Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-04

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-04
================================

  • फिरऔन की एक बेटी थी जिससे वो बहुत प्यार करता था मगर वो बर्स की बीमारी में मुब्तिला थी,उसके काहिनो और तबीबों ने ये उसे बता रखा था कि जब तक पानी से कोई ऐसा इंसान ना मिले जिसका लोआब इसके बर्स के मक़ाम पर ना मला जायेगा तब तक ये ठीक नहीं होगी और वो इंसान कब मिलेगा उसका दिन तारीख और मक़ाम सब बता रखा था,ये वही दिन था जिस दिन हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम संदूक़ में बहते हुए फिरऔन के महल में दाखिल हुए फिरऔन अपनी बीवी आसिया अपनी बेटी और दीगर गुलामो के साथ पहले से ही दरिया पर इंतेज़ार में था कि अचानक उसे एक संदूक पास आता हुआ दिखाई दिया गुलामो ने वो संदूक़ पानी से निकाला लेकिन उसे खोलने में नाकाम रहे,जब किसी से वो संदूक़ ना खुला तो हज़रते आसिया ने उसे खोला तो उसके अंदर एक रौशन नूर वाला बच्चा मिला अल्लाह ने फिरऔन के दिल में उनकी मुहब्बत डाल दी और उसने उनका लोआब लेकर अपनी बेटी के जिस्म पर मला जिससे कि वो फौरन ठीक हो गयी,इधर आसिया और फिरऔन उन्हें प्यार करने लगे मगर कुछ काहिनो ने खबर दी कि हो सकता है कि ये वही बच्चा हो जो आपकी हलाकत का सबब बने उनकी बात सुनकर फिरऔन हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के क़त्ल पर आमादा हुआ मगर हज़रते आसिया ने ये कहकर उसे रोक दिया कि तुझे इस शहर के बच्चे से खतरा है और ये बच्चा पता नहीं किस शहर का है और कहां से बहता हुआ आया है और हमारे कोई बच्चा भी नहीं है लिहाज़ा हम इसे ही अपना बेटा बना लेते हैं,फिरऔन हज़रत आसिया की ये बात मान गया और इस तरह हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम फिरऔन के घर में दाखिल हुए मगर आप किसी भी औरत का दूध नहीं पी रहे थे लिहाज़ा फिरऔन ने आपके लिए कई सारी दाया को बुलाया मगर आपने किसी का भी दूध नहीं पिया फिरऔन आपकी भूख और प्यास के सबब परेशान था,जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को उनकी मां ने संदूक में रखकर दरिया में डाला था तो साथ ही अपनी बेटी को ये कहकर संदूक़ के पीछे भेजा कि देखो ये किसको मिलता है जब ये संदूक़ फिरऔन के महल में दाखिल हुआ तो वो आकर अपनी मां को बताती हैं अब उनकी मां और सख्त परेशान हुई कि वो तो मेरे बच्चे को हलाक़ कर देगा और अपनी बेटी को उनके पीछे महल भेजा,जब फिरऔन उनके लिए दाया की तलाश में था तभी महफिल में हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की बहन हज़रत मरियम फरमाती हैं कि मै एक दाया को जानती हूं जो इस बच्चे की बेहतरीन परवरिश कर सकती है जब उसने इजाज़त दी तो वो अपनी मां को लेकर महल गई जैसे ही हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम अपनी मां के गोद में आये तो खुश व खुर्रम नज़र आने लगे और दूध भी पिया इस तरह मौला तआला ने अपना वादा पूरा किया और मूसा अलैहिस्सलाम को फिर से आपकी मां के सुपुर्द कर दिया मगर फिरऔन के महल में रहते हुये

तज़किरातुल अम्बिया,सफह 270

  • हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की ज़बान में लुकनत थी इसकी वजह ये थी कि बचपन में एक मर्तबा फिरऔन आपको गोद में लिए हुए था कि अचानक आपने उसकी दाढ़ी खींचकर उसके मुंह पर ऐसा तमांचा मारा कि उसके जिस्म का पूरा जोड़ जोड़ हिल गया,लोगों के कहने पर कि शायद ये वही बच्चा हो जिससे आपको खतरा हो तब उसने फिर हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के क़त्ल का इरादा किया मगर इस बार भी हज़रते आसिया ने ये कहकर उसे रोक दिया कि ये नादान बच्चा है तुझे इत्मिनान नहीं तो खुद आज़माईश कर ले तब फिरऔन ने 2 तश्त मंगवाया एक में दहकते हुए अंगारे रखे और दूसरे में फूल,जब ये तश्त हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के सामने रखा गया तो आपने फूल की तरफ हाथ बढ़ाया मगर फरिश्ते ने आपका हाथ अंगारे में डालकर कुछ अंगारे आपके मुंह में डाल दिये जिससे कि आपकी ज़बान जल गयी और फिरऔन इससे बाज़ आया

तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 414

================================
To Be Continued
================================

  • Firaun ki ek beti thi jisse wo bahut pyar karta tha magar wo bars ki bimari me mubtela thi,uske kaahino aur tabibo ne ye use bata rakha tha ki jab tak paani se koi aisa insaan na mile jiska loaab iske bars ke maqaam par na mala jayega tab tak ye theek nahin hogi aur wo insaan kab milega uska din tareekh aur maqaam sab bata rakha tha,ye wahi din tha jis din hazrat moosa alaihissalam sandooq me bahte hue firaun ke mahal me daakhil hue firaun apni biwi aasiya apni beti aur deegar ghulamo ke saath pahle se hi dariya par intezaar me tha ki achanak use ek sandooq paas aata hua dikhayi diya ghulamo ne wo sandooq paani se nikaala lekin use kholne me nakaam rahe,jab kisi se wo sandooq na khula to hazrate aasiya ne use khola to uske andar ek raushan noor waala bachcha mila ALLAH ne firaun ke dil me unki muhabbat daal di aur usne unka loaab lekar apni beti ke jism par mala jisse ki wo fauran theek ho gayi,idhar aasiya aur firaun unhein pyar karne lage magar kuchh kaahino ne khabar di ki ho sakta hai ki ye wahi bachcha ho jo aapki halakat ka sabab bane unki baat sunkar firaun hazrat moosa alaihissalam ke qatl par aamada hua magar hazrate aasiya ne ye kahkar use rok diya ki tujhe is shahar ke bachche se khatra hai aur ye bachcha pata nahin kis shahar ka hai aur kahan se bahta hua aaya hai aur hamare koi bachcha bhi nahin hai lihaza hum ise hi apna beta bana lete hain,firaun hazrat aasiya ki ye baat maan gaya aur is tarah hazrat moosa alaihissalam firaun ke ghar me daakhil hue magar aap kisi bhi aurat ka doodh nahin pee rahe the lihaza firaun ne aapke liye kayi saari daaya ko bulaya magar aapne kisi ka bhi doodh nahin piya firaun aapki bhook aur pyas ke sabab pareshan tha,jab hazrat moosa alaihissalam ko unki maa ne sandooq me rakhkar dariya me daala tha to saath hi apni beti ko ye kahkar sandooq ke peechhe bheja ki dekho ye kisko milta hai jab ye sandooq firaun ke mahal me daakhil hua to wo aakar apni maa ko batati hain ab unki maa aur sakht pareshan huyi ki wo to mere bachche ko halaaq kar dega aur apni beti ko unke peechhe mahal bheja,jab firaun unke liye daaya ki talaash me tha tabhi mahfil me hazrat moosa alaihissalam ki bahan hazrat mariyam farmati hain ki mai ek daaya ko jaanti hoon jo is bachche ki behtareen parwarish kar sakti hai jab usne ijazat di to wo apni maa ko lekar mahal gayi jaise hi hazrat moosa alaihissalam apni maa ke goud me aaye to khush wa khurram nazar aane lage aur doodh bhi piya is tarah maula ne apna waada poora kiya aur moosa alaihissalam ko phir se aapki maa ke supurd kar diya magar firaun ke mahal me rahte hue

Tazkiratul ambiya,safah 270

  • Hazrat moosa alaihissalam ki zabaan me luknat thi iski wajah ye thi ki bachpan me ek martaba firaun aapko goud me liye hue tha ki achanak aapne uski daadhi kheenchkar uske munh par aisa tamancha maara ki uske jism ka poora jod jod hil gaya,logon ke kahne par ki shayad ye wahi bachcha ho jisse aapko khatra ho tab usne phir hazrat moosa alaihissalam ke qatl ka iraada kiya magar is baar bhi hazrate aasiya ne ye kahkar use rok diya ki ye naadan bachcha hai tujhe itminaan nahin to khud aazmayish kar le tab firaun ne 2 tasht mangwaya ek me dahakte hue angaare rakhe aur doosre me phool,jab ye tasht hazrat moosa alaihissalam ke saamne rakha gaya to aapne phool ki taraf haath badhaya magar farishte ne aapka haath angaare me daalkar kuchh angaare aapke munh me daal diye jisse ki aapki zabaan jal gayi tab firaun isse baaz aaya

Tafseere nayimi,jild 1,safah 414

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.