Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-06

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-06
================================

ⓩ हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम बहुत ही ज़्यादा जलाली थे आपके जलाल को समझने के चन्द रिवायतें मुलाहज़ा फरमायें फिर आगे बढ़ते हैं

  • हज़रत हारून अलैहिस्सलाम नबी हैं और हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के बड़े भाई मगर जलाले मूसा की ताब में वो भी आ गये कि जब आप तूर से वापस आये और अपनी क़ौम को बुतपरस्ती करते देखा तो अपना होश खो बैठे और जलाल में उनकी दाढ़ी पकड़कर खींचने लगे जबकि नबी की ताज़ीम फर्ज़ है इसी तरह शबे मेअराज हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम ने सुना कि कोई शख्स तेज़ आवाज़ में रब से बातें कर रहा है तो आपने जिब्रील अलैहिस्सलाम से फरमाया कि ये कौन है जो रब पर तेज़ी करता है तो हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि ये मूसा अलैहिस्सलाम हैं मौला जानता है कि उनके मिज़ाज में तेज़ी है

📕 अलमलफूज़,हिस्सा 3,सफह 6

  • जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की क़ज़ा का वक़्त आया तो हज़रत इस्राईल अलैहिस्सलाम आपकी रूह क़ब्ज़ करने को आयें,आपने जब सुना तो जलाल में आकर उनके मुंह पर ऐसा तमांचा मारा कि उनकी 1 आंख ही फूट गई,इससे पहले हज़रत मलकुल मौत इसी तरह खुले आम रूह क़ब्ज़ करने को आया करते थे मगर इस वाक़िये के बाद पोशीदा तौर पर आने लगे खैर वो वापस खुदा की बारगाह में पहुंचे और अर्ज़ की कि ऐ मौला ये तेरा ऐसा बंदा है जो मरना ही नहीं चाहता और देख कि उसने मेरा क्या हाल किया है तब मौला उनकी आंख को पहले की तरह दुरुस्त कर देता है और फरमाता है कि जाओ और एक बैल साथ लेते जाओ और मेरे बन्दे से कहो कि इस पर हाथ रख दें जितने बाल उनके हाथ के नीचे आयेंगे उतने साल की ज़िन्दगी और बढ़ जायेगी,हज़रत इस्राईल अलैहिस्सलाम गये और इसी तरह बयान कर दिया तब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने कहा कि फिर उसके बाद तो मलकुल मौत कहते हैं कि उसके बाद फिर मैं आऊंगा और आपको ले जाऊंगा तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि जब ले ही जाना है तो अभी ले चलो

📕 मिश्कात,सफह 466
📕 शराहुस्सुदूर,सफह 20

ⓩ ये रिवायतें पढ़कर आपने जान लिया होगा कि मौला तआला ने अपने नबियों को कैसी कैसी ताक़त व क़ुदरत अता फरमाई है कि एक बन्दा जो ख्याल में भी नहीं ला सकता ये वो नुफ़ूसे क़ुदसिया कर गुजऱते हैं,आपके जलाल का ये आलम था कि आपके सर की टोपी या अमामा शरीफ अक्सर बेश्तर जल जाया करता था,खैर वाक़िये की तरफ चलते हैं

  • जब आपको ये खबर हुई कि फिरऔन ने आपके क़त्ल का हुक्म जारी कर दिया है तो आप मदयन की तरफ निकल गये,मदयन से मुराद वो शहर है जहां हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम तशरीफ फरमा थे,ये मिस्र से 8 दिन की मुसाफत पर था और वहां फिरऔन की हुक्मरानी नहीं थी,आप इससे पहले मदयन ना तो कभी गए थे और न आपको उसका रास्ता ही पता था इसलिये मौला तआला ने हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम को आपके पास भेजा जो रास्ते की निशान देही करते,जब आप मदयन की सरहद में दाखिल हुए तो देखा कि एक कुंअे पर बहुत सारे आदमी जमा हैं और अपने जानवरों को पानी पिला रहे हैं वहीं दूर पर 2 औरतें भी अपने जानवरो को लिए खड़ी हैं,आप उनके पास गए और दूर खड़ी रहने का मामला दरयाफ्त किया तो वो अर्ज़ करती हैं कि हमारे बाप बूढ़े हैं और हम खुद अपने जानवरों को पानी पिलाने के लिए लाती हैं मगर हम मर्दों के साथ मिलकर खड़ी नहीं होना चाहती और ना हमारे अंदर उनकी जैसी ताक़त है कि 10 आदमियों से खींचा जाने वाला डोल हम खुद खींच सके इसलिए हम यहां दूर खड़ी हैं कि जब वो लोग अपने जानवरों को पानी पिलाकर चले जायेंगे तो जो पानी हौज़ में बच जायेगा वो हम अपने जानवरों को पिला देंगे

📕 खज़ाईनुल इर्फान,सफह 461
📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 275

================================
To Be Continued
================================

ⓩ Hazrat moosa alaihissalam bahut hi zyada jalali the aapke jalaal ko samajhne ke chund riwaytein mulahza farmayein phir aage badhte hain

  • Hazrate haroon alaihissalam nabi hain aur hazrat moosa alaihissalam ke bade bhai magar jalale moosa ki taab me wo bhi aa gaye ki jab aap toor se waapas aaye aur apni qaum ko butparasti karte dekha to apna hosh kho baithe aur jalaal me unki daadhi pakadkar kheenchne lage jabki nabi ki tazeem farz hai isi tarah shabe meraj huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ne suna ko koi shakhs tez aawaz me rub se baatein kar raha hai to aapne jibreel alaihissalam se farmaya ki ye kaun hai jo rub par tezi karta hai to hazrat jibreel alaihissalam farmate hain ki ye moosa alaihissalam hain maula jaanta hai ki unke mizaaj me tezi hai

📕 Almalfooz,hissa 3,safah 6

  • Jab hazrat moosa alaihissalam ki qaza ka waqt aaya to hazrat israyeel alaihissalam aapki rooh qabz karne ko aayein,aapne jab suna to jalaal me aakar unke munh par aisa tamaancha maara ki unki 1 aankh hi phoot gayi,isse pahle hazrat malkul maut isi tarah khule aam aaya karte the magar is waaqiye ke baad poshidah taur par aane lage khair wo waapas khuda ki baargah me pahunche aur arz ki ki ai maula ye tera aisa banda hai jo marna hi nahin chahta aur dekh ki usne mera kya haal kiya hai tab maula unki aankh ko pahle ki tarah durust kar deta hai aur farmata hai ki jao aur ek bail saath lete jao aur mere bande se kaho ki ispar haath rakh dein jitne baal unke haath ke neeche aayenge utne saal ki zindagi badh jayegi,hazrat israyeel alaihissalam gaye aur isi tarah bayaan kar diya tab hazrat moosa alaihissalam ne kaha ki phir uske baad to malkul maut kahte hain ki uske baad phir main aaunga aur aapko le jaoonga to hazrat moosa alaihissalam farmate hain ki jab le hi jaana hai to abhi le chalo

📕 Mishkat,safah 466
📕 Sharahus sudoor,safah 20

ⓩ Ye riwaytein padhkar aapne jaan liya hoga ki maula taala ne apne nabiyon ko kaisi kaisi taaqat o qudrat ata farmayi hai ki jo bande khayal me nahin la sakte wo nufuse qudsiya kar guzarte hain,aapke jalaal ka ye aalam tha ki aapke sar ki topi ya amama sharif aksar beshtar jal jaaya karta tha,khair waqiye ki taraf chalte hain

  • Jab aapko ye khabar huyi ki firaun ne aapke qatl ka hukm jaari kar diya hai to aap madyan ki taraf nikal gaye,madyan se muraad wo shahar hai jahan hazrat shoeb alaihissalam tashreef farma the,ye misr se 8 din ki musafat par tha aur wahan firaun ki hukmrani nahin thi,aap isse pahle madyan na to kabhi gaye the aur na aapko uska raasta hi pata tha isliye maula taala ne hazrat jibreel alaihissalam ko aapke paas bheja jo raaste ki nishaan dehi karte,jab aap madyan ki sarhad me daakhil hue to dekha ki ek kunwe par bahut saare aadmi jama hain aur apne jaanwaro ko paani pila rahe hain wahin door par 2 aurtein bhi apne jaanwaro ko liye khadi hain,aap unke paas gaye aur door khadi rahne ka maamla daryaaft kiya to wo arz karti hain ki hamare baap boodhe hain aur hum khud apne jaanwaro ko paani pilane ke liye laati hain magar hum mardo ke saath milkar khadi nahin ho sakti aur na hamare andar unki jaisi taaqat hai ki hum 10 aadmiyon se khicha jaane waala dol khud kheench sake isliye hum yahan door khadi hai ki jab wo log apne jaanwaro ko paani pilakar chale jayenge to jo paani hauz me bach jayega wo apne jaanwaro ko pila denge

📕 Khazayenul irfan,safah 461
📕 Tazkiratul ambiya,safah 275

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.