Tue. Jun 15th, 2021

👉 *Msg prepared by* 👈
*ⓩⓔⓑⓝⓔⓦⓢ*

*हिन्दी/hinglish*      *मूसा अलैहिस्सलाम-19*
*================================*

*कंज़ुल ईमान* – और हमने अब्र को तुम्हारा सायेबान किया और तुम पर मन और सलवा उतारा,खाओ हमारी दी हुई सुथरी चीज़ें,और उन्होंने हमारा कुछ न बिगाड़ा हां अपनी जानों को बिगाड़ करते थे

📕 पारा 1,सूरह बक़र,आयत 55

* वादिये तीह मिस्र और शाम के दरमियान वाक़ेय है और इसकी लम्बाई और चौड़ाई तकरीबन 45 किलोमीटर थी,जब क़ौम हर तरह से हार चुकी तो रब की बारगाह में तौबा करने लगी तो मौला तआला ने उनकी तौबा क़ुबूल की और उनके खाने के लिए मन व सल्वा नाज़िल फरमाया जो कि 40 सालों तक उतरता रहा

📕 तफ़्सीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 454

* तीह का मायने ही हैरानी और परेशानी है चुंकि इस मैदान में 40 सालों तक बनी इस्राईल हैरान व परेशान भटकते रहे इसलिये इसको वादिये तीह कहते हैं,बनी इस्राईल अपने घरों को जाने के लिए दिन भर सफर करते और रात आराम करने के बाद बाद जब सुबह को उठते तो अपने आपको वहीं पाते जहां से पिछले दिन उन्होंने सफर शुरू किया था,बनी इस्राईल की लाख सरकशी के बावजूद अल्लाह तआला ने उनपर बेशुमार इनामात अता फरमाये,इस मैदान में न तो कोई दरख़्त था और न उसका साया न तो कोई इमारत थी और न रौशनी का इंतेज़ाम न खाना था और न पानी यानि की ज़रूरियाते ज़िन्दगी का कोई भी सामान यहां मुहय्या नहीं था मगर बा वजूद इसके हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की दुआ से उनपर साये के लिए बादल नाज़िल रहा करता और खाने के लिए 2 चीज़ें आया करती मन और सलवा

*मन* – इनमें बहुत इख्तिलाफ है मगर सही यही है कि ये शबनम की तरह सुब्ह को दरख्तों पर गिरकर जमा हो जाता था,खाने में मीठा बर्फ की तरह सफेद लज़्ज़त में घी और शहद के मअजून की तरह होता

*सलवा* – इसमें भी कई अक़वाल है मगर सही ये है कि ये बटेर है या उसी की तरह एक परिंदा,बअज़ कहते हैं कि भुना हुआ उतरता था मगर बअज़ का ख्याल है कि कसरत से ये उतरते जिन्हे बनी इस्राईल पकड़ कर ज़िबह करते और भूनकर खाते

* हर शख्स के लिए रोज़ाना 4 सेर मतलब 4×933.10 ग्राम यानि 3732.40 ग्राम यानि पौने चार किलो नाज़िल होता था,अंधेरा दूर करने के लिए एक क़ुदरती रौशनी ज़ाहिर हो जाया करती,और कपड़ों का ये हाल था कि किसी का भी कपड़ा मैला नहीं होता था यहां तक कि बच्चों का कपड़ा उनके जिस्म के साथ बढ़ता जाता था,इतनी सारी नेअमतों के बावजूद भी उनका नाफरमानी करना निहायत ही हैरत ज़दा करता है,इसलिए मौला तआला फरमाता है कि उनकी नाफरमानियों से मेरा कुछ नहीं जाता बल्कि वो अपना ही नुक्सान करते हैं

*पत्थर से पानी निकलना* – 12 मील तक फैले हुए 6 लाख के लश्कर को जब प्यास लगी तो वो हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास पहुंचे और शिकायत की तो नबी ने खुदा की बारगाह में दुआ फरमाई तो मौला तआला फरमाता है कि

*कंज़ुल ईमान* – और जब मूसा ने अपनी क़ौम के लिए पानी मांगा तो हमने फरमाया उस पत्थर पर अपना असा मारो,फौरन उसमें 12 चश्मे बह निकले,हर गिरोह ने अपना घाट पहचान लिया,खाओ और पियो खुदा का दिया और ज़मीन में फसाद उठाते न फिरो

📕 पारा 1,सूरह बक़र,आयत 60

* मगर इतनी सारी नेअमतों के बाद भी बनी इस्राईल बार बार हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास नई नई फरमाईश लेकर पहुंचते रहे और बार बार खुदा की नाफरमानी करते रहे,जैसा कि मौला तआला फरमाता है कि

*कंज़ुल इमाम* – और जब तुमने कहा ऐ मूसा हमसे तो एक खाने पर हरगिज़ सब्र न होगा तो आप अपने रब से दुआ कीजिये कि ज़मीन की उगाई हुई चीज़ें हमारे लिए निकाले कुछ साग और ककड़ी गेहूं और मसूर और प्याज,फरमाया क्या अदना चीज़ को बेहतर के बदले मांगते हो,अच्छा मिस्र या किसी शहर में उतरो,वहां तुम्हे मिलेगा जो तुमने मांगा,और उनपर मुक़र्रर करदी गयी ख्वारी और नादारी,और खुदा के गज़ब में लौटे,ये बदला था उसका कि वो अल्लाह की आयतों का इनकार करते और अंबिया को नाहक़ शहीद करते,ये बदला था था उनकी नाफरमानियों और हद से बढ़ने का

