Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-08

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-08
================================

  • चुंकि उनके यहां नौकर रखने का रिवाज नहीं था बल्कि ये मश्वरा इसलिए भी था कि उनकी शरीयत के मुताबिक़ किसी को लड़की के मेहर के बदले अपने यहां रखकर उससे काम लेना होता था,लिहाज़ा ये उन लड़कियों का इंतेखाब भी था मगर अर्ज़ अपने बाप से ही किया

ⓩ इससे आजकल की लड़कियां सबक हासिल करें जो अपने वालिदैन के खिलाफ और उनको ज़िन्दगी भर का रोग लगाकर एक सब्ज़ बाग़ दिखाने वाले लड़कों के साथ चली जाती हैं लेकिन ऐसी लड़कियां सौ फीसदी नाकाम ही रहती हैं और उन्हें उम्र भर सिवाये ज़िल्लत के कुछ हासिल नहीं होता,लिहाज़ा औलाद को अपने वालिदैन की मर्ज़ी अपने ऊपर हमेशा लाजिम रखनी चाहिये

  • हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम के कोई बेटा नहीं था इसलिए भी आप उन्हें अपने पास रखने को तैयार हो गए और आपने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से युं कहा जिसको क़ुर्आन में मौला तआला युं इरशाद फरमाता है

कंज़ुल ईमान – कहा मैं चाहता हूं कि अपनी दोनों बेटियों में से एक तुम्हे बियाह दूं इस महर पर कि तुम 8 बरस मेरी मुलाज़िमत करो,फिर अगर 10 बरस कर लो तो ये तुम्हारी तरफ से है,और मैं तुम्हे मशक़्क़त में डालना नहीं चाहता,क़रीब है इन शा अल्लाह तुम मुझे नेकों में पाओगे. मूसा ने कहा ये मेरे और आपके दर्मियान इक़रार हो चुका,मैं इन दोनों में से जो मियाद पूरी कर लूं तो मुझ पर कोई मुतालबा नहीं,और हमारे इस कहे पर अल्लाह का ज़िम्मा है

📕 पारा 19,सूरह क़सस,आयत 27-28

  • तब आपका निकाह हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम की एक बेटी से हो गया और महर के तौर पर आपने वहां रहकर उनकी खिदमत करनी शुरू कर दी मगर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की बीवी के नाम में काफी इख्तिलाफ है बअज़ ने सफूरा लिखा तो बअज़ ने सफुरिया बअज़ ने सफीरा और बअज़ ने सुफरा कहा है

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 415
📕 अलइतक़ान,जिल्द 2,सफह 188
📕 जलालैन,हाशिया 5,सफह 329

  • आपके ज़िम्मे पर उनकी बकरियों को चराना था जिनकी तादाद 12000 थी

📕 जलालैन,हाशिया 1,सफह 329

  • उन बकरियों को हकाने के लिए आपने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को एक असा दिया जो कि सागवान की लकड़ी का था ये असा हज़रत आदम अलैहिस्सलाम जन्नत से लाये थे और ये मुन्तक़िल होता हुआ हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम तक पहुंचा था जिसे आपने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को दे दिया बाद में यही असा आपका मोजज़ा बना,हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम 10 साल तक वहां रहें क्योंकि 8 साल तो आप पर वाजिब थे और 2 साल मुस्तहब और अल्लाह के नबी ने मुस्तहब पर अमल किया,जब 10 साल गुज़र गये तो आप हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम से इजाज़त लेकर अपनी अहलिया के साथ मिस्र की तरफ रवाना हुये ताकि अपनी वालिदा और अपने भाई से मुलाकात कर सकें,कुछ सामान और बकरियां लेकर खतरे के सबब आपने आम रास्ता छोड़कर जंगल का रास्ता इख़्तियार किया मगर हिकमते खुदावन्दी कि आप रास्ता भटक गए सारी बकरियां इधर उधर भाग गई और साज़ो सामान भी बिखर गया यहां तक कि पानी भी खत्म हो गया,सर्दियों का मौसम था और ये जुमा की रात थी और आपकी बीवी हामिला थीं और वहीं एक बेटे को जन्म दिया,आपको तूर की जानिब से कुछ रौशनी नज़र आई तो आप उनको वहीं ठहराकर उसकी तरफ गये कि कहीं से आग मिले तो लाऊं कि कुछ ठण्ड कम हो,जैसे जैसे आप उस रौशनी की जानिब बढ़े तो देखा कि एक आग आहिस्ता आहिस्ता जल रही है मगर जैसे ही पास पहुंचे तो उस आग ने शिद्दत इख़्तियार कर ली और सबसे अजीब मंज़र ये था कि आग पेड़ से निकल रही थी मगर उसके पत्ते हरे कि हरे ही थे

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 278-279

================================
To Be Continued
================================

  • Chunki unke yahan naukar rakhne ka rawaaj nahin tha balki ye mashwara isliye bhi tha ki unki shariyat ke mutabiq kisi ko ladki ke mahar ke badle usse apne yahan rakhkar kaam lena hota tha,lihaza ye un ladkiyon ka intekhab bhi tha magar arz apne baap se hi kiya

ⓩ Isse aajkal ki ladkiyan sabaq haasil karein jo apne waalidain ke khilaf aur unko zindagi bhar ka rog lagakar ek sabz baag dikhane waale ladkon ke saath chali jaati hain lekin aisi ladkiyan sau feesadi naakam hi rahti hain aur unhein umr bhar siwaye zillat ke kuchh haasil nahin hota,lihaza apne walidain ki marzi apne oopar hamesha laazim rakhen

  • Hazrat shoeb alaihissalam ke koi beta nahin tha isliye bhi aap unhein apne paas rakhne ko taiyar ho gaye aur aapne hazrat moosa alaihissalam se yun kaha jisko quran me maula taala yun irshaad farmata hai

KANZUL IMAAN – Kaha main chahta hoon ki apni dono betiyon me se ek tumhe biyah doon is mahar par ki tum 8 baras meri mulazimat karo,phir agar 10 baras kar lo to ye tumhari taraf se hai,aur main tumhe mashaqqat me daalna nahin chahta,qareeb hai in sha ALLAH tum mujhe nekon me paoge. moosa ne kaha ye mere aur aapke darmiyan iqraar ho chuka,main in dono me se jo meeyad poori kar loon to mujhpar koi mutaalba nahin,aur hamare is kahe par ALLAH ka zimma hai

📕 Paara 19,surah qasas,aayat 27-28

  • Tab aapka nikah hazrat shoeb alaihissalam ki ek beti se ho gaya aur mahar ke taur par aapne wahan rahkar unki khidmat karni shuru kar di magar hazrat moosa alaihissalam ki biwi ke naam me kaafi ikhtilaf hai baaz ne safura likha to baaz ne safuriya baaz ne safira aur baaz ne sufra kaha hai

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 415
📕 Alitqaan,jild 2,safah 188
📕 Jalalain,hashia 5,safah 329

  • Aapke zimme par unki bakriyon ko charana tha jinki taadaad 12000 thi

📕 Jalalain,hashia 1,safah 329

  • Un bakriyon ko hakane ke liye aapne hazrat moosa alaihissalam ko ek asa diya jo ki saagwan ki lakdi ka tha ye asa hazrat aadam alaihissalam jannat se laaye the aur ye muntakil hota hua hazrat shoeb alaihissalam tak pahuncha tha jise aapne hazrat moosa alaihissalam ko de diya baad me yahi asa aapka mojza bana,hazrat moosa alaihissalam 10 saal tak wahan rahen kyunki 8 saal to aap par waajib the aur 2 saal mustahab aur ALLAH ke nabi ne mustahab par amal kiya,jab 10 saal guzar gaye to aap hazrat shoeb alaihissalam se ijazat lekar apni ahliya ke saath misr ki taraf rawana hue taaki apni waalida aur apne bhai se mulakat kar saken,kuchh saaman aur bakriyan lekar khatre ke sabab aapne aam raasta chhodkar jungle ka raasta ikhtiyar kiya magar hikmate khudawandi ki aap raasta bhatak gaye saari bakriyan idhar udhar bhaag gayi aur saazo saaman bhi bikhar gaya yahan tak ki paani bhi khatm ho gaya,sardiyon ka mausam tha aur ye juma ki raat thi aur aapki biwi haamila thin aur wahin ek bete ko janam diya,aapko toor ki jaanib se kuchh raushni nazar aayi to aap unko wahin thahrakar uski taraf gaye ki kahin se aag mile to laaon ki kuchh thand kam ho,jaise jaise aap us raushni ki jaanib badhe to dekha ki ek aag aahista aahista jal rahi hai magar jaise hi paas pahunche to us aag ne shiddat ikhtiyar kar li aur sabse ajeeb manzar ye tha ki aag peid se nikal rahi thi magar uske patte hare ki hare hi the

📕 Tazkiratul ambiya,safah 278-279

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.