Fri. Jul 23rd, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*

*हिन्दी/hinglish*               *वज़ाइफे ग़ौसिया*

*या शेख अब्दुल क़ादिर जीलानी शैयन लिल्लाह* – ये वज़ीफा हमेशा से बुज़ुर्गाने दीन के मामूलात से रहा है क्योंकि हुज़ूर ग़ौसे पाक रज़ियल्लाहु तआला अन्हु को मुसीबत या परेशानी में याद करना हर मुश्किल का हल है,ज़ैल में 2 रिवायतें पेश करता हूं

* एक शख्स का बयान है कि एक सफर में मेरी 14 ऊंटो पर शकर की बोरियां लदी थी मगर रास्ते में 4 ऊंट कहीं गुम हो गए मुझे सख्त परेशानी लाहिक हुई तो मुझे याद आया कि मेरे शेख हुज़ूर ग़ौसे पाक रज़ियल्लाहु तआला अन्हु ने फरमाया है कि जब भी मुसीबत में होना तो मुझे याद कर लेना ये सोचकर मैंने उनका नाम लेकर इस्तिगासा करना शुरू किया,अभी कुछ ही लम्हा गुज़रे थे कि मैंने एक टीले पर एक सफेद पोश बुज़ुर्ग को देखा वो मुझे बुला रहे थे मैं जब वहां पहुंचा तो वहां कोई ना था मगर मेरे चारों ऊंट वहीं टीले पर बैठे मिल गए

📕 क़लाएदुल जवाहर,सफह 230

* हुज़ूर ग़ौसे पाक रज़ियल्लाहु तआला अन्हु की एक मुरीदनी कहीं किसी काम से ग़ार की तरफ गई उसके पीछे एक बदकार भी वहीं पहुंच गया और उसकी अज़मत रेज़ी का इरादा किया,उसने फौरन अपने पीर को याद किया उस वक़्त हुज़ूर ग़ौसे पाक रज़ियल्लाहु तआला अन्हु अपने मदरसे में वुज़ू फरमा रहे थे आपने अपनी लकड़ी की खड़ाऊं को हवा में उछाल दिया जो सीधा ग़ार की तरफ चल पड़ी और वहां पहुंचकर उस बदकार के सर पर पड़ने लगी यहां तक कि वो मर गया

📕 शाने ग़ौसे आज़म,सफह 205

*सलातुल ग़ौसिया* – ये नमाज़ कज़ाए हाजत के लिए तीरे बहदफ है,वैसे तो जब भी सख्त हाजत हो इसे पढ़ सकते हैं लेकिन अगर रबीउल आखिर की 11 तारीख को पढ़ा जाये तो क्या कहना,उसका तरीक़ा ये है कि बाद नमाज़े मग़रिब 2 रकात नमाज़ नफ्ल क़ज़ाए हाजत इस तरह पढ़ें कि दोनों रकात में सूरह फातिहा के बाद सूरह इखलास 11,11 बार बाद सलाम के तीसरा कल्मा पढ़ें और 11 बार दुरूदे ग़ौसिया फिर 11 बार कहें या रसूल अल्लाह या नबी अल्लाह अग़िस्नी वमदुदनी फी क़’दाए हाजती या क़ा’दियल हाजात يا رسول الله يا نبى الله اغثنى وامددنى فى قضاء حاجتى يا قاضى الحاجات फिर 11 क़दम इराक़ की जानिब चलें और हर क़दम पर ये पढ़ें या ग़ौसस सक़ालैन वया करीमत तराफ़ैन अग़िस्नी वमदुदनी फी क़’दाए हाजती या क़ा’दियल हाजात يا غوث الثقلين ويا كريم الطرفين اغثنى وامددنى فى قضاء حاجتى يا قاضى الحاجات फिर अल्लाह की बारगाह में इन मुक़द्दस हस्तियों के तवस्सुल से दुआ करें,इन शा अल्लाह महरूम ना रहेंगे

📕 बहारे शरीयत,हिस्सा 4,सफह 31

*इस्तेखारा* – सहाबये किराम रिज़वानुल्लाहि तआला अलैहिम अजमईन फरमाते हैं कि हमें रसूल अल्लाह सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम इस्तेखारा की तालीम इस तरह दिया करते थे जिस तरह क़ुर्आन की तालीम देते थे,तो जब भी किसी मुबाह काम का इरादा करे मसलन सफर,घर या दुकान की तामीर,निकाह,तिजारत या उसका माल,किसी से पार्टनरशिप,सवारी या सवारी का जानवर,पालने का जानवर या नौकरी वग़ैरह तो इस्तेखारा कर लेना बेहतर है,बेहतर है कि इस्तेखारा शबे जुमा से शुरू किया जाए अगर पहली रात में कामयाबी मिल जाए तो अच्छा वरना 7 रातों तक लगातार करें फिर अपने दिल पर ग़ौर करें जिस पर ख्याल जम जाये वो बेहतर है,और अगर ख्वाब में सफेदी या सब्ज़ नज़र आये तो भी बेहतर है और अगर सुर्ख और सियाही नज़र आये तो फिर उस काम का क़स्द छोड़ दें

* सोने के वक़्त वुज़ू करें फिर पाक बिस्तर पर बैठकर 3 बार दुरूदे पाक 10 मर्तबा सूरह फातिहा 10 मर्तबा सूरह इख्लास फिर 3 बार दुरूद शरीफ पढ़ें और दाहिनी करवट लेटें और दायें हाथ की हथेली दाये गाल के नीचे रखकर बिना किसी से बात किये सो जायें,कैसी भी हाजात होगी इन शा अल्लाह हल मालूम हो जायेगा,खुद आलाहज़रत अज़ीमुल बरकत रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि मैंने इसका तजुर्बा किया तो मुजर्रब पाया

📕 आमाले रज़ा,हिस्सा 2,सफह 21

—————————————
*ZEBNEWS Charitable Trust*
*Sadqaye jaariya@30rs. p/m*
—————————————

*YA SHAIKH ABDUL QADIR JILANI SHAIYAN LILLAH* – ye wazifa hamesha se buzurgane deen ke maamulaat se raha hai kyunki huzoor ghause paak raziyallahu taala anhu ko musibat ya pareshani me yaad karna har mushkil ka hal hai,zail me 2 riwaytein pesh karta hoon

* Ek shakhs ka bayaan hai ki ek safar me meri 14 oonto par shakar ki boriyan ladi thi magar raaste me 4 oont kahin gum ho gaye mujhe sakht pareshani laahiq huyi to mujhe yaad aaya ki mere shaikh huzoor ghause paak raziyallahu taala anhu ne farmaya hai ki jab bhi musibat me hona to mujhe yaad kar lena ye sochkar maine unka naam lekar istigasa karna shuru kiya,abhi kuchh hi lamha guzre the ki maine ek teele par ek safed posh buzurg ko dekha to mujhe bula rahe the main jab wahan pahuncha to wahan koi na tha magar mere chaaron oont wahin teele par baithe mil gaye

📕 Qalayedul jawahar,safah 230

* Huzoor ghause paak raziyallahu taala anhu ki ek mureedni kahin kisi kaam se gaar ki taraf gayi uske peechhe ek badkaar bhi wahin pahunch gaya aur uski azmat rezi ka iraada kiya usne fauran apne shaikh ko yaad kiya,us waqt huzoor ghause paak raziyallahu taala anhu apne madarse me wuzu farma rahe the aapne apni lakdi ki khadaun ko hawa me uchhal diya jo seedha gaar ki taraf chal padi aur wahan pahunchkar us badkaar ke sar par padne lagi yahan tak ki wo mar gaya

📕 Shaane ghause aazam,safah 205

*Salaatul ghausia* – Ye namaz qazaye haajat ke liye teere bahdaf hai,waise to jab bhi sakht haajat ho ise padh sakte hain lekin agar rabiul aakhir ki 11 taarikh ko padha jaaye to kya kahna,uska tariqa ye hai ki baad namaz maghrib 2 rakat namaz nafl qazaye haajat padhen is tarah ki dono rakat me surah fateha ke baad surah ikhlaas 11,11 baar baad salaam ke teesra kalma padhen aur 11 baar durude ghausia fir 11 baar kahen YA RASOOL ALLAH YA NABI ALLAH AGISNI WAMDUDNI FI QADAYE HAAJATI YA QAADIYAL HAAJAAT يا رسول الله يا نبى الله اغثنى وامددنى فى قضاء حاجتى يا قاضى الحاجات fir 11 qadam iraaq ki jaanib chalen aur har qadam par ye padhen YA GHUASAS SAQALAIN WAYA KARIMAT TARAFAIN AGISNI WAMDUDNI FI QADAYE HAAJATI YA QAADIYAL HAAJAAT يا غوث الثقلين ويا كريم الطرفين اغثنى وامددنى فى قضاء حاجتى يا قاضى الحاجات fir ALLAH ki baargah me in muqaddas hastiyon ke tawassul se dua karen,insha ALLAH mahroon na rahenge

📕 Bahare shariyat,hissa 4,safah 31

*Istikharaya* – Sahabaye kiram rizwanullahe taala alaihim ajmayeen farmate hain ki hamein Rasool ALLAH sallallahu taala alaihi wasallam istikhare ki taaleem is tarah diya karte the jis tarah quran ki taleem dete the,to jab bhi kisi mubah kaam ka iraada kare maslan safar,ghar ya dukaan ki taameer,nikah,tijarat ya uska maal,kise se partnership,sawari ya sawari ka jaanwar,paalne ka jaanwar ya naukri wagairah to istikhara kar lena behtar hai,behtar hai ki istikhara shabe juma se shuru kiya jaaye agar pahli raat me qaamyabi mil jaaye to achchha warna 7 raaton tak lagatar karen fir apne dil par gaur karen jispar khyal jam jaaye wo behtar hai aur agar khwab me safedi ya sabz nazar aaye to bhi behtar hai aur agar surkh aur siyahi nazar aaye to phir us kaam ka qasd chhod dein

* Sone ke waqt wuzu karen phir paak bistar par baithkar 3 baar durude paak 10 martaba surah fatiha 10 martaba surah ikhlaas phir 3 baar durood sharif padhen aur daahini karwat leit jayein aur daayein haath ki hatheli daayein gaal ke neeche rakhkar so jayein,kaisi bhi haajat ho in sha ALLAH hal maloom ho jayega,khud Aalahazrat azimul barkat raziyallahu taala anhu farmate hain ki maine iska tajurba kiya to mujarrab paaya

📕 Aamale raza,hissa 2,safah 21

*Join ZEBNEWS to 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *