Categories
Ambiya e Kiram

मूसा अलैहिस्सलाम-02

👉 Msg prepared by 👈
ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ

हिन्दी/hinglish मूसा अलैहिस्सलाम-02
================================

  • हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की पैदाइश से पहले बनी इस्राईल की हालत बहुत ज़्यादा खराब थी वो लोग फिरऔनिओं के गुलाम थे,फिरऔनियों ने उन्हें अलग अलग कामों में लगा रखा था कोई तामीरी काम में लगा होता तो कोई खेती बाड़ी में किसी से हल चलाने का काम लिया जाता तो किसी से फसल की बुआई कटाई करायी जाती यहां तक कि बैतुल खला की सफाई व नाले की कीचड़ तक उठवाने का ज़िम्मा उन्हीं का था,उनके घर की औरतें भी कनीज़ों की तरह उनके यहां रहती और घर का चूल्हा चौका सूत की कताई सिलाई वगैरह का काम अंजाम देती,उनमें से जो भी काम करने लायक ना रहता तो उन पर जुज़िया मुक़र्रर कर दिया जाता जिसे हर दिन सूरज डूबने से पहले अदा करना होता था वरना उनके हाथों को उनकी गर्दनों से बांध दिया जाता थे और ये सज़ा एक महीने तक चलती थी

📕 तज़किरातुल अंबिया,सफह 266

फिरऔन यानि वलीद इब्ने मुसअब शहरे अस्फहान का एक अत्तार था जिस पर बहुत ज़्यादा क़र्ज़ हो गया तो ये वहां से भाग कर मुल्के शाम आ पहुंचा,यहां इसने देखा कि तरबूज़ गांव में सस्ते हैं और शहर में बहुत मंहगे हैं तो इसने सोचा कि ये तिज़ारत तो बहुत फायदेमंद है लिहाज़ा इसने बहुत सारे तरबूज़ लिए और शहर की तरफ चला मगर सिपाहियों ने जगह जगह इससे चुंगी वसूल की जिससे कि शहर पहुंचते पहुंचते सिर्फ 1 तरबूज़ बचा तब इसने सोचा कि इस शहर में तो कोई शाही इंतेज़ाम है ही नहीं जो चाहे हाकिम बनकर माल वसूल कर ले,उस वक़्त शाम में एक वबा फैली हुई थी जिससे कि लोग बहुत मर रहे थे तो ये जाकर क़ब्रिस्तान में बैठ गया और हर आने वाले जनाज़े वालो से 5 दरहम ये कहकर लेने लगा कि ये बादशाह की तरफ से टैक्स है इस तरह उसने कुछ ही दिनों में काफी माल जमा कर लिया,फिर एक दिन किसी रईस का जनाज़ा आया जब इसने टैक्स मांगा तो उन लोगों ने सिपाहियों को बुला लिया और इसे बादशाह के सामने पेश किया तो इसने सारा जमा किया हुआ माल वहीं उंडेल दिया और कहा कि ये सब तो मैंने आपसे मिलने के लिए ही किया था ताकि आपको खबर दूं कि आपके मुल्क में कोई इंतेज़ाम नहीं है खुद मैंने चंद दिनों में इतना माल इकठ्ठा कर लिया,फिर बोला अगर आप चाहें तो मैं आपके मुल्क का निज़ाम दुरुस्त कर सकता हूं बादशाह ने खुश होकर एक छोटा मोटा ओहदा दे दिया और इसने चालाकी से बादशाह और रियाया दोनों को खुश रखा और धीरे धीरे पहले अफसर फिर वज़ीर और बादशाह के मरने पर रियाया ने उसे बादशाह बना दिया,बादशाह बनते ही इसने सबसे पहले रियाया पर अपने आपको सज्दा करने का हुक्म नाफिज़ कर दिया सबसे पहले इसके वज़ीर हाम्मान ने इसे सज्दा किया फिर अमीरों ने फिर क़ौम के सरदारों ने फिर तमाम क़ुब्तियों ने इसे सज्दा किया और जो लोग दूर की वजह से नहीं आ सकते थे उनके पास अपना बुत बनवाकर भेजा जिसे वो लोग सजदा करें मआज़ अल्लाह,मगर बनी इस्राईल ने सज्दा करने से इंकार कर दिया तब फिरऔन ने बड़ी बड़ी देगों में ज़ैतून का तेल और गंधक खौला कर उसमे बनी इस्राईलियों को डलवाने लगा जब बहुत सारे लोग मारे जा चुके तब उसके वज़ीर हाम्मान ने उसे रोका और समझाया कि इस तरह ये सब खत्म हो जायेंगे लिहाज़ा इन्हें मारने की बजाये जेल में रख और ज़िल्लत दे तो हो सकता है कि ये टूट जायें

