Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-07

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-07
================================

  • जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उन दोनों की बातें सुनी तो आप कुंअे पर गए और उनके साथ नर्मी बरतने को कहा तो वो लोग कहने लगे कि तुम्हें उनकी इतनी ही फिक्र है तो तुम खुद क्यों नहीं उनके जानवरों को पानी पिला देते और ये कहकर 10 आदमियों ने कुंअे को पत्थर से ढक दिया,जब वो चले गए तो आपने तन्हा उस पत्थर को हटा दिया और अकेले ही पानी का डोल खींचकर उनके जानवरों को सैराब कर दिया,जब वो लोग अपने जानवरों को लेकर चली गईं तो आप एक पेड़ के साये में बैठ गए और मौला से खाने के लिए दुआ की क्योंकि आप पिछले 7 दिनों से पत्ते ही खा रहे थे

ⓩ सुब्हान अल्लाह एक तरफ नबी की बेटियों का किरदार मुलाहज़ा कीजिये कि मर्दों के बीच जाना उन्हें हरगिज़ मंज़ूर ना था इसलिए उनसे दूर खड़ी रहीं और दूसरी तरफ एक नबी की जिस्मानी ताक़त का अंदाजा लगाईये कि 7 दिन के भूखे है मगर अब भी 10 आदमियों से ज़्यादा ताक़त रखते हैं सुब्हान अल्लाह

  • जब हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम की बेटियां रोज़ाना की तरह वक़्त से पहले अपने जानवरों को लेकर आ गईं तो आपने इतनी जल्दी आने का सबब पूछा तो वो कहती हैं कि आज हमें लोगों के बचे हुए पानी का इंतेज़ार नहीं करना पड़ा क्योंकि एक नेक और बहादुर शख्स ने हमारे साथ मेहरबानी की और हमारे जानवरों को पानी पिला दिया,तब हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम उनको फिर वापस भेजते हैं कि जाकर उस शख्स को बुला लायें वो जाती हैं और हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम अलैहिस्सलाम से अर्ज़ करती हैं कि आपको हमारे बाप बुलाते हैं इसलिए कि आपको बदला दें तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम उनके साथ उनके घर की तरफ चल देते हैं

ⓩ यहां एक ऐतराज़ दफअ करता चलुं कि अपनी जवान बेटियों को एक ग़ेर महरम को बुलाने के लिए भेजना क्या एक नबी की शान थी तो इसका जवाब ये है कि आपको वही के ज़रिये ये खबर हो चुकी थी कि अगर चे मेरी बेटियां तक़वा और तहारत गुज़ार हैं तो आने वाला भी अल्लाह का नबी है जो आगे चलकर ऐलाने नुबूवत करेगा और जो मेरा होने वाला दामाद भी है

  • जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम उनके घर पहुंचते हैं तो सलाम कलाम के बाद आपके लिए खाना पेश किया जाता है जिस पर आप अल्लाह की पनाह चाहते हुए उसको खाने से इंकार करते हैं तो हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम इसकी वजह पूछते हैं तो आप कहते हैं कि हमारे खानदान में दीन को दुनिया के बदले नहीं बेचते मतलब ये कि हम किसी की मदद के बदले उजरत नहीं लेते क्योंकि आप यहां एक नबी की ज़ियारत को आये थे ना कि उजरत लेने तो हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम कहते हैं कि ये उजरत नहीं बल्कि हमारे घर कोई भी आता है तो हम मेहमान को खाना खिलाये बगैर नहीं भेजते तब आपके इसरार पर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम खाने को तैयार होते हैं,और पूछने पर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम अपना पूरा वाकिया उनसे बयान कर देते हैं तब हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम कहते हैं कि खौफ न रखो यहां तुम्हे निजात है,ये भी खुदा की कुदरत थी कि इतनी बड़ी फौज रखने वाला फिरऔन खुद 8 दिन की मुसाफत पर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को ना पा सका,इधर खाने के बाद हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम की बेटियां जिन्होंने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की बहादुरी के साथ साथ आपका तक़वा भी मुलाहज़ा किया था कि बात करने में हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की निगाह उठी तक ना थी और उनके साथ घर आने में भी आप आगे आगे चल रहे थे कि उन पर निगाह ना पड़ने पाये तो इसलिए उन्होंने अपने बाप को मशवरा दिया कि आप इनको नौकर रख लें

