Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-05

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-05
================================

  • हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम 30 साल तक फिरऔन के घर पर रहे इस दौरान आप उसका लिबास पहनते उसकी सवारियों पर सवार होते यहां तक कि आप उसके फरज़न्द हैं यही मशहूर रहा

📕 खज़ाईनुल इर्फान,सफह 437

  • मगर चुंकि आप बचपन से ही अपनी वालिदा के आगोश में आ चुके थे लिहाज़ा उनकी बातें सुनने और समझने का काफी मौका आपको मिला जिससे कि आप सारी सूरते हाल से वाकिफ थे नीज़ आपको आपके आबा व अजदाद की नुबूवत की आगाही भी थी,आप हमेशा फिरऔन को गलत काम से रोका करते थे और धीरे धीरे उसका और तमाम फिरऔनियों का रद्द करना शुरू कर दिया उधर बनी इस्राइल आपकी बात सुनते और मानते,जब फिरऔन ने खुदाई दावा किया तो आपने सख्ती से उसका रद्द किया जिसकी बिना पर आपको मुजरिम और बाग़ी समझा जाने लगा और आपके खिलाफ साजिशें होने लगी तब आपने शहर छोड़ने का फैसला किया और उन सबसे रूपोश हो गए और जब कभी आपको शहर आना होता तो बहुत खूफिया तौर से आप शहर में दाखिल होते,एक बार जब आप किसी काम से शहर आये तो 2 आदमियों को लड़ते हुए देखा जिसमे से एक बनी इस्राईली था और दूसरा फिरऔनी,फिरऔनी दूसरे पर ज़ुल्म कर रहा था जिसकी बिना पर उसने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को देखकर मदद के लिए पुकारा आप उसकी मदद को पहुंचे पहले तो आपने फिरऔनी को ज़ुल्म ना करने से रोका मगर जब वो नहीं माना तो आपने एक घूंसा उसको मारा नबी के मार की ताब वो ना ला सका और वहीं ढेर हो गया,हालांकि आपका इरादा उसके क़त्ल का हरगिज़ ना था मगर रब की मर्ज़ी कि वो मर गया पूरे शहर में कोहराम मच गया कि किसी ने फिरऔनी को क़त्ल कर दिया जब फिरऔन को इत्तेला हुई तो उसने क़ातिल और गवाह दोनों को तलाश करने का हुक्म दिया,इधर इत्तेफाक़ से दूसरे रोज़ फिर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को शहर आना पड़ा आज भी उसी बनी इस्राईली को किसी फिरऔनी से लड़ते हुए देखा तो आपने फरमाया कि तू ही गुमराह है जो रोज़ाना दूसरों से लड़ता रहता है खुद भी मुसीबत में पड़ता है और अपने मददगारों को भी मुसीबत में डालता है,मगर उसको डांटने के बाद आपने सोचा की फिरऔनी हैं तो बड़े ज़ालिम चलो उसकी मदद कर ही दी जाये ये सोचकर आप उसकी तरफ बढ़े कि उसको बचायें मगर उसने गलत फहमी में ये समझा कि आज मुझको मारने के लिए आ रहे हैं लिहाज़ा वो चिल्लाया कि ऐ मूसा अलैहिस्सलाम क्या आज मुझको क़त्ल करना चाहते हो जैसे कल एक फिरऔनी का क़त्ल किया था,अब जब ये खबर मशहूर हुई तो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के क़त्ल का फरमान जारी हो गया और आपकी तलाश होने लगी,एक मुखबिर जो कि था तो फिरऔनी मगर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम पर ईमान लाया था और अपना ईमान छिपाये हुए था उसने आपको आपके क़त्ल के फरमान की खबर दी और आपको मदयन की तरफ जाने का मशवरा दिया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 272-274

================================
To Be Continued
================================

  • Hazrat moosa alaihissalam 30 saal tak firaun ke ghar par rahe is dauran aap uska libaas pahante uski sawariyon par sawaar hote yahan tak ki aap uske farzand hain yahi mashhoor raha

📕 Khazayenul irfan,safah 437

  • Magar chunki aap bachpan se hi apni waalida ke aagosh me aa chuke the lihaza unki baatein sunne aur samajhne ka kaafi mauqa aapko mila jisse ki aap saari surate haal se waaqif the neez aapko aapke aaba wa ajdaad ki nubuwat ki aagahi bhi thi,aap hamesha firaun ko galat kaam se roka karte the aur dheere dheere uska aur tamam firauniyon ka radd karna shuru kar diya udhar bani israyil aapki baat sunte aur maante,jab firaun ne khudayi daawa kiya to aapne sakhti se uska radd kiya jiski bina par aapko mujrim aur baaghi samjha jaane laga aur aapke khilaf sajishen hone lagi tab aapne shahar chhodne ka faisla kiya aur un sabse ruposh ho gaye aur jab kabhi aapko shahar aana hota to bahut khufiya taur se aap shahar me daakhil hote,ek baar jab aap kisi kaam se shahar aaye to 2 aadmiyon ko ladte hue dekha jisme se ek bani israyili tha aur doosra firauni,firauni doosre par zulm kar raha tha jiski bina par usne hazrat moosa alaihissalam ko dekhkar madad ke liye pukaara aap uski madad ko pahunche pahle to aapne firauni ko zulm na karne se roka magar jab wo nahin maana to aapne ek ghoonsa usko maara nabi ke maar ki taab wo na la saka aur wahin dher ho gaya,halaanki aapka iraada uske qatk ka hargiz na tha magar rub ki marzi ki wo mar gaya poore shahar me kohram mach gaya ki kisi ne firauni ko qatl kar diya jab firaun ko ittela huyi to usne qaatil aur gawaah dono ko talaash karne ka hukm diya,idhar ittefaq se doosre roz phir hazrat moosa alaihissalam ko shahar aana pada aaj bhi usi bani israyili ko kisi firauni se ladte hue dekha to aapne farmaya ki tu hi gumrah hai to rozana doosro se ladta rahta hai khud bhi musibat me padta hai aur apne madadgaro ko bhi musibat me daalta hai,magar usko daantne ke baad aapne socha ki firauni hain to bade zaalim chalo uski madad kar hi di jaaye ye sochkar aap uski taraf badhe ki usko bachayein magar usne galat fahmi me ye samjha ki aaj mujhko maarne ke liye aa rahe hain lihaza wo chillaya ki ai moosa alaihissalam kya aaj mujhko qatl karna chahte ho jaise kal ek firauni ka qatl kiya tha,ab jab ye khabar mashhoor huyi to hazrat moosa alaihissalam ke qatl ka farmaan jaari ho gaya aur aapki talaash hone lagi,ek mukhbir jo ki tha to firauni magar hazrat moosa alaihissalam par imaan laaya tha aur apna imaan chhipaye hue tha usne aapko aapke qatl ke farman ki khabar di aur aapko madyan ki taraf jaane ka mashwara diya

📕 Tazkiratul ambiya,safah 272-274

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.