📕 क्या आप जानते हैं,सफह 133

उन्हीं दिनों फिरऔन ने एक ख्वाब देखा कि बैतुल मुक़द्दस की जानिब से एक आग ज़ाहिर हुई है जिसने पूरे मिस्र को घेर लिया है और तमाम क़ुब्तियों को जला डाला है मगर उसी आग ने बनी इस्राईल को कोई नुक्सान नहीं पहुंचाया और एक बड़ा अज़्दहा बनी इस्राईल के महल से ज़ाहिर हुआ जिसने उसको तख्त से नीचे गिरा दिया,इस ख्वाब से फिरऔन बहुत परेशान हो गया और अपने माहिरीन से इसकी ताबीर पूछी तो उन्होंने कहा कि इसकी ताबीर ये है कि बनी इस्राईल में एक बच्चा पैदा होगा जिससे ज़रिये तू हलाक़ होगा और तेरी बादशाहत मिट जायेगी,फिरऔन ने जब ये सुना तो फौरन कोतवाल को बुलाकर 1000 हथियार बन्द सिपाही और 1000 दाईयां इस काम पर रवाना करने का हुक्म दिया कि कोई भी बच्चा बनी इस्राईल में पैदा हो तो फौरन उसे मार डाले और जो औरतें हमल से हों उनका हमल गिरा दिया जाये,चंद ही सालों में बनी इस्राईल के 12000 बच्चे मार दिये गये और एक रिवायत में 70000 बच्चे आया है और 90000 हमल गिराये गये उधर मशिय्यते इलाही से उनके बूढ़े भी जल्दी जल्दी मरने लगे तो रईस क़ुबती घबराकर फिरऔन के पास पहुंचे और कहने लगे कि बूढ़े मर रहे हैं और बच्चे आप मार रहे हैं अगर यही हाल रहा तो हमें ग़ुलाम से कहां से मिलेंगे तब फिरऔन ने ये हुक्म लगाया कि एक साल बच्चे क़त्ल किये जायें और दूसरे साल ज़िंदा रखे जायें,रब की शान कि छोड़ने वाले साल हज़रत हारून अलैहिस्सलाम पैदा हुये और क़त्ल वाले साल हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की विलादत हुई

📕 खज़ाईनुल इरफान,पारा 20,रुकू 4

================================
To Be Continued
================================

  • Hazrat moosa alaihissalam ki paidayish se pahle bani israyeel ki haalat bahut zyada kharaab thi wo log firaunion ke ghulam the,firauniyon ne unhein alag alag kaamo me laga rakha tha koi taameeri kaam me laga hota to koi kheti baadi me kisi se hal chalane ka kaam liya jaata to kisi se fasal ki buayi katayi karayi jaati yahan tak ki baitul khala ki safayi wa naale ki keechad tak uthwane ka zimma unhi ka tha,unke ghar ki aurtein bhi kaneezo ki tarah unke yahan rahti aur ghar ka chulha chauka soot ki katayi silayi wagairah ka kaam anjaam deti,unme se jo bhi kaam karne laayaq na rahta to unpar juziya muqarrar kar diya jaata jise har din suraj doobne se pahle ada karna hota tha warna unke haathon ko unki gardano se baandh diye jaate the aur ye saza ek mahine tak chalti thi

📕 Tazkiratul ambiya,safah 266

Firaun yaani waleed ibne musab shahre asfahaan ka ek attar tha jispar bahut zyada qarz ho gaya to ye wahan se bhaag kar mulke shaam aa pahuncha,yahan isne dekha ki tarbooz gaanv me saste hain aur shahar me bahut manhge hain to isne socha ki ye tijarat to bahut faaydemand hai lihaza isne bahut saare tarbooz liye aur shahar ki taraf chala magar sipahiyon ne jagah jagah isse chungi wasool ki jisse ki shahar pahunchte pahunchte sirf 1 tarbooz bacha tab isne socha ki is shahar me to koi shahi intezaam hai hi nahin jo chahe haakim bankar maal wasool kar le,us waqt shaam me ek waba phaili huyi thi jisse ki log bahut mar rahe the to ye jaakar qabristan me baith gaya aur har aane waale janaze waalo se 5 darham ye kahkar lene laga ki ye baadshah ki taraf se tax hai is tarah usne kuchh hi dino me kaafi maal jama kar liya,phir ek din kisi raees ka janaza aaya jab isne tax maanga to un logon ne sipahiyon ko bula liya aur ise baadshah ke saamne pesh kiya to isne saara jama kiya hua maal wahin undel diya aur kaha ki ye sab to maine aapse milne ke liye hi kiya tha taaki aapko khabar doon ki aapke mulk me koi intezaam nahin hai khud maine chund dino me itna maal ikattha kar liya,phir bola agar aap chahen to main aapke mulk ka nizaam durust kar sakta hoon baadshah ne khush hokar ek chhota mota ohda de diya aur isne chaalki se baadshah aur riyaya dono ko khush rakha aur dheere dhhere pahle afsar phir wazeer aur baadshah ke marne par riyaya ne use baadshah bana diya,baadshah bante hi isne sabse pahle riyaya par apne aapko sajda karne ka hukm naafiz kar diya sabse pahle iske wazeer haamman ne ise sajda kiya phir ameero ne phir qaum ke sardaaro ne phir tamam qubtiyon ne ise sajda kiya aur jo log door ki wajah se nahin aa sakte the unke paas apna butt banwakar bheja jise wo log sajda karen maaz ALLAH,magar bani israyeel ne sajda karne se inkaar kar diya tab firaun ne badi badi degon me zaitoon ka teil aur gandhak khaula kar usme bani israyeelion ko dalwane laga jab bahut saare log maare ja chuke tab uske wazeer haamman ne usr roka aur samjhaya ki is tarah ye sab khatm ho jayenge lihaza inhein maarne ki bajaye jeil me rakh aur zillat de to ho sakta hai ki ye toot jaayein

📕 Kya aap jaante hain,safah 133

Unhi dino firaun ne ek khwab dekha ki baitul muqaddas ki jaanib se ek aag zaahir huyi hai jisne poore misr ko gher liya hai aur tamam qubtiyon ko jala daala hai magar usi aag ne bani israyeel ko koi nuksaan nahin pahunchaya aur ek bada azdaha bani israyeel ke mahal se zaahir hua jisne usko takht se neeche gira diya,is khwab se firaun bahut pareshan ho gaya aur apne maahireen se iski tabeer poochhi to unhone kaha ki iski tabeer ye hai ki bani israyeel me ek bachcha paida hoga jisse zariye tu halaaq hoga aur teri baadshahat mit jayegi,firaun ne jab ye suna to fauran kotwaal ko bulakar 1000 hathiyar bund sipahi aur 1000 daayian is kaam par rawana karne ka hukm diya ki koi bhi bachcha bani israyeel me paida ho to fauran use maar daale aur jo aurtein hamal se hon unka hamal gira diya jaaye,chund hi saalo me bani israyeel ke 12000 bachche maar diye gaye aur ek riwayat me 70000 bachche aaya hai aur 90000 hamal giraye gaye udhar mashiyyate ilaahi se unke boodhe bhi jaldi jaldi marne lage to raees qubti ghabrakar firaun ke paas pahunche aur kahne lage ki boodhe mar rahe hain aur bachche aap maar rahe hain agar yahi haal raha to hamein ghulam se kahan se milenge tab firaun ne ye hukm lagaya ki ek saal bachche qatl kiye jaayein aur doosre saal zinda rakhe jaayein,Rub ki shaan ki chhodne waale saal hazrat haroon alaihissalam paida hue aur qatl waale saal hazrat moosa alaihissalam ki wiladat huyi

📕 Khazayenul irfan,paara 20,ruku 4

================================
Don’t Call Only WhatsApp 9559893468
NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI
ALLAHABAD
================================

Leave a Reply

Your email address will not be published.