📕 पारा 1,सूरह बक़र,आयत 61

📕 तज़किरातुल अम्बिया,सफह 320-321

*================================*
*To Be Continued*
*================================*

* Waadiye teeh misr aur shaam ke darmiyan waaqey hai aur iski lambayi aur chaudayi taqriban 45 kilometer thi,jab qaum har tarah se haar chuki to Rub ki baargah me tauba karne lagi to maula taala ne unki tauba qubool ki aur unke khaane ke liye mann wa salwa naazil farmaya jo ki 40 saalo tak utarta raha

📕 Tafseere nayimi,jild 1,safah 454

*KANZUL IMAAN* – Aur humne abr ko tumhara saayebaan kiyaaur tum par man aur salwa utaara,khao hamari di huyi suthri cheezen,aur unhone hamara kuchh na bigaada haan apni jaano ko bigaad karte the

📕 Paara 1,surah baqar,aayat 55

* Teeh ka maayne hi hairani aur pareshani hai chunki is maidaan me 40 saalon tak bani israyil hairan wa pareshan bhatakte rahe isliye isko waadiye teeh kahte hain,bani israyil apne gharo ko jaane ke liye din bhar safar karte aur raat aaram karne ke baad baad jab subah ko uthte to apne aapko wahin paate jahan se pichhle din unhone safar shuru kiya tha,bani israyil ki laakh sarkarshi ke bawajood ALLAH taala ne unpar beshumar inaamat ata farmaye,is maidaan me na to koi darakht tha aur na uska saaya no to koi imaarat thi aur na raushni ka intezam na khaana tha aur na paani yaani ki zaruriyate zindagi ka koi bhi saaman yahan muhayya nahin tha magar ba wajood iske hazrat mossa alaihissalam ki dua se unpar saaye ke liye baadal naazil raha karta aur khaane ke liye 2 cheezen aaya karti MAN aur SALWA

*MAN* – Inme bahut ikhtilaaf hai magar sahi yahi hai ki ye shabnam ki tarah subah ko darakhto par girkar jama ho jaata tha,khaane me meetha barf ki tarah safed lazzat me ghee aur shahad ke majoon ki tarah hota

*SALWA* – Isme bhi kayi aqwaal hai magar sahi ye hai ki ye bater hai ya usi ki tarah ek parinda,baaz kahte hain ki bhuna hua utarta tha magar baaz ka khayal hai ki kasrat se ye utarte jinhe bani israyil pakad kar zibah karte aur bhoonkar khaate

* Har shakhs ke liye rozana 4 seir matlab 4×933.10 gram yaani 3732.40 gram yaani paune char kilo naazil hota tha,andhera door karne ke liye ek qudrati raushni zaahir ho jaaya karti,aur kapdo ka ye haal tha ki kisi ka bhi kapda maila nahin hota tha yahan tak ki bachchon ka kapda unke jism ke saath badhta jaata tha,itni saari nemato ke ba wajood bhi unka nafarmani karna nihayat hi hairat zada karta hai,isliye maula taala farmata hai ki unki nafarmaniyon se mera kuchh nahin jaata balki wo apna hi nuksaan karte hain

*PATTHAR SE PAANI NIKALNA* – 12 meel tak phaile hue 6 laakh ke lashkar ko jab pyaas lagi to wo hazrat moosa alaihissalam ke paas pahunche aur shikayat ki to nabi ne khuda ki baargah me dua farmayi to maula taala farmata hai ki

*KANZUL IMAAN* – Aur jab moosa ne apni qaum ke liye paani maanga to humne farmaya us patthar par apna asa maaro,fauran usme 12 chashme bah nikle,har giroh ne apna ghaat pahchaan liya,khao aur piyo khuda ka diya aur zameen me fasaad uthaate na firo

📕 Paara 1,surah baqar,aayat 60

* Magar itni saari nematon ke baad bhi bani israyil baar baar hazrat moosa alaihissalam ke paas nayi nayi farmayish lekar pahunchte rahe aur baar baar khuda ki nafarmani karte rahe,jaisa ki maula taala farmata hai ki

*KANZUL IMAAM* – Aur jab tumne kaha ai moosa humse to ek khaane par hargiz sabr na hoga to aap apne Rub se dua kijiye ki zameen ki ugaayi huyi cheezen hamare liye nikaale kuchh saag aur kakdi gehun aur masoor aur pyaaz,farmaya kya adna cheez ko behtar ke badle maangte ho,achchha misr ya kisi shahar me utro,wahan tumhe milega jo tumne maanga,aur unpar muqarrar kardi gayi khwari aur naadari,aur khuda ke gazab me laute,ye badla tha uska ki wo ALLAH ki aayto ka inkaar karte aur anbiya ko nahaq shaheed karte,ye badla tha tha unki nafarmaniyon aur hadd se badhne ka

📕 Paara 1,surah baqar,aayat 61

📕 Tazkiratul anbiya,safah 320-321

*================================*
*Don’t Call Only WhatsApp 9559893468*
*NAUSHAD AHMAD “ZEB” RAZVI*
*ALLAHABAD*
*================================*

By Zebnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *