Tue. Jun 15th, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*

*हिन्दी/hinglish*       *मूसा अलैहिस्सलाम-20*
*================================*

* क़ुर्आन का मुताआला करते हुए एक बात हमेशा नज़र में रखना चाहिये वो ये कि क़ुर्आन जिन वाक़ियात का ज़िक्र करता है इससे मक़सूद सिर्फ इबरत व मोइज़ात होती है उससे उसकी तारीखी हैसियत का बयान मतलूब नहीं होता,इसलिए क़ुर्आन उन वाक़ियात के सिर्फ उन पहलुओं को बयान करता है जिनमें दर्से इबरत हो व गैर ज़रूरी तफ्सीलात को उमूमन नज़र अंदाज़ कर दिया जाता है,जो लोग क़ुर्आन की इस खासियत को नहीं समझते वो अक्सर शको शुबह में मुब्तिला हो जाते हैं,जब मूसा अलैहिस्सलाम की ज़िन्दगी का वाक़िया मुराद लिया जायेगा तो बस्ती से मुराद रीहा होगी क्योंकि मूसा अलैहिस्सलाम बैतुल मुक़द्दस में दाखिल नहीं हुए और जब बैतुल मुक़द्दस कहा जायेगा तो उससे मुराद हज़रत हारून अलैहिस्सलाम और हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के बाद हज़रत यूशअ अलैहिस्सलाम के ज़माने के मुताल्लिक़ होगा जैसा कि क़ुर्आन की एक आयत इसी के साथ बयान हुई

📕 तज़किरातुल अंबिया,सफह 321

*कंज़ुल ईमान* – फिर उसमे जहां चाहो बे रोक टोक खाओ और दरवाज़े में सज्दा करते दाखिल हो और कहो हमारे गुनाह माफ हों हम तुम्हारी खतायें बख्श देंगे और क़रीब है कि नेकी वालों को और ज़्यादा दें

📕 पारा 1,सूरह बक़र,आयत 58

*तफसीर* – चुंकि इसमें हाज़ा कहकर बयान हुआ लिहाज़ा उन्हें वो बस्ती दिखाई गयी और कहा गया कि इसमें उतर जाओ अब वो बस्ती कौन सी थी इसमें इख्तिलाफ है बअज़ उसे बैतुल मुक़द्दस कहते हैं तो इस सूरत में ये वाक़िया हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के बाद का माना जायेगा क्योंकि तीह में ही हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम का विसाल हुआ,और चुंकि दरवाज़े से मुराद बअज़ उल्मा ने बैतुल मुक़द्दस का दरवाज़ा लिया है जो अब भी मौजूद है और जिसका नाम हीता बाबुल क़ुबा है तो हज़रत यूशअ अलैहिस्सलाम उन सबको लेकर बैतुल मुक़द्दस में दाखिल हुए,मगर चुंकि इसके बाद वाली आयत में फिर तीह का ज़िक्र आया है लिहाज़ा इसमें बे तरतीबी हो जायेगी,वहीं बअज़ उल्मा उस बस्ती को रीहा ही मानते हैं तो इस सूरत में ये वाक़िया हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की ज़िन्दगी का ही माना जायेगा,चुंकि रीहा में क़ौमे अमालक़ा आबाद थी और डर के मारे वो बस्ती छोड़ कर भाग गए तो उनके बहुत सारे गल्ले व अनाज वहीं रह गए इसी लिए बनी इस्राईल को वहां भेजा गया

📕 रुहुल बयान,जिल्द 1,सफह 353

* हक़ीक़त हाल तो खुदा ही बेहतर जानता है कि ये ज़माना कौनसा था मगर दर्से इबरत ये है कि जब बनी इस्राईल को दरवाज़े से सर झुका कर दाखिल होने को कहा गया तो फिर से उन लोगों ने नाफरमानी की और सुरीन के बल घिसटते हुए वो दाखिल हुए,जिसके लिए उनपर ताऊन का अज़ाब नाज़िल किया गया और 24000 लोग इस वबा से मारे गए,हालांकि होना तो ये चाहिए था कि 40 साल की क़ैद के बाद जब बनी इस्राईल वहां से छूटे तो उन्हें रब की हम्दो सना बयान करनी चाहिए थी मगर उन जैसी नाफरमान क़ौम शायद दूसरी कोई रही हो क्योंकि जिनको हम बनी इस्राईल जानते हैं वो असल में यहूदी हैं और यहूदियों के बारे में क़ुर्आन ने साफ फरमा दिया कि ज़िल्लत और रुस्वाई उनका मुक़द्दर बन चुकी है,तारीख उठाकर देख लीजिए कि कोई भी ज़माना उनके लिए ज़िल्लत से खाली नहीं रहा हालांकि उनका एक तबका बहुत मालदारों का है मगर इन्तेहाई कंजूस और हरीस कि माल को खुदा की राह में खर्च करता नहीं और हिर्स इतनी कि दौलत कमाने के लिए हलाल और हराम की तमीज़ भी नहीं करता,इसके अलावा भी हैवानियत बर्बरियत ज़ुल्म जफा बद अहदी इनकी खास पहचान रही है और ये क़यामत तक रहेगी और उनपर अज़ाब देने लिए मौला तआला कुछ लोगों को हमेशा भेजता ही रहेगा,जैसा कि हाल फिलहाल इनकी नाम निहाद हुकूमत फिलिस्तीन में है मगर ये हुकूमत भी बड़ी बड़ी ग़ैर मुस्लिम ताक़तों के मुआहिदा पे बनी हुई है और जिस दिन ये मुआहिदा टूटा उस दिन इन यहूदियों की ये हुकूमत भी मिटटी में मिल जायेगी और उससे पहले ही ये मज़लूम फिलिस्तीनी हर वक़्त इनके सर पर मुसल्लत रहते हैं और जहां मौक़ा मिलता है इनके नाक में दम कर देते हैं और ये सूरते हाल क़यामत तक जारी रहेगी,इनकी हद दर्जे की सरकशी यही थी कि इन्होने मज़लूम नबियों को शहीद किया जिनमें हज़रत ज़करिया अलैहिस्सलाम व हज़रत यहया अलैहिस्सलाम जैसे जलीलुल क़द्र पैग़ंबर भी शामिल थे

📕 तज़किरातुल अंबिया,सफह 322-324

*================================*
*To Be Continued*
*================================*

* Quran ka utaala karte hue ek baat hamesha nazar me rakhna chahiye wo ye ki quran jin waqiyat ka zikr karta hai isse maqsood sirf ibrat wa moizat hoti hai usse uski tareekhi haisiyat ka bayaan matloob nahin hota,isliye quran un waqiyaat ke sirf un pahluyon ko bayaan karta hai jinme darse ibrat ho wa gair zaruri tafsilaat ko umuman nazar andaz kar diya jaata hai,jo log quran ki is khasiyat ko nahin samjahte wo aksar shaqo shubah me mubtela ho jaate hain,jab moosa alaihissalam ki zindagi ka waqiya muraad liya jayega to basti se muraad reeha hogi kyunki moosa alaihissalam baitul muqaddas me daakhil nahin hue aur jab baitul muqaddas kaha jayega to usse muraad hazrat haroon alaihissalam aur hazrat mossa alaihissalam ke baad hazrat yoosha alaihissalam ke zamane ke mutalliq hoga jaisa ki quran ki ek aayat isi ke saath bayaan huyi

📕 Tazkiratul anbiya,safah 321

*KANZUL IMAAN* – Phir usme jahan chaho be rok tok khao aur darwaze me sajda karte daakhil ho aur kaho hamare gunah maaf hon hum tumhari khatayein bakhsh deinge aur qareeb hai ki neki waalo ko aur zyada dein

📕 Paara 1,surah baqar,aayat 58

*TAFSEER* – Chunki isme haaza kahkar bayaan hua lihaza unhein wo basti dikhayi gayi aur kaha gaya ki isme utar jao ab wo basti kaun si thi isme ikhtilaf hai baaz use baitul muqaddas kahte hain to is surat me ye waqiya hazrat moosa alaihissalam ke baad ka maana jayega kyunki teeh me hi hazrat mossa alaihissalam ka wisaal hua,aur chunki darwaze se muraad baaz ulma ne baitul muqaddas ka darwaza liya hai jo ab bhi maujood hai aur jiska naam baab hiita babul quba hai to hazrat yoosha alaihissalam un sabko lekar baitul muqaddas me daakhil hue,magar chunki iske baad waali aayat me phir teeh ka zikr aaya hai lihaza isme be tarteebi ho jayegi,wahin baaz ulma us basti ko reeha hi maante hain to is soorat me ye waqiya hazrat moosa alaihissalam ki zindagi ka hi maana jayega,chunki reeha me qaume amalaqa aabad thi aur darr ke maare unhone wo basti chhod kar bhaag gaye to unke bahut saare galle wa anaaj wahin rah gaye isi liye bani israyeel ko wahan bheja gaya

📕 Ruhul bayaan,jild 1,safah 353

* Haqiqat haal to khuda hi behtar jaanta hai ki ye zamana kaunsa tha tha magar darse ibrat ye hai ki jab bani israyeel ko darwaze se sar jhuka kar daakhil hone ko kaha gaya to phir se un logon ne nafarmani ki aur sureen ke bal ghisatte hue wo daakhil hue,jiske liye unpar taoon ka azaab naazil kiya gaya aur 24000 log is waba se maare gaye,halaanki hona to ye chahiye tha ki 40 saal ki qaid ke baad jab bani israyeel wahan se chhote to unhein Rub ki hamdo sana bayaan karni chahiye thi magar un jaisi nafarmaan qaum shayad doosri koi rahi ho kyunki jinko hum bani israyeel jaante hain wo asal me yahudi hain aur yahudiyon ke baare me quran ne saaf farma diya ki zillat aur ruswayi unka muqaddar ban chuki hai,tareekh uthakar dekh lijiye ki koi bhi zamana unke liye zillat se khaali nahin raha halanki unka ek tabka bahut maaldaro ka hai magar intehayi kanjoos aur harees ki maal ko khuda ki raah me kharch karta nahin aur hirs itni ki daulat kamane ke liye halaal aur haraam ki tameez bhi nahin karta,iske alawa bhi haiwaniyat barbariyat zulm jafa bad ahdi inki khaas pahchaan rahi hai aur ye qayamat tak rahegi aur unpar azaab dene liye maula taala kuchh logon ko hamesha bhejta hi rahega,jaisa ki haal filhaal inki naam nihaad hukumat philistine me hai magar ye hukumat bhi badi badi gair muslim taaqato ke muahida pe bani huyi hai aur jis din ye muahida toota us din in yahudiyon ki ye hukumat bhi mitti me mil jayegi aur usse pahle hi ye mazloom philisteeni har waqt inke sar par musallat rahte hain aur jahan mauqa milta hai inke naak me dam kar dete hain aur ye soorate haal qayamat tak jaari rahegi,inki har jarde ki sar kashi yahi thi ki inhone mazloom nabiyon ko shaheed kiya jinme hazrat zakariya alaihissalam wa hazrat yahya alaihissalam jaise jalilul qadr paighambar bhi shaamil the

📕 Tazkiratul anbiya,safah 322-324

*================================*
*Don’t Call Only WhatsApp 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*
*================================*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *