Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-03

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-03
================================

कंज़ुल ईमान – और हमने मूसा की मां को इल्हाम फरमाया कि इसे दूध पिला,फिर जब तुझे इससे अंदेशा हो तो इसे दरिया में डाल दे और ना डर और ना ग़म कर,बेशक हम उसे तेरी तरफ फेर लायेंगे और उसे रसूल बनायेंगे

📕 पारा 19,सूरह क़सस,आयत 7

  • आप अलैहिस्सलाम की पैदाइश से पहले ही मौला तआला ने आपकी मां के दिल में ये बात डालकर यक़ीन दिला दिया था कि तुम इसे दूध पिलाती रहो और जब फिरऔन का खतरा बढ़ जाये तो इसे दरिया में डाल देना हम इसकी हिफाज़त करेंगे और तुम्हें वापस लौटा देंगे,फिर जब हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम पैदा हुए तो मशहूर क़ौल के मुताबिक आप 4 महीना अपनी मां के पास ही रहे फिर एक दिन एक दाई आपके घर आई और आपकी गोद में बच्चे को देखा मगर जैसे ही उसने आपके चेहरे मुबारक पर नज़र डाली तो वो आप से मुहब्बत करने लगी और बोली कि मैं तो इसे क़त्ल करने के इरादे से आई थी मगर अब इसकी मुहब्बत मेरे दिल में घर कर गयी है बाहर सिपाही घूम रहे हैं लिहाज़ा तुम इसे महफूज़ कर दो,चुंकि दाई को दाखिल हुए काफी वक़्त गुज़र चुका था तो सिपाही भी अंदर आ गए और हड़बड़ाहट में आपकी मां ने पास ही जलते हुए तन्नूर में आपको डाल दिया सिपाहियों ने इधर उधर देखा और वापस लौट गए,अब जब मां को इतमिनान हुआ तो अपनी बेटी मरियम से पूछती हैं कि बच्चा कहां है तो वो कहती हैं कि आपने तो उसे तन्नूर में डाल दिया अब जब वो तन्नूर की तरफ गईं तो देखती क्या हैं कि आग गुलज़ार हो चुकी है और बच्चा उसमें आराम से खेल रहा है,मगर इस वाक़िये के बाद उन्हें हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की फिक्र हुई और उन्होंने उनको दरिया में डालने का इरादा कर लिया जिसके लिए मुहल्ले के ही एक बढ़ई जिसका नाम सानूम था उसको संदूक़ बनाने के लिए बुलवाया

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 268

  • इधर फिरऔन को उसके नुजूमियों के ज़रिये ये पता चल चुका था कि वो बच्चा पैदा हो चुका है लिहाज़ा उसकी तलाश में और जद्दो जहद शुरू कर दी और उसको ढूंढने या पता बताने वालों को कसीर माल इनआम में देने का ऐलान करवा दिया,जब ये खबर बढ़ई को हुई तो वो समझ गया कि हो ना हो ये बच्चा वही है सो ये इरादा करके वो उन सिपाहियों को उनका पता बताने को निकला बाज़ रिवायतों में आता है कि जैसे ही घर के दरवाज़े पर पहुंचता है फौरन ज़मीन में धंस जाता है और हातिफे ग़ैबी से आवाज़ आती है कि खबरदार जो इस राज़ को फाश किया,और बाज़ रिवायतों में आता है कि जैसे ही सिपाहियों के सामने पहुंचता है तो फौरन गूंगा हो जाता है और जब वापस लौटता है तो फिर उसकी ज़बान सही हो जाती है इस तरह वो तीन मर्तबा करता है और तीसरी बार में गूंगे के साथ साथ अंधा भी हो जाता है अबकी बार उसने दिल से तौबा की और ऐसा ना करने का अहद किया,फिर वो घर गया जैसे ही बच्चे को देखा फौरन उनके क़दमों पर अपनी आंखें मली और आप पर ईमान लाया,आपके ऐलाने नुबूवत से पहले ये पहला शख्स था जो आप पर ईमान लाया और तन्नूर का वाकिया आपका पहला मोज्ज़ा था,फिर आपकी मां ने
    आपको गुस्ल दिया खुशबु लगाई और आपको संदूक़ में लिटाकर आपको दरियाये नील के हवाले कर दिया जिस शाम को आपने उन्हें दरिया में बहाया उसी सुबह को वो संदूक़ एक नहर जिसका नाम ऐनुश शम्श है उसके ज़रिये फिरऔन के महल में पहुंच गया

