Fri. Jul 23rd, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*

*हिन्दी/hinglish*         *हुज़ूर ﷺ का साया नहीं*
*================================*

*फुक़्हा* – हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम के जिस्म का साया नहीं था,नीचे दी गयी किताबों में इसका हवाला मौजूद है

📕 तफसीर मदारिक,जिल्द 2,सफ़ह 103
📕 तफसीर अज़ीज़ी,पारा 30,सफ़ह 219
📕 खसाइसे कुबरा, जिल्द 1,सफ़ह 68
📕 मदारिजुन नुबुवत,जिल्द 1,सफ़ह 21
📕 ज़रकानी,जिल्द 5,सफ़ह 249
📕 शिफ़ा शरीफ,जिल्द 1,सफ़ह 306
📕 मुफरदाते इमाम राग़िब,सफ़ह 317
📕 तफसीर रूहुल बयान,जिल्द 6,सफ़ह 125
📕 हुज्जतुल लाहे अलल आलमीन,सफ़ह 686
📕 नसीमुर रियाज़,जिल्द 3,सफ़ह 319
📕 फुतुहाते अहमदिया,सफ़ह 5
📕 मजमए बिहारुल अन्वार,जिल्द 30,सफ़ह 402
📕 जवाहिरुल बहार,जिल्द1,सफ़ह 453
📕 शरहे शिफा मुल्ला अली क़ारी,सफ़ह 505
📕 मक़ासिदल हसना,सफ़ह 63
📕 मवाहिबुल लदुनिया,जिल्द 1,सफ़ह 280
📕 अनवारे मुहम्मदिया,जिल्द 1,सफ़ह 162
📕 सिराजम मुनीर,सफ़ह 92
📕 अन्नवाफिहुल इत्रिया,सफ़ह 19
📕 अलइन्सान फिल क़ुरान,सफ़ह 158
📕 मसलके औलिया,सफ़ह 39
📕 तफसीरे मुहम्मदी,मंज़िल हफ़्तुम,सफ़ह 1429
📕 फतावा दारुल उलूम देवबन्द,जिल्द 5,सफ़ह 102

*वहाबी* – रशीद अहमद गंगोही ने लिखा कि अल्लाह ने आपको नूर फरमाया और तवातर से साबित है कि आपका साया नहीं था

📕 इम्दादुस सुलूक,सफ़ह 85

*वहाबी* – अशरफ अली थान्वी ने लिखा कि ये बात मशहूर है कि हमारे हुज़ूर का साया नही था इस लिये कि आप सर से लेकर पैर तक नूर थे

📕 शुकरुन नोमिया सफ़ह 20

*ⓩ वहाबी जब मानता है कि हुज़ूर नूर हैं हुज़ूर का साया नहीं है तब भी वो हमारी तरह बशर कैसे हुए,क्या ये सब बातें पढ़कर ये नहीं लगता कि वाक़ई वहाबियों की अक़्ल में कोढ़ हो गया है कि जहां मर्ज़ी जो आया लिख दिया मआज़ अल्लाह,ये वहाबियों के दोगले अक़ायद हैं जिससे उनको तौबा करने की ज़रूरत है और अगर नहीं करते तो दुनिया में सुन्नियों की फटकार और आख़िरत में हमेशा के अज़ाब के लिए तैयार रहें*

*================================*
*END*
*================================*

*Fuqha* – Huzoor sallallahu taala alaihi wasallam ke jism ka saaya nahin tha,neeche di gayi kitabon me iska hawala maujood hai

📕 Taphseer madaarik,jild 2,safah 103
📕 Taphseer azeezee,paara 30,safah 219
📕 Khasaise kubara, jild 1,safah 68
📕 Madaarijun nubuvat,jild 1,safah 21
📕 Zarkaanee,jild 5,safah 249
📕 Shifa shareeph,jild 1,safah 306
📕 Muphardaate imaam raagib,safah 317
📕 Taphseer roohul bayaan,jild 6,safah 125
📕 Hujjatul laahe alal aalameen,safah 686
📕 Naseemur riyaaz,jild 3,safah 319
📕 Phutuhaate ahmadiya,safah 5
📕 Majame bihaarul anvaar,jild 30,safah 402
📕 Javaahirul bahaar,jilda1,safah 453
📕 Sharahe shipha mulla alee qaaree,safah 505
📕 Maqaasidal hasana,safah 63
📕 Mavaahibul laduniya,jild 1,safah 280
📕 Anvaare muhammadiya,jild 1,safah 162
📕 Siraajam muneer,safah 92
📕 Annavaphihul itriya,safah 19
📕 Alinsaan phil quraan,safah 158
📕 Maslake auliya,safah 39
📕 Taphseere muhammadee,manzil haftum,safah 1429
📕 Fatava daarul uloom devband,jild 5,safah 102

*Wahabi* – Rasheed ahmad gangohi ne likha ki ALLAH ne aapko noor pharmaya aur tavatar se saabit hai ki aapka saaya nahin tha

📕 Imdaadus sulook,safah 85

*Wahabi* – Ashraf ali thanvi ne likha ki ye baat mashhoor hai ki hamare huzoor ka saaya nahi tha is liye ki aap sar se lekar pair tak noor the

📕 shukarun nomiya safah 20

*ⓩ Wahabi jab maanta hai ki huzoor noor hain huzoor ka saaya nahin hai tab bhi wo hamari tarah bashar kaise hue,kya ye sab baatein padhkar ye nahin lagta ki waqayi wahabiyon ki aql me kodh ho gaya hai ki jahan marzi jo aaya likh diya maaz ALALH,ye wahabiyon ke dogle aqayad hain jisse unko tauba karne ki zarurat hai aur agar nahin karte to duniya me sunniyon ki fitkaar aur aakhirat me hamesha ke azaab ke liye taiyar rahein*

*================================*
*Don’t Call Only WhatsApp 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*
*================================*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *