Tue. Jun 15th, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*

*हिन्दी/hinglish*           *शरह सलामे रज़ा*

*शम्ये बज़्मे हिदायत पे लाखों सलाम*
*================================*

*शम्ये बज़्मे हिदायत* – अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ने हुज़ूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम को तमाम अंबिया अलैहिस्सलाम व तमाम आलम का हादी और सरबराह बनाया है और आपके नूरे नुबूवत से ही तमाम अंबिया ने फैज़ पाया है,यहां तक कि तमाम अंबिया से आप पर ईमान लाने और आपके मिशन में मदद करने का वादा भी लिया है,इस अहद को मीशाक़े अंबिया का नाम दिया गया और इसके लिए मौला तआला ने एक इज्लास तलब किया और उसमें तमाम अंबिया को इकठ्ठा किया फिर अपने महबूब के औसाफो कमालात का तज़किरा किया,क़ुर्आन में इसका ज़िक्र कुछ युं है

*कंज़ुल ईमान* – और याद करो जब अल्लाह ने पैगम्बरों से अहद लिया.जो मैं तुमको किताब और हिकमत दूं फिर तशरीफ लायें तुम्हारे पास वो रसूल कि तुम्हारी किताब की तस्दीक़ फरमायें तो तुम ज़रूर ज़रूर उनपर ईमान लाना और उनकी मदद करना,क्या तुमने इक़रार किया और उसपर मेरा भारी ज़िम्मा लिया,सबने अर्ज़ की हमने इक़रार किया फरमाया तो एक दूसरे पर गवाह हो जाओ और मैं खुद तुम्हारे साथ गवाहों में हूं,तो जो कोई इसके बाद फिरे तो वही लोग फासिक़ हैं

📕 पारा 3,सूरह आले इमरान,आयत 81-82

*ⓩ ये आलमे अरवाह का वाकिया है जहां मौला तआला ने अपने महबूब की शान बयान करने के लिए अपने तमाम नबियों को इकठ्ठा कर लिया यानि महफिले मीलाद सजा ली और उनसे फरमा रहा है कि अगर तुम्हारे पास मेरे नबी तशरीफ लायें तो तुम्हे सब कुछ छोड़कर उसकी इत्तेबा करनी होगी,और आखिर के जुम्ले क्या ही क़यामत खेज़ हैं क्या फरमा रहा है कि “जो इस अहद को तोड़े तो वो फासिक़ है” अल्लाह अल्लाह ये कौन कह रहा है हमारा और आपका रब कह रहा है,किससे कह रहा है अपने मअसूम नबियों से कह रहा है,क्यों कह रहा है क्योंकि बात उसके महबूब की है इसलिए कह रहा है,और आज हम उसके महबूब का ज़िक्र करें तो हम मुश्रिक,महफिले मिलाद सजायें तो हम मुश्रिक,भीड़ इकठ्ठा कर लें तो हम मुश्रिक,और रब जो कर रहा है उसका क्या,उस पर क्या हुक्म लगेगा वहाबियों,खैर आगे बढ़ते हैं*

*फुक़्हा* – इसकी शरह में फुक़्हा फरमाते हैं कि जब नूरे नबी सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम तमाम अंबिया के सामने आया तो उनकी अपनी चमक दमक खो गयी तो उन्होंने मौला से पूछा कि ये कौन हैं तो मौला तआला फरमाता है कि ये मुहम्मद बिन अब्दुल्लाह है अगर तुम इनपर ईमान लाते हो तो मैं तुम्हे नुबुवत के मनसब से फैज़याब करूंगा तो उन सबने एक ज़बान अर्ज़ किया कि हम ईमान लाते हैं

📕 ज़रक़ानी,जिल्द 1,सफह 40

*हदीस* – हुज़ूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि मैं तमाम रसूलों का क़ायद हूं मगर फख्र नहीं करता और मैं ही तमाम नबियों का खातिम हूं मगर फख्र नहीं करता और दूसरी जगह इरशाद फरमाते हैं कि मैं क़यामत के दिन तमाम अंबिया का खतीब इमाम और शफीअ होऊंगा मगर फख्र नहीं करता

📕 शरह सलामे रज़ा,सफह 72

*ⓩ इमाम इश्को मुहब्बत ने हुज़ूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की इसी अज़मत को शम्ये बज़्मे हिदायत से तअबीर किया है,इसकी बाक़ी की तफ्सीलात अलग अलग शेअर में आती रहेगी इन शाअ अल्लाह तआला*

*================================*
*To Be Continued*
*================================*

*SHAMYE BAZME HIDAYAT* – ALLAH Rabbul izzat ne huzoor sallallahu taala alaihi wasallam ko tamam anbiya alaihissalam wa tamam aalam ka haadi aur sarbaraah banaya hai aur aapke noore nubuwat se hi tamam anbiya ne faiz paaya hai,yahan tak ki tamam anbiya se aap par imaan laane aur aapke mishan me madad karne ka waada bhi liya hai,is ahad ko MEESHAQ-E ANBIYA ka naam diya gaya aur iske liya maula taala ne ek ijlaas talab kiya aur usme tamam anbiya ko ikattha kiya phir apne mahboob ke ausaafo kamaalat ka tazkira kiya,quran me iska zikr kuchh yun hai

*KANZUL IMAAN* – Aur yaad karo jab ALLAH ne paigambaron se ahad liya.jo main tumko kitab aur hiqmat doon fir tashrif laayen tumhare paas wo rasool ki tumhari kitab ki tasdeeq farmayen to tum zaroor zaroor unpar imaan laana aur unki madad karna,kya tumne iqrar kiya aur uspar mera bhaari zimma liya,sabne arz ki humne iqrar kiya farmaya to ek doosre par gawaah ho jao aur main khud tumhare saath gawahon me hoon,to jo koi iske baad fire to wahi log faasik hain

📕 Paara 3,surah aale imran,aayat 81-82

*ⓩ Ye aalame arwaah ka waaqiya hai jahan maula apne mahboob ki shaan bayaan karne ke liye apne tamam nabiyon ko ikattha kar liya yaani mahfile milaad saja li aur unse farma raha hai ki agar tumhare paas mera nabi tashrif laaye to tumhe sab kuchh chhodkar uski itteba karni hogi,aur aakhir ke jumle kya hi qayamat khez hain kya farma raha hai ki ” jo is ahad ko tode wo faasik hai ” ALLAH ALLAH ye kaun kah raha hai hamara aur aapka RUB kah raha hai,kisse kah raha hai apne maasoom nabiyon se kah raha hai,kyun kah raha hai kyunki baat uske mahboob ki hai isliye kah raha hai,aur aaj hum uske mahboob ka ziqr karen to hum mushrik,mahfile milaad sajayen to hum mushrik,bheed ikattha kar lein to hum mushrik,Aur RUB jo kar raha hai uska kya,us par kya hum lagega wahabiyon,khair aage badhte hain*

*FUQHA* – Iski sharah me fuqha farmate hain ki jab noore nabi sallallahu taala alaihi wasallam tamam anbiya ke saamne aaya to unki apni chamak damak kho gayi to unhone maula se poochha ki ye kaun hai to maula farmata hai ki ye MUHAMMAD bin abdullah hai agar tum inpar imaan laate ho to main tumhe nubuwat ke mansab se faizyab karunga to un sabne yak zabaan arz kiya ki hum imaan laate hain

📕 Zarqaani,jild 1,safah 40

*HADEES* – Huzoor sallallahu taala alaihi wasallam irshaad farmate hain ki main tamam Rasoolo ka qaayad hoon magar fakhr nahin karta aur main hi tamam nabiyon ka khatim hoon magar fakhr nahin karta aur doosri jagah irshaad farmate hain ki main qayamat ke din tamam anbiya ka khateeb imaam aur shafi hounga magar fakhr nahin karta

📕 Sharah Salaame Raza,Safah 72

*ⓩ Imaam ishko muhabbat ne huzoor sallallahu taala alaihi wasallam ki isi azmat ko SHAMYE BAZME HIDAYAT se tabeer kiya hai,iski baaqi ki tafseelat alag alag sher me aati rahegi in shaw ALLAH taa’la*

*================================*
*Don’t Call Only WhatsApp 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*
*================================*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *