाम अफार है जब उन दोनों की शाखों को तोड़कर रगड़ा जाये तो उसमे से आग निकलती है हालांकि ये तर रहती हैं यहां तक कि पानी टपकता रहता है,इसमें मौला तआला की क़ुदरत की अज़ीम निशानी है कि आग और पानी को एक ही जगह इकठ्ठा कर दिया है

ⓩ एक और लिहाज़ से भी आग की 4 किसमें बताई गयी है

  1. एक वो आग जिसमे रौशनी तो थी मगर जलाने की तासीर नहीं थी ये वो आग थी जिसे हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने देखा
  2. दूसरी वो जिसमे जलाने की ताक़त तो होगी मगर उसमे रौशनी नहीं ये जहन्नम की आग है
  3. तीसरी वो जिसमे रौशनी भी है और जलाने की ताक़त भी ये दुनिया की आग है
  4. चौथी वो कि जिसमे ना तो रौशनी है और ना जलाने की ताक़त ये उस पेड़ की आग है जो उसमें मौजूद तो है मगर जब तक उनको आपस में ना रगड़ा जाये ज़ाहिर नहीं होती

ⓩ हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम जितना उस दरख़्त के पास जाते वो उतना ही दूर हो जाता और जब रुक जाते तो वो भी क़रीब हो जाता आप उसको देखकर खयालों में गुम ही थे कि अचानक उस दरख़्त से आवाज़ आई जिसको क़ुर्आन में युं फरमाया गया

कंज़ुल ईमान – फिर जब आग के पास ज़ाहिर हुआ निदा की गई मैदान के दाहिने किनारे से बरकत वाले मक़ाम में पेड़ से कि ऐ मूसा बेशक मैं ही हूं अल्लाह,रब सारे जहां का.और ये कि डाल दे अपना असा फिर जब मूसा ने उसे देखा लहराता हुआ गोया सांप है पीठ फेरकर चला और मुड़कर ना देखा,ऐ मूसा सामने आ और डर नहीं बेशक तुझे अमान है.अपना हाथ गिरेहबान में डाल निकलेगा सफेद चमकता बे ऐब,और अपना हाथ अपने सीने पर रखले खौफ दूर करने को तो ये 2 छतें हैं तेरे रब की तरफ फिरऔन और उसके दरबारियों की तरफ बे शक वो बे हुक्म हैं

📕 पारा 20,सूरह क़सस,आयत 30-32

कंज़ुल ईमान – फिर जब आग के पास आया निदा फरमाई गयी कि ऐ मूसा.बेशक मैं तेरा रब हूं तो तू अपने जूते उतार डाल,बेशक तू पाक जंगल तुवा में है.और मैंने तुझे पसंद किया अब कान लगाकर सुन जो तुझे वही होती है

📕 पारा 16,सूरह ताहा,आयत 11-13

  • हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने आवाज़ सुनते ही पहचान लिया कि ये कलाम किसी मख्लूक़ का नहीं हो सकता हालांकि आवाज़ पेड़ से आ रही थी फिर भी आपने जान लिया कि ये मेरे रब की आवाज़ है ये आपका मोजज़ा था,आवाज़ के साथ साथ आपने फरिश्तों की तस्बीहात सुनी और आसमान तक नूर की झड़ी देखी तो अपनी आंखों पर हाथ रखकर बन्द का लिया और अर्ज़ की ऐ मेरे रब मैं तेरी खिदमत में हाज़िर हूं तब मौला तआला फरमाता है कि आप इस वक़्त पाक जंगल में हैं इसलिए अपने जूते उतार दें,फुक़्हा जूते उतारने की 3 वजह बयान करते हैं
  1. पहली तो आयत से ज़ाहिर है कि आप पाक मक़ाम में थे रब की तजल्लियत का ज़हूर हो रहा था और आप अपने रब से हम कलाम थे लिहाज़ा ये अदब के खिलाफ था इसलिए हुक्म हुआ
  2. दूसरा ये कि चुंकि मक़ाम बरकत वाला था इसलिये हुक्म दिया कि अपने जूते उतार दो ताकि तुम्हारे पैरों को इसकी बरकत हासिल हो जाये
  3. तीसरी ये कि ख्वाब में जूता देखना औरत और औलाद से ताबीर रखता है मतलब ये हुआ कि आप अभी भी अपनी बीवी और बच्चे के ख्याल में हैं लिहाज़ा उसको तर्क करें और पूरी तरह से मेरी तरफ मुतवज्जह हो जायें

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 280-281

================================
To Be Continued
================================

ⓩ Aag ki 4 kismein hoti hai

  1. Pahli wo jo khaati hai peeti nahin ye duniya ki aag hai
  2. Doosri wo jo khaati peeti dono hai ye peit ki aag hai
  3. Teesri wo jo na khaati hai na peeti hai ye wo aag hai jise hazrat moosa alaihissalam ne dekha
  4. Chauthi wo jo peeti hai par khaati nahin aur jiska zikr quran muqaddas me maula taala yun farmata hai ki

KANZUL IMAAN – Jisne tumhare liye hare peid me aag paida ki jabhi tum usse sulgate ho

📕 Paara 23,surah yaseen,aayat 80

  • Arab ke ilaaqo me 2 darakht paaye jaate hain ek ka naam markh aur doosre ka naam afaar hai jab un dono ki shaakhon ko todkar ragda jaaye to usme se aag nikalti hai halaanki ye har waqt tar rahti hain yahan tak ki paani tapakta rahta hai,isme maula taala ki qudrat ki azeem nishaani hai ki aag aur paani ko ek hi jagah ikattha kar diya hai

ⓩ Ek aur lihaaz se bhi aag ki 4 kismein batayi gayi hai

  1. Ek wo aag jisme raushni to thi magar jalaane ki taseer nahin thi ye wo aag thi jise hazrat moosa alaihissalam ne dekha
  2. Doosri wo jisme jalaane ki taaqat to hogi magar usme raushni nahin ye jahannam ki aag hai
  3. Teesri wo jisme raushni bhi hai aur jalaane ki taaqat bhi ye duniya ki aag hai
  4. Chauthi wo ki jisme na to raushni hai aur na jalaane ki taaqat ye us peid ki aag hai jo usme maujood to hai magar jab tak unko aapas me na ragda jaaye zaahir nahin hoti

ⓩ Hazrat moosa alaihissalam jitna us darakht ke paas jaate wo utna hi door ho jaata aur jab ruk jaate to wo bhi qareeb ho jaata aap usko dekhkar khayalo me gum hi the ki achanak us darakht se aawaz aayi jisko quran me yun farmaya gaya

KANZUL IMAAN – Phir jab aag ke paas zaahir hua nida ki gayi maidaan ke dahine kinare se barkat waale maqaam me peid se ki ai moosa beshak main hi hoon ALLAH,rub saare jahaan ka.aur ye ki daal de apna asa phir jab moosa ne use dekha lahrata hua goya saanp hai peeth pherkar chala aur mudkar na dekha,ai moosa saamne aa aur darr nahin beshak tujhe amaan hai.apna haath girehban me daal niklega safed chamakta be aib,aur apna haath apne seene par rakhle khauff door karne ko to ye 2 chhatein hain tere rub ki taraf firaun aur uske darbariyon ki taraf be shak wo be hukm hain

📕 Paara 20,surah qasas,aayat 30-32

KANZUL IMAAN – Phir jab aag ke paas aaya nida farmayi gayi ki ai moosa.beshak main tera rub hoon to tu apne joote utaar daal,beshak tu paak jungle tuva me hai.aur maine tujhe pasand kiya ab kaan lagakar sun jo tujhe wahi hoti hai

📕 Paara 16,surah taaha,aayat 11-13

  • Hazrat moosa alaihissalam ne aawaz sunte hi pahchaan liya ki ye kalaam kisi makhlooq ka nahin ho sakta halaanki aawaz peid se aa rahi thi phir bhi aapne jaan liya ki ye mere rub ki aawaz hai ye aapka mojza tha,aawaz ke saath saath aapne farishton ki tasbihaat suni aur aasman tak noor ki jhadi dekhi to apni aankhon par haath rakhkar bund ka liya aur arz ki ai mere rub main teri khidmat me haazir hoon tab maula taala farmata hai ki aap is waqt paak jungle me hain isliye apne joote utaar dein,fuqha joota utaarne ki 3 wajah bayaan karte hain
  1. Pahli ye ki jo aayat se zaahir hai ki aap paak maqaam me rub ki tajalliyat ka zahoor ho raha tha aur aap apne rub se hum kalaam the lihaza ye adab ke khilaf tha isliye hukm hua
  2. Doosra ye ki chunki maqaam barkat waala tha isliye hukm diya ki apne joote utaar do taaki tumhare pairo ko iski barkat haasil ho jaaye
  3. Teesri ye ki khwab me joota dekhna aurat aur aulaad se tabeer rakhta hai matlab ye hua ki aap abhi bhi apni biwi aur bachche ke khayal me hain lihaza usko tark karein aur poori tarah se meri taraf mutawajjah ho jaayein

📕 Tazkiratul ambiya,safah 280-281

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.