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 276-277

================================
To Be Continued
================================

  • Jab hazrat moosa alaihissalam ne un dono ki baatein suni to aap kunwe par gaye aur unke saath narmi baratne ko kaha to wo log kahne lage ki tumhein unki itni hi fikr hai to tum khud kyun nahin unke jaanwaro ko paani pila dete aur ye kahkar 10 aadmiyon ne kunwe ko patthar se dhak diya,jab wo chale gaye to aapne tanha us patthar ko hata diya aur akele hi paani ka dol kheenchkar unke jaanwaro ko sairab kar diya,jab wo log apne jaanwaro ko lekar chali gayin to aap ek peid ke saaye me baith gaye aur maula se khaane ke liye dua ki kyunki aap pichhle 7 dino se patte hi kha rahe the

ⓩ Subhaan ALLAH ek taraf nabi ki betiyon ka kirdaar mulahza kijiye ki mardon ke beech jaana unhein hargiz manzoor na tha isliye unse door khadi rahin aur doosri taraf ek nabi ki jismaani taaqat ka andaaza lagaiye ki 7 din ke bhookhe hai magar ab bhi 10 aadmiyon se zyada taaqat rakhte hain subhaan ALLAH

  • Jab hazrat shoeb alaihissalam ki betiyan rozana ki tarah waqt se pahle apne jaanwaro ko lekar aa gayin to aapne itni jaldi aane ka sabab poochha to wo kahti hain ki aaj hamein logon ke bache hue paani ka intezaar nahin karna pada kyunki ek neik aur bahadur shakhs ne hamare saath meharbani ki aur hamare jaanwaro ko paani pila diya,tab hazrat shoeb alaihissalam unko phir waapas bhejte hain ki jaakar us shakhs ko bula layein wo jaati hain aur hazrat moosa alaihissalam alaihissalam se arz karti hain ki aapko hamare baap bulate hain isliye ki aapko badla dein to hazrat moosa alaihissalam unke saath unke ghar ki taraf chal dete hain

ⓩ Yahan ek aitraaz dafa karta chalun ki apne jawaan betiyon ko ek gair mahram ko bulane ke liye bhejna kya ek nabi ki shaan thi to iska jawab ye hai ki aapko wahi ke zariye ye khabar ho chuki thi ki agar che meri betiyan taqwa aur taharat guzaar hain to aane waala bhi ALLAH ka nabi hai jo aage chalkar elaane nubuwat karega aur jo mera hone waala daamad hai

  • Jab hazrat moosa alaihissalam unke ghar pahunchte hain to salaam kalaam ke baad aapke liye khaana pesh kiya jaata hai jispar aap ALLAH ki panaah chahte hue usko khaane se inkaar karte hain to hazrat shoeb alaihissalam iski wajah poochhte hain to aap kahte hain ki hamare khaandan me deen ko duniya ke badle nahin bechte matlab ye ki hum nekiyon ke badle ujrat nahin lete kyunki aap yahan ek nabi ki ziayart ko aaye the na ki ujrat lene to hazrat shoeb alaihissalam kahte hain ki ye ujrat nahin balki hamare ghar koi bhi aata hai to hum mehmaan ko khaana khilaye bagair nahin bhejte tab aapke israar par hazrat moosa alaihissalam khaane ko taiyar hote hain,aur poochhne par hazrat moosa alaihissalam apna poora waqiya unse bayaan kar dete hain tab hazrat shoeb alaihissalam kahte hain ki khauff na rakho yahan tumhe nijaat hai,ye bhi khuda ki qudrat thi ki itni badi fauj rakhne waala firaun bhi khud 8 din ki musafat par hazrat moosa alaihissalam ko na pa saka,idhar khaane ke baad hazrat shoeb alaihissalam ki betiyan jinhone hazrat moosa alaihissalam ki bahaduri ke saath saath aapka taqwa bhi mulahza kiya tha ki baat karne me hazrat moosa alaihissalam ki nigaah uthi tak na thi aur unke saath ghar aane me bhi aap aage aage chal rahe the ki unpar nigaah na padne paaye to isliye unhone apne baap ko mashwara diya ki aap inko naukar rakh lein

📕 Tazkiratul ambiya,safah 276-277

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.