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 413
📕 खज़ाईनुल इरफान,पारा 20,रुकू 4

  • जिस फिरऔनी ने वो संदूक़ पानी से निकाला उसका नाम तायूस था

📕 अलइतकान,जिल्द 2,सफह 188

================================
To Be Continued
================================

KANZUL IMAAN – Aur humne moosa ki maa ko ilhaam farmaya ki ise doodh pila,phir jab tujhe isse andesha ho to ise dariya me daal de aur na darr aur na ghum kar,beshak hum use teri taraf pher layenge aur use rasool banayenge

📕 Paara 19,surah qasas,aayat 7

  • Aap alaihissalam ki paidayish se pahle hi maula taala ne aapki maa ke dil me ye baat daalkar yaqeen dila diya tha ki tum ise doodh pilati raho aur jab firaun ka khatra badh jaaye to ise dariya me daal dena hum iski hifazat karenge aur tumhein waapas lauta denge,phir jab hazrat moosa alaihissalam paida hue to mashhoor qaul ke mutabiq aap 4 mahina apni maa ke paas hi rahe phir ek din ek daayi aapke ghar aayi aur aapki goud me bachche ko dekha magar jaise hi usne aapke chehre mubarak par nazar daali to wo aap se muhabbat karne lagi aur boli ki main to ise qatl karne ke iraade se aayi thi magar ab iski muhabbat mere dil me ghar kar gayi hai baahar sipahi ghoom rahe hain lihaza tum ise mahfooz kar do,chunki daayi ko daakhil hue kaafi waqt guzar chuka tha to sipahi bhi andar aa gaye aur hadbadahat me aapki maa ne paas hi jalte hue tannoor me aapko daal diya sipahiyon ne idhar udhar dekha aur waapas laut gaye,ab jab maa ko itminaan hua to apni beti mariyam se poochhti hain ki bachcha kahan hai to wo kahti hain ki aapne to use tannoor me daal diya ab jab wo tannoor ki taraf gayi to dekhti hain ki aag gulzar ho chuki hai aur bachcha usme aaram se khel raha hai,magar is waqiye ke baad unhein hazrat moosa alaihissalam ki fikr huyi aur unhone unko dariya me daalne ka iraada kar liya jiske liye muhalle ke hi ek badhayi jiska naam sanoomko sandooq banane ke liye bulwaya

📕 Tazkiratul ambiya,268

  • Idhar firaun ko uske nujumiyon ke zariye ye pata chal chuka tha ki wo bachcha paida ho chuka hai lihaza uski talaash me aur jaddo jahad shuru kar di aur usko dhoondhne ya pata batane waalo ko kaseer maal in’aam me dene ka elaan karwa diya,jab ye khabar badhayi ko huyi to wo samajh gaya ki ho na ho ye bachcha wahi hai so ye iraada karke wo un sipahiyon ko unka pata batane ko nikla baaz riwayton me aata hai ki jaise hi ghar darwazepar pahunchta hai fauran zameen me dhans jaata hai aur haatife gaibi se aawaz aati hai ki khabardaar jo is raaz ko faash kiya,aur baaz riwayton me aata ahi ki jaise hi sipahiyon ke saamne pahunchta hai to fauran goonga ho jaata hai aur jab waapas lautta hai to phir uski zabaan sahi ho jaati hai is tarah wo teen martaba karta hai aur teesri baar me goonge ke saath saath andha bhi ho jaata hai abki baar usne dil se tauba ki aur aisa na karne ka ahad kiya,phir wo ghar gaya jaise hi bachche ko dekha fauran unke qadmo par apni aankhen mali aur aap par imaan laaya,aapke elaane nubuwat se pahle ye pahla shakhs tha jo aap par imaan laaya aur tannoor ka waqiya aapka pahla mojza tha,phir aapki maa ne aapko gusl diya khushbu lagayi aur aapko sandooq me litakar aapko dariyaye neel ke hawale kar diya jis shaam ko aapne unhein dariya me bahaya usi subah ko wo sandooq ek nahar jiska naam ainush shamsh hai uske zariye firaun ke mahal me pahunch gaya

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 413
📕 Khazayenul irfan,p 20,ruku 4

  • Jis firauni ne wo sandooq paani se nikaala uska naam tayoos tha

📕 Alitqaan,jild 2,safah 188

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.